Connect with us

देश

एस जयशंकर ने संभाली विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी, सुषमा के पद चिन्हों पर चलने का जताया इरादा

Published

on

नई दिल्ली। भारत के नए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने शनिवार को अपना कार्यभार संभाल लिया। विदेश मंत्री की कुर्सी पर बैठते ही जयशंकर ने सबसे पहला ट्वीट अपनी पूर्ववर्ती विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को लेकर किया। एस जयशंकर सुषमा स्वराज के कार्यकाल में विदेश सचिव रह चुके हैं। वह हाल ही में सेवानिवृत्त हुए थे। जयशंकर ने ट्वीट किया, विदेश मंत्री के तौर पर सुषमा स्वराज के शानदार कार्य की काफी प्रशंसा हुई थी अब उनके पदचिह्नों पर चलना उनके लिए गर्व की बात है। इसके अलावा जयशंकर ने लोगों की शुभकामनाओं के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “आप सभी का शुभकामनाओं के लिए शुक्रिया। इस जिम्मेदारी को पाकर गौरव महसूस कर रहा हूं।

यह भी पढ़ें-फिर मुखर हुआ हिन्दी विरोध, सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा #StopHindiImposition

बता दें कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पिछले पांच सालों में अपने काम और अपनी संवेदनशीलता के बल पर पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो चुकी हैं। आतंकवाद को लेकर सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को जहां एक तरफ वैश्विक मंचों पर नंगा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी तो वहीं दूसरी तरफ मदद के लिए दुश्मन देश से भी आने वाली आवाज पर तत्काल मदद मुहैया करवायी।

सुषमा स्वराज ने अपने पांच साल के कार्यकाल में भारतीय विदेश नीति को नई पहचान और मुकाम पर पहुंचाया। सुषमा की इस कामयाबी के पीछे विदेश सचिव के रूप में एस जयशंकर का भी योगदान कम नहीं है। यही वजह है कि इस बार सुषमा स्वराज द्वारा कोई भी पद स्वीकार न करने के बाद पीएम मोदी ने विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी एस जयशंकर के कंधों पर डाली।
जयशंकर ने पद भर संभालने के साथ ही इरादे भी जाहिर कर दिए हैं कि वह अपनी पूर्ववर्ती सुषमा स्वराज के पद चिन्हों पर चलेंगे और भारतीय विदेश नीति को और मजबूत और सशक्त करेंगे।http://www.satyodaya.com

देश

भारत में तबाही मचाने के लिए मौके के इंतजार में हैं आतंकी गुट

Published

on

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाने से पाकिस्तान इस समय भारत से चिढ़ा हुआ है। मोदी सरकार के इस निर्णय के खिलाफ पाकिस्तान दुनिया भर में हायतौबा मचा रहा है। हर जगह से उसे निराशा ही हाथ लगी है। आतंकवाद के रूप में पाकिस्तान हमेशा से भारत के खिलाफ अघोषित युद्ध छेड़े हुए है। लेकिन अब पाकिस्तान ने अपने देश में पल रहे आतंकी गुटों को खुली छूट दे दी है जिसके बाद से इस्लामिक स्टेट और आईएसआई समर्थित आतंकवादी गुट भारत में तबाही मचाने के लिए घात लगाए बैठे हैं। खबरों के मुताबिक नियंत्रण रेखा के करीब पिछले एक सप्ताह के अंदर दर्जनों आतंकी संगठन सक्रिय हो गए हैं। जो नापाक मंसूबों को अंजाम देने के लिए मौके की फिराक में हैं। इस बारे में भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भारत सरकार और गृह मंत्रालय को पहले ही आगाह कर दिया है। 9 अगस्त को इंटेलीजेंस ब्यूरो मुख्यालय द्वारा जारी गोपनीय रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया गया है कि पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा समर्थित जेहादी आतंकी गुट जम्मू एवं कश्मीर और उसके बाहर बड़ी आतंकवादी घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के निर्देश पर लश्कर और जैश के आतंकी बड़े हमले की साजिश में जुटे हैं।

यह भी पढ़ें-बकरीद की तैयारियां पूरी, यहां अदा करें नमाज…

सूत्रों के मुताबिक हमले को अंजाम देने के लिए आईएसआई अफगानिस्तान के नागरिकों का भी इस्तेमाल कर सकती है। एक दूसरे इंटेलिजेंस इनपुट के मुताबिक आतंकी संगठन आईएसआईएस के भारत में मौजूद समर्थकों के जरिये बड़े पैमाने पर हमले की साजिश रच रहा है। सूत्रों के मुताबिक बकरीद की नमाज के दौरान हमले हो सकते हैं साथ ही 15 अगस्त से पहले आतंकियों के निशाने पर बड़े सरकारी प्रतिष्ठान हैं। इसके के अलावा ट्रांसपोर्ट नेटवर्क जैसे रेलवे, बस, मेट्रो और एयरपोर्ट भी आतंकियों के निशाने पर है।
इस सिलसिले में संबंधित राज्यों की अभिसूचना ईकाइयों और पुलिस मुख्यालयों को सचेत कर दिया गया है। सूत्रों की माने तो इस बार इस्लामिक स्टेट और पाक समर्थित कट्टरपंथी आतंकी संगठन बकरीद जैसे बड़े पर्व पर भीड़ को निशाना बनाने की कोशिश कर सकते हैं।
देश की खुफिया एजेंसियों के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, भले ही आईएसआई लंबे समय से भारत में अशांति फैला पाने में कामयाब न हो पाई हो, लेकिन कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद वह भी बुरी तरह से बौखलाई हुईं है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस का दौर फिर से लौटेगा : प्रमोद तिवारी

Published

on

लखनऊ। जिस तरह से 1998 में सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कमान संभालने के बाद पार्टी का सफलता पूर्वक नेतृत्व किया था, और 2005 में कांग्रेस की सरकार बनवायी थी, तब देश में अटल जी और आडवाणी जी का सशक्त नेतृत्व था, लेकिन सोनिया गांधी ने अपने कुशल नेतृत्व से कांग्रेस को सत्ता में पहंुचा दिया था, उसी तरह इस बार फिर हम उबरेंगे, धोखे और झूठ का अंत होगा। इतिहास फिर से अपने आप को दोहराएगा।
यह बातें कांग्रेस नेता व राज्य सभा सांसद प्रमोद तिवारी ने रविवार को एक प्रेस कांफे्रंस में कहीं। प्रेस वार्ता में कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा उर्फ ’मोना’ समेत कांग्रेस के अन्य नेता मौजूद रहे।
पत्रकारों को संबोधित करते हुए प्रमोद तिवारी ने कहा कि शनिवार को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में तीन प्रस्ताव पारित किए गए। सबसे पहले राहुल गांधी को अपने इस्तीफे पर एक फिर से विचार करने को कहा गया। राहुल के मना करने के बाद दूसरे प्रस्ताव में कहा गया कि राहुल गांधी के नेतृत्व में पार्टी का वोट बैंक मजबूत हुआ, कुछ राज्य भी जीते। उन्होंने भाजपा से दृढ.ता के साथ संघर्ष किया। तीसरे प्रस्ताव में सोनिया गांधी से आग्रह किया गया कि वह अंतरिम अध्यक्ष बनें। राज्य सभा सांसद ने कहा कि मैं इन तीनों प्रस्तावों का समर्थन करता हूं। मुझे विश्वास है कि सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस का अच्छा दौर फिर शुरू होगा।

यह भी पढ़ें-सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष चुने जाने पर दिग्गज नेताओं ने कही यह बात…

प्रमोद तिवारी ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता बहुत चिंतित थे कि शायद पार्टी इस राजनीतिक संकट से उबर नहीं पाएगी। लेकिन संकटों से जूझने की अद्भुद क्षमता है कांग्रेस पार्टी में।
प्रमोद तिवारी ने कहा कि 1998 में जब सोनिया गांधी ने अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली थी तब तो यूपी में पार्टी जीरो पर थी। 2019 में तो कांग्रेस के पास यूपी में कम से कम एक सीट (रायबरेली) है। लेकिन उस मुश्मिल दौर में सोनिया गांधी ने कांग्रेस को उबार लिया था। उन्होंने यूपी में कांग्रेस की वापसी करायी। #MummyReturns
वहीं भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में आज महंगाई चरम पर है, युवा बेरोजगार हैं। मोदी के 6 साल के शासन में भारत आर्थिक मोर्चे पर 7वें नम्बर पर है। हमसे 4 देश आगे निकल गए। धारा 370 को खत्म करने को समर्थन के सवाल पर प्रमोद तिवारी ने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति का जो मानना है, वहीं मेरा भी मानना है। बाकी देश की संसद और न्यायालय तय करेगा।
प््रमोदी तिवारी ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा। कश्मीर का कण-कण भारत का है। कश्मीर के मामले में भारत किसी भी देश के हस्तक्षेप को बर्दाश्त नहीं करेगा फिर चाहे वह पाकिस्तान हो चीन। क्हा कि देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने जम्मू कश्मीर के महाराजा हरि सिंह के साथ समझौता करके भारत में मिलाया था। कश्मीर भारत का हिस्सा है तो इसका श्रेय पंडित जवाहर लाल नेहरू और सरदार पटेल को है या फिर मोदी और अमित शाह को इसका श्रेय दिया जाए? कहा कि वो नेहरू सरकार का निर्णय था जिसका सरदार पटेल ने पालन किया था। #ThankYouRahulGandhi
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के बयान पर प्रमोद तिवारी ने कहा कि उनका बयान बेहद निंदनीय है और उनके पद की गरिमा के खिलाफ है। प्रमोद तिवारी ने यूपी के विधायक धनखड़ का जिक्र किया। कहा कि उन्होंने पहले बिहार की बेटियों का जिक्र किया और कहा अब तो कश्मीर की बेटियां भी लाने की बात कर रहे हैं। यह निहायत ही घटिया सोच है। विधायक मोना ने भी मनोहर लाल खट्टर के बयान की निंदा की और देश की बेटियों से क्षमा मांगने को कहा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

बाढ़ से प्रभावित वायनाड जाएंगे राहुल, ट्वीट कर दी जानकारी

Published

on

लखनऊ। भारत के कई राज्य इस वक्त भारी बारिश और बाढ़ का सामना कर रहे हैं। केरल भी उनमें से एक है। वहां भी स्थिति काफी खराब है। ऐसे में केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी का ट्वीट आया है। उन्होंने जानकारी दी है कि वो कुछ दिन अपने संसदीय क्षेत्र में ही गुजारेंगे।

राहुल ने ट्वीट किया कि बाढ़ की वजह से वायनाड में भारी तबाही हुई है इसलिए वह कुछ दिनों तक वहीं रहेंगे। इस दौरान वह राहत और बचाव कार्यों की समीक्षा करेंगे और राहत शिविरों का दौरा करेंगे।

http://www.satyodaya.com
Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 11, 2019, 4:56 pm
Fog
Fog
30°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 5:06 am
sunset: 6:17 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending