Connect with us

लखनऊ लाइव

एलडीए कॉलोनी में कई दिनों से नहीं हो रही साफ-सफाई

Published

on

सांकेतिक चित्र

लखनऊ। कोरोना के महामारी को लेकर हड़कम्प मचा हुआ है। लेकिन एलडीए कॉलोनी कानपुर रोड व आशियाना क्षेत्र में कई दिनों से सफाई कर्मचारी ही नहीं पहुंच रहे हैं। इससे पूरे इलाके में साफ-सफाई नहीं हो पाई।

पिछले कई दिनों से इस इलाके में ना तो सफाई कर्मचारी आ रहे हैं और ना ही घर-घर से कूड़ा उठाने वाली नगर निगम की गाड़ी आ रही है। इससे लोगों को भारी दिक्कतें हो रही है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन का असर, पुलिस ने ज्यादा सख्त रूख अपनाया

आपको बता दें कि, लोग खाली प्लाटों में अपने घरों का कूड़ा फेंक रहे हैं। झाड़ू न लगने से गंदगी बढ़ती जा रही है। स्थानीय निवासियों ने इस महामारी के दौर में भी सफाई न होने पर कड़ी नाराजगी जताई है। कुछ लोगों ने नगर निगम के जोनल अधिकारी को फोन कर भी इसकी जानकारी दी। इसके बावजूद नगर निगम का कोई कर्मचारी नहीं आया।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

लॉकडाउन का असर, पुलिस ने ज्यादा सख्त रूख अपनाया

Published

on

कहीं नोक झोंक तो कहीं पुलिस ने भांजी लाठियां, चिकित्सक से लेकर कई विभाग के कर्मचारी रहे परेशान

लखनऊ। राजधानी में लॉकडाउन का असर सबसे ज्यादा दिखा। पुलिस ने ज्यादा सख्त रूख अपनाया। जिससे जगह-जगह पर सड़क पर निकले लोगों और पुलिस के बीच तीखी नोंक झोक हुई। जगह-जगह बैरीकेडिंग से चौराहों पर सन्नाटा देखने को मिला। हांलाकि सब्जी व राशन की दुकानों पर भीड़ नजर आई। पुलिस की इस सख्ती से चिकित्सक से लेकर कई विभाग के कर्मचारी परेशान रहे। कहीं कहीं तो हाथापाई तक की नौबत तक आ गयी तो कहीं पुलिस को लाठियां भी भांजनी पड़ी।

कोरोना को देखते हुए लॉकडाउन के तहत लखनऊ शहर के भीतर और बाहर पुलिस ने बैरिकेडिंग लगा रखी है। ये बैरिकेडि़ंग शहर में इको गार्डन, के. के. सी, हुसैनगंज, बार्लिंगटन व इंजीनियरिंग चौराहा, कपूरथला, आईटी चौक परिवर्तन चौक समेत कई जगहों पर लगाया गया है। इसकी वजह से इन जगहों से गुजरने वाले लोगों और पुलिस के बीच काफी नोंक झोंक हुई।

केजीएमयू के पैरामेडिकल विभागाध्यक्ष डॉ. विनोद जैन ने भी आरोप लगाया कि उनके पास सब कागजात होते हुए भी उनकी गाड़ी का चालान किया गया। जबकि ठाकुरगंज में काम करने वाली एक महिला बैंक कर्मचारी से पुलिस की तीखी झड़प हो गई। महिला ने कहा कि स्कूटर इंडिया से ठाकुरगंज आने में पुलिस ने बेवजह ही उन्हें परेशान किया। महिला ठाकुरगंज में स्थित एक बैंक में कर्मचारी है। महिला का आरोप था कि उसके पास बैंक का आईकार्ड और चाबी दिखाने पर भी पुलिस ने उन्हें बेवजह परेशान किया। जिसकी वजह से वह बैंक में काफी देरी से पहुंची।

लॉकडाउन के दौरान हजरतगंज, नरही सहित आस-पास के इलाकों में सन्नाटा दिखा लेकिन नाका हिंडोला, रानीगंज, बांसमंडी, राजेन्द्र नगर में लोगों को घर के अंदर रहने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। साथ ही पुलिस को गली-मुहल्लों से लेकर नुक्कड़ तक बैरिकेडिंग लगानी पड़ी। हालांकि दूध, सब्जी, राशन व नवरात्रि की सामग्री खरीदने के लिए लोगों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हुई।

बता दें कि, हजरतगंज चौराहे के चारों तरफ से बैरिकेडिंग लगा दी गई। इससे निशातगंज, कैसरबाग, चारबाग व लोहिया पथ की तरफ से आने वाले वाहन चालकों को प्रवेश नहीं मिला। वहीं नाका हिंडोला क्षेत्र में सुबह दूध और दवाईयां खरीदने के लिए लोग निकले। इससे कुछ ही देर में सड़कों पर भीड़ इकट्ठा हो गई। जिसके बाद नाका पुलिस ने मोर्चा संभाला और लोगों को घरों के अंदर जाने की अपील की।

बंगला बाजार व एलडीए कॉलोनी तथा आशियाना में पुलिस ने लाठियां फटकार कर दुकानें बंद कराई। पुलिस पूरे टाइम गश्त करती रही। दुकानों पर बढ़ती भीड़ देख पुलिस ने दुकानें बंद करा दी। पहले बंगला बाजार में पुलिस अधिकारी माइक से अनाउंसमेंट कर रहे थे कि दुकानों पर ज्यादा भीड ना लगाएं। लेकिन जब लोगों की भीड़ बढ़ने लगी तो उन्होंने दुकानें बंद कराना शुरू कर दिया। यही हाल आशियाना में भी रहा। यहां भी दुकानें बंद हो गई। सब्जी की दुकानों पर भी भीड़ होते देख पुलिस ने लोगों को हटाया। बैरिकेडिंग से पूरे बंगला बाजार को दोनों तरफ से सील किया गया था कारों का प्रवेश रोक दिया गया था। केवल दो पहिया वाहन ही आ जा रहे थे। इसी तरह पुराने जेल रोड पर पुलिस चेकिंग कर रही थी। बिना वजह सड़क पर आने वालों को रोककर उनके वाहनों का चालान कर रही थी। कुछ ऐसा ही नजारा अवध अस्पताल कानपुर रोड चौराहे का भी था। यहां भी पुलिस आने जाने वालों को रोककर उनसे पूछताछ कर रही थी। बिना वजह निकले लोगों को पुलिस ने कई बार लाठियां दिखाकर दौड़ाया। कुछ गाडिय़ों का चालान भी किया गया।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराई बाइक, युवक की मौत

वहीं लखनऊ में मंगलवार देर शाम तक कुल 112 एफआइआर दर्ज की जा चुकी है। इनमें 87 मामले सोमवार को दर्ज हुए थे। पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय के मुताबिक एफआइआर की कार्रवाई लगातार जारी है। मंगलवार को 1383 गाडियों के चालान किए गए हैं। 60 टीमें लगाई गई हैं, जो जिले की सीमा व अन्य स्थानों पर मुस्तैद हैं। लोगों से अपील की जा रही है कि वह इमरजेंसी की स्थिति में डायल 112 की मदद लें। किसी भी आपात काल में पुलिस उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार है। इमरजेंसी सेवाओं में कहीं कोई बाधा न आए, इसके लिए पुलिस टीम को अलर्ट किया गया है। स्वास्थ विभाग के कर्मचारियों व डॉक्टरों को बेवजह रोका नहीं जाएगा। मीडियाकर्मियों के लिए भी यही आदेश जारी किए गए हैं। अगर इमेरजेंसी सेवाओं के अलावा अन्य लोग निर्देशों का उल्लंघन करेंगे तो पुलिस उनसे सख्ती से निपटेगी। पुलिस आयुक्त का कहना है कि लॉक डाउन में जारी सभी आदेशों का पालन पुलिस कर रही है। आवश्यक्ता पडने पर प्रशासन से बात कर आगे की रणनीति बनाई जाएगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

मेदांता हॉस्पिटल में इलाज के दौरान युवक की मौत, तीमारदारों ने किया हंगामा

Published

on

आरोप, कोरोना पाॅजिटिव बेटे का जबरन इलाज करते रहे डाक्टर

लखनऊ। राजधानी के मेदांता हॉस्पिटल में इलाज के दौरान युवक की मौत के बाद तीमारदारों ने हॉस्पिटल में हंगामा किया। दरअसल शनिवार को सीने में दर्द की शिकायत होने पर युवक के परिजन उसे मेदांता हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। जहां इलाज के दौरान बुधवार को युवक ने दम तोड़ दिया । परिजनों का कहना है कि मेदांता हॉस्पिटल ने युवक में कोरोना वायरस के लक्षण की पुष्टि थी। परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहा कि मेदांता हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने हमारे मरीज को दूसरे अस्पताल नहीं ले जाने दिया। परिजनों ने कोरोना वायरस से संबंधित टोल फ्री नंबर पर भी फोन करके मदद मांगी थी।

यह भी पढ़ें-लखनऊ: अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराई बाइक, युवक की मौत

मदद ना मिलने पर परिजनों ने जिलाधिकारी और सीएमओ को भी फोन करने की बात कही है । परिजनों का आरोप है कि हर जगह फोन करके मदद मांगने पर भी उन्हें कहीं से मदद नहीं मिली वहीं। और परिजनों ने अस्पताल प्रसाशन पर इलाज के नाम पर पैसे हड़पने का भी आरोप लगाया है । http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

दूसरे जनपदों के कोरोना मरीजों को न लाया जाए केजीएमयू: प्रो. वीरेन्द्र

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना की जांच और इलाज के प्रमुख केन्द्र केजीएमयू ने कहा है कि प्रदेश भर के मरीजों को यहां लाने की जरूरत नहीं है। केजीएमयू मेडिसिन विभाग के प्रो. वीरेन्द्र ने मंगलवार को एक सूचना जारी करते हुए कहा, प्रदेश के हर जिले में कोरोना के संदिग्ध मरीजों का सैंपल वहां के सीएमओ की टीम ले। रिपोर्ट आने वाले के बाद मरीज का इलाज उसी जनपद में हो। इसके लिए जिला अस्पतालों में संसाधन जुटाए जाएं। प्रो. वीरेन्द्र ने कहा, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज को जिले के बाहर स्थानांतरित न किया जाए। क्योंकि ऐसा करने से वायरस के फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें-LIVE Updates:आज रात 12 बजे के बाद 3 सप्ताह के लिए पूरे देश में लॉकडाउन-पीएम

संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए ही सरकार ने सभी तरह का आवागमन प्रतिबंधित किया है। प्रो. ने कहा कि संक्रमण को रोकना स्वास्थ्य विभाग व चिकित्सा शिक्षा विभाग की नैतिक जिम्मेदारी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

March 25, 2020, 2:54 pm
Mostly sunny
Mostly sunny
33°C
real feel: 33°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 29%
wind speed: 4 m/s WNW
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 5:35 am
sunset: 5:50 pm
 

Recent Posts

Trending