Connect with us

देश

संयुक्त राष्ट्र ने ठुकराई पाक की अपील, कश्मीर पर मध्यस्थता से किया इनकार

Published

on

नई दिल्ली। भारत ने जबसे जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे में संशोधन किया है तबसे पाकिस्तान पूरी दुनिया के आगे गिड़गिड़ा रहा है। लेकिन उसे हर जगह से सिर्फ ठोकरें ही मिली है। अब पाक को संयुक्त राष्ट्र में भी मुंह की खानी पड़ी है। बुधवार को यूएन ने कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता को लेकर पाक को साफ-साफ जवाब दे दिया कि यह मुद्दा दोनों देशों की आपसी बातचीत के जरिए ही सुलझाया जाए और उसकी मध्स्तथता की अपील खारिज कर दी।

यूएन के सेक्रेटरी जनरल के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा, ‘मध्यस्थता पर हमारी स्थिति पूर्ववत ही है, उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। महासचिव ने दोनों देशों की सरकार से संपर्क किया है। जी-7 की बैठक में भारत के प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस पर चर्चा की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री से इस पर बात हुई है।’

इसके साथ ही यूएन का कहना है कि दोनों देशों के कश्मीर मसले का हल शांतिपूर्ण तरीके से और आपसी बातचीत के जरिए निकालना चाहिए। बता दें, ऐसा कर यूएन भारत के रूख का ही समर्थन किया है क्योंकि भारत कश्मीर मुद्दे पर किसी भी तीसरे पक्ष के मध्यस्थता करने का विरोध करता है।

ये भी पढ़ें: अभिषेक मनु सिंघवी का मोदी सरकार पर तंज, कहा- मीठा-मीठा गप, कड़वा-कड़वा थू

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भारत ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई है। भारत की तरफ से विदेश मंत्रालय के सचिव ने कहा कि हमारे कदम से पाकिस्तान को अहसास हो गया है कि उसके आतंकी मसूबे अब कामयाब नहीं होंगे। भारत ने जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़काने के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार बताया।http://www.satyodaya.com

देश

गुरु नानक जयंती के मौके पर पीएम मोदी ने देशवासियों को वीडियो शेयर कर दी बधाई

Published

on

गुरुनानक देव

फाइल फोटो

नई दिल्ली।  सिख समुदाय के प्रथम गुरु गुरुनानक देव की आज 550वीं जयंती है। इस दिन को प्रकाश पर्व के नाम से जाना जाता है। प्रकाश पर्व के मौके पर देशभर के गुरुद्वारों में खास सजावट की गई है। कई दिन पहले से प्रकाश पर्व को लेकर तैयारियां चल रही थी। पिछले साल के मुकाबले इस बार गुरु नानक देन की जयंती को काफी खास अंदाज में मनाया जा रहा है। देशभर के गुरुद्वारों में अलग-अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। ऐसे में गुरुनानक जयंती के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर लोगों को बधाई दी है। वहीं इसी बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण दर्शन करने के लिए दिल्ली स्थित बंगाला साहिब गुरुद्वारा पहुंची।

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने गुरु नानक जयंती की दी बधाई

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने भी मंगलवार को गुरु नानक जयंती के अवसर पर राष्ट्र को शुभकामनाएं दीं। राष्ट्रपति ने कहा कि गुरु नानक देव जी की 550 वीं जयंती पर, भारत और विदेशों में सभी सिख नागरिकों, विशेष रूप से हमारे सिख भाइयों और बहनों को शुभकामनाएं। अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी का जीवन हमें समानता, करुणा और सामाजिक एकता की शिक्षाओं के आधार पर एक समाज बनाने के लिए प्रेरित करता है।

ये भी पढ़ें:आज मनाई जा रही गुरु नानक देव की 550वीं जयंती, जानिए उन के बारे में ये खास बातें

पीएम मोदी ने वीडियो शेयर कर दी बधाई

पीएम मोदी ने गुरुनानक के 550 वीं जयंती पर वीडियो शेयर करते हुए लोगों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने लिखा कि आज श्री गुरु नानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व के विशेष अवसर पर सभी को मेरा नमस्कार। यह श्री गुरु नानक देव जी के न्यायपूर्ण, समावेशी और सौहार्दपूर्ण समाज के सपने को पूरा करने के लिए खुद को फिर से समर्पित करने का दिन है।

गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस मौके पर बधाई देते हुए कहा कि मोदी सरकार गुरु नानक देव जी के विचारों व शिक्षाओं के प्रति समर्पित है, सबका साथ-सबका विकास का हमारा मूलमंत्र इसी का परिचायक है। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा कि गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर मोदी जी द्वारा देशवासियों को समर्पित ऐतिहासिक ‘करतारपुर कॉरिडोर’ गुरुनानक देव जी को सच्ची श्रद्धांजलि है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले टूटा भाजपा और आजसू का गठबंधन….

Published

on

भाजपा

फाइल फोटो

रांची एक-दूसरे को बड़े और छोटे भाई कहने वाले भाजपा और आजसू के रिश्ते अब कमजोर हो गये हैं। छोटे भाई ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर बड़े भाई को झटका दे दिया है।

ऐसे में झारखंड में विधानसभा चुनाव से पूर्व एनडीए गठबंधन तकरीबन बिखर गया है, औपचारिक घोषणा शेष है। महाराष्ट्र में सहयोगी रहे शिवसेना के रुख के बाद झारखंड में आजसू के फैसले ने भाजपा को परेशानी में डाल दिया है। आजसू की रांची की प्रेस कांफ्रेंस की चर्चा दिल्ली तक हो रही।

जानकारी के मुताबिक एक तरफ जहां भाजपा और आजसू का गठबंधन टूट चूका है। वहीं दूसरी ओर, भाजपा ने घोषित सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का भी ऐलान कर दिया। लोहरदगा और चंदन कियारी सहित 11 उम्मीदवारों के नाम भाजपा ने जारी किये हैं। झारखंड में 81 सदस्यीय विधानसभा के लिए चुनाव पांच चरण में होंगे। मतदान का पहला दौर 30 नवंबर को और अंतिम तथा पांचवां चरण 20 दिसंबर को सम्पन्न होगा। मतगणना 23 दिसंबर को होगी।

ये भी पढ़ें:महाराष्ट्र : भाजपा का इनकार, अब शिवसेना-एनसीपी को कांग्रेस की ‘OK’ का इंतजार

प्रथम चरण में कुल 13 विधानसभा सीटों के लिए 30 नवंबर को मतदान होगा। उन्होंने बताया कि राज्य की 81 सीटों में से 13 सीटों के लिए 30 नवंबर को मतदान होगा। इनमें चतरा, गुमला, विशुनपुर, लोहरदगा, मनिका, लातेहार, पांकी, डाल्टनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर, हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर शामिल हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

महाराष्ट्र : भाजपा का इनकार, अब शिवसेना-एनसीपी को कांग्रेस की ‘OK’ का इंतजार

Published

on

लखनऊ। महाराष्ट्र का सियासी संग्राम अब और भी दिलचस्प हो गया। सबसे बड़ी पार्टी भाजपा ने सरकार बनाने से हांथ खड़े करने के बाद अब शिवसेना-एनसीपी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के ओके का इंतजार कर रही है। चुनाव परिणाम आए हुए 15 दिन से ज्यादा बीत चुके हैं लेकिन अभी महाराष्ट को नई सरकार नहीं मिल सकी है। साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाले भाजपा-शिवसेना गठबंधन में जीत मिलते ही खींचतान शुरू हो गयी। मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 के फार्मूले पर शिवसेना ऐसा अड़ी कि भाजपा के साथ उसकी तीन दशक पुरानी दोस्ती भी टूट गयी। शिवसेना को समझाने में विफल होने के बाद भाजपा ने सरकार बनाने का अपना दावा छोड़ दिया। जिसके बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवसेना को सरकार बनाने का आमंत्रण भेजा।# Shiv Sena-NCP

शिवसेना-एनसीपी ने मिलकर सरकार बनाने की कसरत शुरू कर दी है। लेकिन दोनों पार्टियों की यह कवायद हांथ की हां-ना पर आकर अटक गयी है। 2019 के चुनाव में भाजपा ने जहां 105 सीटों पर कब्जा किया है। वहीं शिवसेना के पास 56, एनसीपी के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं। कुल 288 सदस्यों वाली महाराष्ट विधानसभा में सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत 145 है। ऐसी स्थिति में चाहकर भी शिवसेना और एनसीपी बिना कांग्रेस के स्थाई सरकार नहीं बना सकते। #MaharashtraPolitics

शिवसेना को समर्थन देने के लिए कांग्रेस भी दुविधा में है। ताबड़तोड़ दो दौर की बैठकों के बाद भी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई हैं। हालांकि कांग्रेस के कई नेता और विधायक शिवसेना-एनसीपी को समर्थन देने के पक्ष में हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस नई सरकार को बाहर से समर्थन देने पर गंभीरता से विचार कर है। हालांकि कांग्रेस नेतृत्व महाराष्ट के स्पीकर का पद अपने पास रखना चाहती है।

यह भी पढ़ें-कांग्रेस कार्यालय में मनाई गई मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और सोनिया गांधी के बीच फोन पर लंबी बातचीत भी हुई है। इससे पहले सोमवार शाम को आदित्य ठाकरे पार्टी ने कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ राज्यपाल से मुलाकात भी की। शिवसेना को समर्थन देने से पहले कांग्रेस कुछ मुद्दों पर उससे आश्वासन चाहती है। जिनमें एक प्रमुख मुद्दा शिवसेना की भाजपा से दोस्ती और शिवसेना की कट्टर हिन्दुत्ववादी छवि को लेकर है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार गठन की तस्वीर मंगलवार को ही साफ होगी। जब सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार की मुलाकात हो जाएगा। इस बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर भी बदलाव के आसार नजर आ रहे हैं। अभी तक आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री पद का दावेदार पेश किया जा रहा था। लेकिन बदले हालात में शिवसेना के कई नेता चाहते हैं कि मुख्यमंत्री का पद कोई वरिष्ठ नेता संभाले। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 12, 2019, 12:00 pm
Mostly sunny
Mostly sunny
25°C
real feel: 29°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 46%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 5:53 am
sunset: 4:48 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending