Connect with us

लखनऊ लाइव

लखनऊ के प्रसिद्ध युवा रचनाकार अमन सिंह चांदपुरी का निधन

Published

on

डेंगू बुखार से पीड़ित अमन सिंह का पीजीआई में चल रहा था इलाज

लखनऊ। नगर के सुप्रसिद्ध युवा रचनाकार अमन सिंह चांदपुरी का डेंगू बुखार के चलते शुक्रवार को निधन हो गया। उनका इलाज पीजीआई में चल रहा था। अमन सिंह की मौत की खबर लगते ही लखनऊ सहित पूरे भारतीय साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गयी। 25 नवम्बर 1997 को जन्मे अमन ने बहुत छोटी उम्र में ही पूरे भारतीय साहित्य जगत में अपना विशिष्ट स्थान बना लिया था। मूल रूप से अम्बेडकर नगर के चांदपुर, टांडा निवासी अमन सिंह लखनऊ में रहकर बीएड की पढ़ाई कर रहे थे। उनकी रचनाएं देश-विदेश की हिन्दी भाषा की अनेक पत्र-पत्रिकाओं एवं साझा काव्य संग्रहों में प्रकाशित हो चुकी हैं।

निधन पर गहरा शोक जताते हुए कविताकोश के उपनिदेशक राहुल शिवाय ने बताया कि शीघ्र ही कविता कोश के माध्यम से उनकी नयी पुस्तक अमन तुम्हारी चिट्ठियां आने वाली है, जो नवम्बर में लॉन्च होनी है। स्वभाव से अत्यन्त ही मृदु एवं मिलनसार अमन सिंह अपनी साहित्यिक प्रतिबद्धता के लिए भी लोकप्रिय थे। अमन चांदपुरी को विभिन्न संस्थाओं द्वारा कई बार सम्मानित किया जा चुका था। जानकारी के अनुसार उनका अंतिम संस्कार शनिवार को अम्बेडकरनगर में पैतृक गांव में होगा। अमन चांदपुरी ने दोहा, गजल, गीत, हाइकु, क्षणिका, मुक्तक, कुंडलिया, समीक्षा, लघुकथा एवं मुक्त छंद कविताओं की रचना की है। अमन चांदपुरी ने ‘दोहा दर्पण‘ पुस्तक का संपादन भी किया है। अमन चांदपुरी को फोटोग्राफी में रुचि थी। उनके कई तस्वीरें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं तथा वेब पोर्टल में प्रकाशित हो चुकी हैं।

पुरस्कार एवं सम्मान

प्रतिभा मंच फाउंडेशन द्वारा ‘काव्य रत्न सम्मान‘ ।
साहित्य शारदा मंच (उत्तराखंड) द्वारा ‘दोहा शिरोमणि’ की उपाधि ।
समय साहित्य सम्मेलन, पुनसिया (बांका, बिहार) द्वारा ‘कबीर कुल कलाधर’ सम्मान ।
कामायनी संस्था (भागलपुर, बिहार) द्वारा ‘कुंडलिया शिरोमणि’ की मानद उपाधि ।
उन्मुख साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था द्वारा ‘ओमका देवी सम्मान’ ।
नवसृजन साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था तथा अधीश कुमार विचार मंच द्वारा ‘हिन्दी सेवा । सम्मान’ ।
अखिल भारतीय साहित्य उत्थान परिषद द्वारा ‘साहित्य गौरव सम्मान’ ।
तुलसी शोध संस्थान, लखनऊ द्वारा ‘संत तुलसी सम्मान’ ।
सृजन संस्था द्वारा लखनऊ में ‘सृजन युवा सम्मान’ ।
युवा रचनाकार मंच, द्वारा श्रेष्ठ युवा रचनाकार 2018 सम्मान ।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लखनऊ लाइव

आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार को मिली सामाजिक मदद

Published

on

लखनऊ। राजधानी के निगोहा थाना क्षेत्र के पास कुर्मी खेड़ा ग्रामीण इलाके में बीती सोमवार को जिला जेल में तैनात होमगार्ड संकटा प्रसाद की बीमारी में ठीक प्रकार से इलाज न होने के कारण मृत्यु हो गई थी। संकटा प्रसाद परिवार में देखभाल करने वाले एकमात्र सहारा थे। होमगार्ड घोटाले की जांच चलने के कारण पिछले तीन महीने से होमगार्ड को मानदेय नही मिल पाया था। आकस्मिक मौत होने के कारण व बीमारी में हद से ज्यादा खर्च हो जाने व उधारी हो जाने के कारण परिवार की आर्थिक हालत खराब हो चुकी थी। जहां शान हेल्प ग्रुप की टीम ने पहुंच कर पीड़ित परिवार को राशन आवश्यक वस्तुएं व नकद देकर मदद की।

जिला प्रशासन से भी परिवार को मदद मिलने का आश्वासन दिया गया है। लेकिन तत्काल तौर पर परिवार की मदद आवश्यक थी। मदद के इस प्रोजेक्ट को आशा वेलफेयर फाउंडेशन व सिटीसीएस संस्था और लखनऊ की शान हेल्प ग्रुप के माध्यम से पूरा किया। जहां पीड़ित परिवार को पचास किलो आटा, पच्चीस किलो चावल, पांच किलो अरहर दाल, दस किलो आलू, पांच पैकेट नमक, पांच लीटर सरसो का तेल, दो कम्बल, मिक्स मसाले व इक्कीस सौ रुपए नगद की मदद की गई।

यह भी पढ़ें: इत्तेहाद मिल्लत कांफ्रेंस ने देवी प्रसाद त्रिपाठी को दी श्रद्धांजलि

इस सहयोग में सिटीसीएस संस्था से मनोज कुमार, आशा वेलफेयर फाउंडेशन से ज्योति मेहरोत्रा, अंजली फिल्म प्रोडक्शन से सोशल एक्टिविस्ट अंजली पांडेय, अंकिता चौधरी, शान हेल्प ग्रुप से रिचा चतुर्वेदी, सुनीता यादव, स्वाति शर्मा, अनीता वर्मा, वागीशा पंत, रचना कपूर, रंजना श्रीवास्तव, मुकेश द्विवेदी, मोइन खान, सुमित मिश्रा, आलोक अग्रवाल व आदि लोगों ने सहयोग किया।http://WWW.SATYODAYA.COM

Continue Reading

लखनऊ लाइव

शीतलहर के कारण प्री-प्राइमरी से कक्षा 8 तक सभी स्कूल 10 जनवरी तक बंद

Published

on

लखनऊ। राजधानी में हो रही बारिश व तेज शीतलहर हो देखते हुए डीएम अभिषेक प्रकाश ने लखनऊ जनपद के प्री-प्राइमरी से लेकर कक्षा 8 तक के सभी बोर्ड के समस्त विद्यालय 10 जनवरी तक बंद रखने के आदेश दिये है। निर्देश का कड़ाई से अनुपालन करने का आदेश दिया गया हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

इत्तेहाद मिल्लत कांफ्रेंस ने देवी प्रसाद त्रिपाठी को दी श्रद्धांजलि

Published

on

लखनऊ। इत्तेहाद मिल्लत कांफ्रेंस के तत्वाधान में कैसरबाग स्थित यूपी प्रेस क्लब में पूर्व राज्यसभा सदस्य डीपीटी (देवी प्रसाद त्रिपाठी) के याद में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। जहां लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि देवी प्रसाद त्रिपाठी में लोगों को जोड़ने की अद्भुत क्षमता थी। वह दोस्तों व दुश्मनों दोनों से ही हंसकर मिलते थे।

डीपीटी को श्रद्धांजलि देते हुए प्रोफेसर रमेश दीक्षित ने कहा कि उनका व्यक्तित्व अंतरराष्ट्रीय स्तर का था। वह देश की ऐसी शख्सियत थे, जो बेनजीर भुट्टो की शादी में भी शामिल हुए थे। उनके राजनीतिक कद का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वह कम्युनिस्ट नेता सीताराम येचुरी के साथ नेपाल की क्रांति के प्रमुख सूत्रधार थे। उनकी दोस्ती का दायरा बहुत बड़ा था। छात्र जीवन से उनसे अपने जुड़ाव को याद करते हुए डॉक्टर दीक्षित ने कहा की डीपीटी ने अपनी पूरी जिंदगी अपनी शर्तों पर जी। वह चार से पांच बार जेएनयू के अध्यक्ष रहे।

उन्होंने कहा की हालिया जेएनयू में जो कुछ हुआ, उसे देखकर निश्चित रूप से उनकी आत्मा कराह उठी होगी। उन्हें सभी भाषाओं का ज्ञान था, उनकी एक अद्भुत क्षमता थी की वह 2 से 3 घंटे तक लगातार एक साथ भाषण दे सकते थे। वह छात्र आंदोलनों में सबसे आगे रहते थे।
पूर्व विधान परिषद सदस्य सिराज मेंहदी ने स्वर्गीय त्रिपाठी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वह बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उनकी याददाश्त बहुत तेज थी। उनका विदेशों में भी बहुत सम्मान होता था। नेपाल के राष्ट्रपति रामकरन यादव ने भी उन्हें सम्मानित किया था।

पूर्व मंत्री अम्मार रिजवी ने 1950 में उनसे हुई अपनी मुलाकात को याद करते हुए कहा कि एक समय ऐसा था की डीपीटी स्वर्गीय राजीव गांधी के गुरु हुआ करते थे। स्वर्गीय त्रिपाठी को श्रद्धांजलि देते हुए उनका दर्द भी झलका। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय त्रिपाठी ने उनका महमूदाबाद से टिकट कटवाया था, लेकिन उसके बाद उनके संबंध उनसे भाई की तरह हो गए थे। उन्होंने कहा स्वर्गीय त्रिपाठी जैसे लोग सदियों में पैदा हुआ करते हैं। उनके निधन से वह अपने आप को बेसहारा समझ रहे हैं।

पूर्व मंत्री सत्यदेव त्रिपाठी ने स्वर्गीय त्रिपाठी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि छात्र आंदोलनों पर वह अक्सर उन से चर्चा किया करते थे। उन्होंने कहा कि उनके निधन की खबर उन्हें प्रदीप कपूर से पता चली। उनकी दृष्टि बहुत साफ थी और वह शुद्ध रूप से राजनीतिक व्यक्ति थे। प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता व लेखक अतुल तिवारी ने कहा कि स्वर्गीय त्रिपाठी को सभी देशों की राजनीति की अच्छी जानकारी थी। उनकी हर क्षेत्रों में पूरी पकड़ थी। उनका जब भी मुंबई आना होता था। फिल्म जगत के सारे लोग उनसे मिलने आते थे। वह कमाल के गायक भी थे। फिल्म क्षेत्र में भी उनकी बड़ी पकड़ थी। वह संघर्षशील व्यक्ति थे। उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि कुछ दिन पहले जब जेएनयू में दमन चक्र चला, तब वहां के छात्रों ने यह नारा लगाते हुए उनका विरोध किया था कि डीपी त्रिपाठी आप नहीं हो पर हम संविधान को कुचलने नहीं देंगे।
वरिष्ठ पत्रकार हसीब सिद्दीकी ने कहा कि वह सिद्धांत वादी व्यक्ति थे। हालांकि उनकी स्वर्गीय त्रिपाठी से मुलाकात नहीं थी पर उन्होंने जो भी उनके बारे में सुना। उससे उनके सियासी कद का अंदाजा लगाया जा सकता है। वरिष्ठ पत्रकार सुरेश बहादुर सिंह ने कहा कि वह बहुत ही व्यवहार कुशल व्यक्ति थे। सुल्तानपुर जिले के होने के नाते उन्हें उन पर गर्व था। उनके राजनीतिक कद का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उत्तर प्रदेश के निवासी होने के बाद भी वह महाराष्ट्र से राज्यसभा सदस्य निर्वाचित हुए थे।

यह भी पढ़ें: जीवन बीमा से जीएसटी खत्म करे सरकार: विवेक सिंह

चाचा अमीर हैदर ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा की मौजूदा हालात में त्रिपाठी की बहुत जरूरत है। वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप कपूर ने कहा कि वह लोगो की बहुत मदद करते थे। सबको साथ लेकर चलते थे। उन्होंने आ-जीवन साम्प्रदायिकता का विरोध किया था।http://WWW.SATYODAYA.COM

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 9, 2020, 9:01 am
Fog
Fog
14°C
real feel: 17°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 77%
wind speed: 0 m/s WNW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:00 pm
 

Recent Posts

Trending