Connect with us

देश

राजस्थान में सरकार बचाने की कवायद तेज, पायलट को मनाने में जुटी कांग्रेस

Published

on

नई दिल्ली: राजस्थान में कांग्रेस सरकार के लिए मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट लगातार बगावत कर रहे हैं। इस बीच राज्य में जारी सियासी घमासान के बीच पार्टी ने मंगलवार को एक बार फिर विधायक दल की बैठक बुलाई है। इसे साथ ही पार्टी सचिन पायलट को लगातार मनाने की कोशिश में जुटी है। पायलट को बैठक के लिए न्योता भेजा गया है। पार्टी ने पायलट से कहा है कि वह बैठक में आकर मतभेद दूर करें।

यह भी पढ़ें: आलमबाग के भीड़ भरे इलाके में बदमाशों ने दो लोगों को मारी गोली

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सचिन पायलट बैठक में नहीं जाएंगे। सचिन पायलट ने उल्टा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चुनौती दी है कि विधानसभा में बहुमत साबित करके दिखाएं।
इससे पहले कल सोमवार को सचिन पायलट ने खुलकर बागी तेवर अपना लेने के बाद कांग्रेस ने सोमवार सुबह जयपुर में विधायक दल की बैठक बुलाई थी, लेकिन इसमें पायलट और उनके समर्थक विधायक नहीं पहुंचे। बाद में कांग्रेस ने दावा किया कि गहलोत सरकार को 109 विधायकों का समर्थन हासिल है।


विधायकों को होटल में शिफ्ट किया

कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, गहलोत सरकार के प्रति अपना समर्थन जताने वाले 100 से अधिक विधायकों को जयपुर के फेयर मॉन्ट होटल में रखा गया है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सोमवार रात संवाददाताओं को बताया कि मंगलवार सुबह 10 बजे कांग्रेस विधायक दल की एक और बैठक होगी। इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि बागी तेवर दिखा रहे पायलट एवं कुछ अन्य विधायक इस बैठक में भाग लेंगे।http://www.satyodaya.com

देश

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी कोरोना पाॅजिटिव, अस्पताल में भर्ती

Published

on

लखनऊ। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। उनकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आज पॉजिटिव आई है। खुद प्रणब मुखर्जी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। श्री मुखर्जी ने कहा कि मैं खुद को सभी से अलग करने के लिए अस्पताल में आइसोलेट होने जा रहा हूं। पूर्व राष्ट्रपति ने उन सभी लोगों को भी खुद से क्वारंटीन होने ओर कोरोना जांच कराने की सलाह दी है, जो लोग पिछले सप्ताह उनसे मिले थे।

यह भी पढ़ें-मुख़्तार के इशारे पर भाजपा विधायक की हत्या कर चोटी भी काट ले गया था हनुमान पांडे

बता दें कि देश में कोरोना महामारी तेजी से फैल रही है। हर आम-ओ-खास इस महामारी की चपेट में आ रहा है। भारत में अब तक कुल 22 लाख से अधिक लोग इस महामारी से संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 44,499 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक 15 लाख 36 हजार 259 मरीजों ने कोरोना को मात भी दी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

आज तक देश के सामने नहीं लाया गया स्वतंत्रता संग्राम का पूरा सच: शैलेन्द्र दुबे

Published

on

काकोरी क्रांति की 95वीं वर्षगांठ पर भारतीय नागरिक परिषद ने आयोजित की संगोष्ठी

लखनऊ। काकोरी क्रांति की 95वीं वर्षगांठ पर रविवार को भारतीय नागरिक परिषद की ओर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से एक संगोष्ठी आयोजित की गई। संगोष्ठी में शामिल वक्ताओं ने काकोरी क्रांति के नायकों को याद करते हुए अमर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। संगोष्ठी के मुख्य वक्ता ऑल इंडिया पावर इंजीनियर फेडरेशन के चेयरमैन शैलेंद्र दुबे ने कहा, काकोरी क्रान्ति ने ब्रिटिश हुकूमत को बुरी तरह हिला कर रख दिया था। सरकारी खजाना लूटकर क्रांतिकारियों ने ब्रिटिश तख्त को सीधी चुनौती दी थी। काकोरी क्रांति में किसी अंग्रेज को नहीं मारा गया था लेकिन ब्रिटश हुकूमत इतनी दहशत में आ गई थी कि कि उन्होंने चार क्रांतिकारियों को फांसी दे दी।

श्री दुबे ने कहा कि कुछ लोगों द्वारा प्रचारित किया गया कि भारत को आजादी एक गुट विशेष ने दिलाई। ऐसे लोगों और आज की नौजवान पीढ़ी को यह बताने की जरूरत है कि स्वतंत्रता संग्राम में काकोरी के शहीदों की तरह ही ऐसे न जाने कितने वीरों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है। क्रांतिकारियों के लिए देश सेवा एक साधना थी। उन्हें इसका न कोई पुरस्कार मिला, न ही उनके नाम पर नगर, भवन या सड़के बनाई गई। फिर भी वे आज अमर हैं और इतिहास में अमर रहेंगे।

श्री दुबे ने कहा कि नई पीढ़ी की देश, धर्म, इतिहास और परंपरा के विषय में अज्ञानता तथा भौतिकता के प्रति अत्यधिक झुकाव को देखते हुए अब यह और अधिक जरूरी हो गया है कि उन्हें भारत की स्वतंत्रता के लिए अपने जीवन का बलिदान करने वाले महान क्रांतिकारियों का परिचय दिया जाए।

क्रांतिकारियों के किस्से सुनाकर किया रोमांचित

शैलेंद्र दुबे ने काकोरी क्रांति के ट्रेन डकैती का सजीव विवरण प्रस्तुत करते हुए क्रांति के महानायक पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, ठाकुर रोशन सिंह और राजेंद्र लाहिड़ी के विषय में कई रोमांचकारी संस्मरण सुनाए। इन क्रांतिकारियों के बलिदान के फलस्वरूप ही आज हम स्वतंत्र भारत में रह रहे है। आज काकोरी क्रांति के 95 वर्ष पूरे हो गए। जिस उद्देश्य से इन क्रांतिकारियों ने ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती दी थी और स्वतंत्र भारत के जो सपने देखे थे, उस दिशा में यदि हम इमानदारी से कुछ भी कर सकें तो इन अमर शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। काकोरी क्रांति में इन्ही चार क्रांतिकारियों को फांसी दी गई थी।

संगोष्ठी को आईआईटी खड़कपुर के पूर्व डायरेक्टर शिशिर कुमार दुबे, पावर कारपोरेशन के पूर्व प्रबंध निदेशक एसके वर्मा, पावर कारपोरेशन के जनरल सेक्रेटरी प्रभात सिंह, लखनऊ के प्रख्यात आयुर्वेदाचार्य डॉ अजय दत्त शर्मा, महाराष्ट्र से अनुराग नायक, सूर्यकांत पवार, गाजियाबाद से अभियंता दिनेश अग्रवाल, प्रख्यात समाजसेवी नीना शर्मा, त्रिभुवन शर्मा, राकेश पाण्डेय, धनंजय द्विवेदी ने संबोधित किया।

आजादी के 73 वर्ष बाद भी स्वतंत्रता संग्राम की सही विवरण नहीं

संगोष्ठी के अंत में भारतीय नागरिक परिषद के अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश अग्निहोत्री व महामंत्री रीना त्रिपाठी ने कहा, किसी भी देश की स्वतंत्रता से संबंधित वास्तविक घटनाक्रम और तथ्य जितनी शीघ्रता से प्रकाश में लाया जाए उसका उतना ही अधिक सकारात्मक लाभ देश की जनता को सही मार्ग खोजने में मिलता है। लेकिन दुर्भाग्य है कि स्वतंत्रता के 73 वर्ष बाद भी भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का सही विवरण अभी तक देशवासियों के सामने नहीं आ सका है। भारतीय नागरिक परिषद ने इसी कार्य को करने का बीड़ा उठाया है। इस प्रकार के कार्यक्रम भारतीय नागरिक परिषद विगत 10 वर्ष से कर रहा है।

कवि उदय भान पांडे ने काकोरी कांड पर सुनाई कविता

संगोष्ठी की अध्यक्षता परिषद के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश अग्निहोत्री ने की। कार्यक्रम में कवि और लेखक उदय भान पांडे ने काकोरी कांड पर कविता के द्वारा कार्यक्रम को शुरू किया। भारतीय नागरिक परिषद कि मंत्री निशा सिंह ने क्रांतिकारियों को समर्पित गीत गाया तो वहीं तृप्ति भदोरिया ने बुंदेलखंड के गीत के माध्यम से क्रांतिकारियों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। परिषद की महामंत्री रीना त्रिपाठी ने संगोष्ठी का संचालन किया।

संगोष्ठी में शामिल रहे वक्ता और विद्धान

कार्यक्रम में निशा सिंह, उषा त्रिपाठी, निष्ठा मिश्रा, कालिंदी रघुवंशी, महोबा से सविता सिंह, प्रेमा जोशी, चित्र त्रिपाठी, अमिता सचान के रूप में महिला प्रतिनिधि उपस्थित रहीं। राम कुमार पांडे, आलोक पांडे, आशुतोष पांडे, दीपक मिश्रा, हरेंद्र नाथ पांडे, नारायण सास्वत, शिव प्रकाश दीक्षित, विजय कुमार सिंह, विपिन मिश्रा, राम व्यास, राजेश्वर द्विवेदी,

यह भी पढ़ें-लखनऊ: शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच अफसरों की सुस्ती पर बिफरे जिलाधिकारी

आलोक पांडे, श्रीकांत उपाध्याय, पुष्पेंद्र मिश्रा, राम मनोहर अवस्थी, कनिष्क राय, शरद मिश्रा, एस गौतम, आरपी त्रिपाठी, सुरेश कुमार, राम नरेश उपाध्याय आदि लोगों ने क्रांतिकारियों को नमन करते हुए अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संपन्न हुई संगोष्ठी में अनेक विद्वान, बुद्धिजीवी, कर्मचारी, अधिकारी, अधिवक्ता, शिक्षक और आमजन बड़ी संख्या में सम्मिलित हुए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

जोधपुरः एक ही परिवार के 11 पाक शरणार्थियों की हत्या, खेत में मिले शव

Published

on

नई दिल्ली। राजस्थान के जोधपुर में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। देचू के लोड़ता अचलावता गांव में 11 लोगों की मौत हो गई है। मृतकों से शव खेत में मिले है। साथ ही एक युवक घायल अवस्था में दिखा। जिसको पुलिस ने पास के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया है। यह सभी पाकिस्तानी शरणार्थी बताए जा रहे है। मृतक लोग एक ही परिवार के थे और अचलावता गांव में खेती का काम करते थे। इस मामले में हत्या की आशंका जताई जा रही है। सूचना मिलने पर इलाके में सनसनी फैल गई।

फिलहाल मौत के कारणों का पता नहीं चल पाया है। प्रथम दृष्टया जहरीली गैस या जहर खुरानी से हुई मौत बताई जा रही है। यह देचू थाने के लोड़ता क्षेत्र की घटना है। देचू थाना अधिकारी हनुमानाराम मौके पर पहुंचे हैं। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। 11 शव एक साथ मिलने से सनसनी का माहौल है। हर तरफ इसी की चर्चा हो रही है। वहीं स्थानीय लोग इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। मृतकों में 6 वयस्क व 5 बच्चों की मौत हुई है। थानाधिकारी राजू राम ने बताया कि इनमें सात महिला फीमेल है और चार पुरुष है।

राजस्थान के सीमावर्ती गांवों में पाकिस्तान से आए शरणार्थी बड़े पैमाने पर शरण लिए हुए हैं। कई-कई गांव की लगभग पूरी आबादी ही पाकिस्तानी शरणार्थियों की है। जानकारी के अनुसार मृतक परिवार पाक विस्थापित भील समाज का है और कुछ समय पहले ही ये सभी लोग पाकिस्तान से जोधपुर आए थे। ये सभी लोग गांव के खेत में ट्यूबवेल पर काम करते थे और पास ही में बनी झोपड़ी में रहते थे।

सूचना पर जोधपुर ग्रामीण एसपी सहित पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे हैं और एफएसएल टीम द्वारा मौके पर जांच की जा रही है. जोधपुर ग्रामीण एसपी राहुल बारहट ने इस घटना की जानकारी दी। इस घटना को लेकर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ट्वीट करते हुए लिखा कि जोधपुर देचू में एक दर्जन पाक विस्थापित नागरिकों की मृत्यु @ashokgehlot51 कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान है। मृतकों में 2 पुरुष, 4 महिलाएं और 5 बच्चे हैं। एक के बाद एक, प्रदेश की बिगड़ी व्यवस्था की भयावह तस्वीरें सामने आ रही हैं। सरकार त्वरित कार्यवाही कर तथ्यों को सामने लाए।

यह भी पढ़ें:- केरल: लैंडिंग के समय एयर इंडिया का विमान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट सहित पांच की मौत

बहन पर हत्या का शक

सूत्रों के अनुसार इस परिवार की एक बहन जो कि पेशे से नर्स है। यहां अपने भाई को राखी बांधने के लिए आई थी। इसके बाद यही रहने लगी कुछ लोगों का यह भी कयास है कि बहन ने सबसे पहले इन 10 लोगों को जहरीला इंजेक्शन लगाया। उसके बाद स्वयं को इंजेक्शन लगा दिया। वहीं एक बचे सदस्य पर भी हत्या की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल एफएसएल की टीम जांच कर रही है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 10, 2020, 3:55 pm
Rain
Rain
34°C
real feel: 41°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 66%
wind speed: 4 m/s E
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:06 am
sunset: 6:18 pm
 

Recent Posts

Trending