Connect with us

अपना शहर

बदमाशों की छेड़छाड़ से तंग आकर पीड़िता ने लगाई न्याय की गुहार…

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की सरकार जहां एक तरफ महिलाओं की सुरक्षाओं को लेकर आये दिन चिंतित होते दिख रही हैं और पुलिस को अपराधियों के खिलाफ शिकंजा कसने की बात कर रही हैं। वहीं दूसरी ओर बदमाश आये दिन महिलाओं और लड़कियों से छेड़खानी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसी ही एक घटना गुडम्बा थाना क्षेत्र की है, जहां पर 26 अप्रैल को कुछ बदमाशों द्वारा एक युवती को सरेराह बेरहमी से पीटा था। जिसके बाद से उस युवती द्वारा न्याय पाने के लिए थानों से लेकर अधिकारियों के चक्कर काट रही है, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। तभी उस युवती ने हजरतगंज के जीपीओ पहुंचकर गुडम्बा पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उससे छेड़छाड़ करने वाले शोहदों को पुलिस का संरक्षण प्राप्त है, जिसकी वजह से उनके हौसले बुलंद रहते हैं और उसको आये दिन धमकी भी मिलती है। लेकिन पुलिस द्वारा उसकी कोई सुनवाई नहीं की जा रही है।

ये भी पढ़े:एक ही दिन में 6 और 7 साल की दो मासूम हुई हैवानियत का शिकार…

साथ ही उस युवती का आरोप है कि गुडम्बा थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर से इस घटना को लेकर जब शिकायत की गई। तो दारोगा ने उस युवती को थप्पड़ मारकर थाने से भगा दिया और ना ही उसकी कोई एफआईआर दर्ज की। जिसके बाद से वह युवती एसएसपी से लेकर आलाधिकारी के चक्कर काट रही है, लेकिन उसको न्याय नहीं मिल पा रहा है और शोहदों द्वारा उस युवती को आये दिन धमकियां दी जा रही है। साथ ही उसने बताया कि शोहदों द्वारा उसको सरेराह पीटते हुए यूनिटी चौराहे पर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी सारी घटना कैद है, उसके बावजूद भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है।

अब सोचने वाली बात तो यह है कि जिस तरह महिलाओं और बच्चियों के साथ आये दिन घटनाएं देखने को मिलती है, उसके बावजूद भी अपराधियों पर शिकंजा कसने के बजाये उनको संरक्षण दिया जा रहा है। देखना यह होगा कि इस घटना को लेकर लखनऊ एसएसपी कलानिधि नैथानी किस तरह की कार्रवाई करते हैं और उस युवती को न्याय दिलाते हैं।http://www.satyodaya.com

अपना शहर

केजीएमयू के ब्लड बैंक में आई खून की कमी, तीमारदार परेशान …

Published

on

लखनऊ। राजधानी के सरकारी अस्पतालों में कई ब्लड ग्रुपों में कमी देखने को मिल रही है। कारणवश तीमारदारों को निजी ब्लड बैंक के चक्कर लगाने पड़ रहें है। बताया जा रहा कि केजीएमयू के ब्लड बैंक में खून की कमी की वजह से वह निजी अस्पतालों के मरीजों को खून देने से मना कर चुका है।

ये भी पढ़े: पंखे से लटक रहा था फंदा-बिस्तर पर पड़ा था शव, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मर्डर का खुलासा…

अस्पतालों में आए दिन मरीजों को खून की जरूरत पड़ती रहती है, लेकिन ब्लड बैंक में खून की कमी कि वजह से उनके तीमारदारों को काफी मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है, जिससे मरीजों की जान जाने का खतरा भी बढ़ सकता है। ऐसे में तीमारदार खून लेने के लिए एक से दूसरे अस्पताल में भटक रहें हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

पंखे से लटक रहा था फंदा-बिस्तर पर पड़ा था शव, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मर्डर का खुलासा…

Published

on

बीबीडी की डेंटल कोर्स फाइनल ईयर की छात्रा की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी मौत

लखनऊ। राजधानी पुलिस एक बार फिर छात्रा की हत्या के मामले को छुपाने में जुट रही है। कैंट थाना क्षेत्र में 25 वर्षीय छात्रा की हत्या करके आत्महत्या दिखाने की कोशिश नाकाम साबित हो गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामले का  खुलासा हुआ तो पुलिस पूरे मामले में बचती नजर आई और बाइट देने से सुबह से शाम तक टहलती रही। देर रात सीओ कैंट तनु उपाध्याय ने बयान जारी करते हुए आरोपी फरार ब्वॉयफ्रेंड की धरपकड़ के लिए तीन टीमें गठित कर दी हैं।

लखनऊ के कैंट थाना क्षेत्र स्थित नीलमथा इलाके में बीबीडी डेंटल कोर्स फाइनल ईयर की छात्रा का शव कल संदिग्ध परिस्थितियों में घर पर मिला था। कमरे के अंदर पंखे से फंदा लटक रहा था,  दूसरी तरफ बिस्तर पर शव पड़ा हुआ था। सूचना पाकर मौके पर पुलिस फोरेंसिक टीम के साथ पहुंची और घटनास्थल से साक्ष्य बटोरे गए। शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था। आज रिपोर्ट में हत्या का खुलासा हुआ है, जिसके बाद से पुलिस आरोपी युवक प्रकाश चंद्र आर्य की तलाश में जुट गई है, जो पास की ही कॉलोनी दुर्गापुरी का रहने वाला है, लेकिन घटना के दिन से ही फरार चल रहा है।

ये भी पढ़े: संदिग्ध परिस्तिथियों में मिला छात्रा का शव, जांच में जुटी पुलिस

पूरा मामला कैंट थानाक्षेत्र के नीलमथा स्थित विजय नगर का है, जहां बीबीडी डेंटल कोर्स फाइनल ईयर की छात्रा प्रिया सिंह (25) का शव घर में संदिग्ध परिस्थितियों में मिला था। बताया जा रहा था कि मृतका के पिता प्रकाश सिंह बिहार में प्राइवेट कंपनी में सिविल इंजीनियर हैं। उससे मिलने मृतका की मां और दादी दो दिन पहले बिहार गए थे। घटना के समय मृतका घर में अकेली थी। कमरे के अंदर पंखे से फंदा लटक रहा था, दूसरी तरफ बिस्तर पर शव पड़ा हुआ था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा था। वहीं जब पुलिस ने स्थानीय लोगों एवं घरवालों से पूछताछ की तो मामला संदिग्ध लगता देख जांच में जुट गई। वहीं जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ जाने पर बड़ा खुलासा हुआ कि युवती की हत्या की गई है। वहीं पुलिस ने छानबीन में मृतका के मोबाइल से कॉल डिटेल की भी जांच की जिसमे प्रकाश चंद्र आर्य की डिटेल सामने आई है। सीओ कैंट तनु उपाध्याय के मुताबिक, कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। फिलहाल पुलिस ने पीएम रिपोर्ट के आधार पर 302 का मुकदमा दर्ज कर आरोपी युवक की तलाश में जुट गई है।

आपको बता दें कि पोस्मार्टम की रिपोर्ट के अनुसार भारी भरकम चीज से छात्रा के ऊपर हमला हुआ है, जिसके वजह छात्रा की मौत हुई है। पुलिस के मुताबिक संदिग्ध अवस्था में मिली लड़की की लास के पास से 5 मोबाइल फोन मिलें जिनमें से 3 मोबाइल फोन मृतक लड़की के थे और 2 मोबाइल फोन जो की प्रकाश चन्द्र आर्या नाम के युवक के मिले है, जो कि घटना के समय उसकी लोकेशन छात्रा के पास पाई गई है। जो की घटना के बाद से ही अभी फरार है, जिसको पकड़ने के लिए पुलिस की 3 टीमें लगाई गई है। जल्द ही उसकी गिरफ्तारी भी की जाएगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

दवाओं की चोरी पर गंभीर हुए स्वास्थ्य मंत्री, मांगी आख्या

Published

on

15 दिन में पूरी जांच और रिपोर्ट देने के निर्देश ,शिकायत के बाद अस्पताल प्रशासन ने नहीं की थी कार्रवाई

लखनऊ। सिविल अस्पताल प्रशासन की मुश्किलें अब बढऩे वाली हैं। यहां सालों से चल रही दवाओं की चोरी मामले को स्वास्थ्य मंत्री ने गंभीरता से लेते हुए तुरंत ही आख्या मांगी है। इस संबंध में महानिदेशक स्वास्थ्य की ओर से एक पत्र जारी कर तुरंत पूरी जांच और रिपोर्ट देने के निर्देश संबंधित लोगों को दिए हैं। यहां दवा और इंजेक्शन चोरी के मामले में मिलीभगत की भी मंत्री से शिकायत हुई है।

सिविल अस्पताल में काफी समय से दवा काउंटर, स्टोर से लेकर इमरजेंसी तक से दर्द और नशे के इंजेक्शन, दवाएं चोरी करके बाहर बेचे जाने के मामले प्रकाश में आ चुके हैं। अस्पताल के कर्मचारियों और फार्मासिस्टों की करतूत को विभिन्न समाचार पत्र में लगातार साक्ष्यों से सहित प्रकाशित किया गया। इसको स्वास्थ्य मंत्री ने संज्ञान लेते हुए तुरंत पूरी रिपोर्ट मांगी है। इस मामले में स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. पद्माकर सिंह ने मंडलीय अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण लखनऊ मंडल को पत्र भेजकर मामले की जांच और पूरी आख्या देने के निर्देश दिए हैं। सभी साक्ष्यों के आधार पर 15 दिन के भीतर देने को कहा है।

यह भी पढ़ें :- सिविल अस्पताल में डिजिटल एक्सरे मशीन खराब

अस्पताल से दवाओं को चोरी करके बाहर बेचे जाने के मामले में कई अधिकारी भी मिले हुए हैं। कई पीडि़तों ने इस बात की शिकायत मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री से लेकर शासन स्तर के आला अफसरों से की है। इमरजेंसी से नशे का इंजेक्शन चोरी करके 100 से 200 रुपए में बाहर युवाओं को बेचने के गंभीर मामले की शिकायत के बाद अफसरों ने संविदा कर्मचारी को नौकरी से हटा दिया। लेकिन इस मामले में लिप्त फार्मासिस्ट व अन्य मातहतों पर उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की और मामले की फाइल को संविदा कर्मचारी को हटाकर ही बंद कर दिया है।

वहीं, अस्पताल में चोरी की दवा के साथ पकड़े गए प्रशिक्षु फार्मासिस्टों व युवकों को हटा दिया गया। इस मामले में लिप्त दवा काउंटर पर तैनात व स्टोर के फार्मासिस्टों के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं इस मामले में अस्पताल प्रशासन कुछ भी कहने से बचता रहा है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 13, 2019, 4:02 pm
Cloudy
Cloudy
36°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 42%
wind speed: 2 m/s NW
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:31 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending