Connect with us

अपना शहर

गठबंधन की लखनऊ प्रत्याशी के तौर पर पूनम सिन्हा के नाम की घोषणा, अखिलेश यादव ने भाजपा पर साधा जमकर निशाना

Published

on

अखिलेश यादव ने किया पूनम सिन्हा का सपा में स्वागत

लखनऊ। लोकसभा चुनाव की पहली पारी सफलतापूर्वक पूर्ण हो गयी है।इसी के साथ सभी राजनीतिक पार्टियों ने आगे आने वाले चरणों के लिए कमर कस ली है।कल ही गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बतौर भाजपा प्रत्याशी अपना नामांकन लखनऊ से करा लिया है।जिसके तुरंत बाद ही बॉलीवुड स्टार और कांग्रेस प्रत्याशी शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा ने लखनऊ से गृहमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने का मन बना लिया।

इस फैसले को जनता के सामने रखने के लिए आज सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया।इस आयोजन के जरिए उन्होंने पूनम सिन्हा का सपा में स्वागत किया।उन्होंने आधिकारिक तौर पूनम सिन्हा की लखनऊ से गठबंधन की उम्मीदवार होने की घोषणा की है।

अखिलेश यादव ने कहा कि सपा काम के बल पर चुनाव लड़ेगी।सपा सरकार व बसपा सरकार लखनऊ में काम करने के लिए चुनाव लड़ रही है।जनता को सपा का काम देखने के लिए उसे जिताना होगा।पीएम और सीएम पर आरोप लगाते हुए सपा अध्यक्ष ने कहा कि लखनऊ का विकास देश के पीएम नरेन्द्र मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी की वजह से रुका है।

उन्होंने कहा कि 2014 में जो घोषणा पत्र पढ़वाया उसके कोई भी वादे पूरे नहीं हुए हैं।इसके साथ ही जनता खुद जानती है कि दिल्ली ने कितना काम किया है।न ही भाजपा ने यूपी में किसी भी तरह का कोई काम किया।उन्होंने कहा कि अखबार खोलने पर पता चलता है कि हमारे स्मार्ट शहर में कितनी स्मार्ट काऊ आ गयी हैं।पीएम मोदी गलत जगह फंस गए हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण के मतदान की तैयारियां पूरी, 8 सीटों पर होगी वोटिंग

आजम खान ने कुछ दिनों पहले ही जाया प्रदा पर अभद्र टिप्पणी की थी।जिसके बाद सोशल मीडिया पर न सर आजम खान पर पूरी सपा पार्टी पर निशाना साधा गया था।इस पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि लखनऊ की सबसे पहली सांसद महिला थीं।जितना सम्मान सपा ने महिलाओं और बेटियो का किया है उतना किसी ने नही किया है।सपा और सपा के नेता महिलाओ और बेटियो का सम्मान करते है और करते रहेंगे।सपा ने महिलाओ को पेंशन दी है।

 

वहीं अखिलेश यादव की पत्नी और कन्नौज से सांसद डिंपल यादव ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ अभद्रता कभी भी स्वीकार नहीं की जाएगी।जब भाजपा के नेताओ के खिलाफ कुछ बोला जाता है तब उसको उजागर नहीं किया जाता है।भाजपा इन उल-जुलूल बातों से बस जनता का ध्यान भटकाना का काम कर रही है।

यह भी पढ़ें- उमा भारती ने प्रियंका गांधी पर दिया विवादित बयान, कह दी ऐसी बात कि भड़क सकते हैं ‘कांग्रेसी’    

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रविदास का दुख आपका भी है मेरा भी है।कई मौकों पर सपा बसपा रालोद ने कहा की गठबंधन भाजपा को सत्ता से बाहर करना है।विपक्षियों से सवाल करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता व मुख्यमंत्री योगी ने देश के डायल 100 के जितने आईपीएस ऑफिसर हैं ये जनता को कभी बताया ही नहीं।उन्होंने कहा कि देश खुद बता देगा कि कितनों को रोजगार मिला है? उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग बताते है कि मेरा होटल है पर ये नही बताते है की उनके नेताओ में हाथापाई हुई है।http://wwwsatyodaya.com

अपना शहर

करवाचौथ कार्यक्रम में महिलाओं ने गीतों की धुन पर बिखेरे अपने जलवे…

Published

on

लखनऊ। रविवार को हजरतगंज में ‘इसी का नाम जिंदगी‘ ने करवाचौथ सेलिब्रेशन का आयोजन किया। इस कार्यक्रम का संचालन कविता शुक्ला ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत बॉलीवुड सिंगर अनुपमा राग, कविता शुक्ला, मधु अग्रवाल ने दीप प्रज्वलन करके की।

करवाचौथ कार्यक्रम में 70 से अधिक महिलाओं ने हिस्सा लिया। इस मौके पर महिलाओं ने सुहाग के गीत गाए और डांस किया। दीप्ति ने धोली तारो, मंझरी ने चूड़ी भी जिद पर, भावना श्रीवास्तव ने मेरे ढोलना सुन, कंचन ने पान खाए सैंया, हमारे गीत पर नृत्य किया गया। वहीं अनीता शर्मा, रूपाली गुप्ता, नीता शुक्ला, लीना रस्तोगी और दर्शिका ने सुहाग के गीत गाए। कार्यक्रम में दिव्या शुक्ला रुचि अग्रवाल आकांक्षा अवस्थी निर्णायक भूमिका में रहीं।

यह भी पढ़ें :- डांडिया नाइट पर फिल्मी गीतों की धुन पर थिरके छात्र-छात्राएं

‘इसी का नाम जिंदगी’ की अध्यक्ष कविता शुक्ला ने कहा कि जितनी भी महिलाओं ने हिस्सा लिया वह सब सुहागवती हैं। क्योंकि करवा सुहागवती और सौभाग्यवती महीलाओं के लिए होता है और जो हमारा लक्ष्य है, वह लाल ही है क्योंकि हिंदू धर्म में लाल रंग को मेन माना जाता है। हमने इसमें कंपटीशन डांस सिंगिंग का किया है। वह करवाचौथ से सम्बन्धित है। क्योंकि हमारे जितने गाने हैं वो पति सम्बन्धित हैं। जिससे हमारी सभ्यता और भारतीय संस्कृति को बढ़ावा मिल सके। वहीं डांस विनर शिल्पा बीनू, रीना सक्सेना, करवा क्वीन नेहा गुप्ता, माधवी सिंह, कंचन रस्तोगी, सिंगर विनर नीता शुक्ला मौजूद रहीं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

कांग्रेस ने मनाई वाल्मीकि जयंती, कार्यकर्ताओं ने माल्यार्पण कर किया उनके वचनों को याद…

Published

on

लखनऊ: राजधानी के कांग्रेस पार्टी कार्यालय में रविवार को वाल्‍मीकि जयंती मनाई गई। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित कर वाल्मीकि के वचनों को याद किया। इसके साथ ही प्रशासन प्रभारी सिद्धार्थ प्रिय श्रीवास्तव ने कहा कि समय-समय काल परिस्थितियों में महा मानव ने हिन्दुस्तान में जन्म लिया और उस समय समाज की काल परिस्थितियों से लड़ते हुए मानवता के सन्देश को लोगों के बीच ले जाने का काम किया।

इसके साथ ही सामाजिक संरचना व भारतीय संस्कृति को जीवंतता देने का भी कार्य किया। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी हमेशा से ही ऐसे महा मानव का जन्म दिवस और पुण्यतिथि दोनों समय में ही उनके आदर्शो को याद करके भारत की सामाजिक संरचना व संस्कृति की विविधता के माहौल में एक दूसरे के साथ सामंजस्य स्थापित करके भारत को आगे ले जाना का संदेश देती है। इस दौरान वाल्‍मीकि जयंती पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने पार्टी को मजबूत करने का संकल्प भी लिया।  

ये भी पढ़ें: ‘लव संसद’ में प्रधानमंत्री प्रीतम प्रोत्साहन और माशूका मदद योजना का हुआ ऐलान

कौन थे म‍हर्षि वाल्‍मीकि?

वाल्मीकि का जन्म महर्षि कश्यप और अदिति की 9वीं संतान वरुण और पत्नी चर्षणी के घर हुआ था। बचपन में भील समुदाय के लोग उन्हें चुराकर ले गए थे और उनकी परवरिश भील समाज में ही हुई। वाल्मीकि से पहले उनका नाम रत्नाकर हुआ करता था। रत्नाकर जंगल से गुजरने वाले लोगों से लूट-पाट करता था। एक दिन जंगल से जब नारद मुनि गुजर रहे थे, तो रत्नाकर ने उन्हें भी बंदी बना लिया। तभी नारद ने उनसे पूछा कि ये सब पाप तुम क्यों करते हो?

जिसपर रत्नाकर ने कहा कि  मैं यह सब अपने परिवार के लिए करता हूं।  नारद ने फिर उससे पूछा क्या तुम्हारा परिवार तुम्हारे पापों का फल भोगने को तैयार है। रत्नाकर ने हां में जवाब दिया। जिसके बासद नारद मुनि ने कहा जवाब देने से पहले एक बार अपने परिवार के सदस्यों से पूछ लो। यह सुनकर रत्नाकर घर लौटा और परिजनों से पूछा कि क्या कोई उसके पापों का फल भोगने को आगे आ सकता है? इस बात पर सभी ने इनकार कर दिया। इस घटना के बाद से ही रत्नाकर ने सभी गलत काम छोड़ने का फैसला कर लिया। जिसके बाद आगे चलकर रत्नाकर ही महर्षि वाल्मीकि कहलाए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

38वें कलमवीर दिवस पर किया डॉ. सुल्तान शाकिर हाशमी जन्मोत्सव समारोह का आयोजन

Published

on

लखनऊ। अखिल भारतीय अगीत परिषद् मीडिया फाउंडेशन एवं नवसृजन साहित्यिक और सांस्कृतिक संस्था लखनऊ के संयुक्त तत्वाधान में कौन दिशा में कर्मवीर दिवस का आयोजन किया गया। जिस पर डॉ. सुल्तान शाकिर हाशमी का जन्म उत्सव समारोह और सरस काव्य गोष्ठी का आयोजन वरिष्ठ साहित्यकार साहित्यभूषण डॉ. रंगनाथ मिश्र ’सत्य’ द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर योगेश द्वारा शनिवार को यूपी प्रेस क्लब में किया गया।

समारोह में महेश चंद्र द्विवेदी, प्रोफेसर डॉक्टर वी.जी. गोस्वामी, इक्तिदार हुसैन फारूकी, हेमंत तिवारी, पंडित हरिओम शर्मा को सुल्तान चक्रव्यूह सम्मान 2019 से तथा नवसृजन साहित्यिक व सांस्कृतिक संस्था द्वारा डॉ. सुल्तान शाकिर हाशमी को अवध गौरव सम्मान से सम्मानित पत्र प्रतीक चिन्ह अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर डां. सुल्तान शाकिर हाशमी के महाकाव्य जयप्रकाश नारायण का लोकार्पण अतिथियों द्वारा किया गया। सभी अतिथियों ने संग्रह के प्रति अपने अपने विचार व्यक्त करते हुए डॉक्टर सुल्तान शाकिर हाशमी को जन्मदिवस व रचना के लोकार्पण की शुभकामनाएं दी।

यह भी पढ़ें :- महाराष्ट्रः शिवसेना का चुनावी वादा, सत्ता में आए तो किसानों का कर्ज माफ…

वहीं वाहिद अली ’वाहिद’ की वाणी वंदना से प्रारंभ इस समारोह में नगर के अनेक वरिष्ठ और युवा रचनाकारों ने भाग लिया। प्रमोद चैधरी, प्रोफेसर रमेश दीक्षित, सुहेल काकोरवी, अफजल अंसारी, कुमार तरल, राम प्रकाश शुक्ल ’प्रकाश’, डॉ. शिवमंगल सिंह मंगल, अनिल किशोर शुक्ल ’निडर’, प्रोफेसर रफत सायरा भारती, रत्ना बापुली ’रत्ना’ मंजू सक्सेना ’विनोद’, मुरली मनोहर कपूर ’निर्दोष’, डॉ. योगेश आदि लोगों ने डॉ. सुल्तान शाकिर हाशमी के जन्मदिवस पर अपनी शुभकामनाएं दीं।

इस कार्यक्रम के संरक्षक न्यायमूर्ति वी.के. दीक्षित, मुख्य अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार महेश चंद्र द्विवेदी पूर्व महानिदेशक उत्तर प्रदेश, अध्यक्ष साहित्यभूषण डॉ. रंगनाथ मिश्र ’सत्य’ संस्थापक अध्यक्ष अखिल भारतीय अगीत परिषद् लखनऊ व संरक्षक नवसृजन साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था, अति विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार प्रोफेसर डॉ. विजय गोस्वामी पूर्व अधिष्ठाता विधि संकाय लखनऊ विश्वविद्यालय, विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर डॉ. उषा सिन्हा पूर्व अध्यक्ष भाषा विज्ञान विभाग लखनऊ यूनिवर्सिटी उपस्थित रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 14, 2019, 5:01 am
Fog
Fog
21°C
real feel: 24°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:35 am
sunset: 5:10 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending