Connect with us

देश

कोरोना वायरस से अब तक 18,589 मौतें, 4,14,884 संक्रमित

Published

on

बीजिंग: विश्व के अधिकांश देशों में फैल चुके कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं लेे रहा है और अब तक इस खतरनाक वायरस से 18,589 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि करीब 4,14,884 लोग इससे संक्रमित हुए हैं। भारत में भी कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता जा रहा है और देश अब तक इससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 519 हो गयी है। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से कुल 10 लोगों की मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: दूसरे जनपदों के कोरोना मरीजों को न लाया जाए केजीएमयू: प्रो. वीरेन्द्र


स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में कोरोना के 519 मामलों की पुष्टि हो चुकी है जिनमें से 476 मरीज भारतीय हैं जबकि 43 विदेशी नागरिक हैं। कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है और लेकिन अभी तक इससे सबसे गंभीर रूप से प्रभावित चीन के लिए राहत की बात यह है कि वुहान में पिछले तीन दिन से कोई मामला सामने नहीं आया है। इस वायरस को लेकर तैयार की गयी एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन में हुई मौत के 80 प्रतिशत मामले 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के थे। चीन में 81,218 लोगों की कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और करीब 3,281 लोगों की इस वायरस के चपेट में आने के बाद मौत हो चुकी है।


पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना को लेकर सबसे गंभीर स्थिति इटली से सामने आयी है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से बुरी तरह प्रभावित इटली में इसके संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6820 हो गयी है। इटली के नागरिक सुरक्षा विभाग के प्रमुख एंजेलो बोरेली ने मंगलवार को टेलीविजन पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान देश में कोरोना वायरस से 743 लोगों की मौत हुई है। इटली में कोरोना संक्रमण के 5249 नए मामले सामने आए हैं जिससे संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 69176 हो गयी है। स्पेन में इससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 2808 हो गयी है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक स्पेन में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 39,885 हो गयी है।http://www.satyodaya.com

देश

राज्यसभा में पास हुए कृषि संबंधी विधेयक, पीएम मोदी समेत सीएम योगी ने दी बधाई

Published

on

नई दिल्ली। राज्यसभा में कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी गई है। जिसके बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों ही विधेयकों के पास होने पर बधाई दी है और कहा है कि आज का दिन भारत के कृषि इतिहास का सबसे बड़ा दिन है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि देश के किसानों को अब बिचालियों के चंगुल से मुक्ति मिलेगी। पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘भारत के कृषि इतिहास में आज एक बड़ा दिन है। संसद में अहम विधेयकों के पारित होने पर मैं अपने परिश्रमी अन्नदाताओं को बधाई देता हूं। यह न केवल कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन लाएगा, बल्कि इससे करोड़ों किसान सशक्त होंगे।’

इसके अलावा पीएम मोदी ने यह भी लिखा है, ‘दशकों से हमारे किसान भाई बहन कई प्रकार के बंधनों में जकड़े हुए थे और उन्हें बिचौलियों का सामना करना पड़ता था। संसद में पारित विधेयकों से अन्नदाताओं को इन सबसे आजादी मिली है। इससे किसानों की आय दोगुनी करने के प्रयासों को बल मिलेगा और उनकी समृद्धि सुनिश्चित होगी।’

यह भी पढ़ें : भारी हंगामे के बीच राज्य सभा में दो कृषि विधेयक पास, PM मोदी ने दी बधाई

विपक्ष के आरोपों पर जवाब

एक तरफ जहां विपक्षी पार्टियां इन विधेयकों को किसान विरोधी और उनकी आजादी छीनने वाला करार दे रही थी, तो ऐसे में अब पीएम मोदी ने एक बार फिर से विपक्षी पार्टियों के आरोपों को लेकर कहा है, ‘मैं पहले भी कह चुका हूं और एक बार फिर से कहता हूं, एमएसपी की व्यवस्था जारी रहेगी। सरकारी खरीद जारी रहेगी। हम यहां अपने किसानों की सेवा के लिए हैं। हम अन्नदाताओं की सहायता के लिए हर संभव प्रयास करेंगे और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन सुनिश्चित करेंगे।’

सीएम योगी ने भी की तारीफ और दी बधाई

सीएम योगी ने भी इन विधेयकों के पारित होने पर बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तिकरण व संरक्षण) कीमत और आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 का संसद से पारित होना कृषि क्षेत्र में नवीन सूर्योदय जैसा है। हमारे अन्नदाता किसान बहनों-भाइयों के लिए आज का दिन अविस्मरणीय होगा। बधाई।’http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

ट्यूशन टीचर ने छात्रा को बनाया हवस का शिकार, वीडियो बनाकर किया ब्लैकमेल

Published

on

हिसार। हरियाणा में एक ट्यूशन टीचर ने रिश्तों की मर्यादा को तार-तार कर दिया है और एक घिनौनी करतूत से शिक्षक छात्र के रिश्ते को बदनाम कर दिया है। दरअसल हरियाणा के हिसार में 16 साल की एक छात्रा के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है, हैरानी की बात ये है कि छात्रा को अपनी हवस का शिकार बनाने वाला कोई और नहीं बल्कि उसे ट्यूशन पढ़ाने वाला ट्यूटर ही था। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में आरोपी ट्यूटर के अलावा अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक लड़की गांव के ही एक युवक से ट्यूशन पढ़ती थी। बीती 27 अक्टूबर 2019 की शाम एक युवक ने गलत नीयत से लड़की को रास्ते में रोका और छेड़छाड़ करने लगा। जिसके बाद अगले दिन यानी 28 अक्टूबर को भी टीचर के छोटे भाई ने भी उससे गलत हरकत की थी। जिसके बाद उसने अपने ट्यूटर को इस बात की जानकारी दी, तो उसने कहा कि वह दोनों को समझा देगा और लड़की के साथ कोई गलत हरकत नहीं होगी। हालांकि ट्यूटर ने लड़की को घर पर यह बात बताने से भी मना की थी।

यह भी पढ़ें : यूपी: अखिलेश यादव का योगी सरकार पर तंज, कहा- न चली तानाशाही

पीड़िता का कहना है कि इसके बाद 30 अक्टूबर को उसके टीचर की भी नीयत गलत हो गई और उसने भी छात्रा के साथ दुष्कर्म किया। साथ ही उसका अश्लील वीडियो भी बनाया। ट्यूटर ने इस वीडियो को वायरल करने की भी धमकी दी थी। पीड़िता का कहना है कि ट्यूटर ने यह भी कहा था कि वह इस वीडियो को मोबाइल से डिलीट कर देगा लेकिन इसके लिए उसे रुपए लाकर देने होंगे।

अब तक 50 हजार दिए

पीड़ित छात्रा का कहना है कि वह 31 जुलाई 2020 से अभी तक अपने ट्यूटर को इस वीडियो के बदले 50 हजार रुपए दे चुकी है। इसके बावजूद ट्यूटर ने उसका अश्लील वीडियो डिलीट नहीं किया। यही नहीं आरोपी ट्यूटर ने बीती 6 सितंबर को फिर से छात्रा को धमकी दी थी। जिसके बाद छात्रा को घर से पैसे निकालते हुए पीड़ित छात्रा की मां ने उसे देख लिया था। जिसके बाद उसने अपनी मां को पूरी बात बताई। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

भारी हंगामे के बीच राज्य सभा में दो कृषि विधेयक पास, PM मोदी ने दी बधाई

Published

on

विपक्ष ने उपसभापति का माइक तोड़ा गया, मार्शलों से की धक्का-मुक्की

लखनऊ। विपक्ष के भारी हंगामे के बीच आज कृषि से जुड़े दो अहम विधेयक राज्यसभा में पास हो गए। कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को राज्यसभा ने ध्वनिमत से पारित कर दिया। हालांकि इस दौरान विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिल पास होने की बधाई देते हुए इन्हें किसानों की दशा और दिशा बदलने वाले बताया है। इससे पहले राज्यसभा में आज दोनों विधेयकों पर चर्चा के दौरान कांग्रेस, सपा, बसपा, शिवसेना, तृणमूल कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलों ने तीखा विरोध किया।

यह भी पढ़ें-बिहार : पिता के अंतिम संस्कार में नहीं शामिल हो सकेंगे पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन

दरअसल सदन की कार्यवाही दोपहर 1 बजे तक होनी थी, जिसे उपसभापति ने दोनों बिल पास होने तक के लिए बढ़ा दिया। इसी के बाद विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा, नियम के मुताबिक सदन का समय सभी की सहमति से ही बढ़ाया जा सकता है न कि सत्ता पक्ष की संख्या के आधार पर। टीएमसी नेता डेरिक ओ ब्रायन ने उपसभापति के सामने जाकर रूल बुक दिखाने की कोशिश की।

कुछ सांसद उपसभा के आसन के पास पहुंच गए और उनका माइक तोड़ दिया। सदस्यों ने रूल बुक फाड़ दी। सदन के मार्शलों से धक्कामुक्की भी हुई। भारी हंगामे, बवाल और नारेबाजी के चलते उपसभापति ने सदन की कार्यवाही कुछ समय के स्थगित कर दी।

संजय राउत ने भी कृषि बिलों पर उठाए सवाल

बसपा सांसद मलूक नागर ने कहा कि कृषि बिल में संशोधन करने की जरूरत है। किसानों से चर्चा करनी चाहिए। ग्राम पंचायत से चर्चा करनी चाहिए। विधायक-सांसद से चर्चा करना चाहिए। लेकिन केन्द्र सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया। कांग्रेस भी किसानों के साथ खिलवाड़ करती रही हैं। भाजपा भाजपा भी वही कर रही है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, देश में 70 फीसदी लोग खेती से जुड़े हैं। पूरे लॉकडाउन में किसान ही काम रहे थे, यदि बिल किसानों के हित में हैं तो क्या अफवाह मात्र पर एनडीए सरकार की एक मंत्री ने पद से इस्तीफा दे दिया?http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 21, 2020, 4:43 am
Fog
Fog
29°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 88%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:24 am
sunset: 5:34 pm
 

Recent Posts

Trending