Connect with us

अपना शहर

मायानगरी गए बिना ही मॉडलिंग की दुनिया में लखनऊ के युवा दिखा रहे हैं अपनी प्रतिभा…

Published

on

स्थानीय युवाओं से ही लोग करा रहें मॉडलिंग और अपने ब्रांड का प्रमोशन

करीब डेढ़ दशक पहले जब आनंदी वॉटर पार्क के मालिक पकंज अग्रवाल ने अपना काम शुरू किया था, तो अपने पार्क के प्रमोशन के लिए मुम्बई और दिल्ली जैसे शहरों के मॉडल बुलाए थे। जिससे कि वह अपने ब्रांड का प्रमोशन कर सकें। अब एक बार फिर वह आनंदी मैजिक वर्ल्ड के नाम से कानपुर रोड बन्नी के पास अपना नया एडवेंचर लेकर आए हैं। इस बार भी कुछ होर्डिंग और प्रमोशन के लिए उनको मॉडल की जरूरत पड़ी। हालांकि इस डेढ़ दशक में एक नया परिवर्तन देखने को मिला है। पकंज अग्रवाल को अपने काम के लिए सभी मॉडल लखनऊ और पड़ोसी शहर कानपुर में ही मिल गए। अपने शहर के युवाओं को प्रमोट करने के लिए पंकज गुप्ता, विशाल गुप्ता और राहुल गुप्ता ने फैसला लिया कि वह अपना सारा काम इन्हीं युवाओं से करायेंगे। 

आनंदी ड्रीम वर्ल्ड की तरह ही शहर में आए दिन प्रमोशन और मॉडलिंग के नए-नए कार्यक्रम होते रहते हैं। शहर में होने वाले मॉडलिंग या फैशन शोज में कभी-कभी  दिल्ली,  मुम्बई,  कलकता और चंडीगढ़ के युवा मॉडलों के चेहरे होते थें, लेकिन आज यह सभी कार्यक्रम लखनऊ और कानपुर के युवाओं के सहारे हो रहें हैं। पिछले तीन से चार सालों में इन युवाओं ने सभी बड़े शहरों के मॉडल्स को पीछे छोड़ दिया है। बुलंदियों को छूने वाले यह युवा पीछे मुड़कर भी देखना पसंद नहीं करते हैं। हालांकि बाकी लोगों की तरह वह भी मायानगरी का सपना जरूर देखते हैं, लेकिन वहां जाने से पहले वह इतना नाम कमा लेना चाहते हैं कि किसी तरह का कोई स्ट्रगल उन्हें न करना पड़े। दोनों शहरों के कुछ ऐसे ही उभरते कलाकारों को लेकर सत्योदय रिपोर्टर नंदिनी कुंवर ने अपनी रिपोर्ट तैयार की है।
 


मीनू दीक्षित 

राजाजीपुरम लखनऊ में रहने वाली और कॉमर्स से मास्टर डिग्री लेने वाली मीनू दीक्षित न सिर्फ पढ़ाई में अव्वल है, बल्कि महज कुछ साल के करियर में शहर के प्रमुख मॉडलों में शुमार हो चुकी हैं। filpkard और amazon जैसे बड़े अन्तर्राष्ट्रीय कम्पनियों के लिए शूट करने वाली मीनू के पास ढेरों काम हैं। लखनऊ जैसे शहर में आज मीनू अपने शूट के लिए हजारों रुपये चार्ज करती हैं। वे बताती है कि जब एक शहर में आपका नाम हो जाए तो दूसरी जगह भी काम करना आसान हो जाता है। इसलिए अभी वह लखनऊ में काम कर रही हैं।  


शिखर 

मिस्टर कानपुर समेत कई बड़े मॉडलिंग कांटेस्ट जीत चुके शिखर किसी परिचय के मोहताज नहीं है। हालांकि पिछले कुछ महीनों तक परिवारिक समस्याओं की वजह से उनको मॉडलिंग से दूरी बनानी पड़ी थी, लेकिन आज वह फिर से सक्रिय हैं। अभी दिल्ली में हुए एक बड़े ब्रांड की प्रतियोगिता में उनको पूरे देश से आए पांच हजार लड़कों में टॉप 50 में चुना गया था। शिखर के पास मुम्बई के कई कम्पनियों के ऑफर भी है। जिसके लिए वह अक्सर वहां भी जाते है। हालांकि अभी पूरी तरह वहां शिफ्ट होने से बचते है। दलील है कि अभी फैमिली बिजेनस में भी कुछ समय देना पड़ता है। वहां से छूटने के बाद वह फिल्म इंडस्ट्री और बाकी जगह के बारे में भी विचार करेंगे। 


रिया सिंह राजपूत 

छोटा पैकेज बड़ा धमाका यह लाइन लखनऊ की रिया के लिए ही है। क्लास 11 से ही इन्होंने मॉडलिंग शुरू कर दी थी। मिस यूपी समेत कई ब्यूटी प्रतियोगिताओं में वह अपना जौहर दिखा चुकी हैं। आज शहर के कई बड़े  कपड़े,  ज्वैलरी,  होटल,  रेस्त्रा , डिस्को को यह प्रमोट करती है,  जिसके लिए इनको अच्छा  मेहनताना भी मिलता है। मॉडलिंग के साथ अपनी पढ़ाई को भी वह उतना ही महत्व देती है,  जिसकी वजह से वह कई बड़े ऑफर ठुकरा भी देती है। रिया बताती है कि जून में  उनका पेपर है,  जिसकी वजह से उनको एक दर्जन से ज्यादा मॉडलिंग ऑफर और प्रमोशन के ऑफर ठुकराने पड़े  हालांकि उनको उसका मलाल नहीं है। 


भूमिका 

लखनऊ में भूमिका मौजूदा दौर की  सबसे कम उम्र की उभरती हुई मॉडल में एक हैं। फैशन शो के अलावा वह कई वीडियो सोंग में भी काम कर चुकी हैं। मॉडलिंग के अलावा डांस और एक्टिंग  का शौक रखने  वाली भूमिका के पास भी काफी काम आता है। मॉडलिंग के साथ वह लोगों को फिटनेस ट्रेनिंग भी देती है। दोस्तों के साथ हर समय मौज मस्ती करने वाली  भूमिका काम के समय उतना ही सक्रिय रहती है। बतौर मॉडल और एक्टर भूमिका चाहती है कि उनका काम लोग लंबे समय तक याद करें। 


इलिशा सिंह 

अगर हम यह कहे कि सबसे ज्यादा काम का अनुभव और अलग – अलग सेक्टर में काम करने का अनुभव इलिशा के पास है तो गलत नहीं होगा। बचपन से ही एक बड़ी मॉडल और एक्टर बनने का सपना देख रही इलिशा के कई वीडियो यूट्यूब पर लाखों बार देखे गए है। आज वह शहर की कई बड़े ब्यूटी पॉर्लर और ब्रांड को प्रमोट करती है। इसके साथ ही उनके पास बीस से ज्यादा शॉट  मूवी में काम करने का अनुभव भी प्राप्त है। पूरे काम और मॉडलिंग के साथ एक्टिंग के प्रति इस जोश में उनके पापा का हर समय सहयोग रहता है। इलिशा मॉडलिंग और एक्टिंग के अलावा एडिटिंग का काम भी सीख रही हैं,  जिससे कि वह अपने काम में परफेक्ट हो सकें ।


तुषार

लखनऊ के तुषार ने महज एक साल के  करियर में  वह मुकाम हासिल कर लिया है, जिसके लिए बाकी लोगों को कई साल लग जाते है। एक्टिंग के साथ डांस के शौकीन तुषार अभी ग्रेजुएशन के छात्र है। दोस्तों की सलाह पर शौक से शुरू हुआ मॉडलिंग का काम आज उनका जुनून बन गया है। यही वजह है कि आज उनके पास लखनऊ के कई बड़े प्रोजेक्ट के काम पड़े हुए है। यहां तक की कई सरकारी एजेंसियों ने अपने प्रोजेक्ट के लिए तुषार से सम्पर्क किया है। घर से बहुत ज्यादा सपोर्ट न होने के बाद भी आज  वह लगातार कामयाबी के शिखर पर पहुंचते जा रहे हैं। लखनऊ में उसके  पास दस से ज्यादा प्रोजेक्ट है। 


आरुषि

खूबसूरती के साथ टैलेंट भी हो यह बहुत कम लोगों में देखने को मिलता है, लेकिन लखनऊ आलमबाग की आयुषी के पास यह दोनों है। बोल्ड शूट हो या पारम्परिक परिधान दोनों में ही आरुषि का जवाब नहीं है। मॉडलिंग के साथ वह अपना फैमिली बिजनेस भी देखती हैं। उनके पास मौजूदा समय में शहर के कई बड़े ज्वैलरी हाउसेस के  शूट के काम है। शहर की मीडिया और अखबारों में पेज थ्री के पन्नों में वह अपने काम की वजह से अक्सर नजर आती हैं। होली हो या दीपावली त्योहार के प्रमोशन के लिए भी कई बड़े दुकानदान और कारोबारी अपने साथ आरुषि  को जोड़ते है।  काम के साथ अपने नेचर की वजह से वह आज काफी लोकप्रिय है।


गर्विता मन्धान 

मॉडलिंग के पेशे में जो मुकाम लोग चार से पांच सालों में नहीं हासिल कर पाते हैं, कानपुर की गर्विता ने महज चार से पांच माह के कैरियर में अपनी अलग पहचान बना ली है। पढ़ाई में अव्वल रहने वाली गर्विता टीचिंग का भी शौक रखती हैं। इस वजह से वह छोटे बच्चों के साथ जुड़ी रहती हैं। उनकी खूबसूरती और लुक की वजह से उनके पास आज काम चल के आता है। काम के प्रति ईमानदार गर्विता खुद स्वीकार करती है, कि इंडस्ट्री में नए होने की वजह से  उनको अभी बहुत कुछ सीखना है। हालांकि अनुभव कम होने के बावजूद उनके पास कानपुर और लखनऊ के कई बड़े प्रॉजेक्ट से ऑफर आ चुके हैं। 


गरिमा तिवारी 

कहा जाता है कि शादी के बाद मॉडलिंग के दरवाजे बंद हो जाते है, लेकिन लखनऊ की गरिमा तिवारी इसको झूठलाती नजर आती है। पेशे से टैक्सटाइल डिजाइनर गरिमा पिछले दो साल से मॉडलिंग कर रही हैं। वह मौजूदा समय में  शहर में  महिलाओं का सबसे चर्चित कार्यक्रम मल्लिकाए – अवध की ब्रॉड एंबेसडर हैं। महज दो साल में ही इस कामयाबी के लिए वह अपने पति से मिले सहयोग को सबसे प्रमुख मानती है। आम तौर पर यह देखा जाता है कि पतियों का सहयोग नहीं होता लेकिन गरिमा अपने आप को इसको लिए काफी भाग्यशाली मानती हैं। 


अनामिका यादव 

यूं तो यह माना जाता है कि आप साइंस के स्टूडेंट हो तो मॉडलिंग और बाकी काम के लिए आपके पास समय ही नहीं है। लेकिन कानपुर की अनामिका न सिर्फ साइंस की छात्रा बल्कि मॉडलिंग में भी काफी नाम कमा रही हैं। कहने के लिए तो इनके  पास अभी महज दो शो में ही रैप वॉक करने का अनुभव है, लेकिन उनका आत्मविश्वास गजब का है। चेहरे पर हर समय मनमोहक हंसी रखने वाली अनामिका के पास भी बहुत सारे ऑफर हैं। हालांकि वह अभी अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती है। इसकी वजह से मॉडलिंग को अभी बहुत सीरियसली नहीं ले रही हैं, लेकिन उसके बावजूद भी उनके पास लगातार काम के ऑफर आ रहे हैं।  


जारा शेख 

लिस्ट में भले ही जारा का जिक्र सबसे अंत में  हो रहा हो, लेकिन वह अपने काम की वजह से आज सबसे ऊपर है। कोलकाता में जन्मीं और लखनऊ में पली- बढ़ी जारा मॉडलिंग के साथ पढ़ाई भी करती है। अपने टैलेंट के बल पर आज के उनके पास न सिर्फ लखनऊ से काम आता है, बल्कि दिल्ली जैसे शहर से कई बड़े ऑफर आते हैं। जारा वेडिंग ड्रेस के लिए कई शूट दे चुकी हैं। इसके अलावा जारा शहर में होने वाले कई बड़े फैशन इवेंट की शो स्टॅापर बने भी दिख जाती हैं। आज उनके पास  ऑनलाइन की कई बड़ी कम्पनियों के काम पड़े हैं। इसके अलावा वे कारोबारी भी जो अपने ब्रांड को सोशल मीडिया पर प्रमोट करते है, उनके लिए भी जारा लोगों की पहली पसंद है। ट्रैडिशनल परिधान हो या वेर्स्टन  हर तरह के  ड्रेस में वह उतनी ही खूबसूरत लगती है।http://www.satyodaya.com

अपना शहर

इसोफेगास्टमी एड्रोशिया बीमारी में ग्रसित बच्चे को डाक्टर ने दिया नया जीवनदान

Published

on

लखनऊ। मानव शरीर समय-समय पर कई प्रकार की बीमारियों की चपेट में आता रहता है कुछ बीमारियों में तो इलाज के बाद स्वस्थ हो जाता है मगर बहुत सी बीमारी होती है जो मानव के लिए जानलेवा साबित होती है मगर कुछ ऐसी भी बीमारियां होती हैं जो पैदा होते ही बच्चे को जकड़ लेती हैं। इसी प्रकार की एक बीमारी है इसोफेगास्टमी एड्रोशिया कहते हैं, इस बीमारी में जो खाने की नली होती है गले से लेकर पेट तक विकसित नहीं होती है।

इसोफेगास्टमी एड्रोशिया बीमारी में ग्रसित 22-3-2017 केजीएमयू के पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग में प्रोफेसर जेडी रावत की निगरानी में भर्ती हुआ जिसका प्रोफेसर जे.डी. रावत और उनकी टीम के द्वारा तत्काल उपचार शुरू किया गया। जिसमें यह पाया गया कि बच्चा ऐसी बीमारी में मुब्तिला है जिसके कारण बच्चा दूध नहीं पी पा रहा है जब उसे दूध पिलाया जाता तो दूध खांसी एवं दुग्ध मुंह से बाहर आ जाता है, जब बच्चे को भर्ती कराया गया उस समय वह मात्र 1 दिन का था भर्ती के दूसरे दिन ही इमरजेंसी में बच्चे का ऑपरेशन किया गया।

यह भी पढ़ें :- डेंगू से बचाव ही सर्वोत्तम उपचार : डॉ. नरेंद्र अग्रवाल

इस ऑपरेशन में अविकसित आहार नली को गले से बाहर किया गया और पेट में खाने की थैली में एक नली डाली गई और गैस्ट्रास्टमी से बच्चे को दूध पिलाना शुरू किया गया और दो बार फिर बच्चे का आपरेशन किया गया। प्रोफेसर जे.डी.रावत ने बताया की कुल तीन चरणों में बच्चे का आपरेशन किया गया जो की पूरी तरह सफल रहा और अब बच्चा सम्पूर्ण रूप से स्वस्थ है और खा-पी रहा है। बच्चा जो की सिद्धार्थनगर का रहने वाला है उसके अभिभावकों ने प्रोफेसर जे.डी.रावत और उनकी टीम का धन्यवाद देते हुए कहा की इन सभी लोगों के कारण बच्चे को नया जीवन मिला है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

यूपी-100 कर्मियों ने ब्लड डोनेट कर बचाई सूचनाकर्ता की बुजुर्ग मां की जान

Published

on

लखनऊ। राजधानी की #पुलिस ने एक बार फिर मानवता की मिशाल पेश की है जिसमें बताया जा रहा है कि इंदिरा नगर स्थित एक अस्पताल से एक युवक ने 100 नंबर पर फोन कर पुलिस से मदद मांगी जिसपर मौके पर पहुंची पीआरवी 4569 और इवेंट सूचना पर 4614 ने देखा की पीड़ित की बुजुर्ग मां को खून की जरूरत है जिसपर तत्काल पुलिस ने ब्लड डोनेट कर उस युवक के मां की जान बचाई।

पूरी घटना कुछ इस प्रकार है कि एक ’कालर-विनोद कुमार सिंह ने यूपी-100 को सूचना दिया कि, उसकी मां इंद्रावती सिंह बीमार हैं अस्पताल वाले ब्लड नहीं दे रहे हैं, तत्काल पुलिस की आवश्यकता है। घटनास्थल,-शेखर अस्पताल इंदिरानगर पर, इस सूचना पर पीआरवी 4569 कॉलर के द्वारा बताए हुए स्थान पर अल्प समय में मौके पर पहुंचे तो कॉलर ने बताया कि उनका नाम विनोद कुमार सिंह है जो कि भूतपूर्व आर्मी है, सुल्तानपुर का रहने वाला है, उनकी माँ इंद्रावती जिनकी उम्र लगभग 80 वर्ष है, जो 12 मई को घर के आंगन में गिर गयी थी जिसके कारण उनका पैर टूट गया था, जिसके बाद उनको लखनऊ के आर्मी कमांड अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां के डॉक्टरों द्वारा 16 मई को ऑपरेशन करने के लिए शेखर अस्पताल भेजा गया।

यह भी पढ़ें :- खाकी में भी होता है साहब इंसान…

उसके बाद ही उसने बताया कि उसको ऑपरेशन से पहले डॉक्टर द्वारा बताया गया कि उसकी माँ का लिवर और किडनी डैमेज है, उनको तत्काल 2 यूनिट खून की आवश्यकता है, मैं ब्लड बैंक गया था खून लेने पर उन लोगों ने कहा ही हम आपको तभी खून दे पाएंगे जब आप हमें 2 यूनिट खून कहीं से उपलब्ध कराओगे क्योंकि ऐसा नियम है और हम नियम के विपरीत कार्य नही कर सकते हैं, मैने ब्लड बैंक वालों से कहा कि मुझे खून की आवश्यकता तुरंत है और मेरा लखनऊ में कोई जानने वाला नहीं है और मैंने सुल्तानपुर में अपने परिवार वालों को सूचित कर दिया है वो लोग निकल चुके हैं, आते ही आपको खून मिल जाएगा पर वो लोग देने को तैयार नहीं हैं इसीलिए मैंने यूपी 100 को सूचना दी थी।

इस सूचना पर मौके पर पहुंचे पीआरवी 4569 के कमांडर दिगम्बर सिंह द्वारा खुद का खून देकर कालर की मदद करने का निर्णय लिया, चूंकी कॉलर को 2 यूनिट खून की आवश्यकता थी, इसलिए पीआरवी कमांडर दिगम्बर सिंह द्वारा उपरोक्त घटना के संबंध में आरोआईपी पर ड्यूटी पर मौजूद पर्यवेक्षक अधिकारी चंद्रशेखर को उपरोक्त घटना की सम्पूर्ण जानकारी दी गयी जिसके बाद उनके द्वारा उपरोक्त सूचना को सभी ग्रुप में प्रसारित कर पीआरवी स्टाफ से मदद मांगी गई जिसपे पीआरवी 4542 पर नियुक्त कमांडर रवि कुमार द्वारा खून देने की इच्छा जाहिर की गयी, और दोनों पीआरवी वाहनों पर नियुक्त कॉमण्डर द्वारा कॉलर को खून देकर उसकी सहायता की गयी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

तेज रफ्तार कार डिवाइडर से जा टकराई, युवक घायल…

Published

on

लखनऊ। राजधानी में तेज रफ्तार वाहनों से आए दिन एक्सीडेंट्स की घटनाएं हो रही हैं और यह थमने का नाम नहीं ले रही हैं। ऐसा ही एक मामला थाना चौक के रूमी गेट चौराहे पर देखने को मिला है, जहां एक तेज रफ्तार कार डिवाइडर से जा टकराई है। बताया जा रहा है कि डिवाइडर से टकराने पर कार सवार युवक को गंभीर चोट आई हैं।

ये भी पढ़े: ट्रक में मिला युवक का शव, मामा पर जताई हत्या की आशंका

वहीं इस घटना की सूचना मौके पर स्थानीय लोगों ने पुलिस को पहुंचाई। जिसके बाद घटनास्थल पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल युवक को ट्रामा सेंटर में भर्ती करवाया। वहीं पुलिस ने घायल युवक की कार में शराब की बोतल भी बरामद की है और साथ ही पुलिस के मुताबिक कार सवार युवक नशे में धुत था, जिसके कारणवश कार पर नियन्त्रण न रख पाने की वजह से वह डिवाइडर से जा टकराई। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 17, 2019, 8:46 pm
Mostly clear
Mostly clear
34°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 33%
wind speed: 1 m/s NW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:18 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending