Connect with us

प्रदेश

डॉक्टर कफील ने प्रेस कांफ्रेंस कर सरकार पर साधा निशाना

Published

on

लखनऊ । डा. कफील ने यूपी प्रेस क्लब में प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को आदेश जारी कर कहा है कि डा. कफील खान के निलंबन के खिलाफ 3 महीने के भीतर विभागीय जांच पूरी करे जो 18 महीने से जारी है । इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने साफ तौर पर कहा है कि कफील के खिलाफ चिकित्सक लापरवाही में आक्सीजन टेंडर प्रकिया में शामिल होने का कोई सबूत नहीं पाया गया है । जांच अधिकारी से डीजीएमई, पूर्व प्राचार्य, एचोडी बाल रोग, 100 वार्ड इंसेफेलाइटिस वार्ड प्रमुख की क्रॉस सवाल के लिए बुलाने को कहा है । लेकिन जांच अधिकारी ने हमें आज तक बुलाया ही नहीं ।

उन्होंने आगे बताते हुए कहा कि योगी सरकार ने दावा किया था कि ऑक्सीजन की कोई कमी नही थी । ऑक्सीजन की कमी के कारण बच्चों की मौत नहीं हुई । इसके विपरीत सरकार ने हाई कोर्ट के हलफनामे में ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी को स्वीकार किया है । उच्च न्यायालय ने 30 अप्रैल 2018 को अपने में कहा कि तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति में आपूर्तिकर्ता को बकाया भुगतान ना करने के कारण हुई । इसके चलते इतने सारे बच्चों की मृत्यु हो गई ।
डा . कफील ने कहा आरटीआई में सरकार ने स्वीकार किया है कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 11, 12 अगस्त 2017 को 54 घंटे तक तरल ऑक्सीजन की कमी थी । कफील खान ने बच्चों को बचाने के लिए जम्बों ऑक्सीजन सिलंडर की व्यवस्था की थी । उन्होंने कहा एक और अन्य आरटीआई से पता चला कि कफील खान सबसे जूनियर डाक्टर थे । 08/ 08/ 2016 को लोक सेवा आयोग द्वारा प्रवक्ता के रूप में ज्वाइन हुए थे । ना तो डा. कफील इंसेफेलाइटिस वार्ड के प्रमुख थे ना ही वाइस प्रिंसिपल । जिसको लेकर मैं जल्द ही टाइम्स नाउ और उनके पूर्व कर्मचारी अर्नब गोस्वामी के खिलाफ जल्द ही मानहानि का मुकदमा दायर करुंगा । बीआरडी मेडिकल कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल के रूप में फर्जी खबर फैलाने के लिए ।

कफील ने कहा योगी सरकार झूठा दावा कर रही है कि इंसेफ्लाईटिस से पीड़ित प्रत्येक माह हूने वाली मृत्यु को नियंत्रित कर लिया है । मगर सरकार वास्तविक डेटा जारी नहीं कर रही है । जबकि 2018 में इंसेफेलाइटिस के कारण 161 से अधिक मौतों का केवल बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ही हुआ है । मैं मांग करता हूं कि सरकार को माफी मांगी चाहिए और असली गुनहगार सिद्धार्थ नाथ सिंह स्वाथ्य मंत्री और आशुतोष टंडन चिकित्सक शिक्षा मंत्री को सजा देकर पीड़ित परिवार को मुआवजा दे ।

यहां भी पढ़ें : लखनऊ से कांग्रेस का कौन होगा लोकसभा प्रत्याशी, आइए जानते हैं

अपने बारे में बताते हुए कफील ने कहा कि 9 महीने कठिन समय के बाद जब मैं अपना जीवन शुरू करने की कोशिश की तो दो हमलावरों ने मेरे भाई को मुख्य मंत्री आवास के पास मारने की कोशिश की औए बाद में यूपी पुलिस के भयानक, अस्वीकार असंवेदनशील रवैये के रूप में उन्होंने गोलियां निकालने के लिए ऑपरेशन में देरी की । इस घटना को 10 महीने से अधिक हो गई है और जांच कहीं नहीं चल रही है । हमने इसको लेकर सीबीआई जांच के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है ।

उन्होंने कहा कि हम एक स्वस्थ भारत अभियान चालू करना चाहते हैं जिसमें भारत के प्रसिद्ध स्वास्थ्य कार्यकर्ता योगदान दे रहे हैं । जिसको लेकर हम 10 मुख्य मांग के साथ सभी राजनितिक दलों से मिलेंगे जो हमारी मांगे मानेगा हम उसी का चुनाव में सपोर्ट करेंगे । http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

हाईकोर्ट ने खारिज की जयाप्रदा की याचिका, आजम के संसद सदस्यता को दी थी चुनौती

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । रामपुर से भाजपा की प्रत्याशी रहीं जया प्रदा ने नाहटा हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में याचिका दायर कर रामपुर से सपा सांसद आजम खां के सांसदी को चुनौती दी थी । याचिका में जया ने कहा था कि आजम लाभ के दो पद पर हैं । इसी मामले पर आज सुनवाई के लिए जया अमर सिंह के साथ कोर्ट पहुंच थीं ।

याचिका में जया प्रदा के वकील अशोक पांडेय ने अदालत से गुजारिश की थी कि आजम खान से यह पूछा जाए कि मौलाना जौहर अली विश्वविद्यालय के कुलपति होने के नाते वे जब लाभ के दूसरे पद के लिए अयोग्य हैं, तब किस कानूनी अधिकार से संसद सदस्य का पदभार संभाले हुए हैं । याचिका में दलील दी गई थी कि यह तय नियम है कि एक ही व्यक्ति लाभ के दो पदों पर नहीं रह सकता । लिहाजा आजम खान की कुलपति सीट को रद्द कर याची को रामपुर लोकसभा का सांसद घोषित किया जाए ।

यह भी पढ़ें: आतंकी इनपुट को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट जारी…

हाई कोर्ट ने खारिज की जयाप्रदा की याचिका

हाई कोर्ट की लखनऊ बेंज ने खारिज की जयाप्रदा की याचिका आजम खान की संसदी को
चुनौती दी थी। रामपुर हाई कोर्ट के दायरे में आता है लखनऊ बेंच । जया की याचिका खारिज होने पर उनके वकील अमर सिंह ने कहा है कि हम प्रयागराज हाई कोर्ट में आजम के निर्वाचन को देंगे चुनौती। क्षेत्र के आधार पर हाई कोर्ट लखनऊ बेंच ने खारिज की है याचिका । जस्टिस राजन रॉय, एनके जौहरी की बेंच ने दोनों पक्षों को सुनते हुए सुनाया है फैसला ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

2022 को लेकर शिवपाल ने बनाया प्लान, चलेंगे मुलायम की राह…

Published

on

लखनऊ। प्रसपा के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने आज अपने पार्टी कार्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि हमारा लक्ष्य है 2022 में सरकार बनाना हम किसी के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे ना ही किसी का कोई प्रस्ताव आया है। समाजवादी पार्टी के बहुत से लीडर हमारे संपर्क में हैं। वह हमारे साथ जुड़ सकते हैं।

लगातार प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मे खबर चल रही है । वह पूरी तरह से गलत है। हम किसी के साथ कोई वीलय नहीं कर रहे हैं और ना ही किसी से कररेंगे। हमे जीरो पर रहने का कोई गम नही है कम से कम हम लड़े तो पुरानी-पुरानी पार्टी लोकसभा चुनाव में धरासाई हो  गई हैं । कितनी साल पुरानी कांग्रेस भी चित हो गई । कोई और पार्टी हम में विलय करना चाहे तो दरवाजे खुले हैं ।

यह भी पढ़ें: आतंकी इनपुट को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट जारी…

वहीं गठबंधन पर निशाना साधते हुए शिवपाल ने कहा कि अगर मुझे गठबंधन में शामिल कर लेते तो परिणाम दूसरा होता। हमारी ताकत का सबको पता चल गया हैं । शिवपाल ने कहा कि उनकी लड़ाई डॉ. राममनोहर लोहिया, चौधरी चरण सिंह और मुलायम सिंह यादव की राजनीतिक विरासत बचाने की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

आतंकी इनपुट को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट जारी…

Published

on

राम की नगरी अयोध्या में आतंकी हमले का इनपुट सुरक्षा एजेंसियों को मिला है। इसे लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट जारी है। इंटेलिजेंस एजेंसियों को सूचना मिली है कि नेपाल के रास्ते भारत में घुसे आतंकी अयोध्या को निशाना बना सकते हैं। यहां आने-जाने वाले लोगों की सघन तलाशी ली जा रही है। पुलिस ने होटलों और धर्मशालाओं पर विशेष नजर रखी गई है। दरअसल अयोध्या आतंकी हमले के साजिशकर्ताओं को 18 जून को इलाहाबाद कोर्ट में सजा सुनाई जानी है। कोर्ट के फैसले को लेकर भी अयोध्या में हाई अलर्ट जारी है।

यह भी पढ़ें: मदरसा मॉडर्न टीचर्स का फिर छलका दर्द…

5 जून 2005 को विवादित परिसर में फिदायीन हमला हुआ था। इस हमले को सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया था। लश्कर-ए-तैयबा के इस हमले को नाकाम करते हुए सुरक्षा बलों ने 5 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था। इस हमले के विरोध में भारतीय जनता पार्टी ने देश भर में प्रदर्शन किए थे। हमले से तार जुड़ने के कारण चार कश्मीरी लोगों को गिरफ्तार किया गया था।लगातार तीन दिन अयोध्या में वीआईपी कार्यक्रम होने हैं। 14 जून को राज्य के डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा, 15 जून को डिप्टी सीएम केशव मौर्या और 16 जून शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी अयोध्या में होंगे। शिवसेना ने राम मंदिर के मुद्दे को फिर से गर्माना शुरू किया है। वहीं बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी राम मंदिर को लेकर सवाल किए हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 14, 2019, 6:33 pm
Mostly sunny
Mostly sunny
41°C
real feel: 40°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 21%
wind speed: 3 m/s W
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:31 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending