Connect with us

अपना शहर

डीएम ने किया तहसील का निरीक्षण, खामियों को दूर करने के दिए गए निर्देश, निरस्त हो सकता है आवंटन…

Published

on

डीएम ने पूरे तहसील परिसर का किया निरीक्षण

लखनऊ । शहर के डीएम कौशल राज शर्मा के द्वारा खरगापुर स्थित तहसील सदर का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण में जिलाधिकारी के साथ अपर जिलाधिकारी ट्रान्स गोमती, उप जिलाधिकारी तहसील सदर, तहसीलदार सदर, नायब तहसीलदार, नायब तहसीलदार नगर व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे । जिलाधिकारी द्वारा पूरे तहसील परिसर का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण की शुरुआत जिलाधिकारी द्वारा पार्किंग स्थल से की गई। जिलाधिकारी द्वारा पार्किंग एरिया का निरीक्षण किया गया और निर्देश दिया कि पार्किंग एरिया को सही ढंग से व्यवस्थित किया जाए और चारो ओर बाउन्ड्री वाल की व्यवस्था की जाए।

जिसमें तहसीलदार द्वारा अवगत कराया गया कि परिसर में जो स्थान अधिवक्ताओं को बैठने के लिए चिन्हित किया गया था वहां पर अधिवक्ता नही बैठते है जिससे कि वह स्थान खाली पड़ा है। जिसके लिए जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि अधिवक्ताओं को सूचना दे के अवगत कराया जाए और यदि वह इस स्थान पर नही बैठते है तो उनका आवंटन निरस्त कर के इस स्थान पर आवास की व्यवस्था की जाए। क्योंकि वर्तमान में परिसर में आवासीय स्थल की कोई व्यवस्था नही है।

जिलाधिकारी द्वारा अनुभागवार निरीक्षण किया गया और निम्नवत दिशा निर्देश दिए गए :-

सभागार :- जिलाधिकारी द्वारा सभागार का निरीक्षण किया गया । सभागार में सरकार से सम्बंधित सभी योजनाओं को पोस्टरो द्वारा प्रदर्शित किया गया है और सभागार में पर्याप्त साफ सफाई पाई गई ।

अभिलेखागार :- जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा अभिलेखागार का निरीक्षण किया गया। अभिलेखागार में 1426 फसली के अभिलेखों का अवलोकन किया गया। खतौनियो के बारे में पूछे जाने पर अवगत कराया गया कि खतौनी तथा नक्शे को 2 प्रतियो में रखा गया है तथा खतौनियो व नक्शे की एक प्रति लेखपाल के पास होती है। उक्त सभी अभिलेखों को गांववार व्यवस्थित किये जाने के निर्देश दिए गए ।

वाद संबंधी पत्रावलियों को पूछे जाने पर अवगत कराया गया कि उनको दूसरे कक्षों में रखा गया है । वाद सम्बंधित पत्रावलियों के लिये एक रजिस्टर बनाया गया है, जिसमें क्रमवार रजिस्टर में पत्रावलियों का पूर्ण विवरण लिखा गया है । उक्त रजिस्टर 2010-2011 में बनाया गया है। इसी प्रकार शत्रु सम्पत्ति के अभिलेखों के बारे में भी बताया गया। शत्रु संपत्ति के अभिलेखों को गुलाबी रंग के बस्ते में रखा गया है । शत्रु सम्पत्ति के शेष प्रकरणों की फीडिंग अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के देख रेख में कराए जाने के निर्देश दिए । साथ ही शत्रु सम्पत्ति के किराए के बारे में भी जानकारी प्राप्त की गई ।

https://youtu.be/G7E9wRKyqP8

जिसके बाद रजिस्ट्रार कानूनगो अभिलेखागार का बजी निरीक्षण किया । जिसके बाद अधिष्ठान सम्बंधित रजिस्टर का भी अवलोकन किया गया । उक्त सर्विस बुक में छुट्टियों के बारे में पूछे जाने पर अवगत कराया गया कि छुट्टियों की एक प्रति उनकी व्यक्तिगत पत्रावली में रखी जाती है और उनका अंकन सम्बंधित कर्मचारियों की सर्विस बुक में किया जाता है । लेखपालो की सर्विस बुक में प्रविष्टि इस वर्ष की नही की गई । जिसके लिए प्रविष्टि को तुरन्त पूर्ण कराए जाने के निर्देश दिए और सर्विस बुक के मूवमेंट का भी कोई रजिस्टर नही बनाया गया, जिसके लिए जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और तुरन्त मूवमेंट रजिस्टर बनाए जाने के निर्देश दिए ।

जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा आर-6 रजिस्टर का भी अवलोकन किया गया । जिलाधिकारी को बताया गया कि आर-6 की फीडिंग भूलेख अनुभाग में कम्प्यूटर में होती है । जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा एन्टी भू-माफिया रजिस्टर का बजी अवलोकन किया गया । जिसमें कुल 40 प्रकरण फीड पाए गए । उक्त 40 प्रकरणों का निस्तारण सुनिश्चित किया जा चुका था । जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा किसान सर्वहित बीमा योजना रजिस्टर का अवलोकन किया गया । जिसमें कुल 21 प्रकरण फीड पाए गए । जिनमे लगभग सभी का निस्तारण किया जा चुका है । शेष 1-2 प्रकरणों को एक दो दिन में निस्तारित कर दिया जाएगा ।

राजस्व लिपिक के द्वारा पूछे जाने पर बताया गया कि समस्त प्रकरण की इंट्री ई-डिस्ट्रिक्ट में कम्प्यूटर ऑपरेटर द्वारा की जाती है । इसके अलावा उत्तराधिकार व आयोग के प्रकरण भी देखे जाते है । आयोग के प्रकरणों के बारे में पूछे जाने पर बताया गया कि इस साल आयोग के कुल 6 प्रकरण है । यह भी बताया गया कि सभी 6 प्रकरणों की आख्या तैयार कर ली गई है तथा आयोग द्वारा जो भी तिथि नियत की जाती है उसी तिथि में सम्बंधित आख्या को प्रेषित किया जाता है ।
साथ ही जिलाधिकारी द्वारा तहसील में आने वाले प्रार्थना पत्रों के निस्तारण के सम्बंध में जानकारी ली गई । जिलाधिकारी को बताया गया कि इन पत्रों का निस्तारण उपजिलाधिकारी के पटल पर ही निस्तारित किया जाता है । जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा नायब नाजिर कक्ष में डेस्क स्टॉक रजिस्टर का अवलोकन किया गया । जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि उक्त रजिस्टर में तहसील निर्माण सम्बंधित सभी व्यय का अंकन किया गया है । इसके अतिरिक्त कम्प्यूटर आदि से सम्बंधित सभी व्यय का अंकन भी इसी रजिस्टर में किया गया है।

यह भी पढ़ें- ‘प्राचीन भारतीय मुद्राएं : विविध आयाम’ – विनिमय के साधन के रूप में आज मानव जाति ने कौड़ियों से लेकर क्रेडिट कार्ड तक की यात्रा कर ली तय

जिसके बाद अभिलेख संग्रह कक्ष का निरीक्षण किया गया । उक्त कक्ष में रखी हुई अलमारियां टूटी हुई व ताले भी टूट पाए गए । उक्त अलमारियों की मरम्मत कराए जाने एवं ताले सही कराने के निर्देश दिए गए । निरीक्षण में पाया गया कि संग्रह अमीनो की विधुत वसूली औसत से काफी कम पाई गई । उक्त राजस्व वसूली को बढ़ाए जाने के निर्देश दिए गए।http://www.satyodaya.com

