Connect with us

देश

कल्पना चावला: आज ही के दिन शुरू की थी दोबारा न लौटने की यात्रा

Published

on

लखनऊ। अंतरिक्ष परी कल्पना चावला ने अंतरिक्ष में अपनी दूसरी उड़ान 16 जनवरी, 2003 को स्पेस शटल कोलंबिया से शुरू की। उससे पूर्व कल्पना पहली भारतीय महिला थीं जिन्होंने 19 नवंबर 1997 को अंतरिक्ष में अपनी प्रथम उड़ान एसटीएस 87 कोलंबिया शटल से भरी थी।

दूसरा अंतरिक्ष मिशन 16 दिन का था जो पूरी तरह से विज्ञान और अनुसंधान पर आधारित था। 1 फरवरी, 2003 को इस अंतरिक्ष मिशन में अपनी कामयाबी के झंडे लहराता जब उनका यान धरती से करीब दो लाख फीट की ऊंचाई पर था और यान की रफ्तार करीब 20 हजार किलोमीटर प्रति घंटा थी। यह यान अगले 16 मिनट में धरती पर अमेरिका के टैक्सस शहर में उतरने वाला था और पूरी दुनिया बेसब्री से यान के धरती पर लौटने का इंतजार कर रही थी। तभी दुर्भाग्यवश अचानक नासा का इस यान से संपर्क टूट गया और एक हृदयविदारक खबर ने सभी को दहला के रख दिया कि कोलंबिया स्पेस शटल दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। इस हादसे में कल्पना चावला सहित सातों अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: एक ऐसा मंदिर जहां लगता है आशिकों का मेला, जानें इसकी वजह…

अंतरिक्ष यात्रियों की इस टीम में कल्पना चावला सहित एक इजरायली वैज्ञानिक आइलन रैमन तथा अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री विलियम मैकोल, लॉरेल क्लार्क, आइलन रैमन, डेविड ब्राउन और माइकल एंडरसन शामिल थे। वैज्ञानिकों के मुताबिक-जैसे ही कोलंबिया ने पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश किया, वैसे ही उसकी उष्मारोधी परतें फट गईं और यान का तापमान बढ़ने से यह हादसा हुआ।

गौरतलब है कि नासा के इस एसटीएस 107 मिशन में अंतरिक्ष यात्रियों ने 2 दिन काम किया और 80 परिक्षण व प्रयोग सफलता पूर्वक सम्पन्न किए। भारत की शान, भारत की बेटी कल्पना चावला आज भले ही हमारे बीच नहीं हैं पर देश को गौरवान्वित करने वाली इस बेटी का यह संदेश आज हर बेटी की जुबां पर है कि ‘बेटी हो कमजोर नहीं’ अपने हौसले और सपने हमेशा ऊॅंचे रखो।

करनाल की कुड़ी

कल्पना चावला का जन्म हरियाणा के करनाल में बनारसी लाल चावला के घर 17 मार्च 1962 को हुआ था। अपने चार भाई-बहनों में वे सबसे छोटी थीं। घर पर उन्हें प्यार से मोंटू कहकर पुकारा जाता था। कल्पना जब आठवीं क्लास में थीं तब उन्होंने अपने पिता से इंजीनियर बनने की इच्छा जाहिर कर दी थी। कल्पना की शुरुआती पढ़ाई करनाल के टैगोर बाल निकेतन स्कूल में हुई। पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से 1982 में उन्होंने एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की डिग्री पाई और इस विषय में मास्टर्स डिग्री के लिए वे अमेरिका गईं, यहां पढ़ाई के दौरान उनकी मुलाकात जीन पिएर्रे हैरिसन से हुई। हैरिसन एक फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर और एविएशन लेखक थे। उन्हीं से कल्पना ने प्लेन उड़ाना सीखा। साल 1983 में कल्पना चावना ने हैरिसन से शादी की।

1984 में अमेरिकी टेक्सस यूनिवर्सिटी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में मास्टर्स डिग्री प्राप्त करने के पश्चात अगले पांच सालों तक कल्पना ने कैलीफोर्निया की कंपनी ओवरसेट मेथड्स में रहकर एयरोडायनमिक्स के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण अनुसंधान किए जो अनेक नामी जर्नल में प्रकाशित हुए। फ्लुइड डायनमिक्स के क्षेत्र में अपने एक महत्वपूर्ण अनुसंधान को कर 1988 में वे नासा में शामिल हो गईं। कल्पना चावला की योग्यताओं और उनके हौसलों के चलते 1995 में उन्हें नासा में बतौर अंतरिक्ष यात्री शामिल किया गया।

भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री

नासा में कुछ समय के कड़े प्रशिक्षण और कोलंबिया अंतरिक्ष यान एसटीएस-87 मिशन में विशेषज्ञ की हैसियत से काम करने के पश्चात 19 नवंबर 1997 को वह दिन आया जब कल्पना चावला को अपने सपनों को साकार करती अंतरिक्ष की पहली उड़ान भरने का मौका मिला। इस मिशन को कल्पना ने 5 दिसंबर 1997 को सफलता पूर्वक सम्पन्न किया। अपने पहले मिशन में कल्पना ने पृथ्वी की 252 कक्षाओं में 6.5 अरब मील की यात्रा की और अंतरिक्ष में 376 घंटे और 34 मिनट बिताए। अंतरिक्ष में जाने वाली वे भारतीय मूल की पहली महिला थीं।

