Connect with us

देश

PM मोदी बंगाल और ओडिशा के दौरे पर रवाना, अम्फान तूफान की स्थिति का लेंगे जायजा

Published

on

नई दिल्ली। देश में कोरोना का कहर जारी है। इसी बीच बुधवार आए अम्फान तूफान ने दो राज्यों में तबाही मचा दी है। जिसके बाद शुक्रवार को के स्थिति का जायजा लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी दिल्ली से पश्चिम बंगाल से के लिए रवाना हो गए हैं। वह आज हवाई सर्वेक्षण करेंगे और समीक्षा बैठक में भाग लेंगे। पीएम मोदी इसके बाद बाद ओडिशा भी जाएंगे। पीएम मोदी करीब 83 दिन के बाद किसी दौरे पर जा रहे हैं। इससे पहले वह 29 फरवरी को यूपी के प्रयागराज गए थे।

माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में 283 साल बाद ऐसा भयानक तूफान आया था। एक अनुमान के मुताबिक इस तूफान से राज्य में एक लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा का नुकसान हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी सुबह 10.30 बजे कोलकाता एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे। इसके बाद पीएम मोदी और ममता बनर्जी कोलकाता सहित उत्तर और दक्षिण 24 परगना के प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। अम्फान तूफान ने ओडिशा में भी नुकसान पहुंचाया है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन: राजस्थान सरकार पर बरसी मायावती, ट्वीट कर कही ये बात…

हालांकि बंगाल के मुकाबले वहां नुकसान कम हुआ है। प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्वीट के मुताबिक पीएम मोदी ओडिशा में हुए नुकसान का भी हवाई सर्वेक्षण करेंगे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार शाम को अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पीएम मोदी से राज्य का दौरा करने की अपील की थी। जिसके चंद घंटों बाद ही सीएम ममता की अपील को स्वीकारते हुए पीएम मोदी के दौरे का निर्णय ले लिया गया। उन्होंने कहा था कि राज्य में हालात ठीक नहीं हैं। मैं पीएम मोदी से मांग करती हूं कि वो यहां का दौरा करें। मैं भी हवाई सर्वेक्षण करूंगी। लेकिन मैं हालात ठीक होने का इंतजार कर रही हूं।

पीएम मोदी का सुबह 10 बजे पीएम कोलकाता एयरपोर्ट पहुंचेंगे। इसके बाद 10:45 बजे वह दमदम एयरपोर्ट पहुंचेंगे। जिसके बाद सीएम ममता बनर्ती के साथ चॉपर से बशीरहाट जाएंगे। 11:20 बजे तूफान प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेगें और 1:30 बजे पीएम भुवनेश्वर के लिए रवाना हो जाएंगे।http://www.satyodaya.com

देश

राशिफल: मीन राशि वालों की पूरी होगी इच्छा, सिंह राशि वालों को हो सकता है तनाव

Published

on

राशि फलादेश मेष :-
(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)

कोर्ट व कचहरी के काम निबटेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। आय में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। स्वयं के स्वास्थ्य की समस्या को अनदेखा न करें। तीर्थदर्शन की योजना बनेगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा।

🐂 राशि फलादेश वृष :-
(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
प्रसन्नता रहेगी। हृदयरोगी सावधान रहें। सुख के साधनों पर व्यय होगा। परिवार के सदस्यों का भरपूर सहयोग मिलेगा। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। रुके कार्यों में गति आएगी। लाभ में वृद्धि होगी।

यह भी पढ़ें: महिलाओं ने की वट वृक्ष की पूजा, पति की लंबी उम्र की कामना

👫🏻 राशि फलादेश मिथुन :-
(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)

नया कार्य प्रारंभ हो सकता है। व्यावसायिक सफल रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। परिवार की आमदनी में वृद्धि होगी। बड़ी परेशानी हो सकती है। कष्ट, भय, रोग, चिंता व तनाव हावी रह सकते हैं। रुका हुआ पैसा थोड़े प्रयास से प्राप्त हो सकता है।

🦀 राशि फलादेश कर्क :-
(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
अपेक्षित कार्यों में विलंब होगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। काम में मन नहीं लगेगा। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। सावधानी आवश्यक है। अज्ञात भय सताएगा। नेत्र पीड़ा हो सकती है। स्वास्थ्य पर व्यय होगा। कर्ज लेना पड़ सकता है। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें।

🦁 राशि फलादेश सिंह :-
(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)

अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। घर-परिवार में सुख-शांति बने रहेंगे। नए काम प्राप्त होंगे। लाभ बढ़ेगा। कष्ट, भय व बेचैनी का वातावरण बन सकता है। सावधानी रहें। लेन-देन में सावधानी रखें। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे।

🙎🏻‍♀️ राशि फलादेश कन्या :-
(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। कारोबार ठीक चलेगा। धनार्जन सहज होगा। राजकीय बाधा उत्पन्न हो सकती है। विवाद न करें। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। घर में अतिथियों का आगमन होगा।

⚖ राशि फलादेश तुला :-
(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
स्वास्थ्य का ध्यान रखें। व्यवसाय ठीक चलेगा। कार्य समय पर पूर्ण होंगे। प्रसन्नता रहेगी। आय में वृद्धि होगी। पार्टनरों से मतभेद समाप्त होंगे। प्रयास सफल रहेंगे। कार्यसिद्धि होगी। कार्य की प्रशंसा होगी। नेत्र पीड़ा हो सकती है। मानसिक बेचैनी रहेगी।

🦂 राशि फलादेश वृश्चिक :-
(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
आय में कमी रहेगी। दु:खद समाचार मिल सकता है। दौड़धूप अधिक रहेगी। आराम का अवसर नहीं मिलेगा, बाकी सामान्य रहेगा। पुराना रोग उभर सकता है। जल्दबाजी न करें। वाणी पर नियंत्रण रखें। घर-परिवार की चिंता रहेगी। कर्ज में वृद्धि हो सकती है।

🏹 राशि फलादेश धनु :-
(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)
लेन-देन में सावधानी रखें। कोई ऐसा कार्य न करें जिससे अपयश हो। व्यवसाय ठीक चलेगा। सुख के साधन जुटेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। मनपसंद भोजन का आनंद मिलेगा।

🐊 राशि फलादेश मकर :-
(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)
भूमि व भवन आदि की खरीद-फरोख्त लाभदायक रहेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। आय में वृद्धि होगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। भाग्य का साथ बना रहेगा। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं।

🏺 राशि फलादेश कुंभ :-
(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। परिवार की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। धनार्जन होगा। जोखिम न लें। परिस्थिति देखकर हंसी-मजाक करें। बात बिगड़ सकती है। शत्रुभय रहेगा। जीवनसाथी के स्वास्‍थ्य की चिंता रहेगी।

🐋 राशि फलादेश मीन :-
(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
भ्रम की स्थिति बन सकती है। पार्टनरों से मतभेद बढ़ सकते हैं। उच्चाधिकारी अप्रसन्न रहेंगे। अपेक्षित कार्यों में अनावश्यक विलंब होगा। चोट व दुर्घटना से हानि हो सकती है। वाणी पर नियंत्रण रखें। मान घट सकता है। विरोध होगा। शत्रुभय रहेगा। कुसंगति से बचें।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

महिलाओं ने की वट वृक्ष की पूजा, पति की लंबी उम्र की कामना

Published

on

लखनऊ: पति की आयु लम्बी हो इसलिए महिलाओं ने शुक्रवार को वट वृक्ष की पूजा की । महिलायें वट वृक्ष के नीचे जमा हुई और उन्होंने वट सावित्री की पूजा अर्चना की और सौभाग्यवती होने की कामना की। सुबह से ही शहर के मंदिरों में पूजा अर्चना शुरू हो गई थी। स्नान करने के बाद महिलाओं ने सूर्य देवता को जल अर्पित किया। इसके बाद मंदिर में या फिर घर में लगे वट वृक्ष के पास महिलाएं एकत्रित हुईं। सभी ने साथ मिलकर वट वृक्ष को सूत बांधते हुए परिक्रमा की और पति की लम्बी आयु की कामना की। महिलाओं ने वृक्ष को फल, फूल और जल अर्पित किया। ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या तिथि के दिन वट वृक्ष की पूजा का विधान है। इस साल यह 22 मई को मनाया जा रहा है।

शास्त्रों में कहा गया है कि इस दिन वट वृक्ष की पूजा से सौभाग्य एवं स्थायी धन और सुख-शांति की प्राप्ति होती है। संयोग की बात है कि इसी दिन शनि महाराज का जन्म हुआ है। और सावित्री ने यमराज से अपने पति सत्यवान के प्राण की रक्षा की। सावित्री और सत्यवान की कथा से वट वृक्ष का महत्व लोगों को ज्ञात हुआ क्योंकि इसी वृक्ष ने सत्यवान को अपनी शाखाओं और शिराओं से घेरकर जंगली पशुओं से उनकी रक्षा की थी। इसी दिन से जेष्ठ कृष्ण अमावस्या के दिन वट की पूजा का नियम शुरू हुआ। वट सावित्री के दिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए वट वृक्ष की पूजा करती हैं।

वट-सावित्री व्रत पर तिसरी में सुहागिनों ने की वट वृक्ष की पूजा

व्रत के बाद सुहागिनें एक-दूसरे के माथे पर सिंदूर लगाती हुईं। जानकारी के अनुसार वट-सावित्री का व्रत हिंदू धर्म में कई मायनों में खास होता है। इससे सौभाग्य, संतान और पति की लंबी आयु की कामना के लिए किया जाता है। सुहागिन महिलाएं 16 श्रृंगार कर बरगद के पेड़ के चारों ओर फेरे लगा कर पति की लंबी आयु की प्रार्थना करती हैं। इस दिन वट यानी बरगद के पेड़ की पूजा करने का प्रधान है। इस व्रत को वट सावित्री के नाम से इसीलिए पुकारा जाता है क्योंकि सावित्री-सत्यवान की कथा का विधान है।

पारंपरिक श्रद्धा और उल्लास के साथ हुई वट सावित्री पूजा

वट सावित्री का व्रत सुहागिनों ने बड़ी श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाया। अहले सुबह सुहागिनें स्नान आदि से निपट कर रंग-बिरंगे वस्त्र धारण कर पूजा की थाली लेकर वट वृक्ष की पूजा करने गई। वट वृक्ष की पूजा कर उसे रक्षा सूत्र से बांध अचल सुहाग की कामना की। सुहागिनों ने फल एवं सिंगार प्रसाधनों से पूजा की और पारंपरिक गीत गाकर परिक्रमा की। मान्यता है कि पूजा से सुहागिनों के सुहाग अचल रहते हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क को कब्रिस्तान बताकर अवैध कब्जे का हो रहा प्रयास: विहिप

Published

on

वख्फ बोर्ड के षड्यंतत्रों का भंडाफोड़ कर विहिप ने भेजी उपराज्यपाल को चिट्ठी

नई दिल्ली। विश्व हिन्दू परिषद ने दिल्ली की आम आदमी सरकार व दिल्ली विकास प्राधिकरण पर एक पार्क को कोरोना संकट में झोंकने के प्रयास का आरोप लगाया है। परिषद का आरोप है कि लॉक डाउन की आड़ में दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क पर न सिर्फ डीडीए ने अनाधिकृत कब्जे का प्रयास किया और कोविड-19 संक्रमित शवों को यहां लाकर दफनाने की कोशिश की है। आरोप है कि विश्व हिंदू परिषद तथा स्थानीय गांव नंगली रजापुर के नागरिकों की सजगता से यह सुंदर उपवन कोरोना संक्रमणों की मार से बाल बाल बच गया। इंद्रप्रस्थ विहिप के अध्यक्ष कपिल खन्ना ने इस संबंध में दिल्ली के उपराज्यपाल व क्षेत्रीय सांसद गौतम गम्भीर को पत्र भेजकर शिकायत की है।

विहिप नेता ने पत्र में कहा है कि दिल्ली वख्फ बोर्ड लॉकडाउन की आड़ में बार-बार दिल्ली के इस प्रतिष्ठित इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क पर अवैध कब्जा करने के नए नए हथकंडे अपना रहा है। कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों के शवों को जलाने के स्थान पर उन्हें दफनाने के लिए इस पार्क को कब्रिस्तान बता दिया गया। पार्क में आने वाले हजारों स्थानीय नागरिकों व सैलानियों के लिए संकट पैदा करने की कोशिशें की जा रही हैं। गत एक महीने में कई बार पार्क में घुसने के प्रयास किए गए, लेकिन स्थानीय निवासियों व विहिप कार्यकर्ताओं व चैकीदारों की चैकसी ने से वह नाकाम रहे।

किसी भी कोशिश या षड्यंत्र का मुंहतोड़ जबाब दिया जाएगा

विश्व हिंदू परिषद ने मांग की है कि पार्क में अनाधिकृत कब्जा करने वालों तथा उनका साथ देने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई हो। पार्क के गेट पर जड़े कब्रिस्तान के बोर्ड को अबिलम्ब हटाया जाए। विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने यह भी कहा है कि इस प्रतिष्ठित और सुंदर उपवन को कब्रिस्तान बनाने की किसी भी कोशिश या षड्यंत्र का मुंहतोड़ जबाब दिया जाएगा। बता दें कि दिल्ली वख्फ बोर्ड ने 9 अप्रेल को एक पत्र दिल्ली सरकार को लिखकर इस पार्क को कब्रिस्तान बता वहां पर दिल्ली भर के कोविड संक्रमित शवों को दफनाने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें-सोने व चांदी की कीमतों में आई मामूली नरमी, जानिए आज की कीमत…

सरकार ने अभी तक इस पर कोई अधिकृत निर्णय नहीं लिया है। लेकिन कुछ लोग लगातार इस उद्यान को कब्रिस्तान बनाने की कोशिश में लगे हुए हैं। स्थानीय नंगली रजापुर गांव की आरडब्ल्यूए ने भी गत माह एक पत्र दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, डीडीए, पुलिस आयुक्त तथा अन्य सम्बंधित अधिकारियों को मेल किया था जिसका एक रिमाइंडर भी 18 मई को पुनः भेजा गया। लेकिन किसी का आज तक जबाव नहीं मिला। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 22, 2020, 11:13 am
Mostly sunny
Mostly sunny
35°C
real feel: 40°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 33%
wind speed: 1 m/s ESE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 11
sunrise: 4:46 am
sunset: 6:21 pm
 

Recent Posts

Trending