अपना शहर

डालीबाग स्थित पुराने डीजीपी ऑफिस के भवन पर एलडीए लेगा कब्जा…

Published

on

लखनऊ। राजधानी के डालीबाग स्थित पुराने डीजीपी ऑफिस के भवन पर लखनऊ विकास प्राधिकरण अब कब्जा करेगा। इस भवन का स्वामित्व एलडीए के रेंट विभाग के पास है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ में संचालित 85 स्कूलों के संचालन पर रोक…

वर्षो से डीजीपी ऑफिस के किराये के करीब सवा दो लाख रुपये भी पुलिस विभाग ने एलडीए को नहीं दिए हैं। वहीं अब डीजीपी का नया ऑफिस गोमती नगर विस्तार में बन गया है। जिसके बाद एलडीए इस भवन को वापस लेने के लिए पुलिस मुख्यालय को नोटिस भेजेगा।

एलडीए अधिकारी प्रभुनारायण सिंह से मिली जानकारी के मुताबिक डीजीपी ऑफिस तो गोमती नगर में शिफ्ट हो गया है लेकिन डीजीपी आवास अभी भी उसी में है जिसके चलते पहले शासन को नोटिस भेजी जाएगी उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

एसएसपी ने चार क्षेत्राधिकारियों के किए स्थानांतरण…

Published

on

लखनऊ। राजधानी में लखनऊ एसएसपी कलानिधि नैथानी ने क्षेत्राधिकारियों की प्रशासनिक दृष्टि में सही कार्यकुशलता बढ़ाने के लिए उनके कार्यक्षेत्र में बदलाव किए है। जानकारी के मुताबिक एसएसपी ने लंबे समय से एक ही सर्किल में तैनात क्षेत्राधिकारियों का स्थानांतरण किया है। वहीं जनपद लखनऊ में हाल फिलहाल में आमद कराए क्षेत्राधिकारी दुर्गेश सिंह को क्षेत्राधिकारी कंटोनमेंट बनाया गया है।

ये भी पढ़े: निजी गाड़ी पर ‘उत्तर प्रदेश सरकार’ लिखवाने वाले अधिकारी होंगे सस्पेंड…

साथ ही सीओ कैसरबाग अमित राय को क्षेत्राधिकारी कृष्णा नगर बनाया गया है। इसी क्रम में क्षेत्राधिकारी कृष्णानगर को क्षेत्राधिकारी आलमबाग तथा क्षेत्राधिकारी आलमबाग को क्षेत्राधिकारी कैसरबाग बनाया गया है। वहीं एसएसपी ने क्षेत्राधिकारियों के स्थानांतरण को लेकर कहा कि प्रशासनिक दृष्टि से कार्यक्षेत्र में सही कार्यकुशलता लाने के लिए यह स्थानांतरण किए गए है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

सीओ कैसरबाग अमित कुमार के समर्थन में उतरा पीपीएस एसोसिएशन, निलंबन का करेंगे विरोध…

Published

on

लखनऊ। प्रमुख सचिव गृह ने सीओ कैसरबाग के खिलाफ निलंबन की कार्यवाई करने की बात कही है जिसमें उन्होंने सीओ अमित कुमार का निलंबन करने के मामले में बताया है कि सचिवालय संघ के कर्मचारी नेताओं से मिले थे जिन्होंने बताया था सचिवालय कर्मचारी संघ ने जब प्रदर्शन किया था उसी दौरान समीक्षा अधिकारी की पिटाई की गई थी और उसी मामले में कार्यवाही की गई है। बताते चलें कि जिस समय यूपी कैबनेट की मीटिंग चल रही थी उसी वक्त कैसरबाग थाने के डिप्टी एसपी अमित कुमार ने सचिवालय के कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। यह मामला जैसे ही सचिवालय संघ के सामने आया तो सैकड़ों कर्मचारियों ने लोकभवन को घेर लिया और धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। विरोध बढ़ता देख मुख्य सचिव के निर्देश पर प्रमुख सचिव गृह और प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अवनीश अवस्थी ने आश्वासन दिया कि इस घटना के दोषी डिप्टी एसपी यानी कि सीओ कैसरबाग और पुलिस कर्मचारियों को निलम्बित करने के आदेश दे दिए गए हैं। इस आश्वासन के बाद कर्मचारियों का प्रदर्शन खत्म हुआ था।

जानकारी के मुताबिक, सचिवालय कर्मचारी मनोज प्रजापति की गाड़ी में एक व्यक्ति की गाड़ी से टक्कर लग गई थी। टक्कर से गाड़ी में आई क्षतिपूर्ति के लिए दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया था और मामला वहां नहीं निपटा तो पुलिस दोनों को थाने ले गई। वहां पर सचिवालय कर्मचारी ने अपना परिचय समीक्षाधिकारी के रूप में दिया तो कथित तौर पर डिप्टी एसपी ने उसकी वहां पिटाई कर दी। इसी दौरान कर्मचारी के पिटने की सूचना सचिवालय संघ के यादुवेन्द्र मिश्रा को मिल गई। उन्होंने मौके पर संघ के अन्य पदाधिकारियों को भेजा, लेकिन पुलिस का रुख देखकर वे सभी वापस आ गए। उसके बाद ही कर्मचारियों ने लोकभवन को उस वक्त घेर लिया जब मुख्यमंत्री कैबिनेट की मीटिंग की अध्यक्षता कर रहे थे। कर्मचारियों के विरोध की जानकारी जब सीएम को हुई तो उन्होंने मुख्य सचिव को दिशा निर्देश दिए। जिसके बाद कर्मचारियेंा से कहा गया कि वे घेराव बंद करें।

यह भी पढ़ें :- सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी करने वाले हो जाएं सावधान, पकड़े जाने पर भरना पड़ेगा इतना जुर्माना…

कर्मचारीयों को सरकार ने अश्वासन दिया कि सीओ और सम्बन्धित कर्मचारियेां को निलम्बित कर दिया गया है। अगर उनकी मांग पूरी ना हो पाई तो घेराव कल भी किया जा सकता है। शासन की इस बात पर कर्मचारियों ने अपना आंदोलन स्थगित कर दिया। कर्मचारी संघ के अध्यक्ष यादुवेन्द्र मिश्रा ने बताया कि सचिवालय कर्मचारियों के खिलाफ हो रहे पुलिसिया उत्पीड़न के विरोध में सभी कर्मचारी एक जुट हो गए और जोरदार धरना प्रदर्शन किया गया। इसके बाद शासन के अधिकारियों ने आश्वासन दिया तब धरना प्रदर्शन समाप्त किया गया। दो दिन पहले लोकभवन में प्रवेश को लेकर भाजपा के एक विधायक से सचिवालय सुरक्षा कर्मचारियों के बीच जमकर कहासुनी हुई। विधायक के खिलाफ भी कर्मचारियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया था। नतीजा यह रहा कि कर्मचारियों ने उस दिन भी प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी।

वहीं पीपीएस एसोसिएशन सीओ कैसरबाग के समर्थन में उतरी हुई है और सीओ कैसरबाग के खिलाफ हुई कार्यवाही का विरोध करने की बात कही है। वहीं पीपीएस एसोसिएशन के महासचिव राजेश सिंह ने कहा कि अगर सीओ का निलंबन होता है तो पीपीएस एसोसिएशन इसका विरोध करेगा और अलाधिकारियों से वार्ता भी करेगा। बता दें कि वीडियो में पुलिस से बदसलूकी करने वाले के बचाव में उतरे उच्चाधिकारी के खिलाफ पीपीएस एसोसिएशन ने मोर्चा खोलने की बात की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 3, 2019, 5:46 pm
Partly sunny
Partly sunny
35°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 49%
wind speed: 4 m/s ENE
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending