Connect with us

क्राइम-कांड

दवा वितरण को जनता के लिए बताया जानलेवा

Published

on

लखनऊ। पायलट प्रोजेक्ट के तहत 10 ई-हॉस्पिटल बनाने के प्रस्ताव पर राजकीय फार्मेसिस्ट महासंघ ने आपत्ति दर्ज करते हुए इसमे नीतिगत कमियों की तरफ ध्यान दिलाया है। हॉस्पिटल में बिना फार्मेसिस्ट दवा वितरण को जनता के लिए जानलेवा बताते हुए फार्मेसिस्ट की अनिवार्यता भी प्रस्तावित करने की मांग की है।

स्टेट फार्मेसी कौंसिल के पूर्व चेयरमैन और महासंघ के अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि फार्मेसी एक्ट 1948 की धारा 42 के साथ ही, ड्रग एन्ड कॉस्मेटिक एक्ट 1940 रूल्स 1945, और फार्मेसी प्रैक्टिस रेगुलेशन 2015 के प्राविधानों के अनुसार औषधियों का वितरण और भंडारण मात्र फार्मेसिस्ट ही कर सकता है। एक्ट और नियम मरीजों के व्यापक हितों को देखते हुए निर्मित किये गए हैं। औषधियों के भंडारण के लिए अलग-अलग तापमान एवं स्थान निर्धारित हैं। उचित तापमान और उचित स्थान पर औषधियां ना रखे जाने पर उसकी गुणवत्ता प्रभावित होगी, साथ ही ऐसी औषधियां जानलेवा साबित हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें :- सिविल और बलरामपुर अस्पताल में मिलेगा बेहतर इलाज, डीएनबी की हुई शुरूआत

महासंघ के जनपद अध्यक्ष एस एन सिंह ने कहा कि बिना फार्मेसिस्ट दवा वितरण असंभव और जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ होगा, इसलिए परियोजना में फार्मेसिस्ट अनिवार्य होने चाहिए। वरिष्ठ उपाध्यक्ष जे पी नायक, जिला मंत्री प्रह्लाद कन्नौजिया और सचिव जी सी दुबे ने कहा कि दवा की मशीनें उचित डोज और उचित मात्रा में औषधियां नहीं वितरित कर सकती हैं। इसलिए इसे मशीनी बनाना उचित नहीं लगता फिर भी यदि मशीनें लगानी भी हैं तो फार्मेसिस्ट के देखरेख और पर्यवेक्षण में ही इन्हें चलाना उचित और जनहित में होगा।

गौरतलब है कि प्रदेश के दस ग्रामीण चिकित्सालयों को पायलट प्रोजेक्ट के तहत ई-हॉस्पिटल के रूप में चलाने पर सरकार विचार कर रही है। जिसमें अधिकांश दूरस्थ जनपद एवं स्थान हैं, जहां लोग तकनीकी रूप से अभी बहुत सक्षम नहीं हैं। महासंघ ने परियोजना में फार्मेसिस्ट की अनिवार्यता की मांग करते हुए प्रस्ताव संशोधित करने की मांग की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्राइम-कांड

पीजीआई थाने में पुलिसकर्मियों और वकील के बीच तहरीर को लेकर हुई मारपीट…

Published

on

लखनऊ। राजधानी के पीजीआई थाना क्षेत्र में सोमवार को मुकदमा दर्ज करवाने आए आर्मी से सेवानिवृत्‍त जवान और उनके वकील का पुलिस कर्मियों से विवाद हो गया। विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया कि दोनों पक्षों में गाली गलौज व मारपीट भी होने लगी। वकील का आरोप है कि पुलिसवालों ने उन पर केस बदलने का दबाव बनाया। उसकी बात न मानने पर करीब 40-50 पुलिसकर्मियों ने थाने में बंद कर उनके साथ मार पिटाई की।

जिसके बाद चौकी इंचार्ज आशुतोष कुमार ने वकील पक्ष पर मारपीट की तहरीर दी। बता दें कि रविवार देर रात करीब डेढ़ घंटे तक हुए विवाद व मारपीट के बाद थाने पर पांच थानों के उच्‍च अधिकारी मामले को शांत कराने के लिए पहुंचे। आर्मी रिटायर्ड अरविंद कुमार का आरोप है कि वह शाम को मोटरसाइकिल से बाबूखेड़ा से तेलीबाग आ रहे थे। इस बीच सफारी सवार कुछ लोगों ने उन्‍हें रोका व उनके साथ मारपीट की और फायरिंग भी की।

ये भी पढ़ें: पीजीआई इलाके में दिनदहाड़े फायरिंग से मचा हड़कंप, गोली लगने से युवक घायल…

यह घटना घटित होने के बाद इस घटना को अरविंद कुमार अधिवक्‍ता रमाशंकर तिवारी के साथ रात को पीजीआई थाने  मामला दर्ज करवाने पहुंचे। आरोप है कि जांच अधिकारी चौकी इंचार्ज आशुतोष कुमार ने कहा कि केवल मारपीट के लिए मेडिकोलीगल करा लिया जाए, क्योंकि गोली लगने क मामला संज्ञान में नहीं आ रहा है। जिसको लेकर दोनों पक्षों के बीच कहासुनी होने लगी।  थानें में करीब डेढ़ घंटे तक मारपीट और हंगामा चला।

हंगामे की सूचना पर एसपी उत्‍तरी अमित कुमार व सीओ कैंट बीनू सिंह सीओ हजरतगंज, सीओ गोमतीनगर और सीओ कृष्‍णानगर मौके पर पहुंचे और मामले को जैसे-तैसे शांत कराया। बता दें कि देर रात दोनों चौकी इंचार्ज और दो सिपाहियों पर एफआईआर दर्ज करा दी गई है। इसी कड़ी में चौकी इंचार्ज पीजीआई ने भी अधिवक्‍ता और उसके साथी पर मारपीट और अभद्रता व सरकारी कार्य को बाधित करने की तहरीर दी है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

पीजीआई इलाके में दिनदहाड़े फायरिंग से मचा हड़कंप, गोली लगने से युवक घायल…

Published

on

प्रतीकात्मक चित्र

लखनऊ। राजधानी के पीजीआई थाना क्षेत्र में सोमवार की सुबह शिवकांत अवस्थी अपनी लाइसेंसी पिस्टल साफ कर रहे थे, उसी दौरान अचानक फायरिंग हो गई जिससे से इलाके में हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि फायरिंग के दौरान शिवाकांत अवस्थी को संदिग्ध हालात में कंधे पर पिस्टल से चली गोली लग गई है। जिसके बाद घटना की जानकारी पुलिस को दिए बिना ही घायल युवक खुद ही ट्रामा सेंटर में पहुंचकर भर्ती हो गया।

ये भी पढ़ें: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे नहीं जायेंगे अयोध्या, ये है बड़ी वजह

बता दें कि पुलिस को इस मामले की जानकारी मिलते ही वह जांच-पड़ताल में जुट गई। पुलिस के मुताबिक लाइसेंसी पिस्टल साफ करने के बाद ही चेक करने के दौरान युवक शिवकांत अवस्थी जोकि पेशे से एक व्यापारी है, उसके कंधे पर गोली लग गई और वह घायल हो गया। पुलिस ने बताया कि घायल युवक फिलहाल अब खतरे से बाहर है, लेकिन ट्रामा में उसका इलाज अभी जारी है। पुलिस ने कहा कि अगर इस फायरिंग में किसी तरह का अपराध में कोई संलिप्ता पाई जाती है, तो उसपर सख्त कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है, उसके आधार पर ही आगे की कार्रवाई करेगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

फर्जी बीमा तैयार करने वाला जालसाज चढ़ा पुलिस के हत्थे

Published

on

लखनऊ। एसएसपी लखनऊ के ऑपरेशन 420 अभियान के तहत राजधानी पुलिस को एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है। शनिवार को गुड़म्बा थाना पुलिस ने फर्जी कूटचरित अभिलेख तैयार कर फर्जी बीमा बनाने वाले एक शातिर जालसाज को गिरफ्तार किया है।

पकड़े गए आरोपी का नाम अमर कुमार पुत्र दिनेश कुमार वर्मा है, जो लखनऊ के विकासनगर स्थित 190 बटहा सबोली कुर्सी रोड का रहने वाला है। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने उसे शनिवार रात जगरानी कटिंग की तरफ जाने वाली रोड से गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें: देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज के लिए तैयार ‘दोस्ती जिंदाबाद’

आरोपी अमर कुमार वर्मा पैसे लेकर फर्जी बीमा तैयार करने का काम करता था। गिरफ्तार आरोपी के खिलाफ गुड़म्बा थाने पर आवश्यक कार्रवाई करके न्यायालय भेजा गया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 18, 2019, 1:46 pm
Mostly sunny
Mostly sunny
26°C
real feel: 28°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 38%
wind speed: 2 m/s WNW
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 5:58 am
sunset: 4:45 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending