Connect with us

देश

पाकिस्तान से आए हिंदूओं ने बयां किया दर्द, कहा- शव जलाने पर भी है पाबंदी

Published

on


कहा, भारतीय वीजा मिल जाए तो जला दिया जाता है पासपोर्ट

नई दिल्ली। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लोग कैसे रहते होगें यह कभी आपने सोचा है। उनको कितनी यातनाएं झेलनी पड़ती है। जिसकी आपबीती पाकिस्तान से भारत आए हिन्दू और सिख परिवारों ने बताई। उन लोगों ने बताया कि वहां हमें किसी का भी अंतिम संस्कार करने की इजाजत नही है। वहां के पड़ोसी ही शव को जलाने नहीं देते हैं। यदि शव को जला दिया जाता है। तो हजारों की भीड़ इकट्ठा को जाती है और मारपीट करने के साथ ही घर में तोड़फोड़ करती है। वो लोग शव को कब्रिस्तान में दफन करने का दबाव बनाते हैं।

पाकिस्तान से आए इन शरणार्थियों ने भारत सरकार से गुहार लगाई हैं कि उन्हें भारत में शरण दी जाए। उनके परिवारों को अनेक यातनाएं दी जाती हैं और उनकी बेटियों के साथ दुष्कर्म किया जाता है साथ ही उनकी संपतियों पर कब्जा किया जा रहा है। इन लोगों ने सीएए का विरोध कर रहे लोगों से भी अपील की है कि उन्हें नागरिकता देने का विरोध न किया जाए।

यह भी पढ़ें:- सऊदी अरब: आत्मरक्षा के लिए बाॅस की हत्या करने वाली महिला का सरेआम सिर कलम

पाकिस्तान से 10 परिवार इसी हफ्ते भारत आए हैं। भारत आए पंजूराम ने कहा पाकिस्तान में निकाह के लिए लड़की की उम्र कम से कम 18 वर्ष तय है। लेकिन हमारी 13-14 साल की बच्चियों का अपहरण किया जा रहा है। अपहरण के बाद 40-50 साल के आदमी से हमारी बच्चियों का जबरन निकाह और इस्लाम कबूल करवाया जा रहा है। जब कभी हमने इन वारदातों का विरोध किया तो हमारे खिलाफ जबरदस्त हिंसा की गई। इस पर पुलिस से शिकायत की जाती है। तो पुलिस भी उन्हीं लोगो का साथ देती है। वहीं पाकिस्तान से आयी एक लड़की ने कहा कि हम लोग तीर्थयात्रा के बहाने रात के अंधेरे में ट्रकों में सवार होकर वहां से निकल पाए हैं। उसने बताया कि किसी तरह से यदि किसी हिंदू या सिंख को भारतीय वीजा मिल जाए तो उस व्यक्ति का पासपोर्ट जला दिया जाता है। http://www.satyodaya.com

देश

यूपी के 15 और देश भर के 75 जनपद 31 तक लाॅक डाउन, यहां देखें पूरी सूची

Published

on

लखनऊ। भारत में कोरोना के मरीज दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। इसे महामारी घोषित किया जा चुका है। इस महामारी के खतरे को कम करने के लिए पीएम मोदी की अपील पर 22 मार्च को जनता कर्फ्यू मनाया गया। जहाँ देश की जनता ने अपने को घरों में कैद रखा है और शाम को पांच बजते ही लोगों ने ताली-थाली और शंख बजा उन लोगों में उत्साह बढ़ाया जो लोग संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं। वहीं केंद्र व राज्य सरकारों ने बड़ा फैसला लिया हैं। जहाँ केंद्र सरकार ने देश के 75 शहरों में लॉक का ऐलान कर दिया है जो 31 मार्च तक लागू रहेगा। जिसमें यूपी के 6 शहर लखनऊ, लखीमपुर खीरी, आगरा, गौतमबुद्ध नगर, वाराणसी और गाजियाबाद शामिल है।


यूपी में अभी हालात पूरी तरह से नियंत्रण में हैं, लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जा रहा है। वहीं सीएम योगी ने प्रदेश के 15 जिलों में 25 मार्च तक लॉक डाउन का ऐलान कर दिया हैं। आगरा, लखनऊ, नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी, मेरठ, प्रयागराज, अलीगढ़, बरेली, गोरखपुर, बाराबंकी और सहारनपुर शामिल है।

यह भी पढ़ें-लखनऊ: जनता कर्फ्यू को लेकर घंटाघर के आस-पास भी पसरा सन्नाटा

जहाँ 25 मार्च तक यह आदेश जारी रहेगा। साथ ही बस सेवाएं पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगी, वहीं इंटरस्टेट कनेक्टिविटी भी बाधित होगी। इन जिलों में सेनेटाइज करने का काम किया जाएगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

जनता कर्फ्यू: शाम के 5 बजते ही देश भर में एक साथ खूब बजी ताली और थाली

Published

on

लखनऊ। प्रधानमंत्री कर अपील पर पूरे देश में जनता कर्फ्यू जारी है। सड़कों पर सन्नाटा है। लोग अपने-अपने घरों में हैं। इस बीच शाम के पांच बजते ही अचानक लोग घरों की बालकनी और खिड़कियों पर आकर जोर-जोर से थाली और ताली बजाने लगे। करीब पांच मिनट तक लोग ताली बजाते रहे। जिसकी आवाज दूर-दूर तक सुनाई दी।

लखनऊ के तमाम रिहायशी इलाकों में लोगों ने ताली और थाली बजाकर पीएम मोदी की अपील कर समर्थन किया। प्रधानमंत्री ने यह तालियां उन डाक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस व मीडियाकर्मियों के लिए बजाने को कहा था, जो संकट की घड़ी में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें-कोरोना संकटः देश के 75 जिलों में लाॅक डाउन का ऐलान, ट्रेन सेवाएं 31 मार्च तक ठप

प्रधानमंत्री ने पूरे देश में 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू की अपील की थी। लेकिन यूपी में यह कर्फ्यू सीएम योगी आदित्यनाथ ने जनता कर्फ्यू की अवधि 23 मार्च की सुबह 6 बजे तक के लिए बढ़ा दिया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

जनता कर्फ्यू के बीच सुकमा में बड़ा नक्सली हमला, 17 जवान शहीद, 14 घायल

Published

on

14 जवान के शव नहीं मिलने की सूचना

लखनऊ। जनता कर्फ्यू के बीच बस्तर के जंगलों से देश को हिला देने वाली दुखद खबर आई है। शनिवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए इस बड़े नक्सली हमले में सेना के 17 जवान शहीद हो गए जबकि 14 जवान घायल हैं। यह हमला उस वक्त हुआ जब एसटीएफ और डीआरजी के जवान मिनपा इलाके में सर्च पर निकले थे। घायल जवानों को रायपुर रेफर किया गया है। छत्तीसगढ़ पुलिस के अनुसार शनिवार को मिनपा इलाके में नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड. हुई। जिसमें कई जवान लापता हो गए। रविवार को इन जवानों शव बरामद हुए।

यह भी पढ़ें-कोरोना संकटः देश के 75 जिलों में लाॅक डाउन का ऐलान, ट्रेन सेवाएं 31 मार्च तक ठप

बस्तर के इतिहास में पहली बार डीआरजी यानि कि डिस्ट्रिक्ट रिज़र्व गार्ड के जवानों को इतना बड़ा नुकसान हुआ है। शहीद 17 जवानों में से 12 जवान डीआरजी के हैं। डीआरजी स्थानीय युवकों द्वारा बनाया गया सुरक्षा बलों का एक दल है, जो की नक्सलियों के खिलाफ सबसे अधिक प्रभावी रहा है। नक्सलियों द्वारा जवानों के 15 हथियार भी लुटे गए हैं, जिनमें AK-47, इंसास, LMG और UBGL जैसे हथियार हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

March 23, 2020, 8:36 am
Fog
Fog
21°C
real feel: 22°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 77%
wind speed: 1 m/s SE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 5:37 am
sunset: 5:49 pm
 

Recent Posts

Trending