Connect with us

देश

रांची: पीएम किसान योजना के तहत पांच लाख किसानों के खातों में भेजे गए दो-दो हजार रुपये…

Published

on

रांची: पीएम किसान योजना के तहत पांच लाख किसानों के खाते में दूसरी किस्त के तौर पर दो-दो हजार रुपये भेज दिए गए हैं। बता दें कि रांची के खेलगांव में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सांकेतिक रूप से बटन दबाकर किसानों को दो-दो हजार रूपये की राशि भेजी है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा अन्नदाता किसानों की जिंदगी में खुशहाली लाने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत झारखंड में नवंबर तक 35 लाख किसानों के खाते में 2100 करोड़ रुपये की राशि ट्रांसफर की जाएगी। मुख्यमंत्री ने किसानों के बीच खाद और बीज का भी वितरण किया।किसानों के खाते में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की राशि ट्रांसफर करने के लिए सोमवार को किसान सम्मान समारोह का आयोजन रांची समेत राज्य के सभी जिलों में किया गया।

ये भी पढ़े: मोहनलालगंज में भीषण हादसाः कार-ट्रक की टक्कर में वाराणसी राजकीय निर्माण निगम के महाप्रबंधक की मौत

राज्यस्तरीय इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री मुख्य अतिथि के तौर पर और कृषि मंत्री रणधीर सिंह विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद रहें। इसके अलावा कार्यक्रम में विधायक जीतू चरण राम, गंगोत्री कुजूर, मुख्य सचिव डीके तिवारी, कृषि सचिव पूजा सिंघल आदि भी मौजूद रहें। बता दें कि कार्यक्रम में हजारों की संख्या में किसान पूरे राज्य से आए हुए थे। पीएम किसान योजना के तहत 74 हजार नए किसानों को पहली बार लाभ मिला है।

पीएम किसान योजना के दायरे में राज्य के 35 लाख किसान आएंगे। नियमों को लचीला बनाने की झारखंड सरकार की मांग को मान लिए जाने के बाद राज्य भर के किसान अब इस योजना के दायरे में आ गए हैं। जिसके संदर्भ में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने केंद्रीय कृषि मंत्री के साथ उच्चस्तरीय बैठक भी की थी। दरअसल, झारखंड में लैंड रिकॉर्ड अपडेट न होने का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा था। पीएम किसान योजना के तहत सिर्फ उन्हीं किसानों के खाते में राशि भेजने का प्रावधान था, जिनका लैंड रिकॉर्ड अपडेट हो। http://www.satyodaya.com

देश

किसान का बेटा ही फिल्मों में उसके दर्द को बयां कर सकता है: प्रसून जोशी

Published

on

नई दिल्ली। हिंदी हैं हम वतन है हिन्दोस्तां हमारा। देश में शनिवार को हर साल की तरह हिंदी दिवस मनाया गया। उत्तर भारतीयों के लिए यह दिन और भी महत्व रखता है क्योंकि यहां ज्यादातर लोगों में हिंदी बोली, पढ़ी और समझी जाती है। हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर दैनिक जागरण ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में एक कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस कार्यक्रम के सत्र ‘विज्ञापन की हिंदी’ में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने बताया कि जब वह विज्ञापन में शामिल हुए थे, तो वे अक्सर हिंदी बोलने के लिए कार्यालय की बैठकों के दौरान एक तमाशा हुआ करते थे। उस दौरान उनके बीच कुछ ही ऐसे लोग थे जो दो भाषाओं को समझ और समझा सकते थे।

हिंदी मेरी मातृ भाषा और अंग्रेजी मेरी कुशलता

प्रसून जोशी ने कहा कि अब समय बदल गया है। मातृ भाषा एक हो सकती है, आज हिंदी मेरी मातृ भाषा है और अंग्रेजी मेरी कुशलता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हिंदी में इसके बारे में एक सहज आकर्षण है और इसे अन्य भाषाओं के शब्दों को बिना असुरक्षा के समायोजित करना चाहिए। ‘शब्द’ संस्कृति का प्रतिनिधित्व करते हैं। जोशी ने  आगे कहा कि ‘मैं गोबर का अनुवाद नहीं कर सकता और मैं स्वीकार नहीं कर सकता कि मिट्टी टेराकोटा है। हिंदी भाषियों के लिए यह महत्वपूर्ण था कि वे उन लोगों का उपहास न उड़ाएं जो इसे बोलने के लिए संघर्ष करते हैं। गलतियां होंगी, लेकिन वे सुधर जाएंगी। हिंदी को बेचारी के रूप में प्रस्तुत नहीं किया जाना चाहिए।’

फिल्म उद्योग में प्रामाणिकता का अभाव

उन्होंने कहा कि ‘विज्ञापन के लिए लिखना एक चुनौती है तुरंत मांग पर और भी मुश्किल होता है। विज्ञापन में बहुत ही कम शब्दों में आपको किसी वस्तु का महिमामंडल करना होता है जो काफी चुनौतीपूर्ण होता है।

फिल्मों पर बोलते हुए भारतीय सेंसरबोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने आगे कहा है कि आज इस उद्योग में सामग्री की प्रामाणिकता का अभाव है। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों की दुर्दशा पर फिल्म किसान का बेटा नहीं बनाएगा तब तक किसानों का असली दर्द महसूस नही होगा। उन्होंने कहा कि फिल्म निर्माण को अधिक लोगों के लिए खोलकर ‘लोकतांत्रिक’ होना चाहिए। किसानों पर एक फैंसी-ड्रेस वाला व्यक्ति फिल्म बनाकर न्याय कभी नहीं कर पाएगा।

ये भी पढ़ें: सामाजिक उद्योग व्यापार मंडल ने हजरतगंज से जीपीयो तक निकाला पैदल मार्च

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री भारत सरकार नित्यानंद राय थे। दिनभर चले विभिन्न सत्रों ‘हिंदी का भविष्य’, ‘रेडियो की हिंदी’, ‘गांधी और हिंदी’, ‘हिंदी, समाज और धर्म’ में वक्ताओं में प्रो.सुधीश पचौरी, अब्दुल बिस्मिल्लाह, राम बहादुर राय, प्रो. आनंद कुमार, जैनेद्र सिंह, सच्चिदानंद जोशी, प्राचार्य रमा एवं आरजे दिव्या वक्ता शामिल हुए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

ओडिशा में काटा गया देश में अब तक का सबसे बड़ा चालान…

Published

on

संशोधित मोटर व्हीकल कानून लागू होने के पहले ही ओडिशा ने बनाया रिकार्ड

नई दिल्ली। देश भर में मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद यातायात नियमों के उल्लंघन और कागज सही न होने पर वाहनों के भारी भरकम चालान काटे जा रहे हैं। यातायात नियमों के उल्लंघन पर भारी जुर्माना वाला कानून जब से लागू हुआ है, देश के कोने से भारी भरकम जुर्माने वाले चालान कटने की खबरें वायरल हो रही हैं। इसी क्रम में ओडिशा के संबलपुर में छह लाख रुपए से ज्यादा का चालान कटने की खबर आयी है। बताया जा रहा है कि यहां एक ट्रक मालिक पर ट्रैफिक नियम तोड़ने पर 6,53,100 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। जानकारी के मुताबिक देश भर में अब तक का यह सबसे भारी भरकम चालान काटा गया है। यह चालान 10 अगस्त को काटा गया था जबकि नया मोटर व्हीकल एक्ट पहली सितंबर से लागू हुआ है। इस घटना की जानकारी 14 सितम्बर को सामने आई है।
जानकारी के मुताबिक संबलपुर के आरटीओ ने ट्रक नंबर एनएल 08 डी 7079 के लिए यह चालान काटा था। ट्रक मालिक शैलेश शंकर लाल गुप्ता पिछले पांच साल 21 जुलाई से 30 सितंबर 2019 से रोड टैक्स नहीं भर रहे थे। जिसके चलते यह टैक्स 6,40,500 रुपये तक पहुंच गया था। आरटीओ ने जरूरी दस्तावेज नहीं रखने को लेकर भी जुर्माना ठोंका। ट्रक मालिक पर जनरल ऑफेंस के तहत 100 रुपये, हवा और ध्वनि प्रदूषण के मानकों का उल्लंघन करने पर 1000 रुपये, माल वाहन में यात्री ढोने के आरोप में 5000 रुपये, बिना अनुमति के वाहन चलाने के आरोप में 5000 रुपये और इंश्योरेंस नहीं कराने के आरोप में 1000 रुपये का चालान काटा गया है।

यह भी पढ़ें-बिग बी ने ‘तुम मेरी हो’ सॉन्ग को लेकर किया ट्वीट, KRK ने दिया ऐसा जवाब…

गौरतलब है कि इससे पहले सबसे बड़ा चालान दिल्ली में हरियाणा के एक ट्रक का काटा गया था। जिसकी रकम दो लाख 500 रुपए थी। इससे करीब पांच दिन पहले राजस्थान के एक ट्रक चालक ने रोहिणी कोर्ट में 1 लाख 47 हजार 7 सौ रुपये का चालान भरा था। वहीं ओडिशा में ही 10 सितंबर को एक ट्रक ड्राइवर पर 86 हजार 500 रुपए का जुर्माना लगाया गया था। हालांकि, ट्रक ड्राइवर के कुछ दस्तावेज पेश करने के बाद इसे 70 हजार रुपए पर तय कर दिया गया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

छेड़छाड़ का विरोध करना पड़ा भारी, आरोपी ने युवक को किया आग के हवाले

Published

on

प्रतिकात्मक चित्र

नई दिल्ली। ग्रेटर नोएडा में एक व्यक्ति को जिंदा जलाने का प्रयास करने का मामला सामने आया है। यह मामला जेवर क्षेत्र के फ्लैन्दा इलाके का है। जहां पीड़ित ने 3 लोगों द्वारा एक युवती से छेड़छाड़ का विरोध किया था। जिसके बाद आरोपीयों ने उसके घर में आग लगाकर हत्या करने की कोशिश की गई। जिससे वह गंभीर रुप से झुलस गए। वहीं युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि पीड़ित ने दो अज्ञातों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस आरोपीयों की तलाश में जुटी है।

जानकारी के अनुसार रबूपुरा के फलैदा गांव निवासी विनोद कुमार के दयानतपुर गांव स्थित खेत पर भीम सिंह नाम का युवक काम करता है। युवक ने 11 सितंबर को एक युवती के चीखने की आवाज सुनी। उसने देखा कि 3 युवक एक युवती के साथ छेड़छाड़ करते हुए उसे जंगल में ले जा रहे हैं। भीम सिंह दौड़कर वहां पहुंचा और युवती को आरोपियों के चंगुल से छुड़ाया। उसी दौरान आरोपियों ने भीम को जान से मारने की धमकी दी और फरार हो गए।

ये भी पढ़े- झलकारीबाई हॉस्पिटल का स्वास्थ्य मंत्री ने किया औचक निरीक्षण, सफाई देख की तारीफ

कुछ ही देर बाद तीनों आरोपित पहुंचे और भीम सिंह के घर में आग लगा दी और फरार हो गए। आग की लपट से पीड़ित की आंख खुल गई और उसने अपने घर से बाहर निकलकर जान बताई। वहीं पुलिस का कहना है कि विनोद ने दयानतपुर गांव निवासी शिवकुमार व दो अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोपियों की तलाश की जा रही है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 15, 2019, 3:06 am
Fog
Fog
27°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 1 m/s ESE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:21 am
sunset: 5:41 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending