Connect with us

देश

राहुल के ऐलान के बाद मोतीलाल वोहरा हो सकते हैं अंतरिम अध्यक्ष

Published

on

नई दिल्ली। राहुल गांधी ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने का ऐलान कर दिया। उनके घोषणा करने के बाद पार्टी वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा को अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त कर सकती है। हालांकि, मोतीलाल वोरा ने इस बात का खंडन किया है। उनका कहना है कि राहुल गांधी का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है और मैं अंतरिम अध्यक्ष नहीं हूं। लेकिन विश्वस्त सूत्रों की मानें तो अगर राहुल का इस्तीफा स्वीकार हुआ तो अंतरिम अध्यक्ष वोरा ही होंगे।

बता दें, आम चुनाव में मिली हार के बाद ही राहुल ने अध्यक्ष पद छोड़ने का निर्णय ले लिया था। साथ ही उनका कहना था कि नया अध्यक्ष गांधी परिवार के बाहर से होगा। हालांकि, लगातार कांग्रेसी नेता उन्हें मनाने का प्रयास कर रहे थे। लेकिन बुधवार को राहुल ने मीडिया से बातचीत में सारे कयासों पर ब्रेक लगा दिया। उन्होंने कहा कि, वह अब कांग्रेस अध्यक्ष नहीं है। नये अध्यक्ष का चुनाव कांग्रेस वर्किंग कमेटी करेगी। राहुल बोले, ‘पार्टी को बिना किसी देरी के जल्द ही नए अध्यक्ष का चुनाव करना चाहिए। मैं इस प्रक्रिया में कही नहीं हूं। मैं पहले ही अपना इस्तीफा दे चुका हूं और अब मैं पार्टी अध्यक्ष नहीं हूं। कांग्रेस वर्किंग कमिटी को जितना जल्दी हो सके बैठक बुलानी चाहिए और फैसला लेना चाहिए।’

ये भी पढ़ें: ड्राइवरलेस हुई कांग्रेस, राहुल बोले- ‘मैं अब अध्यक्ष नहीं

मध्य प्रदेश के सीएम और यूपी के गवर्नर रह चुके हैं वोरा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके मोती लाल वोरा 2014 से राज्यसभा के सदस्य हैं। 20 दिसंबर 1928 को राजस्थान के निंबी जोधा में जन्में वोरा पहली बार 1988 में राज्यसभा के सदस्य बने थे। इसके अलावा वह कुछ समय के लिए 1985,1988-1989 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं।

भारत सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर रह चुके वोरा स्वास्थ्य, परिवार कल्याण और सिविल एविएशेन मंत्रालयों का कार्यभार संभाल चुके हैं। वोरा 16 मई1993 से लेकर 3 मई 1996 तक उत्तर प्रदेश के गवर्नर भी रहे हैं। इतना ही नहीं, वह 80 के दशक के मध्य प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष भी रहे हैं। कांग्रेस हाईकमान के बेहद करीबी माने जाने वाले वोरा पार्टी के कोषाध्यक्ष के तौर पर भी काम कर चुके हैं।http://www.satyodaya.com

देश

कैम्पस में शांतिबहाली के लिए JNU प्रशासन ने शिक्षकों से मांगा सहयोग

Published

on

नई दिल्ली: जेएनयू में बीते कुछ दिनों पहले नकाबपोश लोगों के हमले के बाद स्थिति को और तनावपूर्ण होता देख प्रशासन ने शिक्षकों से परिसर में स्थिति सामान्य बनाने और अकादमिक गतिविधियों को शुरू करने की अपील की है। जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने सोमवार को कहा कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के 2 पदाधिकारियों ने विश्वविद्यालय में प्रशासन के साथ सहयोग नहीं करने का एलान किया है।

जेएनयूटीए ने अपनी आम सभा में एक प्रस्ताव पारित कर इसका समर्थन किया है। प्रशासन ने 10 जनवरी को दो सर्कुलर जारी किए थे, जिनमें शिक्षकों से छात्रों के पंजीकरण के समय कार्यालय में रहने व क्लास शुरू करने की अपील की गई थी। ताकि परिसर में माहौल सामान्य हो और अकादमिक गतिविधियां फिर से शुरू हो सके, लेकिन शिक्षक संघ ने अपनी आम सभा में असहयोग करने का एलान किया।

ये भी पढ़ें: यूपी: देवरिया महोत्सव में बॉलीवुड कलाकार भी बिखेरेंगे जलवा…

प्रशासन ने कहा है कि हजारों की संख्या में छात्रों ने शीतकालीन सेमेस्टर के लिए पंजीकरण किया है। छात्रों का यह अधिकार है कि वे परिसर में पढ़ें, लेकिन शिक्षक उनके अधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं, जो उनकी सेवा शर्तों के खिलाफ है। जिसको देखते हुए प्रशासन ने शिक्षकों से अपील की है कि वे काम पर लौटे और स्थिति को सामान्य बनाने में अपना सहयोग दें। http://www.satyodaya.com


Continue Reading

देश

निमोनिया से हर साल विश्वभर में 20 लाख से ज्यादा बच्चों की हो रही मौत…

Published

on

निमोनिया

फाइल फोटो

कोलकाता। इस कड़ाके की ठंड में निमोनिया से देशभर में सर्वाधिक बच्चों की मौत हो रही है। हर साल निमोनिया की चपेट में आने लगभग 20 लाख से अधिक बच्चों की मौत हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक विश्व भर में हर वर्ष करीब 20 लाख से ज्यादा बच्चों की मौत निमोनिया के कारण होती है।

निमोनिया से मरने वाले हर पांच में से एक बच्चे की उम्र पांच साल से कम होती है। रिपोर्ट की माने तो लगभग 60 करोड़ डॉलर की लागत से निमोनिया से ग्रस्त बच्चों को सार्वभौमिक रूप से एंटीबायोटिक दवाएं दी जाएं तो हर साल करीब 6 लाख बच्चों की जान बचाई जा सकती है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार इसके अलावा यदि वैश्विक स्तर पर निमोनिया की रोकथाम और इस बीमारी के उपचार की पहल की जाती है तो करीब 13 लाख बच्चों की जान बचाई जा सकती है।

ये भी पढ़ें:‘Mr Lele’ का फर्स्ट लुक जारी, एक बार फिर डायरेक्टर शशांक संग काम करेंगे वरुण

निमोनिया एक इन्फ्लैमटोरी बीमारी है। इसके रोगाणु सबसे पहले फेफड़ों के वायु छिद्रों पर हमला करते हैं फिर जब इनकी संख्या बढ़ जाती है तो ये नाक और गले से गुजरने वाली हवा को प्रभावित करने लगते हैं। जिससे हमें सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। संक्रमण ज्यादा बढ़ जाने पर लगातार खांसी आने लगती है और ज्यादा खांसने के कारण सीने में दर्द होने लगता है। फिर सांस लेने में दिक्कत फिर खांसी, बुखार, ठंड लगना, सिरदर्द, भूख न लगना आदि इस बीमारी के लक्षण हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

JNU Violence: प्रशासन की परिसर में स्थिति सामान्य करने की अपील

Published

on

नई दिल्ली: नकाबपोश लोगों के हमले के बाद स्थिति को कुछ दिनों से और तनावपूर्ण होता देख जवाहर लाल नेहरू विक्षविद्यालय के प्रशासन ने शिक्षकों से परिसर में स्थिति सामान्य बनाने और अकादमिक गतिविधियों को शुरू करने की अपील की है। जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने सोमवार को कहा कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (जेएनयूटीए) के दो पदाधिकारियों ने विश्वविद्यालय में प्रशासन के साथ सहयोग नहीं करने का एलान किया है।

यह भी पढ़ें: इस्लामिक सेंटर में खुला ‘आदम फ्री मॉल’, गरीबों को मुफ्त में मिलेंगे कपड़े

जेएनयूटीए ने अपनी आम सभा में एक प्रस्ताव पारित कर इसका समर्थन किया है। प्रशासन
ने 10 जनवरी को दो सर्कुलर जारी किए थे जिनमें शिक्षकों से छात्रों के पंजीकरण के समय कार्यालय में रहने और क्लास शुरू करने की अपील की गई थी ताकि परिसर में माहौल सामान्य हो और अकादमिक गतिविधियां फिर से शुरू हो सके। लेकिन शिक्षक संघ ने अपनी आम सभा में असहयोग करने का एलान किया।


प्रशासन ने कहा है कि हजारों की संख्या में छात्रों ने शीतकालीन सेमेस्टर के लिए पंजीकरण किया है। उनका यह बुनियादी अधिकार है कि वे परिसर में पढ़ें लेकिन शिक्षक उनके अधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं जो उनकी सेवा शर्तों के खिलाफ है। प्रशासन ने शिक्षकों से अपील की है कि वे काम पर लौट और स्थिति को सामान्य बनाने में मदद करें। इस बीच जेएनयू प्रशासन ने सेमेस्टर के लिए पंजीकरण की तिथि को आगे बढ़ाकर 12 से 15 जनवरी कर दिया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 13, 2020, 3:41 pm
Sunny
Sunny
17°C
real feel: 17°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 75%
wind speed: 2 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:03 pm
 

Recent Posts

Trending