Connect with us

देश

जानें- कैसे अर्श से फर्श पर आकर धराशाई हो गईं जेट एयरवेज के उड़ने की सभी उम्मीदें, यहां है पूरी कहानी

Published

on

नई दिल्ली। कभी देश की सबसे बड़ी निजी विमान सेवा कंपनी का रुतबा हासिल करने वाली जेट एयरवेज की हालत आज ऐसी हो गयी है कि उसकी उड़ने की सभी उम्मीदें टूट चुकी हैं और वह आसमान से जमीन पर आ पहुंची है। आर्थिक रूप से धराशाई हुई भारत की दूसरी सबसे बड़ी निजी विमानन कंपनी के पास एक अदद हवाई सेवा जारी रखने के लिए ईंधन तक के पैसे नहीं बचे हैं, कर्मचारियों को तीन महीने से सैलरी नहीं मिली है। बुधवार रात जेट एयरवेज के किसी विमान ने अंतिम बार उडान भरी। दरअसल 25 साल पुरानी एयरलाइन कंपनी पर 8 हजार करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज हो चुका है और बैंकों ने 400 करोड़ रुपये का इमर्जेंसी फंड देने से इनकार कर दिया। जिसके बाद जेट एयरवेज के प्रबंधकों ने जेट की सेवा को अस्थायी रूप से निलंबित करने का फैसला लिया है। अपनी बेहतर सेवाओं के चलते जेट एयरवेज भारत सहित दुनिया के सभी यात्रियों में खासा लोकप्रिय थी। हजारों लोग प्रतिदिन अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए जेट एयरवेज पर निर्भर थे। अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानों के मामले में जेट एयरवेज कभी देश की सबसे बड़ी एयरलाइंस थी। दिसंबर 2018 तक जेट के पास बोइंग 777 और एयरबस ए330, सिंगल बी737 और टर्बोप्रॉप एटीआर के साथ कुल 124 विमान थे। कंपनी हर दिन करीब 600 उड.ानें भर रही थी। लेकिन 18 अप्रैल 2019 को कंपनी ने केवल पांच विमानों के साथ परिचालन किया और बुधवार रात जेट की आखिरी उड.ान अमृतसर से मुंबई के लिए थी।
इसके पहले आर्थिक संकट के चलते जेट एयरवेज पहले ही अपने अंतरराष्ट्रीय परिचालन को 18 अप्रैल तक स्थगित करने की घोषणा कर चुकी थी। कंपनी की यह हालत बैंकों का कर्ज न चुका पाने के कारण हुई है।

कैसे हुई शुरुआत

जेट एयरवेज की स्थापना 1992 में एयर टैक्सी के रूप में हुई थी। मई 1993 में दो विमानों बोइंग 737 और बोइंग 300 के साथ कंपनी ने कामर्शियल उड़ाने प्रारंभ की। 2004 में जेट एयरवेज ने चेन्नई से कोलंबों हवाई सेवा की शुरूआत कर अंतरराष्टीय सेवा का आगाज किया। जनवरी 2007 में जेट एयरवेज ने एयर सहारा को खरीद लिया। जिसके बाद जेट एयरवेज ने बड़े स्तर पर अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्राओं की शुरूआत की। लेकिन इस खरीद के बाद से ही जेट एयरवेज की मुश्किलें भी शुरू हो गईं। कंपनी इस कर्ज भारी-भरकम कर्ज को चुका नहीं पाई। रही सही कसर 2008 की आर्थिक मंदी ने पूरी कर दी। अक्टूबर 2008 में जेट एयरवेज ने कुछ कर्मचारियों की छंटनी की लेकिन नागरिक उडृडयन मंत्रालय के हस्तक्षेप के बाद कंपनी को अपना निर्णय वापस लेना पड़ा।

यह भी पढ़ें-जेट एयरवेज का हाल, कंपनी कंगाल, संस्थापक मालामाल

वर्ष 2012 में जेट एयरवेज घरेलू हिस्सेदारी में इंडिगो से पिछड. गयी। संकट से जूझ रही जेट एयरवेज में एतिहाद एयरलाइंस ने 24 प्रतिशत शेयर खरीदा। जबकि कंपनी का 51 प्रतिशत जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल के पास ही रहा। 2018 में जेट एयरवेज को भारी तिमाही नुकसान उठाना पड.ा। दिसंबर 2018 में जेट ने सभी विदेशी सेवाएं स्थगित कर दी। इसके बाद 25 मार्च 2019 में जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल ने कंपनी में अपने सभी पदों से इस्तीफा सौंप दिया।

कुछ समय पहले तक जेट एयरवेज देश के 52 तथा 21 विदेशी गंतव्यों के लिए हवाई सेवाएं दे रहा था। जेट एयरवेज का मुख्यालय भी मंुबई में ही है। इसके परिचालन का मुख्य केन्द्र मुंबई का छत्रपति शिवाजी हवाई अड्डा है। इसके अतिरिक्त बंगलौर के केम्पेगोव्डा अन्तराष्ट्रीय विमान पत्तन, चेन्नई अन्तराष्ट्रीय विमान पत्तन, दिल्ली के इंदिरा गाँधी अन्तराष्ट्रीय विमान पत्तन, कोलकाता के नेताजी सुभाष चन्द्र बोस अन्तराष्ट्रीय विमान पत्तन तथा पुणे विमान पत्तन से सभी उड़ानों का परिचालन करता है।

कई महत्वपूर्ण रूटों पर बढ़ गया किराया

देश व दुनिया की हवाई यात्राओं में जेट एयरवेज की अहमियत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जेट का परिचालन बंद होने से देश में कई रूटों पर हवाई किराया महंगा होने की आशंका है। विदेशी रूटों पर किराया बढ़ने की खबर आ चुकी है। लंदन का किराया 37 हजार रु. से बढ़कर 1.80 लाख रुपये तक पहुंच चुका है। उड्डयन मंत्रालय ने लोकप्रिय रूट्स पर बढ़ते हवाई किरायों पर अंकुश लगाने के लिए गुरुवार को एयरलाइंस और हवाई अड्डों की मीटिंग बुलाई है। एक सूत्र ने बताया कि सरकार एयरलाइंस से कैपेसिटी बढ़ाने को कह सकती है, लेकिन कंपनियों के लिए अभी जेट एयरवेज के स्लॉट की भरपाई करना मुमकिन नहीं है। माना जा रहा है कि जेट के पास देश भर में 400 डिपार्चर स्लॉट हैं, जिनका इस्तेमाल नहीं हो रहा है। इनमें से दिल्ली और मुंबई के 80 स्लॉट्स हैं, जो देश के दो सबसे व्यस्त हवाई अड्डे हैं।

26 बैंकों का कर्ज

फिलहाल जेट एयरवेज पर कुल 26 बैंकों का करीब 8,500 करोड़ रुपये कर्ज है। इसमें कुछ प्राइवेट और विदेशी बैंक भी शामिल हैं। पब्लिक सेक्टर बैंक में केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सिंडिकेट बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, इलाहबाद बैंक, एसबीआई और पीएनबी शामिल हैं। वहीं, आईसीआईसीआई और यस बैंक जैसे प्राइवेट बैंकों का भी जेट पर बकाया है। दरअसल, 2010 के संकट के बाद एयरलाइन का कर्ज संकट गहराने लगा। इस दौरान कंपनी को लगातार चार तिमाहियों में घाटा उठाना पड़ा। इसके बाद वह ईएमआई चुकाने में फेल होने लगी।

बर्बादी का राजनीतिक कनेक्शन

जेट एयरवेज के संकट के राजनीतिक कनेक्शन भी हैं। नरेश गोयल का यूपीए सरकार के शासन काल में हुआ था। लेकिन 2014 में केन्द्र में एनडीए सरकार आने के बाद जेट एयरवेज की समस्याएं शुरू हो गईं। सूत्रों के अनुसार भाजपा की सहयोगी शिवसेना के साथ जेट एयरवेज के मैनेजमेंट के संबंध अच्छे नहीं हैं। इसने भाजपा से कहा है कि जेट को सरकार की तरफ से कोई मदद न दी जाए।
वहीं जेट में मुंबई की एक सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहे एनसीपी नेता के भी पैसे लगे हैं। सूत्रों के अनुसार एनआरआई नरेश गोयल के पास इतने पैसे हैं कि अकेले जेट को संकट से उबार सकते हैं। लेकिन ज्यादातर पैसा कालेधन में है। उनका दुबई और लंदन में होटल चेन है।
करीब 25000 लोगों को रोजगार देने वाली जेट एयरवेज के बंद होने से हजारों लोगों की रोजी-रोटी पर भी संकट खड़ा हो गया है। खबरों के अनुसार जेट का संकट बढ़ने के बाद 400 पायलट नौकरी छोड़ चुके हैं। अब जेट के पास 1,300 पायलट रह गए हैं।
पिछले कुछ वर्षों में बंद होने वाली जेट एयरवेज दूसरी बड़ी हवाई सेवा कंपनी है। इसके पहले 2012 में किंगफिशर एयरलाइंस भी बंद हो चुकी है। किंगफिशर के मालिक भारतीय शराब कारोबारी विजय माल्या भारतीय बैंकों को हजारों करोड. रुपए का चूना लगाकर विदेश में शरण लिए हुए हैं। जिनके भारत प्रत्यर्पण के लिए भारतीय जांच एजेंसियां लगातार सक्रिय हैं।http://www.satyodaya.com

देश

जम्मू-कश्मीरः हिजबुल मुजाहिद्दीन संगठन का एक आतंकी सेना की मुठभेड़ में ढेर

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। जम्मू-कश्मीर के डोडा में बुधवार को सुरक्षाबलों व आतंकी की बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें हिजबुल मुजाहिद्दीन संगठन का आतंकी कमांडर हारुन हफाज मार गिराया गया। इलाके में सर्च आपरेशन जारी है। हारुन हफाज की भारतीय सेना को काफी दिनों से तलाश थी।

यह भी पढ़ें:- सुलेमानी की हत्या का भारत के 430 शहरों में हुआ विरोधः जावद जरीफ

सेना की राष्ट्रीय राइफल्स को सुबह हारुन के डोडा में छिपे होने की सूचना मिली थी। खुफिया सूचना के आधार पर ही सेना ने गोंदाना में तलाशी अभियान चलाया था। सेना की सख्त घेराबंदी के बीच हारुन ने फायरिंग कर मौके से भागने की कोशिश की। जिसके बाद जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए उसे मार गिराया। बता दें कि 12 जनवरी को हम्माद खान समेत तीन आतंकियों के मारे जाने से पहले सात जनवरी को दक्षिणी कश्मीर के अवंतीपोरा के चरसू में हिजबुल आतंकी शाहिद अहमद को सुरक्षा बलों ने मार गिराया था। हिजबुल संगठन के नए साल में 6 आतंकी मारे गए है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

आईएमए की पीएम मोदी से मांग, कथित बयान पर मांगे माफी या आरोप करें साबित

Published

on

लखनऊ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कथित बयान पर आपत्ति जताते हुए मांग की है कि पीएम अपने कथित बयान के लिए माफी मांगे या तो फिर साबित करें कि उनकी ओर से लगाए गए आरोप सही हैं। आईएमए यहां पीएम मोदी के उस कथित बयान का जिक्र कर रहा है, जिसमें कहा गया कि शीर्ष फार्मा कंपनियों ने डॉक्टरों को रिश्वत के तौर पर लड़कियां उपलब्ध कराईं।

आईएमए ने पीएम मोदी को पत्र लिखा है, जिसमें कहा गया है कि डॉक्टरों के खिलाफ रिश्वत के आरोप साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है। साथ ही  सरकार पर ‘वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने की कोशिश’ का आरोप लगाया है। देश में 3.5 लाख डॉक्टरों के इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर स्पष्टीकरण मांगा है।

उनका कहना है कि क्या सरकार दवा कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करने की योजना बना रही है। कथित रूप से डॉक्टरों को रिश्वत देने और एथिकल मेडिकल प्रैक्टिस करने के उल्लंघन का आरोप है। चिट्ठी में लिखा गया है, ‘इसके अलावा, अब दोषी पाए गए डॉक्टरों या अन्य के नाम जारी करना भी पीएमओ के लिए अनिवार्य है।’ आईएमए की तरफ से कहा गया कि अगर डॉक्टरों को नैतिक रूप से दोषी ठहराया गया है तो राज्य चिकित्सा परिषदों को उचित कार्रवाई शुरू करनी चाहिए। उनका दावा है कि सरकार इन आरोपों को साबित नहीं कर पाएगी।

बता दें, आईएमए ने पत्र में सरकार को ‘लोगों के स्वास्थ्य और देश की चिकित्सा शिक्षा के बारे में अनसुलझे मुद्दों से ध्यान हटाने’ के लिए भी दोषी ठहराते हुए कहा है, ‘यह विश्वास है कि इस तरह की क्रूड रणनीति स्वास्थ्य क्षेत्र में वास्तविक मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए है।’ इसने मोदी सरकार के प्रमुख हेल्थकेयर आयुष्मान भारत को ‘एक गैर-स्टार्टर’ के रूप में वर्णित किया कि यह सरकारी अस्पतालों में अधिक चलाया जा रहा है जहां इलाज पहले से ही मुफ्त है। पत्र में यह भी कहा, ‘सरकारी सहित अस्पतालों को दिए जाने वाले पैसे का 15 प्रतिशत बीमा कंपनियों द्वारा छीना जाता है।’

ये भी पढ़ें: BJP CAA पर यूपी में 6 रैलियां करेगी, अमित शाह 21 को लखनऊ से करेंगे आगाज

यही नहीं चिट्ठी में यह भी जिक्र किया गया है कि सरकार की ओर से स्वास्थ्य के लिए आवंटन पिछले कुछ वर्षों से सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 1 प्रतिशत से 13 प्रतिशत हो गया है। आधारभूत संरचना या मानव संसाधन में कोई निवेश नहीं है।’  वहीं, ‘डॉक्टरों पर हिंसा के मामले बढ़ गए हैं और सरकार को सुरक्षा प्रदान करने में असमर्थ होने या यहां तक कि डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए प्रस्तावित कानून को ना बनाने के लिए दोषी ठहराया गया है।’http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

शिमला: भीषण अग्निकांड में पंचायत भवन व डाकघर समेत कई मकान जलकर राख

Published

on

फाइल फोटो

शिमला: हिमाचल के शिमला जिले की तहसील कोटखाई के प्रेमनगर बाजार में बुधवार को भीषण अग्निकांड हुआ है। जिसके चलते भारी स्तर पर नुकसान हुआ है। जानकरी के अनुसार रात भड़की आग से 5 दुकानें, दो स्टोर, पंचायतघर, उचित मूल्य की दुकान, डाकघर, क्लिनिक व दो क्वार्टर बुरी तरह जलकर खाक हो गए हैं। अचानक लगी इस आग से इलाके में हड़कंप मच गया। वहीं इस भीषण आग से लाखों रुपए का  नुकसान हुआ है।

ये भी पढ़ें: बेखौफ बदमाशों ने दिनदहाड़े युवक को किया अगवा, जांच में जुटी पुलिस

घटना की सूचना मौके पर दमकल विभाग को दी गई और साथ ही स्थानीय लोगों भी आग बुझाने के प्रयास में जुट गए। बताया जा रहा है कि लकड़ी से बने मकान होने के चलते इलाके में आग तेजी से फैल गई। इसके बाद दमकल विभाग की टीम ने मौके पर पहुंच कर कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। बता दें कि आग इतनी जबरदस्त थी कि बुधवार तड़के साढ़े तीन बजे तक इस पर काबू पाया गया।  फिलहाल अभी तक किसी के भी हताहत होने की सूचना प्राप्त नहीं हुई है। कोटखाई पुलिस ने केस दर्ज कर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। प्रशासन की टीम भी मौके पर पहुंचकर नुकसान का आंकलन कर रही है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 16, 2020, 5:31 am
Cloudy
Cloudy
15°C
real feel: 16°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 96%
wind speed: 0 m/s NE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:05 pm
 

Recent Posts

Trending