Connect with us

क्राइम-कांड

लखनऊ : दो पक्षों के खूनी संघर्ष में एक की मौत, फैली सनसनी

Published

on

लखनऊ । बंथरा थाना क्षेत्र स्थित नूर नगर भदरसा गांव में उस वक्त लोगों में सनसनी फैल गई जब खेत में पानी लगाने को लेकर दो पक्षों में मारपीट शुरु हो गई । जिसके बाद देखते ही देखते मामले ने तूल पकड़ लिया और चाकूबाजी से खूनी संघर्ष शुरु हो गया । जिसमें बताया जा रहा दो पक्षों में हुई चाकूबाजी में 25 साल के विपिन की मौत हो गई और तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए । जिसके बाद दोनों पक्षों में विवाद बढ़ गया लेकिन खूनी संघर्ष की सूचना पाते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने 7 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ में जुट गई । साथ ही बताया जा रहा है कि इस घटना को पुरानी रंजिश के चलते अंजाम दिया गया है । आपको बता दें कि ये खूनी संघर्ष किसी दो पक्षों में नहीं बल्कि एक ही परिवार के स्वर्गीय बिंदादीन की दोनों पत्नियों के लड़कों में हुआ है । जिसमें बताया जा रहा है कि जमीनी विवाद को लेकर शाम करीब 4:30 बजे विपिन अपने खेत गया हुआ था तभी दोनों भाइयों रामचंद्र और राम लखन में कहा सुनी हो गई और देखते ही देखते दोनों एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए जिसके बाद खूनी संघर्ष शुरू हो गया जिसमें विपिन की जान चली गई ।

वहीं मामला तूल पकड़ने से पहले ही मौके पर पहुंची पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी लेकिन आरोपी पुलिस की गिरफ्त से भाग निकला । वहीं एसपी पूर्वी सर्वेश मिश्रा का कहना है कि नूर नगर भदरसा गांव में रामलखन यादव, सावित्री देवी और रामचंद्र यादव दोनों एक ही परिवार के हैं । साथ ही कहा कि कुछ दिन पूर्व दोनों लोगों में विवाद हुआ जिसको लेकर दोनों तरफ से मुकदमा भी लिखा गया था । सावित्री देवी के खेत को जाने वाले रास्ते पर विपक्षी पक्ष ने गड्ढा खोद दिया था जिसको लेकर विवाद हुआ । जिसमें मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया जहां तीन लोगों का इलाज चल रहा है और विपिन की मौत हो गई । साथ ही कहा कि पीड़ित पक्ष की तरफ से तहरीर लेकर मामला दर्ज किया जा रहा है और आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश भी दी जा रही है ।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्राइम-कांड

राजकीय बालगृह शिशु में मासूम की हुई थी रहस्यमय हालत में मौत

Published

on

लखनऊ। राजधानी के हजरतगंज थाना क्षेत्र स्थित राजकीय बालगृह शिशु का एक मामला सामने आया है जिसमें एक दूध मुंहे बच्चे की रहस्यमय हालात में मौत हो गई जिसकी जानकारी पाते ही पुलिस ने मासूम के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई करने की बात कही थी।

यह भी पढ़ें :- जानिए जेई व एईएस प्रभावित कितनी बस्तियों में लगे इण्डिया मार्क हैण्डपम्प

आपको बता दें कि 6 साल के मासूम के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि उसके सिर में चोट और दिमाग में खून जमा हुआ था जिसके कारण ही उसकी मौत हुई है। साथ ही बताते चलें कि ये कोई पहली पहली घटना नहीं है इससे पहले भी बालगृह शिशु के कई मामले सामने आ चुके हैं। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

क्राइम-कांड

लोहिया अस्पताल में आग लगने से टला बड़ा हादसा, अस्पताल प्रशासन ने घटना को बताया मामूली

Published

on

लखनऊ। गोमती नगर स्थित डाॅक्टर राम मनोहर लोहिया अस्पताल के प्राइवेट वार्ड के तीसरे फ्लोर के रूम नंबर 304 में शुक्रवार दोपहर को आग लग गई। इस दौरान पूरे अस्पताल परिसर के भीतर व बाहर अफरा-तफरी का माहौल हो गया। आग का धुआं देख मरीज और तीमारदार घबरा गये। बड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। आग का कारण शाॅट-सर्किट बताया जा रहा है।
लोहिया अस्पताल के जानकारों के मुताबिक, आग की घटना दोपहर करीब 11 बजे हुई। घटना के वक्त मौजूद लोगों का कहना था कि आग के चलते कोई बड़ा हादसा हो सकता था। लेकिन इस पर समय रहते ही नियत्रिंत कर लिया गया। वहीं अस्पताल प्रशासन ने इस घटना को मामूली बताया है।
इस दौरान एक्सरे जांच ढाई घंटे के लिए ठप रही। मरीजों को परेशानी का समाना करना पड़ा। लाइट की आवाजाही सुबह से ही हो रही थी। इस पर आग लगने से दिक्कतें और बढ़ गयी। वहीं लोहिया अस्पताल निदेशक डीएस नेगी का कहना है कि ये कोई बहुत बड़ी घटना नहीं थी। स्पार्क हुआ था, लेकिन जल्द ही दिक्कत को दूर कर लिया गया है। मरीजों को कोई दिक्कत नहीं हुई।

यह भी पढ़ें :- राजस्थान सबआर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्शन बोर्ड में धांधली करने वाले गिरोह का एसटीएफ ने किया भांडाफोड़

इससे पहले भी लग चुकी है आग
लोहिया अस्पताल में इससे पहले भी आग की घटना हुई थी। पिछले वर्ष 22 जनवरी को यहां ओपीडी के गेट के सामने अचानक आग लग गई थी। जिससे हंगामा मच गया था। कई वाहन भी जलकर राख हो गए थे और एक व्यक्ति भी झुलस गया था।
यह घटना अस्पताल के ओपीडी के गेट के सामने गैस पाइप लाइन लीक होने से हुई थी। जानकारी पर बताया गया कि टेलीफोन वायर के लिए की जा रही खुदाई के दौरान गैस पाइप लाइन को नुकसान होने से ये लीक करने लगी, जिसमें आग पकड़ ली। आनन-फानन में फायर ब्रिगेड को सूचना दी गई, जिसके बाद आग पर काबू पाया जा सका था।

Continue Reading

Featured

राजस्थान सबआर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्शन बोर्ड में धांधली करने वाले गिरोह का एसटीएफ ने किया भांडाफोड़

Published

on

लखनऊ। एसटीएफ उत्तर प्रदेश को राजस्थान सबार्डीनेट एण्ड मिनिस्टीरियल सर्विसेज सेलेक्शन बोर्ड व विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की भर्ती में धांधली कराने वाले गिरोह के 5 सदस्यों को जनपद लखनऊ में गिरफ्तार करते हुए उनके कब्जे से 61 लाख 50 हजार रूपये व भारी संख्या में परीक्षाओं से सम्बन्धित अभिलेख बरामद करने में सफलता हासिल हुई है। जिसमें पकड़े गए आरोपियों की पहचान विनोद कुमार, शादान खान, पंकज कुमार, कमल किशोर यादव और अजीत कुमार के रूप में हुई है।

एसटीएफ उत्तर प्रदेश को विगत दिनों से काफी विभिन्न स्रोतों से सूचना प्राप्त हो रही थी कि शातिर अपराधियों द्वारा विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में अभ्यर्थियों से भर्ती हेतु धन लेकर धांधली की जा रही है। जिसमें प्रयागराज फील्ड इकाई उन सूचनाओं को देखते हुए लखनऊ में मौजूद थे कि मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की भर्ती में धांधली करने वाले गिरोह के लोग भारी मात्रा में रूपये व अभिलेख लेकर जनेश्वर मिश्र पार्क के गेट नं0 2 के पास खड़े हैं। मुखबिर द्वारा प्राप्त सूचना पर उक्त टीम द्वारा तत्काल जनेश्वर मिश्र पार्क के गेट नं0 02 के पास पहुॅच कर देखा गया तो पीपल के पेड़ के नीचे पांच संदिग्ध व्यक्ति आपस में बातचीत करते हुए हाथ में लिये हुए बैगों का आदान-प्रदान कर रहे थे। तभी पुलिस बल द्वारा एक बारगी दबिश देकर उपरोक्त पांचों व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

जिसमें बताया गया कि आरोपी विनोद कुमार गौड़ ने बताया कि वह साल 2014 से राभव लिमिटेड, विपुलखण्ड गोमती नगर लखनऊ में कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग का कार्य कर रहा है़। उसी के साथ शादान खान भी राभव लिमिटेड में डाटा इन्ट्री आपरेटर के पद पर काम करता है। राभव लिमिटेड को विभिन्न प्रदेशों की प्रतियोगी परीक्षाओं की डाटा इन्ट्री व रिजल्ट आदि बनाने का टेण्डर समय≤ पर मिलता रहता है। साल 2014 से 2016 तक यूपी एसएसएससी की प्रतियोगी परीक्षाओं की डाटा इन्ट्री व रिजल्ट बनाने का काम राभव लिमिटेड को मिला था। लगभग 6 माह पहले राजस्थान सबार्डीनेट एण्ड मिनिस्टीरियल सर्विसेज सेलेक्शन बोर्ड (आरएसएमएसएसबी) द्वारा महिला सुपर वाइजर, कृषि पर्यवेक्षक व प्रयोगशाला सहायक की भर्ती परीक्षाओं की ओएमआर स्कैनिंग कर परिणाम बनाने का टेण्डर राभव लिमिटेड को मिला था। विनोद और शादान ने मिलकर अपने मित्र पंकज गुप्ता उपरोक्त को ऐसे परीक्षार्थियों का जुगाड़ करने की बात की जो परीक्षा रिजल्ट में धांधली करवाकर भर्ती होने के एवज में अच्छी रकम दे सके।

यह भी पढ़ें :- अब अटल चौक के नाम से जाना जाएगा हजरतगंज चौराहा, महापौर ने किया नामकरण ..

आगे बताया कि कुछ दिन बाद पंकज गुप्ता ने उपरोक्त तीनों भर्ती परीक्षाओं के 18 अभ्यर्थियों की सूची व अनुक्रमांक विनोद व शादान को देते हुए कहा कि यदि उक्त अभ्यर्थियों की भर्ती करवाने में विनोद व शादान सफल रहते हैं तो प्रति अभ्यर्थी के हिसाब से 5 लाख रूपये उन लोगों को मिल जाएंगे। इस सूचना पर विनोद व शादान ने पंकज के माध्यम से उक्त सभी 18 अभ्यर्थियों को ओएमआर शीट खाली छोड़ देने की सूचना कराई। उक्त अभ्यर्थियों द्वारा ऐसा ही किया गया। परीक्षोपरान्त जब सभी अभ्यर्थियों की ओएमआर सीट राभव लिमिटेड के प्रतिनिधि के रूप में विनोद व शादान द्वारा स्कैन की जा रही थी, तब उनके द्वारा पंकज गुप्ता को उपलब्ध कराई गयी। उपरोक्त 18 अभ्यर्थियों की अनुक्रमांक सूची से मिलान कर सूची के अभ्यर्थियों की ओएमआर शीट अलग कर अधिकृत आन्सर-की से मिलाकर ओएमआर शीट में सही उत्तरों के गोलों को भर दिया गया। रिजल्ट में उक्त सभी 18 अभ्यर्थी सफल रहे। इन्ही सफल अभ्यर्थियों से पैसा एकत्र कर पंकज गुप्ता व उसके सहयोगी कमल किशोर व अजीत कुमार, विनोद व शादान को देने के लिए आये थे।

आरोपी पंकज गुप्ता ने बताया कि विनोद व शादान द्वारा अभ्यर्थियों का जुगाड़ करने व उनसे पैसा लेने की बात उसने अपने मित्र अजीत कुमार तथा अजीत कुमार ने अपने मित्र कमल किशोर से बताई थी। पंकज, अजीत व कमल किशोर अपने-अपने परिचयों/सम्पर्कों के माध्यम से ऐसे अभ्यर्थियों की तलाश करने लगे, जो उन्हें भर्ती होने के एवज में 8 लाख रूपये दे सकें। इसी दौरान कमल किशोर का सम्पर्क राजस्थान के दो व्यक्ति रमेश मीणा व धर्मेश मीणा से हो गया। रमेश व धर्मेश उपरोक्त अपने स्थानीय सम्पर्को के कारण 18 ऐसे अभ्यर्थियों की व्यवस्था करने में सफल रहे, जो भर्ती होने के एवज में 9 लाख रूपये देने को तैयार हो गये। पंकज गुप्ता की बात का समर्थन अजीत व कमल किशोर द्वारा भी किया गया। सभी पांच आरोपियों से की गयी पू्छताछ से प्राप्त तथ्यों की पुष्टि तकनीकी एवं भौतिक दोनों रूपों से प्राप्त सूचनाओं से भी हुई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 16, 2019, 9:56 pm
Fog
Fog
27°C
real feel: 34°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:08 am
sunset: 6:13 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending