Connect with us

अपना शहर

नगर निगम का चल रहा 72 घंटे का अभियान हुआ फेल…

Published

on

लखनऊ। राजधानी में कूड़े का अंबार चारो तरफ फैला हुआ है। जिसके कारण शहर मे संक्रामक बीमारीयां फैल रही है। जिसको देखते हुए हाईकोर्ट ने नगर निगम को फटकार लगाई। हाईकोर्ट की फटकार के बाद ही नगर निगम द्वारा 72 घंटे का सफाई अभियान चलाया गया जिसके बावजूद भी शहर की हालत वैसै की वैसी ही है। शहर में जगह-जगह कूड़े का ढ़ेर देखने को मिल रहा है और आवारा पशु भी कूड़े के पास नजर आ रहे हैं। हाईकोर्ट के सख्त कर्रवाई के बाद भी शहर कूड़े का ढ़ेर बना हुआ है। हाईकोर्ट के लखनऊ बेंच ने शहर को कूड़ा मुक्त बनाने के लिए नगर निगम, आवास विकास, और एलडीए को 4 दिन का वक्त दिया था। जिसके बाद भी शहर की हालत जस की तस बनी हुई है।

यह भी पढ़े: युवक को दबंगों ने खौलते तेल की कढ़ाई में ढ़केला, पुलिस ने कराया अस्पताल में भर्ती

पॉलीथीन

सरकार द्वारा कई बार पॉलीथीन बैन होने के बावजूद पॉलीथीन आज भी लगातार इस्तेमाल हो रहा है। जबकि सबसे ज्यादा गंदगी पॉलीथीन की वजह से ही फैलता है। क्योंकि पॉलीथीन कभी भी नष्ट नहीं होता है और उसी पॉलीथीन को खाकर जानवर मर जाते हैं, जिसके चलते संक्रामक बीमारियां फैलती हैं।

आवारा पशु

शहर में आवारा पशुओं की संख्या बहुत बढ़ गई है। जिसके कारण आए दिन लोग समस्याओं से जूझ रहे हैं। कभी-कभी इन आवारा पशुओं की वजह से लोगों की जान भी चली जाती है। शहर में सबसे ज्यादा आवारा पशुओं में सांड़ो की संख्या है। जबकि हाईकोर्ट ने कहा कि सभी आवारा पशुओं को कान्हा उपवन भेज कर शहर को पशु मुक्त बनाया जाए, लेकिन आज हालत वैसी ही बनी हुई है। अभी कुछ दिन पहले ही इलाहाबाद कोर्ट के जज भी आवारा पशुओं के कारण सड़क हादसे का शिकार हुए थे।

नाला

शहर में कुल 84 नाले हैं। जिसकी सफाई तो होती है लेकिन सफाई के बाद कूड़ा कई दिनों तक वहीं का वहीं पड़ा रहता है, जिसकी बदबू की वजह से लोगों का परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस बदबू के कारण कई लोग बीमारी के चपेट में भी आ जाते हैं।  

अशोक कुमार कश्यप

इस मामले पर सत्योदय से बात-चीत के दौरान अशोक कुमार कश्यप जानकीपुरम सेक्टर-ए निवासी  ने बताया कि उनके घर के पास हनुमान जी का मंदिर हैं। जिसके पास कूड़े का ढ़ेर लगा हुआ है। जिसके कारण लोगों को आने- जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं आवारा पशुओं के कारण कई बार लोग हादसे के शिकार भी हुए हैं। लेकिन नगर निगम के तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही हैं। वहीं पार्षदी चुनाव के दौरान कुछ युवको ने पास में लगे टावर पर चढ़कर कूड़े के ढेर को वहां से  हटाने के लिए जान देने की धमकी दिए थे। जिसके बावजूद भी पार्षद द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।  

शुभम गुप्ता

जानकीपुरम निवासी शुभम गुप्ता का कहना है कि उनके घर के पास 2 सरकारी स्कूल है। सरकारी स्कूल के बाहर कूड़े का अंबार और आवारा पशुओं का झुंड भी मंडराता रहता है। जिससे उस रास्ते पर आने- जाने वाले लोगों के साथ ही स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों और शिक्षकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं।

अनुराग सिंह

इंदिरा नगर निवासी अनुराग सिंह का कहना है कि नाला कूड़े से भरा हुआ है लेकिन सफाई नहीं हो रही हैं जिसके चलते बरसात के मौसम में पानी भर जाता है और बरसात के पानी भरने से उसमें कीड़े-मकोड़े, मच्छर आदि पनपते हैं। लेकिन इस पर नगर निगम कभी व स्थानीय पार्षद कभी इस समस्या पर ध्यान नहीं देते हैं। http://www.satyodaya.com               

अपना शहर

लखनऊः जब लाॅकडाउन तोड़ने वालों के आगे दारोगा ने जोड़े हाथ

Published

on

लाख समझाने के बावजूद घरों से निकल रहे लोग

लखनऊ। पुलिस भी आखिर क्या करे…कितनी कार्रवाई करे? और लोगों को कैसे समझाए? टीवी, अखबार, सोशल मीडिया सभी जगह लोगों से एक ही अपील की जा रही है कि सड़कों पर न निकलें। देश को 14 अप्रैल तक लाॅकडाउन किया गया है। दुनिया भर में तबाही मचा रही कोरोना महामारी को रोकना है। यह आप ही लोगों की सुरक्षा के लिए है। लेकिन लोग हैं कि मानने और समझने को तैयार ही नहीं हैं। लखनऊ के थाना ठाकुरगंज के तहसीनगंज चौराहे पर तैनात दारोगा ने लोगों को समझाने के लिए हाथ तक जोड़ लिए। लाॅकडाउन का पालन कराने के लिए शनिवार को चौराहे पर खड़े एसआई मनोज लोगों से घरों से न निकलने की अपील कर रहे थे। इसी बीच कुछ बाइक और कार सवार वहां से गुजरने लगे। इस पर एसआई मनोज ने हाथ जोड़कर लोगों से सरकार और प्रशासन का सहयोग करने की अपील की।

यह भी पढ़ें-15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेने, रेलवे बोर्ड ने कर्मचारियों से कहा- तैयार रहें

बता दें कि सीएम योगी ने प्रदेश में लाॅकडाउन का सख्ती से पालन कराने को कहा है। मुख्यमंत्री ने नियम को न मानने वालों के खिलाफ कार्रवाई की भी छूट दे रखी है। प्रशासन लगातर लोगों से अपील कर रहा है। लेकिन लोग लाॅकडाउन का पूर्ण रूप से पालन नहीं कर रहे हैं। जरूरी कार्यों के बिना भी लोग घरों से निकल रहे है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

कोरोना को हराने में सरकार व डाक्टरों का सहयोग करें सभी लोग : मौलाना सैफ अब्बास

Published

on

धर्मगुरू ने कहा, कोरोना संक्रमण का पता चलते ही इलाज कराएं

लखनऊ। कोरोना वायरस का कहर दुनिया के साथ-साथ भारत में भी बढ़ता जा रहा है। अब तक ताजा आंकड़ों में देश भर में 2800 से ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके है। जबकि 75 लोगों की मौत हो चुकी है। महामारी को रोकने के लिए देश को लाॅकडाउन कर दिया गया है। इसके साथ ही संक्रमित और संदिग्ध मरीजों का पता चलते ही तत्काल उन्हें आइसोलेट कर उपचार भी किया जा रहा है। लेकिन पिछले तीन-चार दिन में देश भर में ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, समुदाय विशेष के लोगों ने डाक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिसकर्मियों पर हमला किया। यूपी के गाजियाबाद और दिल्ली में में भर्ती तब्लीगी जमात के लोगों की हरकतों ने तो गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें-पुलिस, डॉक्टर और पैरामेडिकल के स्टाफ के साथ बनाए सामंजस्य-मौलाना खालिद रशीद

समाज के इस रवैए पर लखनऊ के तमाम मुस्लिम धर्मगुरूओं और मौलानाओं ने अफसोस जाहिर किया है। धर्मगुरू लगातार लोगों से बीमारी न छुपाने और इलाज कराने की अपील कर रहे हैं। शुक्रवार को शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास ने बयान जारी करते हुए कहा, कोरोना वायरस को देश और दुनिया से मिटाने के लिए सरकार और डाक्टर का साथ देने की जरूरत है। इसलिए सभी लोगों से अपील है कि इनके फैसलों का समर्थन करें। सरकार और स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देशों का पालन करें। सभी लोग अपने घरों के अंदर रहें ताकि करोना को हराया जा सके। इस महामारी से कोई भी संक्रमित हो सकता है। कोई ये ना समझे कि इस बीमारी से वह सुरक्षित रहेंगे।

घर में ही पढ़ें नमाज, बीमार हों तो तुरंत कराएं जांच

हम घर में ही नमाज पढ़ें। अगर किसी को लगता है कि वह ऐस किसी व्यक्ति के संपर्क में आ गया है जो बीमारी से पीड़ित है, तो तुरंत वह डाक्टर के पास जाए। साथ ही इस संकट के घड़ी में लोग अपने महोल्ले में रोज कमाने और खाने वालो लोगों की मदद करें। बता दें कि इसके पहले मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, मौलाना कल्बे जव्वाद सहित कई अन्य धर्मगुरू भी लोगों से जांच और इलाज कराने की अपील की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अपना शहर

कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका में लखनऊ कैण्ट का कसाईबाड़ा इलाका सील

Published

on

यहां ठहरे 12 जमातियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद हड़कंप

लखनऊ। कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका में राजधानी के कैण्ट एरिया में पड़ने वाला कसाईबाड़ा इलाका पूरी तरह से सील कर दिया गया है। कसाईबाड़ा स्थित अली जान मस्जिद में एक दर्जन जमाती ठहरे हुए थे। शुक्रवार को इन सभी 12 लोगों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया।

शासन के निर्देश पर ज्वाइंट कमिश्नर क्राइम, डीसीपी पूर्वी, एडीसीपी, एसएपी और कैंट पुलिस ने मुनादी कराने के बाद पूरे इलाके को सील कर दिया है। यहां करीब 1000 लोग रहते हैं। सभी को घरों से बाहर न निकलने की सख्त हिदायत दी गयी है। मस्जिद के आस-पास रह रहे लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के लिए स्वास्थ्स विभाग की टीम भी पहुंच गयी है।

यह भी पढ़ें-आखिर ‘लालटेन’ को कैसे भूल गए प्रधानमंत्री! लालू के ‘लाल’ ने दिलाया याद

बता दें कि 4 मार्च को सहारनपुर से आए 12 लोग लखनऊ के अमीनाबाद में तब्लीगी जमात में पहुंचे थे। लाॅकडाउन होने के बाद 24 मार्च को यह सभी कैंट के कसाईबाड़ा स्थित मस्जिद में चले गए थे। पिछले दिनों जब विदेशियों और बाहरी लोगों की तलाश शुरू हुई तो यह सभी जमाती पकड़े गए। प्रशासन ने सभी को बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराते हुए कोरोना टेस्ट कराया। शुक्रवार को आई रिपोर्ट में इन सभी में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 4, 2020, 7:54 pm
Clear
Clear
27°C
real feel: 26°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 27%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:24 am
sunset: 5:55 pm
 

Recent Posts

Trending