Connect with us

देश

दिग्गज आईटी कंपनी विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी बने देश के सबसे बड़े दानी, एकबार फिर परोपकार के लिए दान कर दी इतनी संपत्ति…

Published

on

फ़ाइल फोटो

मुंबई। आपने अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि अगर मेरे पास पैसा होता तो मैं खूब परोपकार के काम करता, गरीबों के उत्थान के लिए पैसे खर्च करता, ये करता वो करता, लेकिन बहुत ही ऐसे लोग हैं जो धन होते हुए अपने धन का इस्तेमाल वास्तव में गरीबों के उत्थान व दान धर्म के लिए करते हैं। अपने देश में एक ऐसा ही नाम एक बार फिर सुर्खियों में है। हम बात कर रहे आईटी दिग्गज और विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी की। प्रेमजी ने एक बार फिर अपनी उदारता का परिचय देते हुए अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा दान करने का फैसला किया है। प्रेमजी ने अपनी कंपनी विप्रो लिमिटेड के 34 फीसदी शेयर परोपकार के लिए दान कर दिए हैं। इन शेयरों का बाजार मूल्य 52,750 करोड़ रुपये है।

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने बयान में कहा कि अजीम प्रेमजी ने अपनी निजी संपत्तियों का त्याग कर, उसे धर्मार्थ कार्य के लिए दान कर परोपकार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता बढ़ाई है। जिससे अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के परोपकार कार्यों को सहयोग मिलेगा। बयान के मुताबिक इस पहल से परोपकारी कार्य के लिए प्रेमजी द्वारा दान की गई कुल रकम 145,000 करोड़ रुपये (21 अरब डॉलर) हो गई है। जो कि विप्रो कंपनी के आर्थिक स्वामित्व का 67 फीसदी है।

इससे अजीम फाउंडेशन दुनिया की बड़ी फाउंडेशन की सूची में शुमार हो गई है। 73 वर्षीय प्रेमजी ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्होंने ‘द गिविंग प्लेज’ ‘The Giving Pledge’  इनीशिएटिव पर हस्ताक्षर किए हैं। इस पहल की शुरुआत बिल गेट्स और वॉरेन बफेट ने की थी। जिसके तहत अपनी 50 फीसदी संपत्ति परोपकारी कार्य के लिए देने का वादा किया जाता है। अजीम प्रेमजी ने ‘अजीज प्रेमजी फाउंडेशन’ समाजसेवा के लिए बनाई है। जो मुख्य रूप से शिक्षा के क्षेत्र में काम करती है। इस क्षेत्र में काम करने वालों को ये फाउंडेशन आर्थिक मदद भी देती है। फाउंडेशन का लक्ष्य पब्लिक स्कूलिंग को बेहतर करना है।

ये फाउंडेशन कर्नाटक, उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, पुडुचेरी, तेलंगाना, मध्यप्रदेश और उत्तर-पूर्वी राज्यों में सक्रिय है। बीते पांच साल में वंचित तबकों के लिए काम कर रहे करीब 150 एनजीओ को अजीम प्रेमजी फाउंडेशन से फंड मिला है। प्रेमजी को फ्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘शेवेलियर डी ला लीजन डी ऑनर’ भी मिल चुका है। उन्हें ये सम्मान समाजसेवा करने, फ्रांस में आर्थिक दखल और आईटी उद्योग विकसित करने को लेकर दिया गया। उनसे पहले ये सम्मान पाने वाले भारतीय बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी और बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान हैं।

प्रेमजी के पिता हाशिम प्रेमजी भी अपने समय के जानेमाने व्यापारी थे। उन्हें बंटवारे के बाद जिन्ना ने पाकिस्तान का वित्त मंत्री बनाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन उन्होंने भारत में रहना ही पसंद किया। आपको बता दें कि हाल ही में जारी की गई फोर्ब्स की दुनिया के अरबपतियों की सूची में विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी 22.6 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ 36 वें स्थान पर थे।   http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

त्यौहारी मौसम को असम को दहलाने की साजिश नाकाम, एक उग्रवादी गिरफ्तार

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय सुरक्षा बलों ने असम में एक बड़े आतंकी हमले को नाकाम करते हुए एक उग्रवादी को गिरफ्तार कर लिया है। सुरक्षा बलों को यह कामयाबी विशेष अभियान के दौरान असम के तिनसुकिया में मिली। जहां प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा आई) के का सदस्य त्यौहारी मौसम में तबाही मचाने की साजिश रच रहा था। इसे सुरक्षा बलों के लिए बड़ी कामयाबी बताया जा रहा है। सुरक्षा बलों ने उग्रवादी के ठिकाने से भारी मात्रा में विस्फोटक, हथियार, डेटोनेटर और रिमोट कंट्रोल बरामद किए। विस्फोटक के बारे में बताया जा रहा है कि यह बेहद खतरनाक और जानलेवा केमिकल टीएटी है। हथियारों के साथ पकड़े गए उग्रवादी ने पूछताछ में चैंकाने वाले खुलासे किए हैं।

पूछताछ के दौरान उग्रवादी ने माना कि फेस्टिवल सीजन के दौरान असम में बड़े आतंकी हमले की साजिश थी। इसमें सुरक्षा बलों और कुछ महत्वपूर्ण संस्थानों को निशाना बनाया जाना था। उसके कब्जे से 10 किलो विस्फोटक बरामद किया गया है। जानकारी के अनुसार आतंकी हमले की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सेना और तिनसुकिया पुलिस ने चिक्राजन में सघन चेकिंग अभियान शुरू किया। दौरान सैन्य बलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी और सेना और पुलिस की संयुक्त टीम ने स्वयंभू सार्जेंट सब्दो असोम उर्फ जोनकी बोरा को गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें-पुष्पेन्द्र यादव इनकाउंटरः पुलिस के साथ एडीएम प्रशासन से भी कराई जा रही जांच

सेना के एक आला अधिकारी ने मीडिया को बताया कि उल्फा-आई की तरफ से प्रदेश में किसी बड़े हमले का इंटेलिजेंस इनपुट काफी दिनों से मिल रहा था। इनपुट में कहा गया था कि उल्फा आतंकी ऊपरी असम में सेना पर बड़ा हमला करने की फिराक में हैं ताकि फिर से वे अपना दबदबा जता सकें। हालांकि उल्फा उग्रवादी बोरा की गिरफ्तारी से आतंकियों के नापाक मंसूबे नाकाम हो गए और इसी के साथ सेना ने एक बड़े हमले को टाल दिया। उग्रवादी ने यह भी बताया कि हमले करने का काम उसे सौंपा गया था। बम ब्लास्ट के जरिए असम में जगह-जगह खून-खराबा करने की साजिश रची गई थी। सुरक्षाबल के जवानों ने उग्रवादी के पास से विस्फोटक डिवाइस और दूसरे मटीरियल जब्त किए गए हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

इतिहास : आज ही के दिन मलाला यूसुफजई को तालिबान ने मारी थी गोली

Published

on

नई दिल्ली। पाकिस्तान में कट्टरता किस तरह से हावी है उसका सबसे बड़ा गवाह है 9 अक्टूबर। यह देश के इतिहास का सबसे बड़ा काला दिन है। पाकिस्तान में कट्टरपंथियों द्वारा महिलाओं, अल्पसंख्यकों और उनके हक के लिए लड़ने वालों की आवाज को दबाने के लिए आज का दिन यानी 9 अक्टूबर को याद किया जाता है। आज ही के दिन मलाला यूसुफजई को तालिबान ने गोली मारी थी।

कौन हैं मलाला यूसुफजई?
मलाला का जन्म 1997 में पाकिस्तान के खैबर पख्‍तूनख्‍वाह प्रांत के स्वात जिले में हुआ। मलाला के पिता का नाम जियाउद्दीन यूसुफजई है। तालिबान ने 2007 से मई 2009 तक स्वात घाटी पर कब्जा कर रखा था। इसी बीच तालिबान के भय से लड़कियों ने स्कूल जाना बंद कर दिया था। मलाल तब आठवीं की छात्रा थीं और उनका संघर्ष यहीं से शुरू होता है।

ये भी पढ़ें- राजस्थान के मालपुरा में लगा अनिश्चतकालीन कर्फ्यू, जानें पूरा मामला

2008 में तालिबान ने स्वात घाटी पर अपना नियंत्रण कर लिया। वहां उन्होंने डीवीडी, डांस और ब्यूटी पार्लर पर बैन लगा दिया। साल के अंत तक वहां करीब 400 स्कूल बंद हो गए। इसके बाद मलाल के पिता उसे पेशावर ले गए जहां उन्होंने नेशनल प्रेस के सामने वो मशहूर भाषण दिया जिसका शीर्षक था- हाउ डेयर द तालिबान टेक अवे माय बेसिक राइट टू एजुकेशन? तब वो केवल 11 साल की थीं।

साल 2009 में उसने अपने छद्म नाम ‘गुल मकई’ से बीबीसी के लिए एक डायरी लिखी। इसमें उसने स्वात में तालिबान के कुकृत्यों का वर्णन किया था। बीबीसी के लिए डायरी लिखते हुए मलाला पहली बार दुनिया की नजर में तब आईं जब दिसंबर 2009 में जियाउद्दीन ने अपनी बेटी की पहचान सार्वजनिक की।

मलाला पर तालिबानी हमला

2012 को तालिबानी आतंकी उस बस पर सवार हो गए, जिसमें मलाला अपने साथियों के साथ स्कूल जाती थीं। उनमें से एक ने बस में पूछा, ‘मलाला कौन है?’ सभी खामोश रहे लेकिन उनकी निगाह मलाला की ओर घूम गईं। इससे आतंकियों को पता चल गया कि मलाला कौन है। उन्होंने मलाला पर एक गोली चलाई जो उसके सिर में जा लगी।

मलाला पर यह हमला 9 अक्टूबर 2012 को खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वात घाटी में किया था। गंभीर रूप से घायल मलाला को इलाज के लिए ब्रिटेन ले जाया गया। यहां उन्हें क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती कराया गया। देश-विदेश में मलाला के स्वस्थ होने की प्रार्थना की गई और आखिरकार मलाला वहां से स्वस्थ होकर लौटीं।

http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

राजस्थान के मालपुरा में लगा अनिश्चतकालीन कर्फ्यू, जानें पूरा मामला

Published

on

फाइल फोटो

जयपुर। राजस्थान में टोंक जिले के मालपुरा में रावण दहन के समय निकाली गई राम बारात पर पथराव से हुए तनाव के कारण आज सुबह अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया है। जहां  जिला कलेक्टर के के शर्मा ने कर्फ्यू के आदेश जारी करते हुए इंटरनेट सेवाओं पर भी अगले दो दिनों तक रोक लगा दी है।

जानकारी के मुताबिक मालपुरा में कल रावण दहन के समय राम बारात पर एक समुदाय के लोगों ने पथराव कर दिया था। घटना के विरोध में विद्यायक कन्हैया लाल चौधरी के नेतृत्व में लोगों ने आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर रावण दहन को रोक दिया और थाने के बाहर धरना शुरू कर दिया। रात्रि करीब ढाई बजे प्रसाशन ने बातचीत कर धरने को हटा दिया और सुबह चार बजे के बाद रावण दहन करवाया।

ये भी पढ़े- राफेल की पूजा पर कांग्रेस नेता ने सरकार पर बोला हमला, कहा- ड्रामा करने में माहिर

वहीं प्रशासन ने इसके बाद पांच बजे कर्फ्यू की घोषणा कर दी। सूत्रों के अनुसार क्षेत्र में तनाव को देखते हुये भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है। इससे पहले भी मालपुरा में कांवड़ियों पर पथराव के बाद पिछले वर्ष दंगा भड़का था। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 9, 2019, 3:25 pm
Partly sunny
Partly sunny
32°C
real feel: 37°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 55%
wind speed: 1 m/s ESE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:32 am
sunset: 5:15 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending