Connect with us

देश

प्रेमिका से धोखा खाए युवक ने किया आत्मदाह, अस्पताल में भर्ती….

Published

on

धोखा

फाइल फोटो

नई दिल्ली। आजकल प्यार में धोखा मिलना आम हो गया है। आए दिन जितने तेजी के साथ लोग प्यार का इजहार करते हैं उससे दोगुनी तेजी के साथ लोगों के ब्रेकअप भी होते हैं। प्यार में धोखा खाने का एक ऐसा ही मामला अमृतसर से सामने आया है। जहां एक युवक ने प्यार में धोखा खाकर खुद को आग लगा लिया। आग लगाने की वजह से उसकी बॉडी का 50 प्रतिशत हिस्सा पूरी तरह से जल गया है।

जानकारी के मुताबिक प्रेमिका का किसी और के साथ अफेयर होने की वजह से प्रेमी ने उसे मिलने के लिए अमृतसर के कंपनी बाग़ में बुलाया। जहां दोनों के बीच काफी कहासुनी हुई और बाद में बहस इतना बढ़ गया कि प्रेमी ने खुद को आग लगा ली। आग लगते देख प्रेमिका वहां से फरार हो गई। हालांकि वहां आसपास मौजूद लोगों ने सबसे पहले इस घटना की जानकारी पुलिस को दी उसके बाद आग को बुझाने की कोशिश में भी जुटे रहे। हालांकि मौके पर पहुंच का पुलिस ने प्रेमी को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी पहचान 22 के साहिब सिंह के नाम से हुई। जो पेशे से एक ओला ड्राईवर है।

धोखा

गर्लफ्रेंड का था किसी और से संबंध…

साहिब ने पुलिस को बताया वह ओला कैब चलाता है। और चंडीगढ़ के सेक्टर 5 में किराए के मकान में रहता है। साहिब ने बताया पिछले एक साल से वह उसकी लड़की के साथ था। लेकिन अभी हाल ही में पता चला उसकी गर्लफ्रेंड किसी और के साथ रिलेशनशिप में है। इस शक के चलते वह अक्सर अपनी गर्लफ्रेंड को मिलने के लिए बुलाता था। लेकिन अहर बार वह बहाने बना देती थी।

ये भी पढ़ें:फिल्म रिलीज से पहले बप्पा के दरबार पहुंची सोनम कपूर, देखें तस्वीरें…

हालांकि कसी भी तरह वह इस बार मिलने आई। ऐसे में इन दोनों में बहस हुई। बहस इतना बढ़ गया कि साहिब ने गुस्से में खुद को आग लगा ली। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने साहिब को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसका इलाज चल रहा है।

क्या कहना है एएसआई का

जानकारी के मुताबिक एएसआई राजिंदर सिंह ने का प्रेमी ने बयान देने इंकार किया है। जबकि पुलिस लड़की किसी इलाके में रहती है खोजबीन की जा रही है। जिसके बाद इस मामले में कार्रवाई की जाएगी। http://www.satyodaya.com

देश

अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सभी आरोपी बरी

Published

on

लखनऊ। अयोध्या के बहुचर्चित विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सभी आरोपियों को बरी कर दिया गया है। स्पेशल सीबीआई कोर्ट के जज सुरेन्द्र कुमार यादव ने सभी लालकृष्ण आडवाणी, उमाभारती, मुरली मनोहर जोशी सभी 32 आरोपियों को बेगुनाह करार दिया है। 6 दिसंबर 1992 को हुए ढांचा विध्वंस मामले में करीब 28 साल बाद यह फैसला आया है। फैसला सुनाते हुए जज सुरेन्द्र कुमार यादव ने कहा, विवादित ढांचा विध्वंस कांड पूर्वनियोजित नहीं था। आरोपी बनाए गए लोगों के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत भी नहीं हैं।#BabriMasjid#BabriDemolitionCase

यह भी पढ़ें-कोर्ट रूम लाइव: विवादित ढांचा विध्वंस मामले में फैसले का काउन-डाउन शुरू

बता दें कि सीबीआई ने कुल 49 लोगों को आरोपी बनाया था। जिनमें से 17 अभियुक्तों का निधन हो चुका है। वर्तमान समय में केवल 32 आरोपी ही जिंदा हैं, जो अब जीवन के अंतिम पड़ाव में पहुंच चुके हैं। कोर्ट ने सुनवाई के समय सभी 32 आरोपियों को मौजूद रहने का आदेश दिया था। लेकिन लालकृष्ण आडवाणी, #BabriDemolitionCase राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास, उमा भारती सहित कई दिग्गजों ने स्वास्थ्य का हवाला देकर कोर्ट आने पाने में असमर्थता जाहिर की थी। यह सभी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोर्ट के फैसले को सुना।

कुल 49 अभियुक्तों में से 17 की हो चुकी है मौत

बता दें कि सीबीआई ने विवादित ढांचा विध्वंस मामले में कुल 49 लोगों को आरोपी बनाया था। इसमें ज्यादातर लोग भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हुए थे। कोर्ट के फैसले से लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश शर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोष दुबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण शरण सिंह, कमलेश त्रिपाठी, रामचंद्र खत्री, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धर्मेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़, धर्मेंद्र सिंह गुर्जर को बड़ी राहत मिली है।

17 अभियुक्तों की मौत

28 वर्षों से चली आ रही इस कार्यवाही के दौरान अब तक 17 अभियुक्तों की मौत हो चुकी है।अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, विष्णु हरि डालमिया, मोरेश्वर सावें, महंत अवैद्यनाथ, महामंडलेश्वर जगदीश मुनि महाराज, बैकुंठ लाल शर्मा, परमहंस रामचंद्र दास, डॉ. सतीश नागर, बालासाहेब ठाकरे, तत्कालीन एसएसपी डीबी राय, रमेश प्रताप सिंह, महात्यागी हरगोविंद सिंह, लक्ष्मी नारायण दास, राम नारायण दास और विनोद कुमार बंसल। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

महिलाओं के खिलाफ अपराध में 7% का इजाफा, हर दिन दर्ज हो रहे 87 रेप केस- NCRB

Published

on

लखनऊ। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में दुनियाभर में लगे लॉकडाउन के बीच एक नई चुनौती सामने आ गई है। आज दुनियाभर में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में भारी बढ़ोतरी आई है। भारत में 2019 में प्रतिदिन बलात्कार के औसतन 87 मामले दर्ज हुए और साल भर के दौरान महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल 4,05,861 मामले दर्ज हुए जो 2018 की तुलना में सात प्रतिशत अधिक हैं।सरकार की ओर से जारी ताजा आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के आंकड़ों के अनुसार, देश में 2018 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,78,236 मामले दर्ज हुए। आंकड़ों के अनुसार 2019 में बलात्कार के कुल 32,033 मामले दर्ज हुए जो साल भर के दौरान महिलाओं के विरुद्ध अपराध के कुल मामलों का 7.3 प्रतिशत था। केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत काम करने वाला NCRB देश भर के क्राइम डेटा को इकट्ठा कर उसका एनलासिस करती है।

इसे भी पढ़ें- बीते 24 घंटे में देश में आए 80 हजार से अधिक नए मामले, आंकड़ा पहुंचा 62 लाख के पार

एजेंसी ने 36 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों और 53 महानगरों के आंकड़ों को समेटने के बाद तीन हिस्सों में रिपोर्ट तैयार की है। नवीनतम सरकारी आंकड़ों के अनुसार 2019 में भारत में प्रतिदिन हत्या के औसतन 79 मामले दर्ज किए गए। 2019 में हत्या के कुल 28,918 मामले दर्ज किए गए। जो 2018 (29,017 मामलों) की अपेक्षा 0.3 प्रतिशत कम है।

गृह मंत्रालय ने बताया कहा कि नवीनतम डेटा में पश्चिम बंगाल द्वारा आंकड़े साझा नहीं किए गए जिसकी वजह सेराष्ट्रीय और शहर-वार आंकड़ों के लिए 2018 के डेटा का उपयोग किया गया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों का धन्यवाद किया जिन्होंने कोरोनोवायरस प्रकोप के दौरान डेटा इकट्ठा करने का काम किया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

कोर्ट रूम लाइव: विवादित ढांचा विध्वंस मामले में फैसले का काउन-डाउन शुरू

Published

on

लखनऊ। अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में 28 साल बाद आज फैसला की घड़ी आई है। सीबीआई की विशेष अदालत के जज सुरेंद्र कुमार यादव बस कुछ ही देर में अपना फैसला सुनाएंगे। ढांचा विध्वंस 32 जीवित आरोपियों में से आडवाणी, जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह और सतीश प्रधान को छोड़कर सभी 26 अभियुक्त अदालत में आ गए है।

ऋतंभरा, चंपत राय, विनय कटियार और बृज भूषण शरण सिंह, डाॅ. राम विलास वेदांती कोर्ट पहुंच चुके हैं। भाजपा सांसद साक्षी महाराज भी कोर्ट पहुंच रहे हैं। उनके वकील प्रशांत सिंह अटल कोर्ट रूम में मौजूद हैं। फैसले से पहले लखनऊ में सीबीआई के स्पेशल कोर्ट के बाहर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। अदालती फ़ैसले को लेकर अयोध्या को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

बाबरी मस्जिद केस में ये हैं 32 अभियुक्त

लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश शर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोष दुबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण शरण सिंह, कमलेश त्रिपाठी, रामचंद्र खत्री, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धर्मेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़ और धर्मेंद्र सिंह गुर्जर।

इन 17 आरोपियों का हो चुका है निधन

सीबीआई की तरफ से बनाए गए 49 आरोपियों में से अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, विष्णु हरि डालमिया, मोरेश्वर सावें, महंत अवैद्यनाथ, महामंडलेश्वर जगदीश मुनि महाराज, बैकुंठ लाल शर्मा, परमहंस रामचंद्र दास, डॉ. सतीश नागर, बालासाहेब ठाकरे, तत्कालीन एसएसपी डीबी राय, रमेश प्रताप सिंह, महात्यागी हरगोविंद सिंह, लक्ष्मी नारायण दास, राम नारायण दास और विनोद कुमार बंसल का निधन हो चुका है। कुल 49 अभियुक्त थे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 30, 2020, 12:42 pm
Partly sunny
Partly sunny
33°C
real feel: 38°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 51%
wind speed: 3 m/s NW
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 7
sunrise: 5:28 am
sunset: 5:23 pm
 

Recent Posts

Trending