Connect with us

प्रदेश

यूपी में चुनावी नैया पार लगाने के लिए पिछड़ा, अति पिछड़ा को साधने में जुटी कांग्रेस

Published

on

कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग की मंडलीय बैठक संपन्न

लखनऊ। करीब तीन दशक से यूपी की सत्ता से बाहर कांग्रेस अब पूरे जोर-शोर से मिशन 2022 में जुट गयी है। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को उसकी जमीन वापस दिलाने के लिए प्रियंका गांधी खुद चुनावी मैदान में उतर चुकी हैं। हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रियंका कोई करिश्मा नहीं दिखा सकीं। लेकिन अब पार्टी आगामी यूपी विधानसभा चुनावों में कामयाबी के लिए सोशल इंजीनियरिंग में जुट गयी है।
सोमवार को लखनऊ स्थित कांग्रेस कार्यालय में पूर्व सांसद राजाराम पाल के नेतृत्व में कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग की मंडलीय बैठक आयोजित हुई। पार्टी को मजबूत करने के लिए प्रियंका गांधी का जोर उन निचले संगठनों को पुनर्जीवित करने पर है, जो कभी पार्टी की ताकत हुए करते थे। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राजाराम पाल ने कहा, प्रियंका गांधी मुझे प्रदेश में पिछड़े वर्ग व अति पिछड़े वर्ग को पार्टी से जोड़ने का जिम्मा सौंपा है।

समाज के इस वर्ग को पार्टी से जोड़ने के लिए राजाराम पाल प्रदेश के सभी 18 मंडलों में भ्रमण के लिए 18 दिवसीय यात्रा कर रहे हैं। अभियान के 12वें दिन मंगलवार को राजाराम पाल लखनऊ मंडल पहुंचे। पूर्व सांसद ने बताया कि 13 जनवरी को आगरा में इस अभियान की समाप्ति होगी। 15 जनवरी को प्रदेश मुख्यालय में समीक्षा बैठक कर प्रियंका गांधी खुद प्रदेश के पिछड़ा और अति पिछड़ा समाज के लोगों के साथ संवाद करेंगी।

निचले संगठनों में जान फूंक रही कांग्रेस

मीडिया से बात करते हुए राजाराम पाल ने कहा, उत्तर प्रदेश में पिछले 30 वर्षों से कांग्रेस सत्ता से बाहर है। कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी को जिम्मेदारी दी थी। पार्टी ने 2019 के आम चुनाव से पहले प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया था। लोकसभा चुनाव के बाद प्रियंका गांधी कांग्रेस के सभी संगठनों में आमूल-चूल परिवर्तन किया है। सभी संगठनों में समाज के हर वर्ग को प्रतिनिधित्व दिया गया है। जिलों में पदाधिकारी बनाने में हमारी पार्टी ’जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी’ का फार्मूला अपनाया है। वरिष्ठ कांग्रेसजनों से भी सलाह ली जा रही है।

भाजपा और सपा बसपा में बंट गए कांग्रेस के 3 मैटीरियल

राजाराम पाल ने कहा कि पिछले कुछ समय में कांग्रेस ने चिंतन और मंथन किया है कि आखिर किन कारणों से कांग्रेस पिछले 30 वर्ष से सत्ता से बाहर है? जिसके बाद इस निष्कर्ष पर पहुुंचा गया कि कांग्रेस जिन तीन मैटीरियलों से बनी थी, पिछले 3 दशकों में वह तीनों मैटीरियल बिखर गए हैं। पूर्व सांसद ने कहा कि 30 साल पहले पूरी अपर कास्ट, सभी अल्पसंख्यक व दलित कांग्रेस में थे, 30 वर्षों में तीन दल बने हैं, जिसके बाद अपर कास्ट भाजपा में चला गया है, दलित बसपा में चला गया और मुसलमान सपा-बसपा दोनों में बंट गया।

यह भी पढ़ें-राष्ट्रीय युवा उत्सव की तैयारियां तेज, मंडलायुक्त ने मांगा आयोजन का पूरा प्लान

प्रदेश में आधी आबादी पिछड़ा, अति पिछड़ा की है, उसमें 95 प्रतिशत आबादी मुसलमानों की है, जिस पर कांग्रेस ने ध्यान नहीं दिया। राजाराम पाल ने कहा कि यह जो पिछड़ा, अति पिछड़ा में आधी से ज्यादा आबादी है, उसके बिना कांग्रेस खड़ी नहीं हो सकती है। इसलिए अब इन सभी लोगों को कांग्रेस से जोड़ा जाएगा।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

मायावती ने विधायकों से की 1-1 करोड़ देने की अपील, सीएम योगी ने दिया धन्यवाद

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को धन्यवाद दिया। सीएम योगी ने बसपा सुप्रीमो द्वारा कोरोना वायरस के खिलाफ यूपी सरकार के अभियान में पार्टी के विधायकां को सहयोग देने के निर्देश पर उन्हें धन्यवाद दिया है।

सीएम योगी ने कहा, कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर पूरा देश इस महामारी के खिलाफ एकजुट होकर लड़ रहा है। राजनैतिक पूर्वाग्रह से ऊपर उठकर देश की इस लड़ाई में सहभागी बनने वाले सभी महानुभावों, सुधिजनों और संगठनों का यह दायित्व बनता है, कि वे भी इस लड़ाई में सहभागी बनें।

इसे भी पढ़ें-कोरोना का फूटा बम: जमातियों ने बढ़ाई चिंता, आगरा में 25 मरीज मिलने से हड़कंप

मायावती ने ट्वीट कर की है अपील

बता दें मायावती ने ट्वीट कर बसपा के सभी विधायकों से अपील की है, कि वे कम से कम 1-1 करोड़ रुपए की अपील करें. उन्होंने लिखा है, ” देशभर में कोरोनावायरस की महामारी के प्रकोप के मद्देनजर खासकर यूपी के बीएसपी विधायकों से भी अपील है, कि वे भी पार्टी के सभी सांसदों की तरह अपनी विधायक निधि से कम से कम 1-1 करोड़ रुपये अतिजरूरतमन्दों की मदद हेतु जरूर दें.”

इसे भी पढ़ें-कोरोना वायरस के मामलों में आयी तेजी, देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 3000 हुए

उन्होंने लिखा है कि  “बीएसपी के अन्य लोग भी अपने पड़ोसियों का जरूर मानवीय ध्यान रखें। साथ ही, केन्द्र सरकार से भी अपील है कि विश्व बैंक से मिले 100 करोड़ डालर की कोरोना सहायता को विशेषकर स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में उचित इस्तेमाल करे ताकि कोरोना प्रकोप को सही नियोजित तौर पर रोका जा सके। जनता से भी अपील है, कि वे आपदा की इस घड़ी में सरकार का सहयोग करें।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कोरोना का फूटा बम: जमातियों ने बढ़ाई चिंता, आगरा में 25 मरीज मिलने से हड़कंप

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता नजर आ रहा है। एक तरफ प्रशासन लगातार संक्रमण की चेन को तोड़ने की कोशिश में लगा हुआ है। वहीं शनिवार सुबह हाथरस और आगरा में नए मामलों की पुष्टि ने चिंता बढ़ा दी है।

आगरा जिलाधिकारी पीएन सिंह ने बताया कि आगरा में 25 नए मामलों की पुष्टि हुई है। इसी के साथ आगरा में कोरोना के मरीजों की संख्या 45 पहुंच चुकी है। एक साथ 25 मरीजों की खबर ने हड़कंप मचा दिया है।

तब्लीगी जमात से लौटे लोगों ने ताजनगरी की चिंता बढ़ा दी है। आगरा में शनिवार सुबह 25 मरीज और सामने आए हैं। इसकी पुष्टि जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने की है। जो नए 25 मामले सामने आए हैं, वे तब्लीगी जमात लौटे या उनके संपर्क में आए लोग हैं। इन सभी को क्वारंटीन किया गया है।

इसे भी पढ़ें-कोरोना वायरस के मामलों में आयी तेजी, देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 3000 हुए

जिले से संबंधित अब तक कोरोना के 47 मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि प्रशासनिक स्तर पर यह आंकड़ा 45 है, क्योंकि शहर के चिकित्सक पिता-पुत्र का इलाज गुरुग्राम में चल रहा है। बात करें अप्रैल महीने की तो शुरुआती तीन दिनों में कोरोना संक्रमण के 33 मामले सामने आए हैं।

दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोग जहां-जहां गए, वहां तेजी से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। आगरा में मंगलवार से बृहस्पतिवार तक 113 जमाती मिले थे। इनमें से 28 दिल्ली से लौटे थे। ये शामली, गाजीपुर और आंध्र प्रदेश के हैं।

शनिवार सुबह 25 मरीज मिलने से प्रशासन में हड़कंप मच गया है। जिलाधिकारी ने कहा कि आज से सैंपलिंग और बढ़ाई जाएगी। पुलिस की मदद से उन सभी लोगों की तलाश की जाएगी जो संभावित कैरियर हो सकते हैं। जिन क्षेत्रों के मरीज मिले हैं, वहां मोपिंग होगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

यूपी ‘कोविड केयर फंड’ में एक-एक करोड़ की सहायता करें सभी विधायकः स्पीकर

Published

on

विधानसभा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों को पत्र लिखकर मांगा सहयोग

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने सभी सदस्यों को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कोरोना महामारी से निपटने के लिए सभी विधायकों को अपनी निधि से एक-एक करोड़ की धनराशि आवंटित करने की अपील की है। स्पीकर ने पत्र में कहा है कि पूरी दुनिया महामारी का सामना कर रही है। भारत भी कठिन दौर से गुजर रहा है। केन्द्र के साथ कदम से कदम मिलाते हुए उत्तर प्रदेश सरकार भी इस महामारी से मुकाबला कर रही है। योगी सरकार ने कई कदम उठाए हैं। सभी सदस्य अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को जागरूक करें। सरकार के निर्देशों का पालन करने के लिए लोगों को प्रेरित करें। ऐसा करना हम सबका राष्ट्रीय कर्तव्य हैं।

यह भी पढ़ें-कोरोना से लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों को उचित संसाधन व सुरक्षा देने की मांग

श्री दीक्षित ने पत्र में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश कोविड केयर फंड’ की स्थापना की है। इस फंड से सभी मेडिकल कालेजों व जिलास्तरीय अस्पतालों को कोराना से निपटने के लिए जरूरी उपकरणों की व्यवस्था की जाएगी। इसलिए हम सभी को अपनी विधायक निधि से इस मद में 1 करोड़ रुपए की धनराशि देनी चाहिए। क्योंकि कोरोना महामारी में सहयोग के लिए मुख्यमंत्री ने एक मद पर अधिकतम 25 लाख व्यय की सीमा खत्म कर दी है। स्पीकर ने सभी सदस्यों से अपील की है कि हम सभी लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते रहेंगे। साथ लोगों को प्रेरित करते रहेंगे। इस महामारी से मुकाबला कर रहे डाक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिसकर्मियों का उत्साववर्धन करते रहेंगे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 4, 2020, 1:47 pm
Sunny
Sunny
32°C
real feel: 34°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 23%
wind speed: 3 m/s W
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 6
sunrise: 5:24 am
sunset: 5:55 pm
 

Recent Posts

Trending