Connect with us

देश

नोटा की तरफ बढ़ता जनता का रुझान, इस बार भी न बिगाड़ दे चुनाव परिणाम…

Published

on

आपको अगर किसी राजनीतिक पार्टी का कोई उम्मीदवार पसंद ना हो और आप उनमें से किसी को भी अपना वोट नहीं देना चाहते हैं तो फिर आप क्या करेंगे? निर्वाचन आयोग (ईसी) ने ऐसी व्यवस्था की है कि वोटिंग प्रणाली में एक ऐसा तंत्र विकसित किया जाए ताकि यह दर्ज हो सके कि कितने फीसदी लोगों ने किसी को भी वोट देना उचित नहीं समझा है। नोटा का मतलब नान ऑफ द एव ब यानी इनमें से कोई नहीं है। अब चुनाव में आपके पास एक और विकल्प होता है कि आप ‘इनमें से कोई नहीं’ का बटन दबा सकते हैं। यह विकल्प है नोटा।  इसे दबाने का मतलब यह है कि आपको चुनाव लड़ रहे कैंडिडेट में से कोई भी प्रत्यासी पसंद नहीं है।

 नोटा का चुनावों में सर्वप्रथम प्रयोग 2013 के विधानसभा चुनावों में हुआ था। ऐसे में आंकड़ों का तुलनात्मक अध्ययन करने पर हमें नोटा के बारे में रुझान देखने को मिल रहा है। हाल 2018 में हुए मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों में नोटा का प्रभाव देखने को मिला। जिसने चुनाव के नतीजे ही बदल कर रख दिए थे। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस को बहुमत न मिलने के पीछे नोटा को मुख्य वजह माना जा रहा था। कम से कम 14 सीटें ऐसी हैं जहां नोटा यानी ‘नन ऑफ द अबव’ दोनों दलों के लिए विलेन साबित हुआ है। 230 सीटों में से 14 सीटों पर हार का अंतर नोटा में पड़े वोट से भी कम था। इससे पहले कर्नाटक चुनावों में भी नोटा ने 8 सीटों पर भाजपा की जीत को हार में तब्दील कर दिया था। चुनाव आयोग के आंकड़ों पर नजर डालें तो मध्यप्रदेश में बहुमत का समीकरण नोटा के चलते बिगड़ा था।

यह भी पढ़े: पुलिस के जवानों का ‘दर्द’ भी समझिए साहब…

वहीं मध्य प्रदेश में नोटा के पक्ष में मतदान 1.4 प्रतिशत (542295 मत) हुआ और मत प्राप्त करने के मामले में नोटा छठे स्थान पर रहा और 6 राजनीतिक दलों से आगे रहा है। पिछले विधानसभा चुनावों में नोटा चौथे स्थान पर रहा था और नोटा को 1.9 प्रतिशत मत मिले थे, जो कि (643144 मत) थे। इस आधार पर देखा जाए तो मध्य प्रदेश में पिछली बार की तुलना में नोटा का मत प्रतिशत कम हुआ है।

वहीं इस बार लोकसभा चुनाव में भी नोटा का असर देखने को मिलेगा। लोकसभा चुनाव अपने अंतिम चरण पर है सभी राजनीतिक पार्टियां पूर्वांचल में चुनाव प्रचार में जुटी हुई हैं। वहीं पूर्वांचल के बलिया बैरिया विधानसभा क्षेत्र में कुछ लोगों से बात करने पर पता चला कि वहां भी काफी संख्या में लोग स्थानीय स्तर पर काम ना होने से गुस्साएं लोगों ने नोटा दबाने का फैसला किया है।

विनीत सिंह

सत्योदय से बात-चीत में लोगों ने अपनी राय रखी जिसमें बैरिया से सभासद विनीत सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा दर्जनों योजनाएं संचालित जरुर की गई। लेकिन उसकी धरातल स्थल पर कोई पड़ताल नहीं की गई। केवल कोगजों में विकास करने से लोगों का कोई भला नहीं होने वाला और इसलिए वह किसी प्रत्यासी को अपना वोट नहीं देंगे और नोटा दबाएंगे।

दुर्गविजय सिंह

वहीं कर्ण छपरा निवासी दुर्गविजय सिंह का कहना है किसी भी दल के प्रत्यासी जब जनता के बीच आते हैं तो तमाम घोषणाएं व वादे करते हैं। चुनाव जीतने के बाद उनका नजरिया बदत जाता है और क्षेत्र के विकास के दावे तार-तार होकर रह जाते हैं। क्षेत्र में स्थित एनएच 31 सालों से ध्वस्त है और इसे देखने वाला कोई नहीं है।

गोलू सिंह

पांडेपुर निवासी छात्र नेता गोलू सिंह का कहना है कि हमारे यहां सबसे बड़ा मुद्दा आग और कटान है लेकिन इससे राहत का ठोस उपाय नहीं किया गया।

सुमित कुमार

क्षेत्र के कस्बा निवासी सुमित कुमार का कहना है कि हम किस विकास को माने अस्पताल है तो डॉक्टर नहीं, एक्सरे प्लेट है तो मशीन खराब, स्कूल में बच्चे है तो टिचर नहीं, ऐसे में किसी भी दल के प्रत्यासी को चुनना ही बेमानी होगी और नोटा दबाकर इसका विरोध करेंगे।
http://www.satyodaya.com                

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

हरियाणा बोर्ड ने जारी किया 10th का रिजल्ट, 57.39 प्रतिशत छात्र हुए पास

Published

on

आज हरियाणा बोर्ड ऑफ सकेंड्ररी एजुकेशन ने 10th का रिजल्ट जारी  कर दिया है। हरियाणा बोर्ड परीक्षा में चार छात्रों ने टॉप किया है हिमांशु, संजू, इशा  देवी और शालिनी को 500 में से 497 अंक मिले हैं। वहीं दूसरे पायदान पर भी 4 छात्र आए हैं। निधि, रितिका, तन्नू और दिव्या को 500 में से 496 अंक मिले हैं। इसी तरह तीसरे स्थान पर 8 छात्र हैं। इन्हें 500 में से 495 अंक मिले हैं। 

हरियाणा बोर्ड की 10th  की परीक्षा में इस बार 57.39 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं। हरियाणा बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में कुल 3,64,967 छात्रों ने हिस्सा लिया था इसमें से 2.09,445 छात्र पास हुए हैं। 17,196 छात्रों की कंपार्टमेंट आई है। हरियाणा दसवीं की परीक्षा में एक बार फिर लड़कियों ने बाजी मारी है कुल 62.17% लड़कियां सफल हुई हैं जबकि 53.43% लड़के पास हुए हैं। छात्र परिणाम घोषित होने के 20 दिनों के भीतर रीएवोल्यूशन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। 
रिजल्ट को छात्र हरियाणा बोर्ड की ऑफिशल वेबसाइट bseh.org.in पर जाकर देख सकते हैं।

यह भी पढ़े: पुलिस भर्ती परीक्षा 2013 के अभ्यर्थियों ने की मांग, नियुक्ति नहीं तो इच्छा मृत्यु ही दे दी जाए…

 इसके अलावा कुछ थर्ड पार्टी वेबसाइट पर भी आप यह रिजल्ट देख सकते हैं। बता दें कि हरियाणा बोर्ड ने दसवीं कक्षा के एग्जाम्स का आयोजन 8 मार्च से 30 मार्च 2019 तक किया था। इस परीक्षा में करीब 4 लाख छात्रों ने हिस्सा लिया था। बोर्ड दसवीं कक्षा का परिणाम परीक्षा खत्म होने के 42 दिनों के भीतर कर रहा है। http://www.satyodaya.com


Continue Reading

देश

23 मई का परिणाम आने के बाद विधान सभा चुनाव के एजेंडे पर जुटेगी योगी सरकार

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । देश में लोकसभा चुनाव के आखरी चरण यानी सातवें चरण का चुनाव बाकी है । 19 मई को आखिरी चरण के चुनाव हो जाने के बाद 23 मई को मतगणना होगा । जिसके बाद कौन सत्ता में आएगा कौन सत्ता से बहार जाएगा ये फैसला मतगणना के दिन होगा । परिणामों के बाद 2022 के एजेंडे पर जुटेगी सरकार पहली कैबिनेट बैठक से शुरू होगा काम आवारा पशुओं की समश्याओ पर प्राथमिकता से होगा निवारण । अधिकारी परिणामों के बाद कैबिनेट बैठक की तिथि पर जल्द होगा फैसला भर्तियों पर सरकार करेगी फोकस मेट्रो के साथ ही अन्य विकास कार्यो शिलान्यास पर सरकार तेजी से करेगी काम ।

यह भी पढ़ें : मायावती पर आठवले का पलटवार-कहा, पीएम मोदी की पत्नी की चिंता छोड. पहले खुद कर लें शादी

लेकिन देखने की बात ये होगी की क्या उत्तर प्रदेश के होने वाले 2022 के विधान सभा चुनाव में गठबंधन बरकरार रहेगी या अलग- अलग चुनाव लड़ेगी । अगर लड़ेगी तो वो किन मुदों को लेकर योगी सरकार को घेरती है सबसे दिलचस्प यही देखना होगा । योगी सरकार किन मुद्दों पर विपक्षी पार्टी को रोकने का काम करेगी यह भी दिलचस्प होगा ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

मायावती पर आठवले का पलटवार-कहा, पीएम मोदी की पत्नी की चिंता छोड. पहले खुद कर लें शादी

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । लोकसभा चुनाव के सातवें चरण यानी आखी चरण का चुनाव प्रचार आज शाम 6 बजे थम जाएगा । ऐसे में वाराणसी में पीएम मोदी के लिए चुनाव प्रचार करने गए एनडीए के सहयोगी व मोदी सरकार में मंत्री रामदास आठवले ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बसपा सुप्रीमो मायावती पर हमला बोला है । आठवले पीएम मोदी की पत्नी को लेकर दिए गए मायावती के बयान की निंदा की और कहा कि मायावती को पीएम के पत्नी की चिंता छोड़ कर खुद शादी कर लेनी चाहिए ।

यह भी पढ़ें : जानें कुछ ऐसे शब्दों का फुलफार्म जिसके वजह से आपको डेली ना होना पड़े शर्मिंदा

इसके साथ ही आठवले ने महागठबंधन और अखिलेश यादव पर भी जमकर हमला बोला । उन्होंने अखिलेश यादव के देश को नया प्रधानमंत्री मिलने वाले बयान पर कहा कि ये अखिलेश यादव को नहीं दिखाई देगा मगर पूरे देश की जनता को नरेंद्र मोदी एक बार फिर पीएम के रूप में दिखाई देंगे ।

आपको बता दें कि बसपा प्रमुख मायावती ने पिछले दिनो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उनकी पत्नी को लेकर हमला बोला था ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 17, 2019, 8:41 pm
Mostly clear
Mostly clear
34°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 33%
wind speed: 1 m/s NW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:18 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending