Connect with us

अपना शहर

कूड़े के ढ़ेर पर राजधानी लखनऊ, नगर निगम बजा रहा चैन की बंसी…

Published

on

लखनऊ। राजधानी में जिस तरह से कई क्षेत्रों में कूड़े का अंबार लगा रहा रहता है, उससे कई तरह के संक्रामक रोग फैलते है कारणवश लोगों में अनेकों बीमारियां भी जन्म लेने लगती है । जैसे-जैसे शहर दिन पर दिन गर्मी का कहर बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे सड़कों या खाली प्लाटों में पड़े हुए कूड़े के ढेर से कई प्रकार की बीमारियां भी उत्पन्न हो रहीं है, जिससे कि लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं नगर-निगम भी सफाई अभियान को लेकर अपनी जिम्मेदारी से पूरी तरह से अपना पल्ला झाड़ते हुए नजर आ रहा है। आइये हम लोगों से जानते है कि वह अपने क्षेत्रों में लगे कूड़े के ढेर से किस तरह से दिक्कतों का सामना कर रहें है और नगर-निगम इसके लिए कितना और प्रकार से जिम्मेदार है।

लखनऊ में गढ़ी पीर खां इलाके के रहने वाले वहाब उद्दीन सिद्दीक़ी का कहना है कि उनके मोहल्ले में घर-घर कूड़ा कलेक्ट करने वाली कंपनी ईको ग्रीन के कर्मचारी महीने में सिर्फ 8 से 9 दिन ही आते हैं। वहीं वहाब ने बताया कि क्षेत्रीय सुपरवाइजर का साफ कहना है कि कूड़ा कलेक्ट करने के लिए हमारा कर्मचारी तीन दिन गैप करके ही आएगा इसकी शिकायत जब ईको ग्रीन के जोनल अधिकारी से की गई तो उन्होंने फोन उठाना बंद कर दिया फिर इसकी शिकायत ईको ग्रीन के जर्नल मैनेजर से की गई किन्तु समस्या जस की तस ही रही। थक हार के लोगों ने इस मसले पर जब नगर निगम का रुख किया तो वहां सीधे कहा गया कि ईको ग्रीन के कर्मचारी घर चले गए हैं। इस कारण यह समस्या है। घर में कूड़ा पड़े रहने से लोग आसपास के खाली प्लाटों में कूड़ा फेक देते है, जिससे कि प्लाट में कूड़े का अंबार बढ़ता जा रहा है और काफी तरह की बीमारियां भी उत्पन हो रही है।

किन्तु दूसरी ओर आम जनता की समस्या यह है कि अगर कूड़े की उठाने शिकायत करें तो किससे करें। जब कूड़ा तीन-तीन दिन तक घरों में ही पड़ा सड़ता रहेगा तो फिर भारत स्वच्छ कैसे बन सकता है, क्योंकि बीमारी की जड़ तो हम लोगों के घरों में ही मौजूद है। नगर निगम केवल स्वच्छ भारत की बात सिर्फ पेपरों में ही करता है, लेकिन असल में हकीकत कुछ और ही देखने को मिलती है।

इसी कड़ी में डालीगंज इलाके के निवासी दिलशाद अहमद (कैफी) का कहना है कि यहां पर रेलवे ट्रैक के पास बहुत ही बड़ा कूड़े का अंबार लगा हुआ है । जिससे इलाके में तमाम तरह के संक्रामक रोग फैल रहें है और इन रोगों से काफी लोगों की मौत भी हो चुकी है । वहीं इस इलाके में कई तरह के जानवर जैसे सुअर आदि का भी जमावाड़ा लगा रहता है और इस तरह से मोहल्ले में जानवरों के खुले में घूमने से काफी तरह की गन्दगी और बीमारी इलाके में फैलती है । इसके साथ ही रेलवे ट्रैक के पास एक नाला भी है, जो नगर-निगम के कर्मचारियों की लापरवाही से आधा टूट गया है और इस नाले से निकलने वाले गंदे पानी खुलेआम रोजाना सड़को पर बहता रहता है। जिससे आम जनता को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।


आगे बताते हुए कैफी ने कहा कि नगर-निगम की गाड़ियां यहां घरों में रोजाना कूड़ा उठाने आती तो है लेकिन इसके बावजूद भी लोग मोहल्ले में कूड़े का ढेर लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं और दूसरी तरफ नगर-निगम के कर्मचारी कई इलाको का कूड़ा लाकर इसी इलाके में डंप करते है, जिससे कि कई तरह भयावह रोग बढ़ने की संभावना बढ़ रही है ।

कई बार पार्षद से शिकायत करने पर भी इस मामले में किसी भी तरह की कोई सुनवाई नहीं होती है । इस लिहाजे से देखा जाए तो स्थानीय निवासी और नगर-नगम दोनों ही इलाके में लगने वाले कूड़े के अंबार के लिए जिम्मेदार है ।

इसी कड़ी में मोहल्ला हटा मिर्जा अली खां हुसैनाबाद के निवासी हसन इमाम बताते हैं कि उनके इलाके में कूड़ा निस्तारण का कोई उपाय नहीं किया जा रहा है। क्षेत्र में फैलती गंदगी ने पर्यावरण का भी नाश कर दिया है। लाख कोशिशों के बाद भी प्लास्टिक के कचरे का निस्तारण नहीं हो पा रहा है। इलाके में दूर-दूर से लोग आते हैं और यहां पर कूड़े का ढेर लगा जाते हैं, जिसमें तमाम तरह के जानवर कूड़े के पास आकर उसको और बुरी तरह से सड़कों पर फैला देते हैं।

कारणवश इलाके में कई तरह की बीमारियाँ फैलती हैं। हसन इमाम बताते हैं कि नगर निगम में कई बार शिकायत करने पर भी वहां के कर्मचारी कूड़ा लेने नहीं आते हैं और लोग सड़कों पर खुले में कूड़ा डालने पर मजबूर हो रहे हैं। http://www.satyodaya.com

अपना शहर

लखनऊः जमातियों का इलाज करने वाले डाॅक्टर में मिले कोरोना के लक्षण

Published

on

कैंट में पकड़े गए जमातियों ने प्राइवेट डाक्टर से कराया था इलाज

लखनऊ। तब्लीगी जमात के लोगों ने पूरे देश में कोरोना वायरस ऐसा फैलाया है कि अब स्थिति पर काबू पाना मुश्किल हो रहा है। उत्तर प्रदेश में दर्जनों जमातियों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इन सभी को विभिन्न अस्पतालों में क्वारंटाइन कर इलाज किया जा रहा है। इस बीच रविवार को लखनऊ में एक डाक्टर में भी कोरोना के संदिग्ध लक्षण दिखे हैं। बांग्ला बाजार निवासी डॉ. आसिफ खान की सदर में अलीजान मस्जिद के पीछे क्लीनिक है। पिछले दिनों अलीजान मस्जिद से 12 जमातियों को पकड़ा गया था। इन सभी में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। जिसके बाद इन सभी को बलरामपुर और लोकबंधु अस्पताल में क्वारंटाइन किया गया है।

यह भी पढ़ें-राहतः नोएडा व लखनऊ में लाॅकडाउन के बीच बच्चों से फीस वसूली पर रोक

डॉ. आसिफ खान ने इनमें से कई जमातियों का इलाज किया था। इसी बीच डॉ. आसिफ भी संक्रमण की चपेट में आ गए। फिलहाल डाक्टर को बीकेटी के जीसीआरजी मेडिकल हॉस्पिटल में क्वारंटाइन किया गया है। डॉ आसिफ खान की पत्नी और बच्चों को एहतियातन घर पर ही आइसोलेट किया गया है। सभी के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। इसके साथ डाॅक्टर के क्लीनिक और घर के साथ आस-पास के क्षेत्र को सैनिटाइज किया जा रहा है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

कोरोना हो हारना ही होगा…पूरे भारत ने दीया जलाकर जताया संकल्प

Published

on

लखनऊ। एक बार फिर पूरे भारतीयो ने साबित कर दिया कि उनके बीच चाहे जितने मतभेद और भिन्नता हो, लेकिन जब देश की बात आती है तो वह सब एक हो जाते हैं। वह सभी एक आवाज पर संगठित भी हो सकते हैं। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दौरान जैसी एकजुटता दिखी थी, आज फिर पूरे देश में वैसा ही नजारा था।

रविवार रात के 9 बजते ही सभी घरों की लाइटें बंद हो गईं। लोगों ने अपने-अपने घरों की बालकनी, दरवाजों और छतों पर आकर दीया, मोमबत्ती और मोबाइल की टार्च जलाकर यह संदेश दिया कि कोरोना के खिलाफ हम सब एक हैं। नजारा ऐसा था, मानो आज पूरा देश दीपावली का त्यौहार मना रहा हो। हर तरफ दीयों की रोशनी, पटाखों की आवाज, शंखों की ध्वनि, घंटों की ध्वनि से लोग रोमांचित हो उठे।

9 मिनट की इस मुहिम में जाति, धर्म की बंदिशें भी टूट गईं। लखनऊ में मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली के नेतृत्व में इस्लामिक सेंटर में तमाम मुस्लिम युवकों ने दीप जलाए। मौलाना कल्बे जव्वाद, मौलाना सैफ अब्बास आदि धर्मगुरूओं ने दीपक जलाए। महापौर संयुक्ता भाटिया ने परिजनों के साथ दीप जलाए। #9बजे9मिनट

यह भी पढ़ें-मौलानाओं से बोले सीएम योगी, बीमारी मजहब देखकर नहीं आती…

इस मौके पर महापौर ने जनता को धन्यवाद देते हुए कहा, पीएम मोदी की अपील पर लखनऊ की जनता ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एकता का अद्भुद परिचय दिया है। लखनऊ के हर घर मे दीप, टॉर्च, मोमबत्ती के माध्यम से रोशनी की गयी है, #LightsOfHope जो इस बात का परिचायक है कि हमारे अंदर सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह हुआ है। हम अंधेरे रूपी किसी भी प्रकार के संकट से निपटने के लिए तैयार और सक्षम हैं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि हमारी लखनऊ की जनता प्रशासन के साथ मिलकर इस महामारी को परास्त करेगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान चौराहे पर हादसे के बाद आग का गोला बनी फॉर्च्यूनर कार

Published

on

लखनऊ। विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान चौराहे पर शनिवार देर रात एक हादसे से हड़कंप मच गया। नशे में धुत दो रईसजादे 120 किलोमीटर प्रति घण्टे की स्पीड से फाॅच्र्यूनर भगा रहे थे। लेकिन चौराहे पर पहुंचकर वह गाड़ी पर से नियंत्रण खो बैठे। एसटीएफ मुख्यालय के पास खड़ी पीआरवी को टक्कर मारते हुए फॉर्च्यूनर कार पलट गयी। इसके बाद कार में आग लग गयी।

यह भी पढ़ें-एक सिर्फ तब्लीगी जमात ही कसूरवार नहीं: सैयद जुनैद अशरफ किछौछवी

आस-पास मौजूद पुलिसकर्मियों ने तुरंत कार को सीधी करवा कर दो लोगों को बाहर निकाला। इसके साथ फायर ब्रिगेड को सूचना दी गयी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची अग्निशमन की गाड़ी आग पर काबू पाया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 5, 2020, 10:31 pm
Mostly clear
Mostly clear
25°C
real feel: 24°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 41%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:23 am
sunset: 5:56 pm
 

Recent Posts

Trending