Connect with us

अपना शहर

यूपी आर्टिस्ट एसोसिएशन की प्रथम कार्यकारिणी की बैठक, कलाकारों का शोषण खत्म करने का जताया संकल्प

Published

on

लखनऊ। आर्टिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश की लॉन्चिंग प्रथम कार्यकारिणी की बैठक एवं प्रेस वार्ता मंगलवार को हजरतगंज स्थित होटल रॉयल इन में संपन्न हुई। इस अवसर पर संस्था के मुख्य संरक्षक जस्टिस राकेश शर्मा, जस्टिस आरपी पाण्डेय, राजेश जायसवाल (व्यवसायी), पंकज कुमार सिंह (डिप्टी कमिश्नर, जीएसटी) उपस्थित रहे। कार्यक्रम में महेन्द्र भीष्म, अंशुमाली टंडन एवं संस्था के महासचिव आलोक श्रीवास्तव, सचिव नीरा सिन्हा एवं रेडियो प्रकोठ के प्रमुख आरजे अनवारुल हसन एवं मीडिया प्रमुख मनीष सिंह ने संस्था के उद्देश्य एवं विचारधारा पर प्रकाश डाला।

वक्ताओं ने बताया कि कला के संरक्षण और संवर्धन के लिए कई प्रयास हुए हैं और हो रहे हैं। इस दिशा में तमाम संगठन और संस्थाएं भी अपने स्तर से निरंतर कुछ न कुछ कार्य कर रही हैं। आर्टिस्ट एसोसिएशन उ. प्र. के गठन का उद्देश्य कला के समग्र स्वरूपों को सहेजने, संरक्षित करने व उसका संवर्धन करने के साथ ही कलाकारों के अधिकार और उनके हितों के लिए भी काम करेगा।
एसोसिएशन समस्त विधाओं और उन विधाओं से जुड़े समस्त कलाकारों और कला, क्षेत्र में जुड़े सभी तकनीशियनों को जोड़ने के साथ उनके अधिकारों के लिए कार्य करेगा। हम ब्लॉक, जिला और कमिशनरी स्तर तक की संगठनात्मक इकाईयों का निर्माण कर रहे हैं।

वक्ताओं ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से लखनऊ सहित उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों में बड़ी संख्या में टी. वी. धारावाहिकों विज्ञापन फिल्मों डॉक्युमेंटरी फिल्मों और फीचर फिल्मों की शूटिंग हो रही है। इनमें बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश के कलाकारों से कार्य करवाया जाता है, लेकिन न तो उन्हें कोई वर्क आर्डर दिया जाता है और न ही उचित पारिश्रमिक दिया जाता है। जबकि इसके विपरीत महाराष्ट्र में क्रूड के लिए न्यूनतम राशि व कार्य के घंटे निर्धारित हैं। संगठन का प्रयास होगा की ठीक ऐसी ही कार्यसंस्कृति उत्तर प्रदेश में भी विकसित हो।

संगठन सांस्कृतिक कार्यक्रमो/विचार गोष्ठियों/सेमिनारों/प्रतियोगीताओं का आयोजन करेगा साथ ही साथ कारकारों के शोषण के खिलाफ विविध सहायता भी उपलब्ध कराएगा। संगठन हिंदी/ उर्दू अवधी तीनों ही भाषाओं के विकास की दिशा में भी सक्रिय भूमिका निभाएगा।
पदाधिकारियों ने कहा कि संगठन की और से प्रयास किया जा रहा है कि आर्थिक रूप से कमजोर और आकस्मिक परिस्थितियों में कलाकारों को आर्थिक मदद प्रदान की जाए। जिसके लिए संगठन स्वयं भी प्रयास करेगा और सरकार से भी अलग तत्काल सहायता कोष की मांग करेगा।http://www.satyodaya.com

अपना शहर

चोरी, लूटपाट व अपराध पर लगाम लगाने में सिक्योरिटी एजेंसियां देंगी पुलिस का साथ

Published

on

लखनऊ। राजधानी में चोरी, लूटपाट और और अपराध पर लगाम लगाने के लिए पुलिस ने निजी सुरक्षा एजेंसियों को भी अपने साथ लाने का प्रयास शुरू कर दिया है। सोमवार को रिजर्व पुलिस लाइन में लखनऊ पुलिस ने शहर की प्रमुख सिक्योरिटी एजेंसियों के साथ बैठक की। इस बैठक में एडीजी जोन एसएन साबत, एसएसपी कलानिधि नैथानी, एसपी नॉर्थ अमित कुमार भी शामिल रहे। बैठक में पुलिस अधिकारियों ने सिक्योरिटी एजेंसियों की समस्याओं पर ध्यान देने के साथ चोरी और लूट की घटनाओं को रोकने में पुलिस की मदद की मांग की।

बैठक में राजधानी के प्रमुख बैंकों, अपार्टमेंन्ट्स, प्रतिष्ठानों व दुकानों की सुरक्षा और निगरानी के बिंदुओं पर चर्चा हुई। सूत्रों के बैठक में इस बात पर खासा जोर दिया गया कि प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसियों के सिक्योरिटी गार्ड को किस तरह हाईटेक और चौकन्ना बनाया जाए। शहर में लगे सीसीटीवी की माॅनीटरिंग, पार्किंग और सार्वजनिक स्थानों पर आने-जाने वाले लोगों पर नजर रखने संबंधी तमाम सुरक्षा पहलुओं पर चर्चा करते हुए निजी सिक्योरिटी गार्ड्स व उनसे सम्बन्धित एजेंसियों के प्रबंधकों को दिशा-निर्देश दिए। एसएसपी ने कहा कि सिक्योरिटी एजेंसियों के गार्ड इस बात खास ख्याल रखें कि प्रतिष्ठानों, बैंकों, माॅल आदि के प्रवेश द्वार पर आयरन बाक्स जरूर हो। अधिकृत व्यक्ति के असलहों को बाहर ही रखवाया जाए।

यह भी पढ़ें-इंटरनेशनल सिख वेलफेयर बनवाएगा अयोध्या में राम मंदिर: जसवीर सिंह मंडेर

एसएसपी ने कहा सिक्योरिटी एजेंसियों की हर संभव मदद की जाएगी। उनकी समस्याओं का निराकरण कराने का प्रयास किया जाएगा। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने सिक्योरिटी एजेंसियों के प्रबंधकों को तकनीकी संसाधनों जैसे सीसीटीवी, सर्विलांस, फेस रिकग्नीशन, मेटल डिटेक्टर व बैग स्कैनर जैसे उपकरणों का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग में लाने का सुझाव दिया। एसएसपी ने एसपी उत्तरी व एसपी ग्रामीण को सिक्योरिटी एजेंसियों के साथ समन्वय के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया। बैठक में पुलिस अधिकारियों के अलावा सीएफओ, एआरओ लखनऊ व विभिन्न प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसियों के प्रबंधक मौजूद रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

लखनऊ को हरा-भरा करने के लिए फिक्की फ्लो ने शुरू की ‘ग्रीन लखनऊ’ मुहिम

Published

on

लखनऊ। बढ़ते प्रदूषण और कंक्रीट के जंगल में तब्दील होते लखनऊ को बचाने के लिए केन्द्रीय बागवानी संस्थान के सहयोग से फिक्की फ्लो ने एक मुहिम शुरू की है। ग्रीन लखनऊ नाम की इस मुहिम का उद्देश्य लखनऊ शहर को हरा भरा करके प्रदूषण का मुकाबला करने और जैविक खाद्य पदार्थों को बढ़ावा देना है। रविवार को फिक्की फ्लो ने एक कार्यशाला का आयोजन किया। जिसमें घर के बगीचे में की जाने वाली खेती के तरीकों, इसमें आने वाली समस्याओं और उनके समाधान पर चर्चा की गयी। कार्यशाला में यह भी बताया गया कि किस तरह पौधों में होने वाली आम बीमारी और लगने वाले कीटों के प्रसार को रोका जाए। कार्यशाला में शहर के तमाम नागरिक और वैज्ञानिक उपस्थित रहे।

कार्यशाला में विशेषज्ञों ने सब्जियों और जड़ी बूटियों के अंकुर की बिक्री की। साथ ही शहरी क्षेत्रों, बगीचों, छतों एवं बालकनियों आदि में मौसमी सब्जियों और जड़ी-बूटियों को उगाने के बारे में प्रशिक्षण दिया। फ्लो की चेयरपर्सन माधुरी हलवासिया ने कहा कि किश के जैसी सरकारी एजेंसी के साथ काम करने और उनके सहयोग करने से महिलाओं को कृषि के क्षेत्र में सशक्त बनाने के लिए मौके मिलेगे। फ्लो की सह समन्वयक शचि सिंह ने कहा केन्द्रीय बागवानी संस्थान और फ्लो के कृषि के लिए किए की गई पहल को आगे बढ़ाने के लिए यह कार्यशाला बहुत ही महत्वपूर्ण थी।

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश के सभी सराफा कारोबारियों को शस्त्र लाइसेंस देने की मांग

फ्लो लखनऊ ने इसकी शुरूआत पहले ही कर दी और ऑर्गेनिक इण्डिया के साथ मिलकर महिला किसानों के लिए एक जागरूकता और प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया है। फ्लो लखनऊ खेती में रूचि रखने वाली शहरी महिलाओं की मदद के लिए सदैव तत्पर है। अप्रैल 2016 में फ्लो के वार्षिक आयोजन में खेती में उत्कृष्ट महिलाओं का हौसला बढ़ाने के लिए उन्हे पुुरस्कारित भी किया जा चुका है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

लखनऊ के सराफा कारोबारियों को जागरूक करेगा भारतीय मानक ब्यूरो

Published

on

लखनऊ। सोने-चांदी के गहनों में अवैध हाॅल मार्किंग को रोकने और सराफा कारोबार में अधिक पारदर्शिता लाने के लिए भारतीय मानक ब्यूरो (बीएसआई) लखनऊ के सराफा व्यापारियों को जागरूक करेगा। 21 नवंबर को बीएसआई की तरफ से लखनऊ के चौक स्थित ढिंढोरा रेस्टोरेंज में एक अवेयरनेस प्रोग्राम का आयोजन किया जाएगा। जिसमें राजधानी के सभी सराफा कारोबारी शामिल होंगे।

इस संबंध में भारतीय मानक ब्यूरो ने 25 सितंबर को इंडिया बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष अनुराग रस्तोगी को एक पत्र भेजकर सहयोग की मांग की थी। उत्तर प्रदेश बुलियन एसोसिएशन ने बताया है कि 21 नवंबर को होने वाले अवेयरनेस प्रोग्राम में बीएसआई संबंधित सभी जानकारियां दी जाएंगी।

इस प्रोग्राम का आयोजन भारतीय मानक ब्यूरो करवा रहा है। बता दें कि भारतीय मानक ब्यूरो ने इंडिया बुलियन एसोसिएशन को भेजे पत्र में कहा है कि ऐसी खबरें आ रही हैं कि कुछ ज्वेलर्स बिना वैध पंजीकरण के ही बीएसआई हाॅलमार्क की ज्वैलरी बना और बेंच रहे हैं। यह एक गंभीर दण्डनीय अपराध है।

यह भी पढ़ें-श्री रामजन्मभूमि ट्रस्ट के नाम पर चंदा वसूल रहे तीन युवक गिरफ्तार

बीएसआई ने कहा है कि यदि कोई ज्वैलर्स बिना पंजीकरण के हाॅलमार्क ज्लैलरी बेचते हुए पाया गया तो उसके छापा मारा जा सकता है। जिसमें उसकी समस्त ज्लैलरी और कीमती धातु (सोना-चांदी) जब्त कर ली जाएगी। बीएसआई ने कहा कि यदि कोई ज्लैलर्स हाॅलमार्क ज्लैलरी बेंचना चाहता है तो पहले उसे निर्धारित प्रारूप पर पंजीकरण और शुल्क चुकाते हुए लखनऊ स्थित शाखा कार्यालय में आवेदन कर लाइसेंस लेना होगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 18, 2019, 7:16 pm
Mostly clear
Mostly clear
20°C
real feel: 19°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 63%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:58 am
sunset: 4:45 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending