Connect with us

क्राइम-कांड

लखनऊ में बाइक सवार लुटेरों का आतंक, आधे घंटे में तीन लोगों के लूटे मोबाइल

Published

on

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में बदमाशों का आतंक रूकने का नाम नही ले रहा है। लखनऊ के चिनहट थाना क्षेत्र स्थित देर रात आधे घंटे के अंदर बाइक सवार बदमाशों ने अलग-अलग जगहों से तीन लोगों से मोबाइल लूट कर भाग निकले। बताया जा रहा है कि लुटेरों के शिकार हुए सभी लोग फोन पर बात करने में व्यस्त थे। पीड़ित जब पुलिस के पास मामला दर्ज कराने पहुंचे तो पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज किया। 

बता दें कि, चिनहट के मटियारी चौराहे के पास प्रापर्टी डीलर विजय श्रीवास्तव मोबाइल फोन पर बात कर रहे थे। अचानक दो बाइक सवार बदमाश आये और उनका मोबाइल छीन लिया। जब वे कुछ समझ पाते तब तक बदमाश फर्राटा भरते निकल गए। बदमाशों ने इसके अलावा मटियारी चौराहे से कुछ ही दूरी पर दयाल स्टेट के गेट के सामने एक व्यक्ति से मोबाइल की लूट की। अंत में बदमाश आयोध्या मार्ग स्थित साईं मार्केट के पास भी एक युवक से मोबाइल छीन कर भाग खड़े हुए।

इसे भी पढ़ें- एडीजी ने किया राजधानी की सड़कों का औचक निरीक्षण, अधिकारियों में मचा हड़कंप

आपको बता दें कि, विजय श्रीवास्तव जब थाने पहुंचे तो पुलिस ने उनसे मोबाइल खो जाने की तहरीर देने को कहा। सोशल मीडिया पर मामला प्रसारित होने के बाद पुलिस कमिश्नर ने इंस्पेक्टर चिनहट क्षितिज त्रिपाठी को फटकार लगाई। पुलिस ने विजय की तहरीर पर लूट का मामला दर्ज कर लिया है। वहीं छिनैती के दो अन्य मामलों के बारे में पुलिस ने जानकारी से इंकार किया है।  http://www.satyodaya.com

क्राइम-कांड

बिकरू कांड की जांच के लिए सरकार ने गठित की एसआईटी…

Published

on

31 जुलाई तक रिपोर्ट देने को कहा-

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिकरू कांड की जांच के लिए तीन सदस्यीय एसआईटी गठित कर दी है। एसआईटी में अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी, एडीजी हरिराम शर्मा और डीआईजी जे. रविंद्र गोड़ शामिल हैं। 31 जुलाई तक एसआईटी अपनी जांच रिपोर्ट सरकार को सौंप देगी। अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी को एसआईटी को लीड करेंगे। सरकार ने दुर्दांत अपराधी विकास दुबे के खिलाफ अब हुई कार्रवाई, पुलिस व स्थानीय प्रशासन द्वारा उसके खिलाफ उठाए गए कदम और उसे सजा दिलाने में स्थानीय प्रशासन की भूमिका की भी जांच के लिए एसआईटी बनाई है।

इन सवालों के जवाब खोजेगी एसआईटी

एसआईटी यह भी पड़ताल करेगी कि विकास दुबे पर दर्ज मामलों में क्या प्रभावी कार्रवाई की गई? विकास दुबे के साथियों को सजा दिलाने के लिए की गई कार्रवाई क्या पर्याप्त थी? विकास दुबे की जमानत रद्द कराने के लिए क्या कार्रवाई हुई? मार्च 2020 में दर्ज मुकदमे में जमानत निरस्तीकरण की कार्रवाई क्यों नहीं हुई? विकास दुबे के खिलाफ शिकायतों में एसओ चैबेपुर व सीनियर अफसरों ने क्या जांच की क्या कार्रवाई की? विकास दुबे और उसके साथियों पर गैंगस्टर एक्ट गुंडा एक्ट एनएसए में क्या कार्रवाई हुई? कार्रवाई में लापरवाही किस अफसर ने की?

विकास का साथ देने वाले पुलिसकर्मी भी आएंगे जद में

एसटीआई उन पुलिसकर्मियों की भी कुडली खंगालेगी जो गैंगेस्टर का साथ दे रहे थे। विकास दुबे की कॉल डिटेल खंगाली जाएगी। बीते 1 साल के दौरान गैंगेस्टर से संपर्क रखने वाले पुलिसकर्मियों के विरुद्ध साक्ष्य मिले तो कार्रवाई की अनुशंसा भी होगी? एसआईटी यह भी पता लगाएगी कि घटना के वक्त विकास दुबे और उसकी गैंग के पास मौजूद फायरपावर कैसे आई? थाने को जानकारी थी या नहीं?

यह भी पढ़ें-स्वस्थ समाज की स्थापना के लिए जनसंख्या नियंत्रण जरूरी: CM योगी


विकास दुबे के खिलाफ दर्जनों मुकदमों दर्ज होने के बावजूद किस अफसर ने उसे हथियार के लाइसेंस दिलवाए और कैसे? लाइसेंस निरस्त क्यों नहीं हुए? विकास दुबे और उसके साथियों की अवैध संपत्ति धंधा व अन्य कारोबार में पुलिस में कैसे बरती ढिलाई? किस अफसर ने उसे संरक्षण दिया? कौन-कौन सी सरकारी व गैर सरकारी जमीनों पर किया कब्जा? किस अधिकारी की क्या भूमिका? जांच में विकास दोषी पाए गए अफसरों के खिलाफ कार्रवाई के लिए एसआईटी संस्तुति करेगी।

गंभीरता से जांच हुई तो बड़े ‘साहबों’ का फंसना तय

सूत्रों के मुताबिक यदि एसआईटी ने गंभीरता से जांच की तो बिकरू कांड में बड़े अफसरों पर के खिलाफ कार्रवाई तय है। एसआईटी की जांच में पिछले एक साल में कानपुर में तैनात रहे डीएम, एसएसपी, आईजी, एडीजी और कमिश्नर तक जांच के दायरे में हैं। तहसील स्तर के अधिकारी भी जांच के दायरे में आएंगे। एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर बिकरु कांड के लिए जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ सरकार कार्रवाई कर सकती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

विकास दुबे कांड: एडीजी एलओ ने कहा- अब तक छह मारे गए…12 की तलाश जारी

Published

on

लखनऊ। गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद उत्तर प्रदेश के एडीजी लाॅ एण्ड आर्डर प्रशांत दुबे ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर पूरी कहानी समझाई। एडीजी एलओ ने कहा कि विकास दुबे को लेकर आ रही पुलिस व एसटीएफ टीम का वाहन अचानक कानपुर के पास पलट गया। जिसमें विकास दुबे और कुछ पुलिसकर्मी घायल हो गए। विकास दुबे पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने लगा।

पुलिसकर्मियों ने उसे सरेंडर करने को कहा तो उसने फाॅयरिंग कर दी। जिसके बाद पुलिस की जवाबी फाॅयरिंग में वह घायल हो गया। उसे तुरंत इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। एडीजी ने बताया कि इस घटना में चार पुलिसकर्मी व एसटीएफ के दो जवान घायल हुए हैं।

यह भी पढ़ें-#Vikas Dubey Encounter: 2 जुलाई की रात से 10 जुलाई की सुबह तक की कहानी

एडीजी एलओ ने बताया कि दो जुलाई को कानपुर एनकाउंटर मामले में कुल 21 आरोपी नामजद हैं, जबकि 60 से 70 अन्य अभियुक्त थे। जिसमें से अब तक 3 लोग गिरफ्तार हुए हैं। 6 मारे गए हैं और 120 बी के अंदर 7 लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है। 12 इनामी बदमाश वांछित चल रहे हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे व बेटा लखनऊ के कृष्णानगर से गिरफ्तार

Published

on

नौकर भी पुलिस हिरासत में

लखनऊ। कानपुर के दुर्दांत अपराधी विकास दुबे के आत्म समर्पण के उसकी पत्नी भी सामने आ गयी है। गुरुवार देर रात लखनऊ के कृष्णानगर में ऋचा दुबे को उसके बेटे के साथ पुलिस ने दबोच लिया। ऋचा के साथ उसका नौकर भी गिरफ्तार हुआ है। बता दें कि 2 जुलाई को ऋचा दुबे लखनऊ में थी। कानपुर के बिकरू गांव में विकास दुबे और पुलिस के बीच मुठभेड़ की सूचना मिलते ही ऋचा दुबे अंडरग्राउंड हो गयी थी। #VikasDubeyDiary लखनऊ पुलिस ने कई बार ऋचा दुबे की तलाशी में छापेमारी की।

यह भी पढ़ें-महाकाल मंदिर में लिखी गई विकास दुबे के आत्म समर्पण की पटकथा!

लेकिन कामयाबी नहीं मिली। गुरुवार सुबह उज्जैन में विकास दुबे ने आत्म समर्पण कर दिया। इसके बाद विकास के बताए हुए ठिकाने से लखनऊ पुलिस ने ऋचा दुबे को भी दबोच लिया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 12, 2020, 7:35 am
Fog
Fog
29°C
real feel: 35°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:52 am
sunset: 6:33 pm
 

Recent Posts

Trending