Connect with us

लखनऊ लाइव

हिंदी संस्थान के पुरस्कारों की हुई घोषणा, डॉ रमेश चंद्र शाह को मिला भारत भारती समान

Published

on

लखनऊ । उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के वर्ष 2017 के सम्मान और पुरस्कारों के लिए पुरस्कार समिति की बैठक कार्यकारी अध्यक्ष उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान डॉ. सदानंद प्रसाद गुप्ता के अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में सर्वसम्मति से सम्मान और पुरस्कार के लिए विद्वानों के नामों का चयन किया गया और साल 2017 में प्रकाशित पुस्तकों पर भी निर्णय लिया गया। भोपाल के डॉ रमेशचंद्र शाह को भारत भारती सम्मान से नवाजा जाएगा। इसके तहत उन्हें पांच लाख का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

देखिए पूरी लिस्ट…

 

 

 

 

इसके अतिरिक्त लोहिया साहित्य सम्मान दिल्ली के जयप्रकाश कर्दम हिंदी गौरव सम्मान गोरखपुर के डॉ रामदेव शुक्ल महात्मा गांधी साहित्य सम्मान नोएडा के डॉ राम गोपाल शर्मा दिनेश पं दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान गुरुग्राम हरियाणा के डॉ धर्मपाल मैनी अवंतिबाई साहित्य सम्मान पटना के शत्रुघ्न प्रसाद और राजश्री पुरुषोत्तम दास टंडन सम्मान कोलकाता की बड़ा बाजार कुमार सभा पुस्तकालय को मिला है। प्रत्येक को चार लाख रुपये का इनाम मिलेगा। इसके आलावा 20 साहित्यकारों को साहित्य भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपना शहर

विद्युत परिषद मुख्यालय कर्मचारी संघ के शपथ ग्रहण समारोह का हुआ आयोजन

Published

on

लखनऊ । विद्युत परिषद मुख्यालय कर्मचारी संघ के बैनर तले आज शक्ति भवन के अल्पाहार कक्ष में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया इस मौक़े पर ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करना था लेकिन अचानक दिल्ली में बैठक के चलते वो कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो पाए

कार्यक्रम को महामंत्री ने संबोधित करते हुए अवगत कराया कि पावर सेक्टर में वैसे तो कई संग हैं लेकिन मुख्यालय संघ इकलौता संघ हैजिसमें चतुर्थ श्रेणी से लेकर अपर सचिव तक इसके सदस्य हैंहर 2 साल में विद्युत परिषद मुख्यालय कर्मचारी संघ द्वारा चुनाव प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है

संघ के अध्यक्ष तीरथ राम ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि पॉवर सेक्टर मुख्यालय एक नीति निर्धारक कार्यालय है । यहां पूरे प्रदेश की विद्युत वयवस्था की निति बनाई जाती है। पूरे प्रदेश के कर्यालय इसी निति के अनुसार कार्य करते हैं।

यह भी पढ़ें: पुलिस के नाम पर टप्पेबाजी करने वाले गिरोह का एक आरोपी गिरफ्तार…

वहीं इस मौक़े पर तीरथराम को अध्यक्ष,  अमित को महामंत्री , संतोष को वरिष्ठ उपाध्यक्ष और अभिषेक मिश्रा को उपाध्यक्ष के रूप में पदभार दिया गयाhttp://WWW.SATYODAYA.COM

Continue Reading

Featured

अतिरिक्त बजट के बाद भी नहीं तैयार हुई आयुर्वेदिक कॉलेज की बिल्डिंग

Published

on

दो साल बाद भी नहीं तैयार हुई नई ओपीडी और इंडोर बिल्डिंग, देरी होने पर आठ करोड़ का आया अतिरिक्त भार

लखनऊ। जहां एक तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कार्यों में लापरवाही और भ्रष्टाचार को लेकर अफसरों के तबादले कर रहे हैं। वहीं राजधानी लखनऊ में ही टूड़ियागंज स्थित राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज में शिथिलता देखने को मिली है। यहां की नई ओपीडी और इंडोर बिल्डिंग दो साल बाद भी बनकर पूरी तरह से तैयार नहीं हो पायी है, जबकि ठेकेदार को इस ओपीडी बिल्डिंग को वर्ष 2017 में ही हैंडओवर करना था। वहीं इस देरी की वजह से पूरे प्रोजेक्ट पर आठ करोड़ रुपए अतिरिक्त बजट भी बढ़कर खर्च किया जा चुका है, लेकिन बारिश शुरू होने के बाद भी नई बिल्डिंग में मरीजों को इलाज नहीं मिलना शुरू हो सका है। पुराने जर्जर भवन में ही इलाज कराने को मरीज मजबूर हैं। इससे मरीजों के साथ इलाज करने वाले डॉक्टर भी परेशान हैं।

टूडियागंज स्थित राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज में मरीजों का इलाज अभी तक अकेडमिक ब्लॉक में कई वर्षों से चल रहा है। यहां पर कॉलेज प्रशासन ने छोटे से चार-पांच केबिन बना रखे हैं, जिसमें डॉक्टर के सही से बैठने की जगह तक नहीं है। ऐसे में वरिष्ठ डॉक्टर ज्यादातर अपने कमरों में ही मरीजों का इलाज और जांच करते हैं। इन केबिनों का यह हाल है कि वहां पर एक या दो मरीज ही बमुश्किल खड़े हो पाते हैं। पुरानी बिल्डिंग हो जाने से बारिश में तो यहां खड़े होने में भी लोग डरते हैं। स्थिति यह होती है कि मरीज ब्लॉक में बने केबिन से लेकर पूरे परिसर में इधर-उधर खड़े रहते हैं। गंभीर मरीज तो फर्श पर ही बैठ जाते हैं।

यह भी पढ़ें :- यूपी पुलिस दुनिया की सबसे बेहतर पुलिस हैः डीजीपी

आयुर्वेदिक कॉलेज की नई ओपीडी बिल्डिंग वर्ष 2017 दिसंबर में बनकर तैयार हो जानी थी। डॉक्टरों और कर्मचारियों का आरोप है कि ठेकेदार की लापरवाही और सुस्त कार्यप्रणाली से बिल्डिंग बनने में देरी हुई है। दो साल देरी से ओपीडी और इंडोर बिल्डिंग बनने का बजट 48 से 56 करोड़ रुपए तक खर्च कर दिया गया। देरी होने पर शासन पर आठ करोड़ रुपए अतिरिक्त भार भी आ गया। लेकिन अभी भी बिल्डिंग बनकर हैंडओवर नहीं की जा सकी है।

आयुर्वेदिक कॉलेज की पुरानी बिल्डिगें जर्जर हो चुकी हैं। यहां कार्यरत कर्मचारी भी डर-डर कर काम कर रहे हैं। इनका कहना है कि इस बरसात में बिल्डिगों के गिरने का डर है। नई बिल्डिंग बनाने में कोई तेज गति नहीं दिखाई दे रही है। डॉ. आयुर्वेदिक कॉलेज प्रधानाचार्य प्रकाश चंद्र सक्सेना निर्माण एजेंसी ने इस बिल्डिंग को सितंबर माह में हैंडओवर करने के लिए लिखकर दिया है। हैंडओवर मिलने पर नई ओपीडी में मरीजों का इलाज शुरू किया जाएगा। अभी पुरानी बिल्डिंग में ही इलाज किया जा रहा है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

आगरा बस हादसे में मुख्यमंत्री हैं बहुत चितिंतः स्वतंत्र देव सिंह

Published

on

लखनऊ। हाल ही में आगरा हाईवे पर हुआ दर्दनाक बस हादसा जिसमें 29 की मृत्यु और कई लोग घायल हुए थे। हादसे के बाद आज परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने प्रेस वार्ता किया। बता दें कि हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच टीम गठित किया था। गठित टीम के द्वारा रिपोर्ट कल मुख्यमंत्री को सौंपी गई। मुख्यमंत्री ने परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह समेत अन्य जिम्मेदार अधिकारियों के साथ बैठक की और पूरे हादसे में दोषी पाए जाने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने की हिदायत दी है।

यह भी पढ़ें: पुलिस के नाम पर टप्पेबाजी करने वाले गिरोह का एक आरोपी गिरफ्तार…

आपको बता दें की मुख्यमंत्री की बैठक के बाद आज परिवहन मंत्री ने प्रेसवार्ता में कहा कि जहां दुर्घटना हुई वहां के जिम्मेदार अधिकारियो से रिपोर्ट मांगी गई है। दुर्घटना शून्य कैसे हों इस पर भी चर्चा की गई है। साथ ही साथ मंत्री ने यह भी कहा कि आवश्यकतानुसार ड्राइवरों की ट्रेनिंग भी कराई जाएगी और आरटीओ को भी निर्देशित किया गया है कि वह सख्ती से चेकिंग करें। मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि इस पूरे मामले को लेकर मुख्यमंत्री स्वयं बहुत ज्यादा चिंतित हैं और उन्हें भी इस घटना का बहुत ही अफसोस है। उन्होंने कहा कि जिन परिवारों ने अपने परिवार के सदस्य खोए हैं हम उनके दुख में बराबर के भागीदार हैं। सरकार हरसंभव उनकी सहायता कर रही है।

यह भी पढ़ें: स्कूल वैन और टैम्पो में हुई भीड़ंत, चालक और बच्चे घायल…

इस अवसर पर पत्रकारों द्वारा बसों की फिटनेस को लेकर भी सवाल उठाया गया। साथ ही साथ ड्राइवरों से ओवर ड्यूटी कराए जाने पर भी सवाल किया। ऐसे बहुत सारे सवाल थे जिनका घटना से सीधे तार जुड़ा हुआ था, मगर कहीं ना कहीं परिवहन मंत्री इन सभी सवालों के जवाब देने से बचते हुए नजर आए। पूरी घटना को उन्होंने ड्राइवर को झपकी आ जाने का कारण बताया मगर पत्रकार उनके जवाब से असंतुष्ट नजर आए और उन्होंने कहा कि लॉन्ग रूट के लिए बसों में दो ड्राइवर का नियम है। इसके साथ ही बस की फिटनेस भी पूरी तरह से नहीं थी यहां तक कि बस में बरसात के मौसम में वाइपर भी नहीं था। यह बहुत सारे ऐसे बिंदु थे जो हादसे का कारण बने।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 11, 2019, 8:46 am
Rain
Rain
24°C
real feel: 29°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 100%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 4:51 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending