Connect with us

अपना शहर

अयोध्या फैसला: ऐशबाह ईदगाह से पूरे देश को दिया गया अमन का पैगाम

Published

on

लखनऊ। अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, उसे हम सब मिलकर मानेंगे। हर हाल में हम अपने शहर, राज्य और देश में अमन कायम रखें। यह बातें मौलाना खालिद राशिद फरंगी महली ने ’अमन का पैगाम हिन्दुस्तानियों के नाम’ प्रेस कान्फे्रंस में कहीं। गुरुवार को इस्लामिक सेंटर आॅफ इंडिया में आयोजित इस प्रेस कान्फे्रंस में हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई धर्म के प्रतिनिधि शामिल हुए। कार्यक्रम की शुरूआत तिलावते कुरान-ए-पाक से हुई।

मौलाना खालिद राशिद फरंगी महली ने कहा कि इस प्रेस कांफ्रेंस में हम सब मिलकर तय किया है कि अयोध्या फैसले के बाद न कोई जश्न मनाए न नारेबाजी करें, न कोई जलसा-जुलूस निकालें। पूरे देश में सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखना हम सब की जिम्मेदारी है। हमें यह सुनिश्चित करना है कि फैसले के बाद कहीं भी कानून-व्यवस्था की समस्या न पैदा हो। मौलाना ने कहा कि इस प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से हम पूरे देश से अपील करते हैं कि अयोध्या फैसले पर किसी तरह की ऐसी बयानबाजी न करें जिससे किसी की भावनाएं आहत हों।

सभी धर्मों के लोग शांति बनाए रखें ताकि मुल्क में अमन-ओ-आमान कायम रहे। मौलाना ने कहा कि यह बहुत अच्छी बात है कि हिन्दू-मुस्लिम समाज के तमाम संगठन पूरे देश से शांति से अपील कर रहे हैं। मौलाना ने कहा कि हम चाहते कि की मुल्क में तमाम समाज के लोग प्यार मोहब्बत के साथ रहें और देश तरक्की करे। प्रेस कांफ्रेंस में हिन्दू धर्मगुरु स्वामी सारंग, आचार्य कृष्ण मोहन और सिख समुदाय से राजेन्द्र सिंह बग्गा भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें-अयोध्या पर फैसला कुछ भी आए, हमें अमन-शांति बनाए रखनी है….

हिन्दू, ईसाई और सिख समुदाय के प्रतिनिधियों ने कहा, प्रेस कांफ्रेंस में जो प्रस्ताव पास हुआ है, उससे हम सब सहमत हैं। लखनऊ सहित पूरे देश से हमारी अपील है कि फैसले पर शांति बनाए रखें। किसी भी हाल में शांति और भाईचारे न भंग होने दें। देश में अमन-चैन होगा तभी देश उन्नति करेगा और समृद्धि हासिल होगी। हम सभी को भाई-बहन की तरह रहना चाहिए। धर्मगुरुओं ने कहा, सबसे पहले हमें अपने दिलों में शांति स्थापित करनी होगी, यदि दिलों में शांति होगी तो घर में, आस-पास, फिर शहर में और फिर पूरे देश में शांति फैलेगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपना शहर

लखनऊ-अयोध्या सहित 15 शहरों को नई सीएनजी सिटी बसों का मिलेगा तोहफा

Published

on

लखनऊ। वायु प्रदूषण से जूझ रहे लखनऊ समेत प्रदेश के 15 शहरों को नए साल में नई सीएनजी सिटी बसों का तोहफा मिलने जा रहा है। इन 15 शहरों में 8 शहर ऐसे हैं जहां पहली बार पिंक कलर की सीएनजी सिटी बसें सड़कों पर दौड़ती नजर आएंगी। नई बसों के आने के बाद खटारा बसों को सड़कों पर से हटा दिया जाएगा। शासन स्तर पर इस की पूरी तैयारी हो चुकी है, बस सरकार से मंजूरी मिलने की देर है। सूत्रों के मुताबिक प्रस्ताव के तहत 7 शहरों में पहले चल रहीं करीब 1310 सीएनजी बसों को रिटायर किया जाएगा, यह अब खस्ताहाल में पहुंच चुकी हैं। नगर विकास विभाग ने इन बसों को खटारा घोषित कर दिया है। नई बसें आने के बाद इन खटारा बसों को नीलाम कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें-धोखाधड़ी व ठगी के मामलों में शाइन सिटी की एचओडी उत्तमा अग्रवाल गिरफ्तार

सूत्रों के मुताबिक प्रस्ताव पर सरकार की मंजूरी मिलने के बाद निजी आॅपरेटरों के लिए टेंडर निकाले जाएंगे। दो माह में टेंडर प्रक्रिया पूरी होने के बाद टेंडर लेने वाली कंपनी को 90 दिन के भीतर बसों की सप्लाई भी करनी होगी।

सूत्रों के मुताबिक प्रस्ताव में लखनऊ और गाजियाबाद में 200, कानपुर 150, वाराणसी 150, प्रयागराज 150, मेरठ 150, आगरा 100, मथुरा 100, मुरादाबाद 75 और अयोध्या, अलीगढ़, गोरखपुर, सहारनपुर, झांसी, बरेली में 50-50 नई सीएनजी बसें चलाने की तैयारी की गयी है। अयोध्या में पहली बार नई सीएनजी सिटी बसें चलाई जाएंगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

जल निगम मुख्यालय पर कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर किया प्रदर्शन…

Published

on

लखनऊ। प्रदेश में प्रदर्शन जैसे आम बात हो गई है। आए दिन अलग-अलग  विभाग के लोग अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करते नजर आ रहे हैं। इसी कड़ी में बुधवार को जल निगम मुख्यालय पर कर्मचारी अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहें हैं।

जल निगम कर्मचारियों का कहना है कि दीपावली जैसे महत्वपूर्ण पर्व पर भी वेतन व पेंशन न मिलने, मृतक आश्रित नियुक्ति पर अवैध रोक लगाने व सातवां वेतनमान लागू न करने को लेकर हम लोग प्रदर्शन कर रहें हैं। वहीं मजदूर संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष मंडल के सदस्य रामसनेही यादव ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि पेयजल सीवरेज की व्यवस्था व सातवां वेतनमान लागू करने की मांग की।

ये भी पढ़ें: लखनऊ: गोमती रिवर फ्रंट का करोड़ो का बिल बकाया, कटा कनेक्शन

उन्होंने कहा कि 3 माह बीत जाने के बाद भी कोई समाधान न होने व सेवानिवृत्त कर्मचारियों के पेंशन आदेश निर्गत करने में टालमटोल से आक्रोशित सेवानिवृत्त कर्मचारी, मृतक कर्मचारियों की विधावायें और परिजन प्रदेश व्यापी धरना दे रहे हैं। धरने की अध्यक्षता करते हुए हयात सिंह राव ने कहा कि जल निगम प्रशासन से कई दौर की वार्ताओं के बाद भी आश्रित नियुक्ति को अघोषित रूप से रोक लगा दी है।

वित्तीय संकट के नाम पर सेवानिवृत्त कर्मियों का पेंशन एरियर ग्रेच्युटी अवकाश नगरीकरण विगत 3 वर्षों से भुगतान नहीं किया जा रहा है। वक्ताओं ने पंप ऑपरेटर को शासनादेश के अनुसार वेतनमान देने, डिप्लोमा धारी कर्मियों को कोटा निर्धारित करने, स्थाई पदों पर समायोजित करने, सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार सेवानिवृत्त कर्मियों की कटौती समाप्त करना, नैतिक लिपिक के रिक्त पदों पर योग्यता धारी फील्ड कर्मियों को सामान्य परीक्षा व साक्षात्कार के माध्यम से समायोजित करने की मांग की। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

डेंगू की गलत रिपोर्ट देने पर दिव्यांश पैथोलॉजी का पंजीकरण निरस्त…

Published

on

सांकेतिक चित्र

लखनऊ। राजधानी में डेंगू की गलत रिपोर्ट देकर इलाज के नाम पर मरीजों से वसूली की शिकायत पर स्वास्थ्य मंत्री की फटकार के बाद से विभाग के अफसरों की नींद टूट गई है। शहर के केशव नगर स्थित दिव्यांश पैथोलॉजी का पंजीकरण निरस्त होगा। इसके साथ ही उस पर कानूनी कार्यवाही के भी निर्देश दिए गए हैं। सीएमओ ने यह कार्यवाही एक मरीज द्वारा डेंगू की गलत रिपोर्ट दिए जाने व इलाज के नाम पर पैसे वसूलने की शिकायत के बाद की है।

सीएमओ के निर्देश पर स्टेट पैथोलॉजिस्ट डॉ. राजेश, डॉ. केपी त्रिपाठी एवं उनकी टीम ने दिव्यांश पैथोलॉजी का निरीक्षण किया गया। सीएमओ डॉ. नरेन्द्र अग्रवाल ने बताया कि पैथोलॉजी द्वारा डेंगू मरीजों की जांच एलाइजा विधि द्वारा रिपोर्ट दी जा रही थी। निरीक्षण के दौरान पैथोलॉजी में अफरा-तफरी मच गई। टीम के निरीक्षण में वहां एलाइजा विधि से जांच की कोई भी मशीन नहीं मिली। यहां तक कि कोई भी साक्ष्य एलाइजा विधि द्वारा जांच का उपलब्ध नहीं कराया गया। सीएमओ ने तत्काल दिव्यांश पैथोलॉजी का पंजीकरण निरस्त करने एवं कार्यवाही के निर्देश दे दिए हैं।

ये भी पढ़ें: पटना: डीजल चोरी करते पकड़ा गया युवक, भीड़ ने लाठी-डंडे से पीट-पीटकर की हत्या

ये था मामला

यह मामला 8 नवम्बर का बताया गया है। मड़ियांव के नौबस्ता निवासी शहनवाज अहमद (19) को तेज बुखार था। परिवारजन मरीज को लेकर निजी अस्पताल गए। डॉक्टर ने शहनवाज के खून की जांच लिखी। ऐसे में पांच नवंबर को दिव्यांश पैथोलॉजी पर ब्लड सैंपल भेजा गया। यहां रिपोर्ट में डेंगू की पुष्टि का दावा किया गया। डेंगू सुनकर परिवारजन घबरा गए। वहीं इलाज का पैसा अधिक खर्च होने पर मरीज शहनवाज को बलरामपुर अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती करा दिया।

वहीं इमरजेंसी में तैनात डॉक्टरों ने शहनवाज की ब्लड जांच कराई। इसमें टायफाइड की पुष्टि हुई। परिवारजनों ने मामले की शिकायत सीएमओ से की थी और आरोप लगाया था कि गलत रिपोर्ट से मरीज का इलाज भी गलत किया गया। परिवारजन ने पैथोलॉजी पर सख्त कार्रवाई की मांग की थी। पैथोलॉजी पर ब्लड की जांच में करीब 1600 रुपये वसूलने का आरोप लगा था। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 14, 2019, 11:51 pm
Fog
Fog
19°C
real feel: 20°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:55 am
sunset: 4:47 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending