Connect with us

देश

प्राथमिक शाला गढ़कटरा ने चलाया मतदाता जागरूक अभियान, पिछले साल 85 तो इस बात 95% मतदान का है लक्ष्य

Published

on

छतीसगढ़ प्राथमिक शाला गढ़कटरा की कब (CUB) बुलबुल इकाई एवं बच्चों द्वारा मतदाता जागरूक अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत छोटे छोटे बच्चे अपने शिक्षकों संग इन पहाड़ी रास्तों से होते हुए दूर के गांवों में जा कर मतदाताओं को मतदान हेतु जागरूक करते हैं। पिछले हफ्ते से चार रहे इस अभियान में बच्चे और शिक्षक पूरी मेहनत कर रहे हैं जिससे इन पिछड़े इलाकों का मतदान प्रतिशत बढ़े।

इस अभियान के बारे में कब मास्टर श्रीकांत सिंह ने सत्योदय से बात करते हुए कुछ महत्वपूर्ण बातें बतायीं…  

श्रीकांत ने बताया कि मतदाता जागरूकता अभियान के तीसरे दिन हमारे प्राथमिक शाला गढ़कटरा की कब बुलबुल इकाई एवं बच्चों ने मिलकर विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवाओं की बस्ती #बाघमारा में अभियान चलाया। आज के कार्यक्रम में श्रीवास सर व विजया कंवर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का विशेष सहयोग रहा। यह जागरूकता कार्यक्रम मतदान दिवस तक लगातार अलग अलग मोहल्लों में जारी रहेगा।

यह जनजाति हमेशा से आधुनिकता से दूर भागती रही है। इन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ने में बहुत मेहनत की आवश्यकता है। कई लोगों के  सवाल थे कि उन्हें अब तक पैसे नहीं मिले। हमनें उन्हें उनके मत की कीमत समझाने का पूरा पूरा प्रयास किया है। कुछ बिंदु जिस पर विशेष रूप से चर्चा किया गया :-

1 सबसे पहले उनकी मशीन से करेंट लगने की शंका का समाधान किया गया। मशीन पूर्णतः बैटरी चलित है इसलिए करेंट लगने जैसी कोई बात नहीं है।

2 हमारी टीम द्वारा दीवालों पर जागरूकता स्लोगन का लेखन कार्य किया गया। मतदान की तिथि एवं समय का लेखन कार्य किया गया।

3 मतदाताओ को बैलेट यूनिट एवं VVPAT मशीन के बारे में जानकारी दिया गया। दूरस्थ अंचल होने एवं अशिक्षित होने के कारण आज भी लोग बैलेट पेपर की मांग करते हैं। हमनें उन्हें बैलेट यूनिट से मतदान के तरीके बताये। इसके लिए हमने बैलेट यूनिट का डेमो भी दिखाया और किस तरह बटन प्रेस करना है यह बताया।

4 आज भी मतदाता NOTA(इनमें से कोई नहीं)के विकल्प से अनभिज्ञ हैं। हमनें उन्हें बैलेट यूनिट के द्वारा NOTA के महत्व व NOTA बटन की स्थिति से परिचित कराया और अनिवार्य मतदान के लिए प्रेरित किया।

5 #हस्ताक्षर_अभियान- मतदाता जागरूकता हेतु हमने हस्ताक्षर अभियान भी शुरू किया है। जहां बच्चों द्वारा तैयार शीट पर मतदाताओं के हस्ताक्षर लेकर उन्हें मतदान हेतु प्रेरित किया और अन्य लोगों को भी मतदान हेतु प्रेरित करने कहा।

6 बिना झिझक व डर के एवं किसी प्रकार के प्रलोभन से दूर रहकर स्वतन्त्र रूप से मतदान करें।

7 कई बूढ़ी दादियों को मतदान की तारीख व समय की विशेष रूप से जानकारी दिया।

8 पहली बार मतदान करने जा रहे शनि कोरवा व उसकी पत्नी की सारी शंकाओं को दूर किया।

पिछले चुनाव में हमारे केंद्र में मतदान का प्रतिशत 85% था। इस बार हमनें 95% का लक्ष्य रखा है।

इस अभियान के अगले दिवस हम सबसे जागरूक मोहल्ले कोढ़ारोटी में अभियान चलायेंगे। क्योंकि सबकी सहभागिता के बिना हम लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सकते। निश्चित ही हम उन्हें स्वतंत्र रूप से निर्भय होकर मतदान के लिए प्रेरित कर पाएंगे। http://www.satyodaya.com

देश

सिंध के अंतिम हिन्दू शासक थे राजा दाहिर, पाकिस्तान में ‘सरकारी हीरो’ करार देने की उठी मांग

Published

on

लखनऊ। देर से ही सही लेकिन पाकिस्तान के पंजाब और सिंध प्रांतों में अब अखंड भारत के नायकों को वास्तविक हीरो का दर्जा देने की मांग उठने लगी है। वरना तो अभी तक आम जनता अरब और मुगल आक्रमणकारियों को अपना हीरो मानती आ रही थी। यहां के लोग अब अपने राष्टीय गौरव के प्रति सचेत हो रहे हैं। यही वजह है कि पाकिस्तान के लाहौर में पंजाब प्रांत के पहले पंजाबी शासक महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा लगाने और उन्हें शेर-ए-पंजाब करार देने के बाद सिंध सूबे में राजा दाहिर को भी सरकारी तौर पर हीरो करार देने की मांग जोर पकड. रही है। हाल ही में महाराजा रणजीत सिंह की 180वीं पुण्यतिथि पर लाहौर किले के पास सिख गैलरी में उनकी 8 फीट ऊंची प्रतिमा लगवायी है।
अब सिंध प्रांत के आखिरी हिन्दू शासक राजा दाहिर को सरकारी तौर पर हीरो घोषित करने की मांग उठ रही है। सिंध राष्टवादियों की मांग को सिंध की कला और संस्कृति को सुरक्षित रखने वाले संस्थान सिंध्यालॉजी का भी साथ मिला है। संस्थान के निदेशक डॉक्टर इसहाक समीजू भी राजा दाहिर को सिंध का नेशनल हीरो करार दिए जाने की मांग को समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि इतिहास में रणजीत सिंह का किरदार तो फिर भी विवादित रहा है। लेकिन राजा दाहिर ने न तो किसी मुल्क पर हमला किया और न ही जनता पर जुल्म ढाये।

राजा दाहिर सिंध के सिंधी ब्राह्मण राजवंश के अंतिम राजा थे। उनके समय में ही अरबों ने सबसे पहले 712 ई.वी. में भारत (सिंध) पर आक्रमण किया था। मोहम्मद बिन कासिम ने सिंध पर आक्रमण किया। जहां पर राजा दहिर ने उन्हें रोका और उनके साथ युद्ध लड़ा। उनका शासन काल 663 से 712 ईसवी तक रहा। उन्होंने अपने शासनकाल में अपने सिंध प्रांत को बहुत ही मजबूत बनाया। अपने राष्ट्र और देश की रक्षा के लिए राजा दाहिर ने उम्मेद शासन के जनरल मोहम्मद बिन कासिम से लोहा लिया लेकिन हार गए। 712 में इंडस नदी के किनारे उनकी मौत हो गयी। इतिहासकारों के मुताबिक राजा दाहिर की हुकूमत पश्चिम में मकरान तक, दक्षिण में अरब सागर और गुजरात तक, पूर्व में मौजूदा मालवा के केंद्र और राजपूताने तक और उत्तर में मुल्तान से गुजरकर दक्षिणी पंजाब तक फैली हुई थी।

यह भी पढ़ें-कश्मीर पर यूएन की रिपोर्ट को भारत ने बताया झूठ का पुलिंदा

सिंध से जमीनी और समुद्री व्यापार भी होता था। वैसे पंजाब और सिंध ही धरती में और भी नायाब हीरे जन्मे हैं जिन्होंने अपनी मातृभूमि के लिए अपने प्राणों की परवाह नहीं की। राजा पोरस से लेकर अंग्रेजी हुकूमत से लड.ने वाले सरकार भगत सिंह इसी मिट्टी में जम्मे थे। लेकिन अभी तक उन्हें वह सम्मान नहीं मिल सका है जिसके वह हकदार हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

हार के बाद पहली बार 10 जुलाई को अमेठी पहुंचेंगे राहुल गांधी

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । लोकसभा चुनाव हारने के बाद पहली बार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी 10 जुलाई को अमेठी जायेंगे । राहुल के साथ ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सेक्रेटरी जुबैद अहमद भी मौजूद रहेंगे ।

अमेठी पहुंचकर राहुल गांधी गौरीगंज के निर्मला इंस्टीट्यूट में कार्यकर्ताओं संग बैठक करेंगे । इसमें चुनाव में हुई हार की समीक्षा व आगे की रणनीति पर चर्चा होगी। राहुल के आगमन कार्यक्रम तय होने के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं ने तैयारियां शुरू कर दी हैं ।

यह भी पढ़ें: लखनऊ यूनिवर्सिटी: काउंसलिंग न होने से छात्र परेशान

राहुल गौरीगंज के निर्मला इंस्टीट्यूट ऑफ वूमेन एजुकेशन एंड टेक्नोलॉजी में दोपहर 12 से तीन बजे तक कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे । इस दौरान वे जिला से लेकर ग्राम स्तर के पदाधिकारियों की राय-विचार लेंगे । साथ ही यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि चुनाव में कहां-कहां चूक हुई । http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

कश्मीर पर यूएन की रिपोर्ट को भारत ने बताया झूठ का पुलिंदा

Published

on

नई दिल्ली। भारत ने संयुक्त राष्ट्र की उस रिपोर्ट पर तीखी प्रतिक्रिया दी है जिसमें कहा गया है कि कश्मीर में पिछले कुछ महीनों में इतनी हत्याएं हुई हैं जितनी कि एक दशक में नहीं हुईं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने सोमवार को कहा कि जम्मू कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय की रिपोर्ट में पूर्व के फर्जी, दुर्भावना से प्रेरित बातों को ही जगह दी गयी है। उन्होंने कहा, भारत ने मानवाधिकार के लिए यूएन की जम्मू कश्मीर पर रिपोर्ट के अपडेट पर सख्त विरोध दर्ज कराया है। पिछले साल संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त (ओएचसीएचआर) ने कश्मीर पर अपनी पहली रिपोर्ट जारी की थी। उसी की अपडेट रिपोर्ट एक बार फिर जारी की गयी है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि न तो भारत ने और न ही पाकिस्तान ने उठायी गयी विभिन्न चिंताओं के समाधान के लिए कोई ठोस कदम उठाया। रवीश कुमार ने कहा, इस रिपोर्ट में कही गयी बातें भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करती हैं और उसमें सीमापार आतंकवाद के मूल मुद्दे की अनदेखी की गयी है।
भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि वर्षों से पाकिस्तान सीमापार से आतंकवाद चला रहा है। लेकिन यूएन की रिपोर्ट में उससे उत्पन्न स्थिति का और आतंकवाद से हताहत होने वाले लोगों का हवाला दिये बिना विश्लेषण किया गया है। यह दुनिया के सबसे बड़े और जीवंत लोकतंत्र के साथ आतंकवाद का खुलेआम समर्थन करने वाले देश की कृत्रिम रूप से बराबरी करने की काल्पनिक कोशिश भर है।

ओएचसीएचआर की रिपोर्ट में क्या है?

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त के कार्यालय ने नई रिपोर्ट में कहा है, ‘‘कश्मीर और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मई 2018 से अप्रैल 2019 तक की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार रिपोर्ट कहती है कि 12 महीने की अवधि में नागरिकों के हताहत होने की सामने आयी संख्या एक दशक से अधिक समय में सबसे अधिक हो सकती है। मानवाधिकार कार्यालय ने कहा ‘‘व्यक्त की गई चिंताओं के समाधान के लिए ना तो भारत और ना ही पाकिस्तान ने ही कोई कदम उठाये.’’ रिपोर्ट में कहा गया है। कश्मीर में, भारतीय सुरक्षा बलों के सदस्यों द्वारा उल्लंघनों की जवाबदेही वस्तुतः अस्तित्वहीन है।

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 9, 2019, 9:17 am
Fog
Fog
28°C
real feel: 35°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 1 m/s NE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:50 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending