Connect with us

देश

CAA ये खिलाफ हो रहे दंगो पर सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का हुआ ट्रांसफर

Published

on

मुरलीधर

फाइल फोटो

नई दिल्ली। दिल्ली के उत्तरपूर्वी इलाके में नागरिकता संशोधान कानून( सीएए) को लेकर हो रही हिंसा पर सुनवाई करने वाले हाईकोर्ट के न्यायधीश एस। मुरलीधर का ट्रांसफर कर दिया गया है।    उनके ट्रांसफर को लेकर सवाल खड़े किए गए , जिसके बाद कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर न्यायाधीश मुरलीधर का ट्रान्सफर किया है। बस तय प्रक्रिया का पालन किया गया है।

वहीं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की 12 फरवरी 2020 को की गई सिफारिश के मुताबिक न्यायमूर्ति मुरलीधर का ट्रांसफर किया गया। जज का ट्रांसफर करते समय उनकी सहमति ली जाती है। अच्छी तरह से तय प्रक्रिया का पालन किया गया है।

ये भी पढ़ें:सांसद आजम खान की पत्नी व बेटे अब्दुल्ला को रामपुर से सीतापुर की जेल में शिफ्ट

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि एक ट्रांसफर रुटीन का कांग्रेस ने राजनीतिकरण किया है और न्यायपालिका उसने फिर से तुच्छ हरकत की है। भारत के लोगों ने कांग्रेस पार्टी को अस्वीकार कर दिया है और कांग्रेस संस्थाओं को खत्म करने की अब कोशिश कर रही है। हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता का सम्मान करते हैं। न्यायपालिका की स्वतंत्रता से समझौता करने में कांग्रेस का रिकॉर्ड है। इमरजेंसी के दौरान सुप्रीम कोर्ट के जजों को हटा देना। उन्हें तभी पसंद आता है जब निर्णय उनके पसंद का हो अन्यथा संस्थानों पर सवाल ही खड़े किये जाते हैं।

जानकारी के मुताबिक  जस्टिस मुरलीधर का पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में ट्रान्सफर किया गया है। सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने कुछ दिन पहले ही उनके ट्रांसफर की सिफारिश की थी। जस्टिस मुरलीधर दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई कर रहे थे और यह अधिसूचना ऐसे दिन जारी की गई जब उनकी अगुवाई वाली पीठ ने कथित रूप से नफरत फैलाने वाले भाषणों को लेकर तीन भाजपा नेताओं के खिलाफ दिल्ली पुलिस के प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर ‘नाराजगी’ जाहिर की थी। न्यायमूर्ति एस मुरलीधर और न्यायमूर्ति अनूप जे भम्भानी की पीठ ने अधिकारियों को चेतावनी दी थी कि वे सतर्क रहें ताकि 1984 में सिख विरोधी दंगों के दौरान जो नरसंहार हुआ था, उसे फिर से दोहराया न जाए।

विधि एवं न्याय मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने प्रधान न्यायाधीश से विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया। अधिसूचना में हालांकि, यह जिक्र नहीं किया गया है कि न्यायमूर्ति मुरलीधर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में अपना कार्यभार कब संभालेंगे। http://www.satyodaya.com

देश

अमित शाह से मुलाकात के दौरान बोले तेजस्वी सूर्या, आतंकियों का गढ़ बन गया है बेंगलुरू

Published

on

बेंगलुरू। भारतीय जनता पार्टी के सबसे युवा सांसदों में से एक तेजस्वी सूर्या ने रविवार को बड़ा बयान दिया है। दरअसल उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुकालात करने के बाद बेंगलुरू को आतंकियों का गढ़ बताया है। तेजस्वी सूर्या ने दावा किया है कि बेंगलुरू आतंकवादी गतिविधियों का केंद्र बन चुका है। इस मामले को लेकर उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और राष्ट्रीय जांच एजेंसी का एक स्थायी कार्यालय कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में भी स्थापित करने की मांग की है।

भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या को भारतीय जनता युवा मोर्चा का अध्यक्ष भी नियुक्त किया जाना है, इससे पहले ही उनका यह बयान आना बड़ी बात है। उन्होंने कहा है कि बेंगलुरू में कई आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ हुआ है। तेजस्वी सूर्या का कहना है, ’गृह मंत्री ने मुझे आश्वस्त किया है कि जल्द से जल्द पुलिस अधीक्षक स्तर के एक अधिकारी की निगरानी में एक स्थायी कार्यालय खोलने के लिए वह अधिकारियों को निर्देश देंगे।’

यह भी पढ़ें : बिहार: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में शामिल, सीएम नीतीश ने दिलाई सदस्यता

गौरतलब हो कि तेजस्वी सूर्या बेंगलुरू की दक्षिणी सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने कहा है, ‘पिछले कुछ वर्षों में भारत का सिलिकॉन वैली आतंकी गतिविधियों का केंद्र बन गया है। जांच एजेंसियों द्वारा की गई गिरफ्तारियां और अन्य खुलासों से यह स्पष्ट भी हो गया है।’ इसके अलावा तेजस्वी सूर्या ने यह भी कहा है कि भाजयुमो का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद वह सबसे पहले बिहार कादौरा करेंगे और पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं से मिलेंगे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