कल्पना के प्रथम सफल अंतरिक्ष मिशन के चलते नासा ने अगले पांच साल से भी कम समय में अपने जनवरी 2003 के कोलंबिया अंतरिक्ष यान एसटीएस-107 मिशन पर उन्हें न सिर्फ दूसरी बार अंतरिक्ष में भेजने का फैसला किया, बल्कि सात सदस्यीय मिशन टीम में उन्हें महत्वपूर्ण स्थान भी दिया। सोलह दिवसीय नासा के इस मिशन में कल्पना विशेषज्ञ के रूप में शामिल की गईं।http://www.satyodaya.com

देश

विज्ञान दिवसः PM मोदी ने कहा- हमारे वैज्ञानिकों की शोध ने दुनिया को दिखाया रास्ता

Published

on

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के मौके पर शुक्रवार को वैज्ञानिकों को शुभकामनाएं दीं। मोदी ने ट्विटर पर अपने शुभकामना संदेश में लिखा, “राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हमारे वैज्ञानिकों की प्रतिभा और दृढ़ता का सलाम करने का अवसर होता है। नवाचार के प्रति उनके उत्साह और अग्रणी शोध ने भारत और विश्व की मदद की है। मैं चाहता हूं कि भारतीय विज्ञान का विकास जारी रहे तथा हमारे युवा विज्ञान के प्रति और जिज्ञासा विकसित करें।

यह भी पढ़ें: प्रदेशकरोड़ों हड़पने वाले मुकेश सिंह के खिलाफ कानपुर के आठ लोगों ने दर्ज कराई FIR

उल्लेखनीय है कि प्रसिद्ध वैज्ञानिक सी. वी. रमन ने 28 फरवरी 1028 को रमन प्रभाव की खोज की थी, जिसके लिए उन्हें 1930 में उन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। विज्ञान के प्रति युवाओं का ध्यान आकर्षित करने के लिए 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

Continue Reading

देश

दिल्ली हिंसा: पार्षद ताहिर हुसैन पर हत्या, आगजनी और हिंसा फैलाने का केस दर्ज

Published

on

नई दिल्ली: दिल्ली में जारी हिंसा के बीच आम आदमी पार्टी के निगम पार्षद हाजी ताहिर हुसैन के खिलाफ गुरुवार शाम दयालपुर थाने में हत्या, आगजनी और हिंसा फैलाने का मामला दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले आईबी के जवान अंकित शर्मा की हत्या के  बाद उनके परिजनों ने ताहिर पर ही हत्या करने का आरोप लगाया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि अंकित शर्मा की हत्या चाकू मारकर की गई है। अंकित के परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने ताहिर हुसैन व अन्यों के खिलाफ मामला दर्ज किया। अब इस  पूरे हिंसा मामले की जांच अपराध शाखा की एसआईटी करेगी। 

यह भी पढ़ें: वित्तीय अनियमितता में फंसी भातखण्डे की कुलपति, राज्यपाल ने दिए जांच के आदेश

बता दें कि इससे पहले पुलिस ने गुरुवार को ताहिर के मकान की तलाशी ली। जहां मौके से घर की छत से पेट्रोल बम, गुलेल और तेजाब बरामद हुआ। उपद्रवियों ने ताहिर के मकान की छत से हमला किया। ताहिर ने बताया था कि कुछ लोगों ने जबरन उसकी छत पर कब्जा कर वारदात को अंजाम दिया।


साक्ष्यों से छेड़छाड़ की थी आशंका 

24 और 25 फरवरी को उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में दंगे भड़क गए थे। इस दौरान कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए जिसमें साफ दिख रहा था कि आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन उपद्रवियों के साथ बातचीत करते दिख रहे हैं।


ताहिर हुसैन ने किया आरोपों का खंडन किया

हिंसा मामले में अपना नाम सामने आने के बाद पार्षद ताहिर हुसैन ने इस पूरे घटना का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि जब उपद्रवी उनके घर के पास जमा होने लगे तो उन्होंने खुद इसकी सूचना पुलिस को दी और वह 24 तारीख को ही घर छोड़कर निकल गए थे।http://www.satyodaya.com 

Continue Reading

देश

दिल्ली हिंसा: केजरीवाल का ऐलान, मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख का मुआवजा

Published

on

नई दिल्ली। दिल्ली में हुई हिंसा के बाद अब हालात में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। हिंसा में कई लोगों की जान चली गई थी। वही एक पेट्रोल पंप और घर को आग के हवाले कर दिया गया था। जिसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि हिंसा में कमी आई है। इस हिंसा में सभी को नुकसान हुआ है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को हिंसा पीड़ितों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। राहत राशि का ऐलान करते हुए दिल्ली सरकार के मुखिया केजरीवाल ने मृतकों के परिजनों को 10 -10 लाख रुपया मुआवजा देने की बात कही है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार के फरिश्ते स्कीम के तहत सभी घायलों को मुफ्त चिकित्सा सुविधा दी जाएगी।

यह भी पढ़ें:- आईआईटी कानपुर व ला ट्रोब यूनिवर्सिटी ने कानपुर में शुरू की रिसर्च एकेडमी

उन्होंने कहा कि मृतकों के साथ गंभीर रूप से घायल लोगों को 2 लाख और जिसका दंगे में घर दुकान जल गई हैं। उन्हें 5 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा साथ की हिंसा में अनाथ होने वाले बच्चों को 3-3 लाख मुआवजा दिया जाएगा। वहीं हिंसा में आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन का नाम सामने आ रहा है। जिस पर केजरीवाल ने कहा कि अगर आप का कोई नेता हिंसा में शामिल होने का दोषी पाया जाता है तो उसे दोगुनी सजा दी जाए। जो भी इस मामले में दोषी पाया जाए उसे कड़ी से कड़ी सजा मिले। राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 28, 2020, 5:26 pm
Partly sunny
Partly sunny
25°C
real feel: 25°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 57%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 6:02 am
sunset: 5:36 pm
 

Recent Posts

Trending