Connect with us

देश

अयोध्या फैसले से ओवैसी असंतुष्ट, सुप्रीम कोर्ट पर की सख्त टिप्पणी

Published

on

लखनऊ। अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है। मंदिर-मस्जिद के पक्षकारों समेत पूरा देश इस फैसले पर संतोष जाहिर कर रहा है। वहीं एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने शीर्ष अदालत के फैसले पर नाराजगी जतायी है। ओवैसी ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर असंतुष्टि जाहिर करते हुए सख्त टिप्पणी भी की है। ओवैसी ने कहा, मुल्क हिंदू राष्ट्र की ओर जा रहा है। ओवैसी ने राजीव धवन और मुस्लिम पक्ष की बात सुप्रीम कोर्ट में रखने वाले अन्य लोगों का धन्यवाद दिया। कहा कि यह फैसला तथ्यों के ऊपर आस्था की जीत है। ओवैसी ने कहा, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड की तरह मैं भी इस फैसले से संतुष्ट नहीं हूं। ओवैसी ने मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ जमीन देने के आदेश पर भी असहमति जतायी। कहा, मस्जिद के लिए खैरात में 5 एकड़ जमीन देने की जरूरत नहीं है।

ओवेसी ने कहा, सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम जरूर है लेकिन अचूक नहीं है, यह बात खुद जस्टिस जेएस वर्मा ने कही थी। कहा कि 6 दिसंबर 1992 को जिन लोगों ने मस्जिद गिराई, आज सुप्रीम कोर्ट ने उन्हीं लोगों को मंदिर बनाने का आदेश दे दिया। अगर वहां मस्जिद न गिराई जाती तब कोर्ट क्या फैसला देता? एआईएमआईएम नेता ने कहा, अयोध्या में मुसलमान अपने कानूनी अधिकार के लिए लड़ रहे थे। मुसलमान गरीब हैं, इसलिए भेदभाव भी उन्हीं के साथ हुआ। ओवैसी ने कहा, मुसलमान इतना गरीब भी नहीं कि वह अपने अल्लाह के घर के लिए पांच एकड़ जमीन भी न खरीद सकें। हमें किसी खैरात या भीख की जरूरत नहीं है।

यह भी पढ़ें-संघ प्रमुख ने कहा, हार-जीत की तरह न देखें अयोध्या पर फैसला, सभी संयम बरतें

ओवैसी ने कहा कि अब देखना यह है कि मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड खैरात में पांच एकड़ जमीन कबूल करेगा या नहीं। मेरे विचार से इस प्रस्ताव को खारिज कर देना चाहिए। ओवैसी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को भाजपा और संघ अपने पक्ष में इस्तेमाल करेगा। ओवैसी ने कहा कि वहां शरीयत के ऐतबार से मस्जिद थी, है और हमेशा रहेगी। मुसलमान अपनी आने वाली नस्लों को ये बताएंगे कि यहां 500 साल तक मस्जिद थी। कहा, 1992 में संघ परिवार और कांग्रेस की मिली हुई साजिश से मस्जिद को शहीद किया गया।http://www.satyodaya.com

देश

Vikas Dubey Encounter: मुंबई के अटल बिहारी दूबे ने SC में दायर की याचिका

Published

on

लखनऊ। कानपूर के बिकरू थाना क्षेत्र में 8 पुलिस वालो की हत्या के आरोपी विकास दुबे को शुक्रवार को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। जिसको लेकर कई सवाल उठाए जा रहे है। लेकिन उससे जुड़ी एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में पेंडिग है। इस पर सुनवाई होनी है। जिसे वकील घनश्याम उपाध्याय ने दायर की थी। जिसमें एनकाउंटर किये जाने की आशंका जताई गई थी। जिसके बाद अब सुप्रीम कोर्ट में मुंबई के वकील अटल बिहारी दुबे की तरफ से याचिका दायर की है। उन्होंने यह याचिका ईमेल के जरिये कोर्ट को भेजी है।

वकील अटल बिहारी दूबे की तरफ से एक वीडियो शेयर किया गया है। इस वीडियो में उन्होंने विकास दुबे के एनकाउंटर को फर्जी एनकाउंटर कहा है और इस पुरे मामले की जांच सीबीआई से करवाई जाये एक हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की निगरानी में। उन्होंने अपनी दायर याचिका में कहा है जिस तरह से विकास दुबे कल उज्जैन में पकड़ा गया था उससे यह साफ था की विकास भागने के फिराक में नहीं था। वहीं उनका यह भी कहना है की आज सुबह जब विकास का एनकाउंटर किया गया तो मीडिया को भी वहां से दो किलोमीटर की दुरी पर रोक दिया गया।

जानकारी के मुताबिक वकील घनश्याम उपाध्याय ने याचिका दायर की जिसमें अभियुक्त विकास दुबे के साथी पांच अभियुक्तों की हत्या कथित मुठभेड़ की गहन जांच की मांग की गई जो 02 जुलाई को जिला कानपुर में कथित तौर पर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल थे। जिसे अब कानपुर कांड के नाम से जाना जाता है और जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है।

यह भी पढ़ें:- #Vikas Dubey Encounter: 2 जुलाई की रात से 10 जुलाई की सुबह तक की कहानी

वकील बिहारी ने मांग की है कि इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में केंद्रीय जांच ब्यूरो से कराई जाए। इसके बाद, पुलिसकर्मियों और उन सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए जो सभी आरोपियों की हत्या में शामिल हैं। यह दलील समाचार रिपोर्ट के आधार पर दी गई है जिसमें कहा गया था कि आठ पुलिसकर्मियों को कथित रूप से गोली मार दी गई थी जब वे यूपी के जिला कानपुर में विकास दुबे को गिरफ्तार करने गए थे। दूबे और उसके साथी, अपराध के स्थान से भागने में कामयाब रहे थे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

देश में लगातार जारी है कोरोना का कहर, कुल मरीजों की संख्या 7,67,296

Published

on

देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में कहा जा रहा है कि अब कोरोना पीक पर है। जानकारी के मुताबिक गुरुवार को संक्रमितों की कुल संख्या 7,67,296 पर पहुंच गई जबकि 487 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 21,129 हो गयी. 

यह भी पढ़ें: Kanpur Encounter: विकास दुबे का पोस्टमार्टम शुरू, कल किया गया था गिरफ्तार


उत्तर प्रदेश में लगा लॉक़डाउन
इधर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पूरे राज्य में एक बार फिर लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया है. उत्तर प्रदेश में 10 जुलाई यानी शुक्रवार रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन लागू किया जाएगा. वहीं बिहार की राजधानी पटना में भी सरकार ने लॉकडाउन लागू कर दिया है. देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तेजी देखी जा रही है. 

गुरुवार को उत्तराखंड में 47 नए कोविड-19 पॉजिटिव मामले दर्ज़ किए गए. इसी के साथ कुल मामलों की संख्या 3,305 हो गई है जिसमें 2,672 रिकवर हो गए हैं. जबकि 558 मामले सक्रिय हैं अब तक राज्य में  46 लोगों की कोरोना से मौत हुई है. http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

यूपी के दुर्दांत डकैतों व अपराधियों का सरेंडर अड्डा बना मध्य प्रदेश

Published

on


मलखान सिंह, फूलन देवी और विकास दुबे सहित कई ईनामी अपराधी मध्य प्रदेश में कर चुके हैं आत्म समर्पण

लखनऊ। कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस एक सप्ताह से लगी थी। लेकिन गुरुवार को उज्जैन में गिरफ्तारी होने के साथ ही विकास दुबे का नाम मध्य प्रदेश में सरेंडर करने वालों की लिस्ट में जुड़ गया है। जिसके बाद मध्य प्रदेश अपराधियों के सरेंडर करने का गढ़ बन चुका है। कुख्यात अपराधी विकास दुबे ने उज्जैन के महाकाल मंदिर में नाटकीय ढंग से सरेंडर कर एक बार यादें फिर ताजा कर दी।

एनकाउंटर स्टेट के नाम से पहचाने जाने वाले यूपी के कुख्यात गैंगस्टर्स के लिए मध्यप्रदेश सेफ शेल्टर बन चुका है। कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे से पहले भी कई कुख्यात अपराधियों ने मध्यप्रदेश और खासकर मालवा को अपना अड्डा बनाया है। महाकाल की नगरी उज्जैन सिमी के बड़े-बड़े आंतकवादियों का अड्डा रहा है। मालवा का यह इलाका बेहद शांत है। इसी बात का फायदा उठाकर बड़े-बड़े अपराधी इसे अपनी पनाहगार बना लेते हैं।

मध्य प्रदेश अपराधियों की पहली पसंद

जानकारी के अनुसार उज्जैन का मालवा सबसे शांत शहरों में से एक है। इसी का फायदा कुख्यात अपराधी उठाते हैं। यूपी के कुख्यात बदमाशों के लिए तो मध्य प्रदेश सालों से पहली पसंद बना हुआ है। जो यहां से भागकर एमपी में सरेंडर कर देते है। चर्चित नितीश कटारा हत्याकांड को अंजाम देने वाले डीपी यादव के बेटे विकास यादव और भांजे विशाल यादव की भी मध्य प्रदेश में ही गिरफ्तारी दिखाई गई थी। इससे पहले चंबल के डाकूओं ने एमपी और यूपी को अपना अड्डा बना लिया था। अक्सर यूपी में अपराध करने के बाद डाकू एमपी आ जाते थे।

उज्जैन और मालवा क्षेत्र के अपराधियों के सेफ शेल्टर बनने का एक बड़ा कारण इसकी कनेक्टिविटी भी है। उज्जैन से चंबल के बीहड़ नजदीक हैं तो राजस्थान और गुजरात पहुंचना भी आसान है। यूपी जाने के लिए भी उज्जैन से साधनों की कमी नहीं है। एक और बड़ा कारण पुलिस का रवैया भी है। यूपी की तरह एमपी की पुलिस एनकाउंटर में ज्यादा भरोसा नहीं करती। इसलिए भी अपराधी अपनी जान बचाने के लिए इधर का रुख करते हैं। मलखान सिंह और फूलन देवी जैसे कुख्यात और वांटेड अपराधियों ने भी मध्य प्रदेश में नाटकीय ढंग से सरेंडर किया था। फूलन देवी ने एमपी के भिंड में अपनी गिरफ्तारी कराई थी। जिसके बाद नेताओं द्वारा उन्हें राजनीतिक धारा में लाकर खूब नाम कामवाया। ऐसे अपराधियों के राजनीतिक जगत में आने पर कई अन्य ने इनकी शह पर अपराध का साम्राज्य बना डाला।

उत्तर प्रदेश में जन्म लेने के बाद सिमी ने उज्जैन के पास नागदा, उन्हेल और महिदपुर को अपना गढ़ बनाया था। करीब 25 साल पहले तराना के पास झिरन्या के एक कुएं से एके 47 और कारतूसों का बडा जखीरा मिला था। इस कांड में सोहराबुद्दीन शेख का नाम आया था, जो बाद में नवंबर 2005 में गुजरात में एनकाउंटर में मारा गया था। सिमी से जुड़े मास्टरमाइंड सफदर नागौरी भी महिदपुर का रहने वाला था। पुलिस ने इसे आतंकी केैंप चलाते हुए पकडा था। बाद में कई ब्लास्ट में उसका नाम आया। मंदसौर का रहने वाला मोहम्मद शफी देश-दुनिया में अफीम की तस्करी करता रहा।

यह भी पढ़ें:- दुर्दांत दुबे का कबूलनामा- आग लगाने के लिए शहीदों के शवों का लगाया था ढेर

अपराध सरगनाओं के चलते मध्य प्रदेश को बदनामी ज्यादा झलनी पड़ी है। मालवा जैसे शांत इलाके में पिछले कुछ वर्षों में अपराधियों की गतिविधियां बढ़ने से खुद इस इलाके के लिए भी चुनौतियां बढ़ गई हैं। आतंकी अड्डों से लेकर कुख्यात अपराधियों की शरण स्थली बनने और स्लीपर सेल के सक्रिय होने से अब स्थानीय पुलिस हाथ पर हाथ धरे नहीं रह सकती। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 11, 2020, 10:55 am
Fog
Fog
31°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 4 m/s W
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 4:51 am
sunset: 6:33 pm
 

Recent Posts

Trending