बिहार: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में शामिल, सीएम नीतीश ने दिलाई सदस्यता

Published

on

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के राज्य में कई बड़ी राजनीतिक हलचलें देखने को मिल रही हैं। दरअसल बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने जनता दल यूनाइटेड की सदस्यता ग्रहण कर ली है। उन्होंने रविवार को बिहार के सीएम नीतीश कुमार के आवास पर ही जेडीयू की सदस्यता ग्रहण की है।

इस मौके पर खुद सीएम नीतीश कुमार ने गुप्तेश्वर पांडेय को पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई है। गौरतलब हो कि बिहार चुनाव से पहले ही गुप्तेश्वर पांडेय ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी और इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि वह जल्द ही जेडीयू में शामिल हो सकते हैं। वहीं अब उन्होंने पार्टी में शामिल होकर सभी कयासों पर लगाम लगा दिए हैं।

भाजपा में भी शामिल होने की थी चर्चा

जेडीयू में शामिल होने से पहले ऐसी बातें भी सामने आ रही थीं कि गुप्तेश्वर पांडेय भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण कर सकते हैं। गौरतलब हो कि गुप्तेश्वर पांडेय इससे पहले बीते शनिवार को पटना स्थित जेडीयू कार्यालय पहुंचे थे। जिसके बाद से ही इस बात के कयास तेज हो गए थे कि वह जल्द ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ दिख सकते हैं। हालांकि उस समय मीडिया के सामने पूर्व डीजीपी ने इस तरह की बातों से इनकार किया था।

यह भी पढ़ें : तेजस्वी यादव के 10 लाख युवाओं को नौकरी वाले बयान पर भाजपा का पलटवार

वहीं अब नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद गुप्तेश्वर पांडेय के लोकसभा उपचुनाव लड़ने की भी चर्चाएं तेज हो गई हैं। हालांकि उन्होंने इस तरह की संभावनाओं से इनकार किया है। पांडे ने कहा था कि चुनाव लड़ने को लेकर उन्होंने फिलहाल कोई रणनीति नहीं बनाई है। जबकि रिटायरमेंट लेने से पहले पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा था कि नीतीश कुमार ने उन्हें स्वतंत्र रूप से काम करने दिया है, इसलिए वह जेडीयू कार्यालय में उनका धन्यवाद देने गए थे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

तेजस्वी यादव के 10 लाख युवाओं को नौकरी वाले बयान पर भाजपा का पलटवार

Published

on

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव का समय जैसे-जैसे करीब आ रहा है, वैसे-वैसे राजनीतिक दलों की ओर से किए जाने वाले वादों और बड़ी-बड़ी घोषणाओं की लिस्ट बढ़ती जा रही है। इसी क्रम में अब आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव की ओर से बड़ा बयान दिया गया है। दरअसल तेजस्वी यादव ने कहा है कि अगर आने वाले चुनाव में उनकी पार्टी की जीत होती है और बिहार में उनकी सरकार बनती है, तो पहली ही कैबिनेट बैठक में 10 लाख नौकरियां देने का आदेश जारी किया जाएगा।

वहीं तेजस्वी यादव के इस बयान के सामने आने के बाद बिहार विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां और भी तेज हो गई हैं। जबकि भारतीय जनता पार्टी ने तेजस्वी यादव के इस बयान को लेकर उन पर निशाना भी साधा है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा है कि राजद ने 15 साल के शासन में युवाओं को रोजगार देने के लिए क्या किया।

यह भी पढ़ें : प्रयागराज में हुए गैंगरेप के आरोपी का समाजवादी पार्टी ने लगाया पोस्टर, FIR दर्ज

संजय जायसवाल ने यह बात बिहार भाजयुमो की ओर से संकलित पुस्तक ‘युवाओं का विकास, मोदी जी के साथ’ का विमोचन करने के दौरान दिया है। उन्होंने कहा है कि किसानों के लिए राजग सरकार ने जो काम किया है, कुछ अनपढ़ लोग उसे नहीं समझ सकते हैं। इसके साथ ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने यह भी कहा कि आरजेडी की सरकार ने बीते 15 सालों में आखिर क्या किया।

तेजस्वी ने दिया था बयान

गौरतलब हो कि इससे पहले तेजस्वी यादव ने कहा था कि अगर चुनाव के बाद बिहार में आरजेडी की सरकार बनी, तो कैबिनेट की पहली ही बैठक में प्रदेश के 10 लाख युवाओं को नौकरी देने के बारे में फैसला लिया जाएगा। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा है कि उनका यह बयान चुनावी वादा नहीं, बल्कि मजबूत इरादा है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 28, 2020, 7:28 am
Fog
Fog
25°C
real feel: 31°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 5:27 am
sunset: 5:26 pm
 

Recent Posts

Trending