Connect with us

देश

राफेल पेपर लीक मामलाः केंद्र के विशेषाधिकार के दावे पर सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला

Published

on

फ़ाइल फोटो

नई दिल्ली। राफेल डील केस में सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के रक्षा मंत्रालय से लीक हुए दस्तावेजों पर केंद्र के विशेषाधिकार के दावे पर अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है। दरअसल, केंद्र ने राफेल लड़ाकू विमानों से संबंधित दस्तावेजों पर विशेषाधिकार का दावा किया है और सुप्रीम कोर्ट से कहा कि साक्ष्य अधिनियम के प्रावधानों के तहत कोई भी संबंधित विभाग की अनुमति के बगैर इन्हें पेश नहीं कर सकता है। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि कोई भी राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े दस्तावेज प्रकाशित नहीं कर सकता है और राष्ट्र की सुरक्षा सर्वोपरि है।

वहीं, वकील प्रशांत भूषण ने कोर्ट से कहा कि राफेल के जिन दस्तावेजों पर अटॉर्नी जनरल विशेषाधिकार का दावा कर रहे हैं, वे प्रकाशित हो चुके हैं और सार्वजनिक दायरे में हैं। उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार कानून के प्रावधान कहते हैं कि जनहित अन्य चीजों से सर्वोपरि है और खुफिया एजेंसियों से संबंधित दस्तावेजों पर किसी प्रकार के विशेषाधिकार का दावा नहीं किया जा सकता।

भूषण ने एससी से आगे कहा कि राफेल के अलावा कोई दूसरा रक्षा सौदा नहीं है जिसमें कैग की रिपोर्ट में कीमतों के विवरण को संपादित किया गया। भूषण ने कहा कि राफेल सौदे में सरकार-सरकार के बीच कोई करार नहीं है क्योंकि इसमें फ्रांस ने कोई बैंक गारंटी नहीं दी है। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रेस परिषद अधिनियम में पत्रकारों के सूत्रों के संरक्षण के भी प्रावधान हैं। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भूषण से कहा कि हम केंद्र की प्रारंभिक आपत्ति पर फैसला करने के बाद ही मामले के तथ्यों पर विचार करेंगे।

कोर्ट ने राफेल डील मामले में पुनर्विचार याचिकाओं पर केंद्र की प्रारंभिक आपत्तियों पर सुनवाई पूरी की। केंद्र का कहना था कि पुनर्विचार याचिका दायर करने वाले याचिकाकर्ता गैरकानूनी तरीके से प्राप्त किए गए विशेषाधिकार वाले दस्तावेजों को आधार नहीं बना सकते। गौरतलब है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की पीठ के समक्ष केंद्र की ओर से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने अपने दावे के समर्थन में साक्ष्य कानून की धारा 123 और सूचना के अधिकार कानून के प्रावधानों का हवाला दिया।

आपको बता दें कि यह पीठ राफेल सौदे के मामले में अपने फैसले पर पुनर्विचार के लिए दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। ये पुनर्विचार याचिकाएं पूर्व केंद्रीय मंत्रियों यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी तथा अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने दायर कर रखी हैं। अगर सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार के विशेषाधिकार के दावे को स्वीकार कर लेती है तो सभी पुनर्विचार याचिकाएं खारिज की जा सकती हैं। क्योंकि पुनर्विचार याचिकाओं में इन्हीं सबूतों को आधार बनाया गया है।   http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

उमर अब्दुल्ला ने साध्वी प्रज्ञा पर साधा निशाना, कहा- ‘साध्वी प्रज्ञा की सेहत जेल में रहने लायक नहीं तो कैसे लड़ रहीं चुनाव’?

Published

on

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से टिकट दिये जाने पर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। साध्वी प्रज्ञा को भारतीय जनता पार्टी ने भोपाल लोकसभा सीट से टिकट दिया है, वहीं उनके सामने कांग्रेस के दिग्विजय सिंह मैदान में हैं। जहां गुरुवार को श्रीनगर में एक मतदान केंद्र पर वोट डालने पहुंचे उमर अब्दुल्ला ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा, ‘बीजेपी ने एक ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है, जो न केवल किसी आतंकी मामले का आरोपी है, बल्कि स्वास्थ्य आधार पर जमानत पर बाहर है।’ उन्होनें कहा कि अगर साध्वी प्रज्ञा की स्वास्थ्य स्थिति उन्हें जेल में रहने की अनुमति नहीं देती है, तो उन्हें यह चुनाव लड़ने की अनुमति कैसे मिल सकती है?

यह भी पढ़े: पश्चिम बंगालः BJP कार्यकर्ता का फांसी पर लटका मिला शव, कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त

मतदान करने से पहले उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर लिखा – ‘साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से भाजपा ने अपना प्रत्याशी बनाकर, कानून व्यवस्था का कैसा मखौल उड़ाया है? वह आतंकवाद की आरोपी हैं। उनके खिलाफ ट्रायल चल रहा है, स्वास्थ्य आधार पर जमानत पर बाहर हैं, लेकिन चुनाव लड़ने के लिए एकदम स्वस्थ हैं।’

जानकारी के मुताबिक साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भोपाल से कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं। वह मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी हैं और इस वक्त जमानत पर रिहा हैं। बीजेपी ने बुधवार को मध्य प्रदेश के चार उम्मीदवारों की सूची जारी की थी। इसमें साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से टिकट दिया था। आपको बता दें कि प्रज्ञा ठाकुर को 23 अक्टूबर 2008 को मालेगांव ब्लास्ट मामले में गिरफ्तार किया गया था। वह इस मामले में उन पर आरोप लगे और वह नौ साल जेल में भी रही हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

ब्रेकिंग न्यूज : कानपुर के शख्स ने BJP नेता जीवीएल नरसिम्हा राव पर फेंका जूता, सियासी गलियारों में फिर से जूता चर्चा में

Published

on

लोकसभा चुनाव के दौरान देश की राजनीति राजनीति में फिर से जूता कांड गरमा गया है। BJP मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे जीवीएल नरसिम्हा राव पर एक शख्स ने जूता फेंक के मारा। नरसिम्हा राव उस समय अपनी स्पीच दे रहे थे कि तभी एक जूता उड़ता हुआ उनकी तरफ आया। जूता फेंकने वाला शख्स कानपुर का बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक यह शख्स पेशे से डॉक्टर है।

आपको बता दें कि राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्‍हा राव नई दिल्‍ली में बीजेपी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे। तभी शक्ति भार्गव नामक एक शख्स ने उनकी और जूता फेंक कर मारा जिसके बाद वहां अफरातफरी मच गई। सुरक्षा कर्मियों ने कानपुर के रहने वाले इस शख्स को जल्दी से बाहर निकला। शक्ति भार्गव नामक इस व्यक्ति द्वारा जूता फेंकने का क्या कारण था इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पाई है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

पश्चिम बंगालः BJP कार्यकर्ता का फांसी पर लटका मिला शव, कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त

Published

on

पुरुलिया: पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एक कार्यकर्ता का शव पेड़ से लटका हुआ मिला। इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है। जिसके बाद सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है और पता लगाने की कोशिश कर रही है कि मामला हत्या का है या आत्महत्या का।

यह मामला पुरुलिया के अरशा थाना क्षेत्र के सेनाबोना गांव का है। जहां गुरुवार की सुबह बीजेपी के एक कार्यकर्ता की लाश पेड़ से लटकी हुई मिली। इस घटना से पूरे इलाके में ख़बर आग की तरह फैल गई है। मृतक की पहचान 22 वर्षीय शिशुपाल साहिस के रूप में हुई है।

यह भी पढ़ें : बैन हटते ही चुनाव आयोग पर बरसीं मायावती, कहा- भेदभाव का तरीका अपनाया तो निष्पक्ष चुनाव होना नामुमकिन…

भाजपा नेताओं का दावा है कि मृतक भाजपा कार्यकर्ता शिशुपाल साहिस बीजेपी युवा मोर्चा का सदस्य था। जानकारी के मुताबिक उसके पिता भाजपा शासित शिरकाबाद ग्राम पंचायत के उपप्रधान हैं। जिले के बीजेपी कार्यकर्ताओं में शिशुपाल की मौत से रोष व्याप्त है। इस घटना के बाद क्षेत्र में तनाव बना हुआ है। अब पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है।http://www.satyodaya.com

 

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 18, 2019, 3:24 pm
Partly sunny
Partly sunny
31°C
real feel: 31°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 30%
wind speed: 4 m/s NW
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:10 am
sunset: 6:02 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 7 other subscribers

Trending