Connect with us

देश

वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में भारत का जबरदस्त प्रदर्शन, 79वें पायदान पर बनाई जगह

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर देश के भीतर बेचैनी का माहौल है। अर्थव्यवस्था के कई सेक्टर्स दबाव में हैं। विपक्ष आर्थिक सुस्ती के लिए सरकार पर लगातार निशाना साध रहा है। ऐसे माहौल में मोदी सरकार के लिए बड़ी राहत भरी खबर आई है। वर्ल्ड बैंक की ईड ऑफ डूइंग बिजनेस रैकिंग में शानदार प्रदर्शन के बाद भारत आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में भी 17 पायदान की लंबी छलांग लगाकर 79 वें स्थान पर आ गया है। जबकि भारत के सभी पड़ोसी देशों की रैकिंग में गिरावट देखी गई है।

दरअसल, कैनेडियन थिंकटैंक फ्रेजर इंस्टिट्यूट और भारतीय थिंक टैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी द्वारा शुक्रवार को संयुक्त रूप से ‘वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक 2019’ जारी किया गया। यह सूचकांक दुनियाभर के देशों में सरकार के आकार, कानून व्यवस्था व संपत्ति का अधिकार, मुद्रा की सुगमता, अंतरराष्ट्रीय व्यापार की आजादी और नियमन आदि जैसे पांच क्षेत्रों के बारे में जुटाए गए आंकड़ों के आधार पर जारी किया जाता है।

इस सूचकांक में भारत ने 162 देशों में 79वां स्थान प्राप्त किया है। जबकि पिछले वर्ष भारत इस सूचि में 96वें पायदान पर था। वहीं, भारत के सभी पड़ोसी देशों की रैंकिंग में गिरावट देखी गई है। इस सूचि में भूटान को 87, श्रीलंका को 104, नेपाल को 110, चीन को 113, बांग्लादेश को 123, पाकिस्तान को 136 व म्यांमार को 148वां स्थान प्रदान किया गया है। पिछले वर्ष इन देशों को क्रमशः 73, 106, 102, 108, 120, 132 व 151 वां स्थान प्राप्त हुआ था।

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में सब्जियां हुईं तेजाबी, 18 शहरों में सैंपल फेल

शीर्ष पर हैं ये देश

वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में हॉन्गकॉन्ग पहले, सिंगापुर दूसरे, न्यूजीलैंड तीसरे, स्विट्जरलैंड चौथे और अमेरिका पांचवें पायदान पर है। वहीं, विश्व की अन्य महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाएं जैसे जापान, जर्मनी, इटली, फ्रांस, मैक्सिको, रूस और ब्राजील को क्रमशः 17, 20, 46, 50, 76, 85 और 120 वां स्थान प्राप्त हुआ है।

सबसे आखिर में रहे ये देश

विश्व की 162 देशों की अर्थव्यवस्थाओं को इस रैकिंग में शामिल किया गया है। इस सूचि में जो देश सबसे आखिरी पायदान पर खड़े हैं उनमें वेनेजुएला (162वें), लीबिया (161वें), सुडान (160वें), अल्जीरिया (159वें) और अंगोला (158वें) स्थान पर हैं।http://www.satyodaya.com

देश

बैल निगल गया लाखों का जेवर, किसान ढूढ़ता रहा गोबर में

Published

on

फाइल फोटो

महाराष्ट्र। देश के कई राज्यों में पोला त्यौहार मनाया जाता है। जिसमें बैलों को सजाकर गली-गली घुमाया जाता है और उनकी पूजा की जाती है। इसी त्यौहार की पूजा में एक अजीबोगरीब वाकया सामने आया है। जहां एक बैल डेढ़ लाख का मंगलसूत्र ही निगल गया। मंगलसूत्र उसके पेट ने निकालने के लिए नौ दिन बाद ऑपरेशन तक करना पड़ गया।

महाराष्ट्र के अहमदनगर के एक गांव में एक किसान ने पोला के दिन अपने बैल को पूरे गांव में घुमाया और घर पर उसकी पूजा की। पूजा के समय थाली में किसान की पत्नी ने सोने का मंगलसूत्र रख दिया। ठीक इसी दौरान बिजली चली गई। बिजली जाते ही जैसे किसान की पत्नी घर के अंदर मोमबत्ती लेने गई इतने में बैल मिठाई के साथ ही सोने का मंगलसूत्र ही निगल गया। पत्नी ने जब यह बात किसान को बताई तो किसान ने बैल के मुंह को टटोला लेकिन तब तक मंगलसूत्र बैल के पेट में पहुंच चुका था।

गांव वालों की सलाह पर किसान ने इंतजार किया कि हो सकता है गोबर में मंगलसूत्र निकले। करीब आठ दिन किसान ने बैल के गोबर में मंगलसूत्र खोजा लेकिन मंगलसूत्र नहीं मिला।
अंत में किसान बैल को लेकर डॉक्टर के पास गया। जांच में पता चला कि मंगलसूत्र बैल के रेटिकुलम में फंसा हुआ है। इसके बाद डॉक्टर ने बैल का ऑपरेशन किया और मंगलसूत्र निकाला।

यह भी पढ़ें: लखनऊ मेट्रो को मिला रॉयल सोसायटी फॉर द प्रिवेंशन ऑफ ऐक्सिडेंट्स अवार्ड

आपको बता दें कि पोला के त्यौहार में जिनके घरों में बैल होते हैं, उन्हें सजाकर घुमाया जाता है। बैलों को खाने के लिए कुछ दिया जाता है और उनकी पूजा होती है। कुछ लोग बैलों को मिठाई के साथ-साथ सोना भी चढ़ाते हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

जनता को शुद्ध दूध और कड़कनाथ चिकन उपलब्ध कराएगी कमलनाथ सरकार, खोले दो आउटलेट

Published

on

प्रतिकात्मक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार अब गाय के शुद्ध दूध का कारोबार भी करेगी। जहां गाय का शुद्ध दूध मिलेगा। साथ ही सरकार ने झाबुआ के मशहूर कड़कनाथ चिकन के लिए प्रदेश भर में आउटलेट खोलना शुरू कर दिया है। मध्य प्रदेश सरकार में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव कहते हैं की कमलनाथ सरकार के शुद्ध के लिए युद्ध की मुहिम छेड़ रखी है उनका विभाग इसी के तहत लोगों को शुद्ध सामान उपलब्ध कराएगा।

वहीं कमलनाथ सरकार के अधीन आने वाले कुक्कुट विकास निगम ने भोपाल में कड़कनाथ चिकन पार्लर भी खोला है। जहां पर मशहूर कड़कनाथ चिकन का मांस उपलब्ध कराया जा रहा है। इससे प्रदेश भर में बेरोजगारों को रोजगार का एक नया मौका भी मिलेगा। ये आउटलेट पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर चलाई जा रही है। इसमें सरकार गाय का शुद्ध दूध, कड़कनाथ चिकन और देसी अंडे मिल रहे हैं। सरकार का दावा है कि उसके पार्लर से मिलने वाले कड़कनाथ मुर्गे के मांस की पूरी गारंटी है। लेकिन बीजेपी ने कड़कनाथ के मांस को बेचे जाने पर आपत्ति उठाई है।

ये भी पढ़े- दबिश देने गए अफसर के बाल पकड़कर थाने तक पीटते ले गई महिला..

बता दें कि भोपाल में इसी आधार पर यह दो आउटलेट शुरू किए गए हैं। चिकन सेंटर अलग होगा और मिल्क पार्लर अलग होगा। मध्य प्रदेश पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के जरिए प्रदेश के हर जिले में ये Outlet खोले जाएंगे। जबकि कड़कनाथ चिकन की मध्यप्रदेश में भारी डिमांड होती है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने तीन पदों पर जमाया कब्जा

Published

on

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के छात्र संघ चुनावों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने तीन प्रमुख पदों पर कब्जा जमाया है जबकि नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) को केवल एक पद पर जीत नसीब हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव गुरुवार को हुआ था, जिसके बाद शुक्रवार को मतगणना हुई। जिसमें चारों प्रमुख पदों के नतीजे घोषित किए गए। एबीवीपी ने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के पदों पर जीत दर्ज की, वहीं एनएसयूआई ने सचिव का पद झटक लिया। आरएसएस से जुड़े संगठन एबीवीपी के अक्षित दहिया ने अध्यक्ष, प्रदीप तंवर ने उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव पद पर शिवांगी खरवाल ने कब्जा जमाया है। वहीं कांग्रेस से जुड़े संगठन एनएसयूआई के आशीष लांबा ने सेके्रटरी पद पर जीत दर्ज की है।

यह भी पढ़ें-25000 की घूस देने के लिए नहीं थे पैसे, किसान ने अधिकारी की कार से बांध दी भैंस

इस बार के डीयू छात्रसंघ चुनाव में कुल 1.3 लाख छात्र-छात्राओं में से करीब 40 प्रतिशत स्टूडेंट ने हिस्सा लिया। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार करीब 5 प्रतिशत मतदान कम हुआ। पिछले वर्ष भी एबीवीपी ने तीन सीटों पर जबकि एनएसयूआई ने एक पद पर जीत दर्ज की थी। मतदान के दौरान किसी तरह की बड़ी घटना या हंगामा नहीं हुआ।

हालांकि प्रचार के दौरान एनएसयूआई ने आरोप लगाया था कि उसके उम्मीदवार को दक्षिणी दिल्ली के दयाल सिंह काॅलेज में मतदान केन्द्र पर नहीं जाने दिया गया, उसके पुलिस ने हिरासत में रखा। पुलिस ने सफाई दी कि एनएसयूआई उम्मीदवार काॅलेज के बाहर प्रचार कर रहा था जिसकी इजाजत नहीं है, उसने पुलिस के साथ भी अभद्रता की इसलिए उसे कुछ समय के लिए हिरासत में लिया गया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 13, 2019, 7:50 pm
Fog
Fog
27°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 2 m/s ESE
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:21 am
sunset: 5:44 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending