Connect with us

सर्राफ़ा

अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंची चांदी, सोने का भाव गिरा

Published

on

नई दिल्ली। सोना के बाद अब चांदी ने भी महंगाई का अपना पुराना रिकार्ड तोड़ दिया। मंगलवार को चांदी 45000 प्रति किलोग्राम पर पहुंच गयी। जो चांदी का अब तब का सबसे ऊंचा भाव है। अखिल भारतीय सर्राफा संघ के अनुसार औद्योगिक इकाइयों और सिक्का निर्माताओं की खरीदारी बढ़ने के अलावा मजबूत वैश्विक रुख के चलते प्रमुख तौर पर चांदी की कीमतों में तेजी आई है। वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में सोने का भाव 1,520.37 डॉलर प्रति औंस जबकि चांदी का भाव 17.32 डॉलर प्रति औंस रहा।
ऑल इंडिया सराफा एसोसिएशन के अनुसार, चांदी में आज 2,000 रुपये का उछाल आया है, जिससे इसके भाव 45,000 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गए हैं। कारोबारियों के अनुसार औद्योगिक इकाइयों और सिक्का कारोबारियों दवारा लिवाली बढ़ने के बीच मुख्य रूप से वैश्विक रुख में भारी तेजी से चांदी के भाव में यह बढ़त देखी गई है। वहीं सोने में के भाव में मंगलवार को 100 रुपए की गिरावट देखने को मिली, इसका भाव 38,370 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया है।
ऑल इंडिया सराफा एसोसिएशन के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में आज 99.9 फीसद शुद्धता वाला सोना 100 रुपये की गिरावट के साथ 38,370 रुपये प्रति 10 ग्राम पर और 99.5 फीसद शुद्धता वाला सोना भी 100 रुपये की ही गिरावट के साथ 38,200 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया। वहीं, गिन्नी सोने की कीमत आज 200 रुपये बढ़कर 28,800 रुपये प्रति 8 ग्राम पर आ गई। सोमवार को सोना दोबारा सर्वकालिक उच्चतम स्तर 38,470 पर पहुंचा था।

यह भी पढ़ें-पाकिस्तानी सेना की सक्रियता पर बोले सेना प्रमुख रावत- परेशान होने की जरुरत नहीं, हम तैयार हैं…

उधर चांदी की बात करें, तो चांदी के भाव में आज मंगलवार को 2,000 रुपये की भारी तेजी दिखाई दी, जिससे इसका भाव 45,000 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया। वहीं, साप्ताहिक डिलिवरी वाली चांदी 956 रुपये की तेजी से 44,280 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई। उधर चांदी के सिक्कों की लिवाली कीमत 1,000 रुपये बढ़कर 89,000 रुपये प्रति सैकड़ा और बिकवाली कीमत भी 1,000 रुपये बढ़कर 90,000 रुपये प्रति सैकड़ा हो गई।http://www.satyodaya.com

सर्राफ़ा

सोना और चांदी ने लगाई और ऊंची छलांग, गोल्ड 38,000 हजार के पार

Published

on

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार से मजबूती के समाचार, डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट और कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी से दिल्ली सर्राफा बाजार में शुक्रवार को दोनों कीमती धातुओं ने लंबी छलांग लगाई। सोना 475 रुपए की तेजी के साथ एक बार फिर 38,000 रुपए प्रति दस ग्राम से ऊपर निकल गया। चांदी हाजिर 370 रुपए की छलांग के साथ 44,680 रुपए प्रति किलोग्राम रही।
कारोबारियों के अनुसार विदेशी बाजारों में सोने की कीमतों में तेजी से घटबढ़ बनी हुई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना एक बार फिर 1524.90 डॉलर प्रति ट्राय औंस को छूने के बाद नरम हैं। चांदी भी 17 डालर प्रति ट्राय औंस के आसपास बनी हुई है। स्थानीय स्तर पर भाव ऊंचे होने से हालांकि मांग कमजोर है। कारोबारियों का कहना है कि खरीदार पुराने सोने की अदला-बदली पर अधिक जोर दे रहे हैं। भाव ऊंचा होने की वजह से जुलाई में सोने का आयात 42 प्रतिशत गिरकर 1.71 अरब डॉलर का रह गया। डॉलर के मुकाबले रुपए के कमजोर पड़ने और कच्चा तेल मजबूत होने का भी स्थानीय बाजार में कीमती धातुओं पर असर पड़ा है।

यह भी पढ़ें-अब अटल चौक के नाम से जाना जाएगा हजरतगंज चौराहा, महापौर ने किया नामकरण

स्थानीय सर्राफा बाजार में हालांकि पीली धातु में मांग कम थी, लेकिन विदेशी भावों और रुपए की कमजोरी का देखते हुए सोना स्टैंडर्ड 475 रुपए की छलांग लगाकर 38420 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। बारह अगस्त के कारोबार में सोना 38,470 रुपए बिका था। सोना बिटुर भी 475 की छलांग से 38250 रुपए प्रति दस ग्राम बोला गया। चांदी हाजिर में औद्योगिक मांग जारी रहने से 44680 रुपए पर 370 रुपए प्रति किलो का उछाल आया। चांदी वायदा 43824 रुपए पर 594 रुपए प्रति किलो ऊपर बोला गया। चांदी सिक्का लिवाली, बिकवाली 200-200 रुपए प्रति सैंकड़ा की छलांग लगाकर 90 हजार और 91 हजार रुपए प्रति सैंकड़ा हो गया। गिन्नी 28700 रुपए प्रति आठ ग्राम पर टिकी रही।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

अमेरिका-चीन के Trade War ने लगायी सोने के भाव में आग, दर्ज की ऐतिहासिक वृद्धि

Published

on

लखनऊ। सोना (गोल्ड) भारतीयों का पारंपरिक गहना रहा है। पीले रंग की इस चमचमाती कीमती धातु का इस्तेमाल शरीर की शोभा बढ़ाने के लिए होता है। शादी-ब्याह सहित तमाम उत्सव के अवसर पर इस आकर्षक धातु का महत्व और भी बढ़ जाता है। आज से नहीं बल्कि प्राचीन काल से ही सोना आभूषणों के लिए इस्तेमाल होता आ रहा है और समृद्धि का प्रतीक भी बना हुआ है। सोने के भाव में वैसे तो हर रोज कुछ न कुछ उतार-चढ़ाव होता रहा है। लेकिन पिछले एक माह के भीतर सोने के भाव में जो निखार आया है वैसा कभी नहीं रहा। भारतीय इतिहास में पहली बार सोना 37,000 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंचा है। भाव की इस तेजी में चांदी भी पीछे नहीं है, सोना के साथ चांदी के भाव में भी तेजी आई है। सोने और चांदी के भाव में यह तेजी सबसे ज्यादा उन परिवारों पर भारी पड़ रही है जिनके घर में बेटी या बेटे की शादी तय है। सोने और चांदी के यह भारी भाव उनकी जेब और ज्यादा हल्का कर देगा।
जानकारों का कहना है कि सोने के भाव में आई इस ऐतिहासिक वृद्धि का अंतरराष्टीय कनेक्शन है। दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन के बीच छिड़े व्यापार युद्ध (trade war), डाॅलर की तुलना में रुपए का कमजोर होना, ईरान व उत्तर कोरिया पर अमेरिकी प्रतिबंध और वैश्विक मंदी समेत कई अंतरराष्टीय कारण हैं जिनके चलते सोने के भाव में ऐतिहासिक वृद्धि है।
अमेरिकी अर्थव्यवस्था इस समय वैश्विक मंदी से आशंकित है। इसी का नतीजा है कि अमेरिका के केन्द्रीय बैंक फेडरल रिजर्व ने वर्ष 2008 की मंदी के बाद गुरुवार को पहली बार ब्याज दरों में कटौती कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों को 2 से 2.25 के बीच रखना तय किया है, जिसका असर क्रेडिट कार्ड और कई तरह के लोन पर होगा। अमेरिका के फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में कटौती किए जाने के बाद भारत सहित सभी उभरते बाजारों में तेज गिरावट दर्ज की गई।
फेडरल रिजर्व के इस कदम से दुनिया भर के बाजारों में मंदी देखी गयी। जबकि बाॅन्ड और प्रतिफल में मजबूती आई है। इसका असर भारतीय बाजार और रुपये पर भी देखा गया। कारोबार के दौरान बेंचमार्क सेंसेक्स 787 अंक तक लुढ़क गया था। हालांकि बाद में शॉर्ट कवरिंग और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर की अच्छी वापसी से गिरावट पर थोड़ी लगाम लगी और सेंसेक्स 463 अंक गिरकर 37,018 पर बंद हुआ। नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 138 अंक गिरकर 10,980 पर बंद हुआ।#Gold
अमेरिका में ब्याज दरों में कटौती के ऐलान के साथ ही अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध और गहराने की आशंका बढ़ गयी है। अमेरिकी राष्टपति डोनाल्ड टंप ने धमकी दी है कि सितंबर से चीन से आयात होने वाले सामान पर 10 प्रतिशत टैरिफ और बढ़ा देंगे। अमेरिका ने चीन की 300 अरब डाॅलर मूल्य की वस्तुओं पर टैरिफ लगाने की धमकी दी है। इसके चलते दुनिया भर की बाजारों में सोने की सुरक्षित निवेश की मांग बढ़ी है जिसके चलते सोने का भाव बढ़ा है। वहीं दूसरी ओर डाॅलर के मुकाबले रुपया पांच महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया है जिसके चलते सोना महंगा हुआ है। वायदा बाजार में जनवरी 2019 से लेकर अब तक सोने के भाव में 14 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जा चुकी है।
वैश्विक बाजार में सोने की कीमत अब 1440 डाॅलर पर पहुंच गयी है। जिसकी वजह से घरेलू बाजारों में सोने का भाव बढ़ा है। व्यापार युद्ध की आशंका के चलते सोना 1400 के स्तर पर बना हुआ है। अमेरिका-चीन के बीच मार्च 2018 से ट्रेड वॉर शुरू हुआ था। तब से लेकर अब तक दोनों देश एक-दूसरे के अरबों डॉलर के आयात पर शुल्क लगा चुके हैं। पिछले साल नवंबर में वार्ता शुरू हुई लेकिन अप्रैल 2019 में टूट गई।
गुरुवार को ट्रम्प ने ऐलान किया कि 1 सितंबर से चीन के 300 अरब डाॅलर (21 लाख करोड. रुपए) के अतिरिक्त उत्पादों पर 10 प्रतिशत टैरिफ लगाया जाएगा। जबकि बुधवार को ही अमेरिकी प्रतिनिधि बीजिंग से वापस लौटे हैं और सितंबर में दोनों देशों के बीच व्यापार समझौते को लेकर बैठक होने वाली है। टंप ने दावा किया है इससे अमेरिका में महंगाई नहीं बढ़ेगी जबकि चीन को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। इससे पहले मई में अमेरिका ने चीन की 250 अरब डाॅलर के आयात पर टैरिफ 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया था। जिसके जवाब में चीन ने भी अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ा दिया था।

यह भी पढ़ें-इस शख्स ने डिजाइन किया था हमारा तिरंगा, जानिए ये बातें…

अमेरिका का यह टेड वार भारत के साथ भी पिछले एक साल से जारी है। जिसके तहत अमेरिका ने भारतीय उत्पादों पर टैरिफ बढ़ा दिया, साथ ही टंप ने भारत को व्यापार सुगमता सूची से भी बाहर कर दिया। जिसके जवाब में भारत ने भी अमेरिका से आयात होने वाले उत्पादों पर शुल्क बढ़ा दिया है।
बता दें कि वर्ष 1985 से 2019 तक पहुंचते- पहुंचते चीन और अमेरिका के बीच व्यापार घाटा 419 अरब डाॅलर पर पहंुच चुका है। अमेरिका चाहता है कि चीन इस विशाल व्यापार घाटे को पाटे। अमेरिका का आरोप है कि चीन व्यापार में गलत हथकंडे अपनाता है। टंप चाहते हैं कि बीजिंग अपनी आर्थिक नीतियों में बदलाव करे क्योंकि वो घरेलू सब्सिडी देकर अपनी कंपनियों की मदद करता है। वर्ष 2018 के ऑकड़ों के हिसाब से अमेरिका 519 अरब डाॅलर के चीनी सामान का आयात कर रहा है। जबकि चीन मात्र 120 अरब डाॅलर के उत्पादों का आयात कर रहा था। अमेरिका और चीन के बीच छिड़े इस ट्रेड वार से दुनिया भर की बाजारों में अनिश्चितता और उथल-पुथल मची हुई है। सेंसेक्स और निफ्टी गोता खा रहे हैं।
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा है कि पिछले साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में आई गिरावट के पीछे अमरीका और चीन में तनाव बढ़ना एक प्रमुख कारण था, जिसकी वजह से साल 2019 का आर्थिक अनुमान घटाना पड़ा। लेकिन अमरीका का व्यापारिक विवाद केवल चीन के साथ ही नहीं है। अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने मैक्सिको, कनाडा और यूरोपीय संघ पर शुल्क बढ़ाए हैं।

रिपोर्ट-राजीव शुक्ला

Continue Reading

सर्राफ़ा

भारत में पहली बार सोना 36 हजार के पार, चांदी का भी चढ़ा भाव

Published

on

नई दिल्ली। पिछले कुछ समय से सोना और चांदी के भाव में तेजी देखी जा रही है। लेकिन शुक्रवार को सोने और चांदी ने ऐसी चमक बिखेरी कि ग्राहकों की आंखें चौधिया गईं। आज कारोबार के दौरान राष्ट्रीय राजधानी में सोने की कीमत 36,600 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गयी। भारतीय इतिहास में पहली बार सोने का भाव इस ऊंचाई पर पहुंचा है। इससे पहले कभी भी सोने की कीमत में इतनी बड़ी तेजी नहीं देखी गयी। वहीं चांदी का भाव भी पिछले एक साल के ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। चांदी की कीमत 42,150 रुपए प्रति किलो पर पहुंच गयी है। पिछले तीन दिनों में चांदी के भाव में करीब 2000 रुपए की बढ़ोत्तरी हुई है। शुक्रवार के शुरुआती कारोबार में सोने की कीमत 35,409 रुपये प्रति 10 ग्राम थी। जो शाम तक रिकार्ड स्तर पर पहुंच गयी। इससे पहले सोने की कीमत 35,321 रुपये प्रति 10 ग्राम थी। जानकारों के मुताबिक औद्योगिक इकाईयों और सिक्का निर्माताओं की मांग बढ़ने से सोने और चांदी की भावों में तेजी देखी जा रही है।
इससे पहले 11 जुलाई को सोना और चांदी के भाव में रिकार्ड बढ़त दर्ज की गयी थी। तब 2014 के बाद पहली बार सोना 930 रुपये की बढ़त के साथ 35,800 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया था। जबकि चांदी 300 रुपये उछलकर 39200 रुपये प्रति किलोग्राम हो गयी थी।

अंतरराष्ट्रीय उठा-पटक का असर

जानकारों का कहना है कि सोने के भाव में बढ़ोतरी का यह सिलसिला आगे भी जारी रह सकता है। केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक अमेरिकी केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरों में कटौती के संकेत दिए हैं जिससे डॉलर में नरमी आई है। इससे सोने और चांदी की कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है। वहीं दूसरी तरफ ईरान और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ने से निवेशकों का झुकाव सुरक्षित निवेश उपकरण के रूप में सोने की तरफ बढ़ गया है। उन्होंने आगे बताया कि व्यापारिक और राजनीतिक तनाव से सोना निवेशकों के लिए लगातार पसंदीदा निवेश उपकरण बना हुआ है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक पिछले महीने दुनियाभर में ईटीएफ गोल्ड होल्डिंग में 127 टन का बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि घरेलू शेयर बाजार में कमजोरी आने से भी सोने की तरफ निवेशकों की मांग बढ़ी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 18, 2019, 11:06 pm
Fog
Fog
30°C
real feel: 37°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 88%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:09 am
sunset: 6:11 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending