Connect with us

अपना शहर

सब्जी मंडी में आग लगने से लोगों में मचा हड़कंप, दो वाहन जलकर खाक

Published

on

लखनऊ। राजधानी के काकोरी थाना क्षेत्र स्थित दुबग्गा सब्जी मंडी में भीषण आग लगने से लोगों में अफरा-तफरी का माहौल मच गया। जानकारी के मुताबिक सब्जी मंडी में खड़ी गाड़ियों को आग ने अपनी चपेट में ले लिया, जिससे वह बुरी तरह से जलकर खाक हो गई। वहीं इस घटना की सूचना स्थानीय लोगों ने मौके पर पुलिस और फायर ब्रिगेड को पहुंचाई। वहीं बताया जा रहा है कि भीषण जाम के चलते फायर ब्रिगेड की गाड़ी समय से घटनास्थल नहीं पहुंच सकी। जिसके चलते दो भाड़ा वाहन जलकर खाक हो गए है।

ये भी पढ़े: पत्रकार की पिटाई करने के आरोपी जीआरपी एसएचओ और कॉन्स्टेबल सस्पेंड…

वहीं दुबग्गा चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस और स्थानीय पुलिस ना होने की वजह से भीषण जाम की स्थिति पैदा हो गई, जिसको देखते हुए मौके पर मौजूद एसडीएम ने गाड़ी से उतरकर लाठी लेकर मोर्चा संभालते हुए ट्रैफिक में फंसी फायर ब्रिगेड की गाड़ी को जाम से छुड़वाया। आपको बता दें कि इस दौरान ट्रैफिक पुलिस की एक बड़ी लापरवाही देखने को मिली, जिसमें जाम में फंसी दमकल की गाड़ी को निकालने के लिए मौके पर ट्रैफिक पुलिस नदारद रही। वहीं एसडीएम ने खुद लगभग आधे घंटे से ज्यादा ट्रैफिक का मोर्चा संभाले रखा और सब्जी मंडी में लगी आग पर काबू पाया गया। http://www.satyodaya.com

अपना शहर

पीजीआई में सीनियर रेजिडेन्ट के लिए आयु सीमा में की गई बढ़ोत्तरी

Published

on

एम्स, नई दिल्ली की तरह पीजीआई में रेजीडेन्सी स्कीम लागू

लखनऊ। संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) लखनऊ में सीनियर रेजिडेन्ट के पद पर नियुक्ति के लिए अधिकतम आयु सीमा को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। यह निर्णय मंत्रिपरिषद ने लिया है। इसके लिये संस्थान की प्रथम विनियमावली.2011 के नियम.69 (3) को इस प्रकार से संशोधित कर दिया है। भारत सरकार की रेजीडेन्सी स्कीम के अन्तर्गत सीनियर रेजीडेंट के पद पर नियुक्ति के लिए आयु सीमा 37 वर्ष होगीए अनूसूचित जातिए अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़े वर्गों के अभ्यर्थियों के मामले में आयु सीमा में 5 वर्ष की छूट और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानए नई दिल्ली के अनुसार अन्य श्रेणियों पर छूट लागू होगी।

गौरतलब है कि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आदेश 6 फरवरीए 2018 द्वारा केन्द्र सरकार के अधीन अस्पतालों व स्वायतशासी संस्थाओं में सीनियर रेजीडेन्ट के पद पर नियुक्ति हेतु अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष निर्धारित की गयी है। एम्स नई दिल्ली के कार्यालय.ज्ञाप दिनांक 6 मार्चए 2018 द्वारा भारत सरकार की रेजीडेन्सी स्कीम को स्वीकार करते हुए सीनियर रेजीडेन्ट के पद पर नियुक्ति हेतु अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष किये जाने के आदेश निर्गत किये गये हैं। एम्सए नई दिल्ली की तरह पीजीआई लखनऊ में भारत सरकार की रेजीडेन्सी स्कीम को स्वीकार करते हुए सीनियर रेजीडेन्ट की नियुक्ति के लिये अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष किये जाने का निर्णय लिया गया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

राजभवन में हुआ पुस्तक का विमोचन

Published

on

लखनऊ। राजधानी के राजभवन में पुस्तक विमोचन कार्यक्रम किया गया। पुस्तक विमोचन में राज्यपाल राम नायक ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत किया। यह पुस्तक 1857 के स्वतंत्रता सैनानियों पर आधारित है जिसका शीर्षक लखनऊ मंडल में 1857 का स्वतंत्र संग्राम नाम दिया गया है। आपको बता दें कि पुस्तक विमोचन में राज्यपाल राम नाईक सहित नवाब जाफर अब्दुल्लाह समेत कई विद्यालयों के प्रधानाचार्य भी मौजूद रहे। जिनकी उपस्थिति में पुस्तक का विमोचन किया गयाए हालांकि इस अवसर पर कई इतिहास क्रोनी ने इस पुस्तक पर अपनी रोशनी डाली और कहा कि पुस्तक एक बार जरूर पढ़नी चाहिए। जिससे 1857 का इतिहास किस तरीके से घटा था उस पर रोशनी एक बार फिर से डाली जा सके।

यह भी पढ़ें-सिविल में बिजली कटौती से व्यवस्था बदहाल, समय पर नहीं चलाए जाते जनरेटर

वहीं राज्यपाल महामहिम ने अपने उद्बोधन में कहा कि जिस तरीके से 1857 संग्राम हुआ था जिसमें लखनऊ के कई वीरों ने अपनी आहुति दी और देश को अंग्रेजो की गुलामी से भी आजाद किया। आगे उन्होंने उन सभी वीर जवानों को याद करते कहा कि अमर शहीद की वीर गाथाओं को सदैव भारतवर्ष याद रखेगा और उन्हें सदैव नमन भी करेगा। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि रेजीडेंसी एक पुरानी इमारत है जिसका सुंदरीकरण प्रदेश सरकार ने कई बार कराया है और मैंने सरकार से यह अपील भी की है कि रेजीडेंसी में कई इलेक्ट्राॅनिक उपकरण लगाया जाए जोकि अगस्त माह तक दर्शकों के लिए लग जाएंगे और प्रदेश सरकार के लिए और आम जनता के लिए काफी लाभदायक भी साबित होंगे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

सिविल में बिजली कटौती से व्यवस्था बदहाल, समय पर नहीं चलाए जाते जनरेटर

Published

on

लखनऊ। राजधानी के हजरतगंज मुख्य जगह पर स्थित डाॅ श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में व्यवस्थाएं बदहाल हैं। शासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग भी अस्पताल की बदहाल व्यवस्था पर चुप्पी साधा हुआ है जबकि यह अस्पताल वीवीआईपी माना जाता है। मुख्यमंत्री आवास से महज पांच सौ मीटर की दूरी पर स्थित इस अस्पताल के अधिकारी भी बार.बार गोल मटौल जवाब देकर कन्नी काट लेते हैं। वहीं जब मामला उजागर होता है तो दबा दिया जाता है। सिविल अस्पताल में दो दिनों से लगातार बिजली कटौती की जा रही है जिसकी वजह से मरीजों को जांच कराने, शुल्क जमा करने में काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं अस्पताल में लगे जनरेटर केवल शोपीस बने हुए हैं ये कभी भी समय पर शुरू नहीं होते हैं। बर्न वार्ड में पहले से ही एसी खराब है। वहां पंखें और कूलर से जले और झुलसे मरीजों को राहत पहुंचाने का प्रयास हो रहा है। यही हाल लगभग दूसरे वार्डों का भी है। बिजली की आवाजाही ने मरीजों और तीमारदारों को परेशान कर रखा है। अस्पताल में यह समस्या दो दिन से बनी है। इस वजह से मरीजों को जांच करानेए शुल्क जमा करने आदि की परेशानी झेलनी पड़ रही है। अस्पताल में लगे जनरेटर भी समय पर शुरू नहीं होते हैं।

यह भी पढ़ें-कार का टायर फटने से हुआ हादसा, एक की मौत, अन्य घायल

अस्पताल में दो दिन से बिजली की आवाजाही से लोग परेशान हैं। वैसे भी अस्पताल परिसर में अभी तक सेंट्रलाइज एसी को लगाने का काम पूरा नहीं हो सका है। इस वजह से पंखें और कुछ जगह लगे कूलर से ही ओपीडीए इमरजेंसी से लेकर वार्ड तक में मरीजों और तीमारदारों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। भीषण गर्मी में बिजली चले जाने से पंखें और कूलर बंद हो जा रहे हैं। मरीजए तीमारदार के साथ कर्मचारी और डाॅक्टर भी पसीने से तर हो जाते हैं। बिजली की आवाजाही से अस्पताल में पर्चा बनवानेए जांच करवाने और जांच शुल्क आदि जमा करने में मरीजों और तीमारदारों को परेशानी हुई। बार-बार बिजली जाने से पर्चा काउंटर पर प्रिंटर में पर्चे फंस गए। दवा काउंटर पर भी अंधेरा हो गया। दवा बांटने में फार्मासिस्टों को दिक्कत हुई। वहींए लाइन में लगे मरीजों को भी दवा लेने में परेशानी का सामना करना पड़ा। बिजली कटौती से सबसे ज्यादा बर्न वार्ड में मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ी। बर्न वार्ड में पहले से ही एसी खराब है। वहां पंखें और कूलर से जले और झुलसे मरीजों को राहत पहुंचाने का प्रयास हो रहा है। यही हाल दूसरे वार्डों का भी है। बिजली की आवाजाही के बीच अस्पताल में लगे जनरेटर भी जल्द नहीं चलाए जाते हैं। इससे मरीजों को और परेशानी होती है। इन सभी मामलों पर अस्पताल प्रशासन केवल जांच और कार्रवाई करने की बात कहता है और बदहाल व्यवस्थाओं को नहीं सुधारना चाहता और मामला ज्यों का त्यों बना रहता है।

इमरजेंसी की फोन सेवा ठप

सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में गंभीर मरीजों और अस्पताल से संबन्धित जानकारी लेने के लिए लगाई गई लैंडलाइन फोन भी अब मात्र शोपीस बन गया है। सोमवार को अस्पताल में विषाक्त पदार्थ खाने से यहां भर्ती एक पुलिस अभ्यर्थी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए कई अभ्यर्थी फोन मिलाते रहे लेकिन फोन नहीं लगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 12, 2019, 12:36 pm
Dreary (overcast)
Dreary (overcast)
31°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 51%
wind speed: 4 m/s ENE
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 5
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:30 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending