Connect with us

ख़ैरियत

GOOD NEWS : अस्थमा की दवाई से याददाश्त हो सकती है ठीक

Published

on

न्यूर्याक। अस्थमा के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाई से अल्जाइमर के मरीजों की याददाश्त वापस लाई जा सकती है। बीटा-एमिलॉएड प्रोटीन की मात्रा में गड़बड़ी के बाद अल्जाइमर के मरीजों की स्मरण क्षमता कम होने का टाउ प्रोटीन दूसरा सबसे प्रमुख कारण माना जाता है। अमेरिका के पेंसिलवेनिया स्थित टेंपल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है। अपने शोध के दौरान चूहों में असंतुलित मात्रा में टाउ प्रोटीन को प्रवेश कराया गया।

इस प्रोटीन के स्तर में गड़बड़ी के कारण उम्र बढ़ने के साथ व्यक्ति की याददाश्त और याद करने की क्षमता कम होती जाती है। चूहों की उम्र 12 महीने हो जाने पर ‘जिलेउटन’ से उनका उपचार किया गया। इस दवा का इस्तेमाल अस्थमा के इलाज में किया जाता है। जिलेउटन के कारण चूहों में ल्यूकोट्राइंस अणु की मात्रा 90 फीसद और अविलेय टाउ की मात्रा 50 फीसद तक कम हुई। इन दोनों के कारण ही दो न्यूरॉन को जोड़ने वाला सिनैप्सेस प्रभावित होता है, जिसका असर व्यक्ति की स्मरण क्षमता पर पड़ता है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि दवा के कारण चूहों की स्मरण क्षमता ठीक हुई। जल्द ही इसका प्रयोग मनुष्य पर किया जाएगा। वहीं ऑटिज्म स्पेकट्रम डिसऑर्डर (एएसडी) से पीड़ित बच्चों में फूड एलर्जी (खाने से होने वाली एलर्जी) का खतरा अन्य के मुकाबले दो गुना अधिक होता है। अमेरिका स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ आइओवा के शोधकर्ताओं ने इसका पता लगाने के लिए तीन से 17 साल के दो लाख बच्चों की जांच की। एएसडी से पीड़ित 11.25 फीसद बच्चों में फूड एलर्जी की शिकायत मिली जबकि अन्य बच्चों में केवल 4.25 फीसदी को ही इसकी शिकायत थी।https://satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपना शहर

नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन में चिकित्सकों एवं छात्रों को डीएम कौशल शर्मा ने किया सम्मानित

Published

on

लखनऊ। किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) के ब्राउन हाल में नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन के तत्वधान में आयोजित चिकित्सा भूषण सम्मान समारोह में चिकित्सकों एवं छात्रों को जिलाधिकारी लखनऊ कौशल शर्मा द्वारा सम्मानित किया गया। उक्त कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि जिलाधिकारी ने कहा कि नेशनल मेडिकोज आॅर्गेनाइजेशन की टीम लखनऊ के दूरदराज क्षेत्रों के अलावा देश के विभिन्न स्थानों पर स्वास्थ्य सेवा यात्रा के माध्यम से ऐसे क्षेत्र जहां पर स्वास्थ्य की बुनियादी सुविधा नहीं है वहां पर अपने स्वास्थ्य की सेवाएं देने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं।

यह भी पढ़ें :- 1 अप्रैल से पहले जन्म लेने वाली बच्चियों को मिलेगा सरकार की तरफ से यह तोहफा…

कार्यक्रम के अध्यक्ष एवं राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक प्रोफेसर ए.के. त्रिपाठी ने एनएमओ के चिकित्सकों की प्रशंसा करते हुए बताया कि प्रथम वर्ष के छात्रों को अब स्वास्थ्य सेवा यात्रा के बारे में अवश्य बताया जाएगा। जिसके द्वारा स्वास्थ्य सेवा से राष्ट्र सेवा का लक्ष्य पूर्ण हो सके। इस अवसर पर कानपुर की जीएसवीएम मेडिकल काॅलेज की प्रिंसिपल आरती लालचंदानी ने चिकित्सकों की प्रशंसा करते हुए चिकित्सकों से एनएमओ से जुड़ने की अपील की। अयोध्या के राजा दशरथ मेडिकल काॅलेज के प्रिंसिपल डाॅक्टर विजय कुमार चिकित्सकों के साथ होने वाली हिंसक वारदातों का जिक्र करते हुए इस पर तत्काल सख्त कानून बनाने एवं उसे शीघ्र लागू किए जाने की मांग की। डाॅ. कपिल देव शर्मा ने वीर रस से ओतप्रोत कविता के माध्यम से समारोह में अतिथियों का आभार प्रकट किया।

उक्त कार्यक्रम के समापन पर डाॅ. विभा सिंह एवं अवध प्रांत के सचिव डाॅक्टर भूपेंद्र सिंह ने अतिथियों का आभार प्रकट करते हुए उन्हें सम्मानित किया। इस अवसर पर डाॅ. अलका चैहान ने कविता के माध्यम से कार्यक्रम का सफल संचालन किया व कार्यक्रम में राम मनोहर लोहिया, किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय, अयोध्या, हरदोई एवं लखनऊ के सरदार पटेल डेंटल काॅलेज के चिकित्सकों का सम्मान किया गया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्यान देना पहली प्राथमिकता: सिद्धार्थनाथ सिंह

Published

on

आवश्यकता के अनुसार हो अस्पतालों में कर्मचारियों की व्यवस्था

लखनऊ। प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य, परिवार कल्याण मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि प्रदेश में प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्यान देना हमारी पहली प्राथमिकता है। चिकित्सालयों में सबसे पहले बेसिक स्तर पर कार्य करने वाले कर्मचारियों की आवश्यकता होती है, इसलिए ऐसे कर्मचारी अस्पतालों में आवश्यकता के अनुरूप हों यह व्यवस्था प्राथमिकता से सुनिश्चित की जाए। चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री ने ये बातें गुरूवार को परिवार कल्याण निदेशालय में अधिकारियों के साथ परिचय व विभागीय योजनाओं और व्यवस्थाओं के अवलोकन के दौरान कही। इस दौरान उन्होंने कार्य-प्रणाली बेहतर करने पर जोर दिया।

यह भी पढ़ें :- विश्व जनसंख्या दिवस पर निकाली जाएगी जागरूकता रैली, मुख्यमंत्री करेंगे रैली का शुभारंभ

उन्होंने कहा कि अधिकारी कार्य-पूर्ति के लिए लक्ष्य निर्धारित करते हुए परिणामदायी कार्य करें। किसी भी समस्या पर आपसी चर्चा मात्र ना करें, निर्भय होकर उच्च स्तर पर समस्याओं को प्रस्तुत करें, जिससे उनका समाधान किया जा सके। उन्होंने कहा कि अधिकारी बैठकों में विषयगत चर्चा के अपने बिन्दु पहले से तैयार करके लायें, जिससे कम समय में ही सार्थक चर्चा हो। उन्होंने कहा विभाग की योजनाओं को और बेहतर और सुदृढ़ तरीके से लागू किया जाये तथा प्रदेश स्तर पर उनके नियोजन की समीक्षा भी की जाए। बैठक में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन निदेशक पंकज कुमार एवं महानिदेशक परिवार कल्याण डाॅ. नीना गुप्ता के निर्देशन में विभाग की समस्त योजनाओं, उनकी अद्यतन स्थिति, विभागीय आवश्यकताओं, मानव संसाधन का समीक्षात्मक प्रस्तुतिकरण किया गया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

ख़ैरियत

Dial-100 के दो सिपाहियों ने कैंसर पीड़िता को दिया खून…

Published

on

लखनऊ। राजधानी के जानकीपुरम थाना क्षेत्र में डायल-100 पीआरवी 4575 पर तैनात अनस खान और गोमती नगर थाना क्षेत्र के पीआरवी पर तैनात नितिन ने एक कैंसर पीड़ित महिला को अपना खून देकर मानवता की मिसाल पेश की। यूपी की मित्र पुलिस की वर्दी पर भले ही लापरवाही और अपराध नियंत्रण में नाकाम होने के दाग लगते रहे हों, लेकिन इन सब के बीच कुछ जिम्मेदार पुलिसकर्मियों के सराहनीय क़दमों से खाकी पर विश्वास भी बना रहता है। ऐसा ही जज्बा लखनऊ में देखने को मिला जब डायल 100 पर तैनात दो जवानों ने एक कैंसर पीड़ित महिला की मदद कर उसमे जीने की आस जगाई।

दरअसल, जानकीपुरम थाना क्षेत्र में डायल-100 पीआरवी 4575 पर तैनात अनस खान और गोमती नगर थाना क्षेत्र के पीआरवी पर तैनात नितिन ने एक कैंसर पीड़ित महिला को अपना खून देकर मानवता की मिसाल पेश की। दोनों को सूचना मिली कि बदायूं से आई एक कैंसर पीड़ित महिला को खून की कमी के कारण मेडिकल कॉलेज में भर्ती नहीं किया जा रहा है। सूचना मिलते ही दोनों ने मानवता का फर्ज निभाने के लिए मेडिकल कॉलेज पहुंचे और कैंसर पीड़ित महिला के लिए रक्तदान किया। जिसके बाद ही महिला का इलाज शुरू हो सका।

यह भी पढ़ें: प्रेमिका को सोशल मीडिया पर मैसेज भेज प्रेमी फांसी पर झूल गया…

कैंसर पीड़ित महिला के परिजनों ने अनस और नितिन को धन्यवाद किया और कहा कि अगर वे रक्तदान न करते तो उनका मरीज बाहर ही तड़प कर मर जाता। उधर लखनऊ एसएसपी कलानिधि नैथानी ने भी अपने जवानों के इस काम की सराहना की। उन्होंने कहा कि पुलिस जनता की सेवा के लिए है सिपाहियों ने जो किया उसकी सराहना करते हैं।
अनस और नितिन का कहना है कि अपराध नियंत्रण और अपराधियों की पकड़ के साथ ही उनकी जिम्मेदारी समाज के प्रति भी है। इसी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए जब उन्हें यह सूचना मिली कि खून की कमी के कारन महिला को इलाज नहीं मिल रहा है तो वे रक्तदान करने पहुंचे थे। दोनों ने महिला के जल्द ठीक होने की उम्मीद भी जताई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 5, 2019, 12:51 am
Partly cloudy
Partly cloudy
31°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 70%
wind speed: 1 m/s E
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending