Connect with us

लखनऊ लाइव

प्रदेश के किसान संरक्षित खेती की तरफ हो रहे आकर्षित: कृषि उत्पादन आयुक्त

Published

on

लखनऊ। एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना की राज्य स्तरीय कार्यपरिषद की 35वीं बैठक में उत्तर प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त एवं अध्यक्ष, राज्य औद्यानिक मिशन  राजेन्द्र कुमार तिवारी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि जनपदवार आलू, सब्जी एवं फल आदि कृषि उत्पाद के भण्डारण की आवश्यकता एवं वर्तमान भण्डारण क्षमता का आंकलन कराया जाए। उन्होंने कहा कि माली प्रशिक्षण हेतु विभाग के अन्तर्गत संचालित 05 औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्रों को एग्रीकल्चर स्किल काउंसिल ऑफ इण्डिया से अनुमोदित प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण प्राप्त अभ्यर्थियों का अनुश्रवण सुनिश्चित किया जाए। इसके अतिरिक्त प्रदेश के जिन क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य किये जा रहे है, उनके सफलता की कहानियों का विभिन्न माध्यमों से व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए। जिससे प्रदेश के अन्य किसानों में भी औद्यानिकी के प्रति जागरूकता पैदा हो तथा उनके द्वारा भी नई तकनीकी से औद्यानिक फसलों का उत्पादन करके अधिकाधिक लाभ प्राप्त किया जा सके।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में संरक्षित खेती के कार्यक्रम के प्रति किसानों की रूचि बढ़ रही है। इससे बेमौसमी सब्जी एवं फूलों की खेती करने से सामान्य फसल की तुलना में 4-5 गुना अधिक गुणवत्तायुक्त उत्पादन होगा। इस क्षेत्र में नवयुवकों के द्वारा विशेष रूचि प्रदर्शित की जा रही हैं उनके द्वारा अपने क्षेत्र में स्वरोजगार के साथ-साथ अन्य लोगों को भी रोजगार के अवसर सुलभ कराये जा रहे हैं।

बैठक में राज्य स्तरीय कार्यपरिषद की 34वीं बैठक 12 फरवरी, 2019 में लिए गए निर्णय की पुष्टि एवं अनुपालन की समीक्षा की गई। बैठक के दौरान निदेशक, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण डा. एस.बी. शर्मा द्वारा कार्य परिषद के समक्ष वर्ष 2019-20 की धनराशि 10361.50 लाख रुपये की कार्य योजना प्रस्तुत की गई। बैठक में ग्रीन हाउस, शेडनेट हाउस, कोल्ड स्टोरेज की स्थापना एवं राईपेनिंग चैम्बर, रिफर वैन एवं माली ट्रेनिंग के परियोजना प्रस्ताव के सापेक्ष 7098.51 लाख रुपये के अनुदान के प्रस्ताव पर स्वीकृति प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि इन प्रस्तावों के स्वीकृत होने तथा निर्माण पूर्ण होने के उपरान्त फूलों एवं सब्जियों के उत्पादन में वृद्धि होने से प्रदेश के बागवानी विकास को अपेक्षित गति मिलेगी साथ ही भण्डारण क्षमता में अतिरिक्त वृद्धि होगी।

ये भी पढ़ें: बीमार बच्ची के रोने से नींद में पड़ी खलल, पति ने दिया तीन तलाक

बैठक में शासन स्तर से प्रमुख सचिव, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण सुधीर गर्ग के अतिरिक्त वित्त, नियोजन, कृषि, पंचायती राज मण्डी विभाग के प्रतिनिधि, भारत सरकार के संस्थानों से केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमान खेड़ा, लखनऊ, सीमैप, एन.बी.आर.आई. लखनऊ, केन्द्रीय आलू अनुसंधान मेरठ तथा राज्य सरकार के विभाग एवं संस्थाओं में से डास्प, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों एवं उपकार के पदाधिकारीगणों के साथ ही औद्यानिक उत्पादक  डी.के. शर्मा द्वारा प्रतिभाग किया गया।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

पोषण माह में एनीमिया से बचाव की दी गई जानकारी

Published

on

लखनऊ। पूरे देश में सितम्बर माह पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने इस अभियान के तहत पोषण पुस्तिका जारी की है। इस पुस्तिका में एनीमिया की रोकथाम के लिए संदेशों के अनुसार एनीमिया से बचाव के लिए आयरनयुक्त हरी, पत्तेदार सब्जियों, पालक, मेथी, दालें, दूध, दही, पनीर आदि का सेवन करना चाहिए। मांसाहारी हैं तो अंडा, मांस व मछली का भी सेवन करना चाहिए।

पोषण पुस्तिका के अनुसार 6 से 59 माह के बच्चों को हफ्ते में 2 बार 1 मिलीलीटर (मि.ली.) आयरन फोलिक एसिड (आईएफए) सिरप देना चाहिए। 5 से 9 वर्ष के बच्चों को आईएफए की एक गुलाबी गोली का सेवन करना चाहिए। 10-19 वर्ष ताकी कि उम्र में हफ्ते में एक बार आईएफए कि नीली गोली खानी चाहिए।

ये भी पढ़ें: इसरो वैज्ञानिकों के इंक्रीमेंट्स में कटौती उनका मनोबल तोड़ने वाला काम: अखिलेश यादव

वहीं, गर्भवती महिला को गर्भावस्था के चौथे माह से रोज 180 दिन तक आईएफए की एक लाल गोली का सेवन करना चाहिए। धात्री महिला को प्रसव के बाद 180 दिन तक आईएफए की एक लाल गोली का नियमित सेवन करना चाहिए। साथ ही पेट में कृमिनाशक दवा एल्बेण्डाजोल की निर्धारित खुराक लेनी चाहिए। पुस्तिका में यह भी कहा गया है कि जन्म के पश्चात बच्चे की गर्भनाल 3 मिनट के बाद ही काटें। इससे नवजात बच्चे के खून में आयरन की मात्रा बनी रहती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

एएनएम ने बच्चों का किया टीकाकरण, पोषाहार के बारे में दी जानकारी

Published

on

लखनऊ। कुपोषण को मात देने के लिए पोषण माह के दौरान बुधवार को आंगनबाड़ी केन्द्रों पर ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण दिवस (वीएचएसएनडी) का आयोजन किया गया। इस अवसर पर एएनएम की ओर से बच्चों का टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं व बच्चों का वजन लिया गया। वहीं, आंगनवाड़ी केन्द्रों पर आने वाली महिलाओं व उनके परिवार के सदस्यों के बच्चों को ऊपरी आहार के बारे में जागरूक किया गया।

यह जानकारी मोहनलालगंज ब्लॉक की बाल विकास परियोजना अधिकारी सरोज पांडेय ने दी है। उन्होंने बताया कि पोषण माह का दूसरा सप्ताह किशोरी सप्ताह के रूप में मनाया जा रहा है। किशोरी सप्ताह के पहले दिन जहां किशोरी बैठक का आयोजन किया गया। वहीं, सप्ताह के दूसरे दिन पोषण जागरुकता साइकिल रैली व प्रभात फेरी निकाली गयी।

इस अवसर पर बच्चे व 11-19 वर्ष की किशोरियों ने प्रतिभाग किया। उनकी साइकिल में विभिन्न स्लोगन लिखे होने के साथ-साथ तख्तियां भी लगीं थीं। जिन पर पोषक तत्व युक्त आहार, बच्चों के स्वास्थ्य का आधार, हमेशा करें संतुलित आहार, श्रेष्ठ आरोग्य रहे हमारा जीवन जैसे स्लोगन लिखे हुए थे। सरोज ने बताया कि इस तरह के आयोजन जिले के अन्य विकासखंडों में भी किए गए थे।

ये भी पढ़ें: वादाखिलाफी के खिलाफ विद्युत मजदूर संगठन ने किया धरना-प्रदर्शन

गौरा आंगनवाड़ी केंद्र की आंगनवाड़ी कार्यकत्री सरिता ने बताया कि हम लोगों ने गृह भ्रमण भी किया और पोषण पुस्तिका से पढ़कर 6 माह की आयु पूरी कर चुके बच्चों की माताओं, परिवार के सदस्यों को ऊपरी आहार के संदेश पढ़कर सुनाये।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

बिजली दरों में बढ़ोतरी के खिलाफ भाकपा ने किया प्रदर्शन

Published

on

प्रतिकात्मिक चित्र

लखनऊ। बढ़ी हुई बिजली दरों को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के लोगों ने पूरे उत्तर प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर उन्हें वापस लेने की मांग की है। जारी एक प्रेस बयान में भाकपा के राज्य सचिव डा. गिरीश ने कहा कि राज्य विधानसभा और लोकसभा चुनावों में भाजपा को भारी बहुमत प्रदान करने की सजा उत्तर प्रदेश की जनता को दी जा रही है। एक ओर दिल्ली की केजरीवाल सरकार मुफ्त समान रेट पर बिजली दे रही है। तो वहीं उत्तर प्रदेश की सरकार जनता को बड़ी कीमतों के बोझ तले दबाये दे रही है।

उन्होंने कहा कि आने वाले कल से लागू होने जा रही विद्युत दर वृद्धि के द्वारा गरीब, मध्य और उच्च सभी तबकों को आहत किया गया है। खेती और लघु उद्योग तक इसके दायरे में आ गए हैं। महंगाई और आर्थिक मंदी से पीड़ित जनता को सरकार ने यह करारा झटका दिया है।

इससे पहले प्रदेश सरकार ने डीजल और पेट्रौल पर वैट बढ़ा कर उनकी कीमतें बढ़ा दीं। अभी हाल में केन्द्र सरकार ने रसोई गैस की कीमतें बढ़ा दीं। अब राज्य सरकार डीजल वाहनों की टैक्स दर बढ़ाने जा रही है। आवागमन के साधनों पर तमाम टैक्सों के बावजूद अधिकतर मार्गों पर टोल टैक्स वसूला जारहा है। अब नये मोटर वाहन कानून के तहत लोगों से भारी जुर्माना वसूला जारहा है। अपने ही नागरिकों को दोनों हाथों से लूटा जा रहा है।

लूट खसोट और भ्रष्टाचार में लिप्त व फासीवाद की राह पर चल रही इस सरकार ने प्रतिरोध की आवाज दबाने का अभियान छेड़ रखा है। मध्यान्ह भोजन में नमक के साथ रोटी परोसने का वीडियो जारी करने वाले मिर्जापुर के पत्रकार के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इससे पूर्व भी कई मीडिया कर्मियों को प्रताड़ित किया गया। आज भी यह उत्पीड़न जारी है।

यह भी पढ़ें: वादाखिलाफी के खिलाफ विद्युत मजदूर संगठन ने किया धरना-प्रदर्शन

डा. गिरीश ने कहा कि भाजपा दोगलेपन की राजनीति करती है। उत्तर प्रदेश में उसकी सरकार ने बिजली की कीमतें बढ़ा कर आम जनता की कमर तोड़ कर रख दी है। तो वहीं पश्चिम बंगाल में इसी सवाल पर भाजपा उपद्रव कर रही है। भाकपा राज्य काउंसिल द्वारा लिए गये निर्णय के तहत आज उपरोक्त सवालों पर जिलों में प्रदर्शन कर राष्ट्रपति और राज्यपाल के नाम ज्ञापन दे रही है। डा. गिरीश ने कहा कि यह आंदोलन आगे भी जारी रहेगा। भाकपा की जिला कमेटियां योजना बना कर इन सवालों को जनता के बीच ले जाएंगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 12, 2019, 12:21 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
33°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 70%
wind speed: 3 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:20 am
sunset: 5:45 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending