Connect with us

क्राइम-कांड

बेखौफ बदमाशों ने युवक की हत्या कर शव नाले में फेंक कर हुए फरार

Published

on

लखनऊ। राजधानी में बेखौफ हुए बदमाशों की किसी बात को लेकर एक मजदूर से विवाद हो गया था। जिसके बाद ही ने बीती देर रात उन बदमाशों ने उस मजदूर का अपहरण कर मलिहाबाद थाना क्षेत्र में हत्या कर फेंक कर फरार हो गए। सुबह संतोष कुमार ने शव को नाले में देख पुलिस को सूचना दी। जिसमें उन्होंने बताया कि तिलुसवां गांव के मोईद के खेत के पास बेला नाले में एक व्यक्ति का शव पड़ा है। जिसकी जानकारी पाते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आगे की जांच में जुटी है।

जिसमें मलिहाबाद पुलिस ने बताया कि मृतक आलोक गुप्ता (24) पुत्र शिव प्रसाद संडीला निवासी जो लखनऊ में रहकर मजदूरी का काम करते हैं। जिनकी पारा थाना क्षेत्र कुछ लोागों से विवाद हुआ हुआ था। जिसके बाद ही उन लोगों ने आलोक का अपहरण कर उसको मलिहाबाद लेजाकर उसकी पीट-पीट कर हत्या कर दी और उसको नाले में फेंक कर मौके से फरार हो गए। जिसके बाद से ही पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है। साथ ही पुलिस जांच करने के साथ ही आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है।

यह भी पढ़ें :- मोटरसाइकिल स्टैंड पर गाड़ी निकालते समय युवक की हुई मौत

वहीं अगर सूत्रों की मानें तो अवैध सम्बन्धों के चलते आलोक गुप्ता की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई है। साथ ही पारा में उसके मकान मालिक पर अपने साथियों समेत वारदात को अंजाम देने का आरोप भी लगा है। जिसमें बताया जा रहा है कि कल रात अलोक को घर में शराब पिलाने के बाद ही मौत के घाट उतार दिया था। साथ ही बताया जा रहा है मकान मालिक के यहां किराये पर रह रही एक महिला के साथ मृतक अलोक के अवैध सम्बन्ध थे जिसके कारण ही उसकी हत्या की गई है।

वहीं मलिहाबाद पुलिस ने आलोक की हत्या का खुलासा करते हुए चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जिसमें पुलिस ने उनकी पहचान सिपाही लाल, मोनू, बब्लू प्रजापति और कल्लू बनिया के रूप कराई है। साथ ही पुलिस ने हत्या का खुलासा करते हुए बताया कि आलोक हत्या करने का कारण अवैध सम्बंध है। http://www.satyodaya.com

क्राइम-कांड

हिमाचल: 15 वर्षीय किशोरी के साथ 21 साल के युवक ने किया दुष्कर्म, गिरफ्तार

Published

on

लखनऊ। हिमाचल के ऊना जिले से एक मामला सामने आया है। जहां पर 15 साल की किशोरी के साथ 21 साल के युवक ने दुष्कर्म किया है। इस घटना से परिजनों में हड़कंप मच गया। घटना की सूचना मिलने से पुलिस घटना स्थल पर पंहुची और आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के अनुसार, मुख्यालय के साथ लगते एक गांव में प्रवासी परिवार पिछले काफी समय से रह रहा है। किशोरी के परिजनों ने बताया कि ऊना शहर में रहने वाला प्रवासी युवक मेरी बेटी से प्रेम करता था। और कई दिनों से शादी को लेकर कॉल करता रहता था। बुधवार सुबह बेटी को खड्हर की ओर गई थी, तो आरोपी युवक बेटी को अपने किराए के मकान में ले गया, जहां उसे दिनभर रखा, और 15 वर्षीय नाबालिग संग दुराचार किया। पुलिस ने शिकायत के आधार पर 21 वर्षीय युवक पर मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें- 24 घंटों में कोरोना के सबसे ज्यादा 22,771 नए मामले, 442 लोगों की मौत

मामले की जानकारी बेटी ने परिजनों को दी, जिसके बाद परिजनों ने युवक के खिलाफ महिला थाना में शिकायत दी। एएसपी ऊना विनोद कुमार धीमान ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

राजनीतिक संरक्षण में खूब फला-फूला विकास दुबे उर्फ ‘शिवली का डाॅन’

Published

on

लखनऊ। कानपुर में सीओ और एसओ सहित 8 पुलिस जवानों को शहीद करने वाला विकास दुबे का आपराधिक इतिहास काफी लंबा है। लेकिन अपनी राजनीतिक पहुंच के चलते गंभीर वारदातों को अंजाम देने के बाद भी वह हर बार बच जाता था। सत्ता के साथ तालमेल बैठाने के चलते विकास दुबे अभी तक बचता आया है। पूर्ववर्ती सपा और बसपा सरकारों ने अपराधी विकास दुबे को डाॅन बनने में भरपूर मदद की। बचपन से ही अपराधी किस्म के विकास दुबे ने वर्ष 2000 के आस-पास राजनीतिक पकड़ मजबूत की। कानपुर कांड के बाद सोशल मीडिया पर एक पोस्टर तेजी से वायरल हो रहा है। यह पोस्टर उस समय का है, जब विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे सपा के समर्थन पर जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ा था।

अपराध और राजनीतिक मजबूत गठजोड़ के चलते पिछले दो दशकों से कानपुर नगर और कानपुर देहात में विकास दुबे की तूती बोलती थी।

काॅलेज प्रबंधक की हत्या कर बना शिवली का डाॅन

वर्ष 2000 में विकास दुबे ने कानपुर के शिवली थाना क्षेत्र में एक इंटर काॅलेज के सहायक प्रबंधक सिद्धेश्वर पांडेय की हत्या दिनदहाड़े हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड के बाद विकास दुबे शिवली का डाॅन के नाम से मशहूर हो गया। इसी हत्याकांड में विकास दुबे को उम्रकैद की सजा हुई। लेकिन बाद में वह बरी हो गया। इस हत्याकांड के बाद जेल में बैठे विकास दुबे साथियों की मदद से हत्या, लूट और रंगदारी की घटनाओं को अंजाम देता रहा।

जेल में बैठकर भी रचता रहा हत्या, लूट व रंगदारी की साजिशें

वर्ष 2000 में ही विकास दुबे पर रामबाबू यादव की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगा। यह साजिश उसने जेल में बैठकर रची थी। वर्ष 2004 में एक केवल कारोबारी दिनेश दुबे की हत्या में भी विकास दुबे का नाम आया था। वर्ष 2013 में भी विकास दुबे ने हत्या की एक बड़ी वारदात को अंजाम दिया था।

दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री में थाने के अंदर गोलियों से भूना

विकास दुबे के दबदबे का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2001 में विकास दुबे ने भाजपा सरकार में दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की थाने में घुसकर हत्या कर दी थी। तब यूपी में राजनाथ सिंह की सरकार थी। विकास दुबे के खौफ के चलते सबूतों व गवाहों की कमी के चलते उस पर आरोप सिद्ध नहीं हो सके और कुछ दिन बाद उसे जमानत मिल गयी।

बसपा के समर्थन पर बना था जिला पंचायत अध्यक्ष

अपराध दुनिया में नाम कमाने के बाद विकास दुबे ने राजनीति में सक्रियता बढ़ाई। पंचायत व निकाय चुनावों में उसने कई राजनीतिक पार्टियों की मदद की। इसी दौरान सभी प्रमुख नेताओं से उसके संबंध हो गए। अपने राजनीतिक गठजोड़ से विकास दुबे ने राजनीति में भी एंट्री ली। बसपा के समर्थन पर उसने जेल में रहते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जीता था। जिसमें वह जीता भी था।

गांव के बाहर विकास दुबे के नाम का लगा पत्थर

सूत्रों के अनुसार प्रदेश में सपा की सरकार बनने पर विकास दुबे सपा के साथ हो गया। सपा के समर्थन पर उसकी पत्नी पत्नी ने जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ा था। सूत्रों के अनुसार बसपा सरकार में मंत्री रहे अनंत मिश्रा और विकास दुबे के बीच काफी घनिष्ठ संबंध थे। वर्ष 2002 में बसपा सरकार के समय विकास दुबे की काफी दबदबा था।

करोड़ों की संपत्ति का मालिक

अपराध और रानीतिक गठजोड़ के दम पर विकास दुबे ने करोड़ों की संपत्ति बनाई। बिठूर में ही उसके स्कूल और कॉलेज हैं। वह एक लॉ कॉलेज का भी मालिक है। विकास दुबे पर जमीनों की अवैध खरीद-फरोख्त का भी आरोप है।

विकास दुबे के खिलाफ 60 मुकदमे दर्ज,

बचपन से ही अपराधी किस्म के विकास दुबे करीब दो दशक पहले अपनी गैंग बनाई और हत्या, लूट, डकैती जैसी वारदातों को अंजाम देने लगा। पुलिस ने कई बार उसे गिरफ्तार किया, लेकिन हर बार वह छूट गया। अभी हाल ही में लखनऊ एसटीएफ ने उसे कृष्णा नगर से गिरफ्तार कर जेल भेजा था। लेकिन कुछ समय पहले छूट गया था।

यह भी पढ़ें-विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए यूपी पुलिस ने झोंकी पूरी ताकत: डीजीपी

शुक्रवार को डीजीपी ने बताया कि विकास दुबे पर यूपी के विभिन्न जनपदों में करीब 60 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें हत्या, लूट, जमीन कब्जाने, धमकाने जैसे मामले हैं। ‘शिवली का डाॅन’ नाम से मशहूर विकास दुबे ने युवाओं की फौज तैयार कर रखी थी। जिसके दम पर वह राजनीतिक सक्रियता के साथ लूट, डकैती और हत्या जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम देता था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

प्रयागराज में एक ही परिवार के 4 लोगों की धारदार हथियार से काटकर हत्या

Published

on

लखनऊ। कानपुर में पुलिसकर्मियों के नरसंहार के बीच यूपी के प्रयागराज से बड़ी घटना सामने आई है। यहां गंगापार होलागढ़ थाना क्षेत्र के एक गांव में गुरुवार देर रात एक ही परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार से हत्या कर दी गयी। जबकि एक की हालत गंभीर बतायी जा रही है। इस हत्याकांड की जानकारी शुक्रवार सुबह हुई। घटना की सूचना मिलते ही जनपद में हड़कंप मच गया। आला अफसरों ने तत्काल मौके पर पहुंच कर घटना का जायजा लिया।

पुलिस ने सभी के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं। प्रयागराज पुलिस के अनुसार मृतकों के नाम विमलेश पांडे (40), पुत्री सोमू (22), सीबू (19), बेटा प्रिंस (18) हैं। जबकि रचना पांडे की हालत नाजुक है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें-कानपुर: बदमाशों के हमले में सीओ, एसओ सहित 8 पुलिसकर्मी शहीद

घटनास्थल पर फॉरेंसिक टीम जांच में जुटी हुई है। एसएसपी प्रयागराज अभिषेक दीक्षित ने भी मौके पर पहुंच कर घटना की जानकारी ली है। हत्या किसने और क्यों की है? इस बारे में अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 4, 2020, 2:36 pm
Partly sunny
Partly sunny
32°C
real feel: 40°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 79%
wind speed: 3 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 5
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending