Connect with us

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 19 दिसंबर को लखनऊ हिंसा में मारे गए मो. वकील के परिजनों से मुलाकात की। रविवार दोपहर मो. वकील के चौक स्थित घर पहुंचे अखिलेश यादव के साथ सपा नेता मोहम्मद एबाद भी मौजूद रहे। सपा मुखिया ने पीड़ित परिवार को सांत्वना देते हुए हर संभव मदद का भरोसा दिया। इससे पहले शनिवार को सपा की तरफ से मो. वकील के पिता को एक लाख रुपए की आर्थिक मदद का चेक भी दिया जा चुका है।

मीडिया से बात करते हुए अखिलेश ने कहा कि यह सरकार पीड़ितों से मिलने भी नहीं दे रही है। यह सरकार संविधान को भी नहीं मानती। सीएए के विरोध में पूरे देश में आंदोलन हो रहा है। लेकिन लोगों को अपनी बात कहने से भी मना किया जा रहा है। अखिलेश ने कहा, सरकार खुद मृतकों के परिजनों के दुख में शामिल नहीं हो रही है और न ही विपक्ष को उनसे मिलने दे रही है। हमारी मांग है कि मृतकों के परिवारों को सरकार आर्थिक मदद दे।

यह भी पढ़ें-पुलिस कार्रवाई पर मायावती ने उठाए सवाल, कहा- निर्दोषों को रिहा करे सरकार

अखिलेश यादव से मिलने के बाद मो. वकील के पिता मोहम्मद शर्फुद्दीन ने मीडियाकर्मियों के साथ बातचीत में कहा, हम पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई से संतुष्ट हैं। हमें सरकार की तरफ से एक मकान मिल चुका है। साथ 5 लाख रुपए की आर्थिक मदद का भी आश्वासन दिया गया है। बहू को घर की चाभी मिल गई है, अभी मुआवजा राशि नहीं मिली है। अखिलेश यादव करीब 15 मिनट तक हमारे साथ रुके। उन्होंने ज्यादा कोई बातचीत नहीं की।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

राइडिंग हंटर बाईकर्स ने रैली निकाल कर युवाओं को ट्रैफिक नियमों के प्रति किया सजग

Published

on

लखनऊ। राजधानी लखनऊ समेत अन्य जगहों पर यातायात नियमों के पालन को लेकर अक्सर लोगों में लापरवाही देखी जाती है। अधिकतर दो पहिया वाहन पर चलने वाले लोग हेलमेट का प्रयोग नहीं करते हैं। साथ ही सीमित सवारियों से ज्यादा लोग दोपहिया वाहन पर बैठते हैं। ऐसे में सड़क दुर्घटना में जहां क्षतिग्रस्त होती है। तो वहीं, वाहन की सवारी भी चोटिल हो जाते हैं। अधिकतर चिकित्सकों समेत अन्य स्वास्थ्य सलाहकारों का मानना है कि दोपहिया वाहन से अगर कोई हादसे का शिकार होता है तो सबसे ज्यादा चोट उसके सर में आती हैं। और ज्यादातर लोगों की हेड इंजरी से मृत्यु भी होती है।

दोपहिया से चलने वाले लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए और उन्हें इससे होने वाले नुकसान को बताने के लिए लखनऊ के राइडिंग हन्टर्स बाइकर क्लब के द्वारा रूमी गेट से लेकर आईएचएम तक एक बाइक रैली निकाली गई।

वहीं क्लब की मेंबर आयशा अमीन ने कहा कि आज यह बाइक रैली युवाओं को जागरूक करने के प्रति किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि अक्सर देखने में आता है कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले और सड़क हादसों के शिकार होने वाले अधिकतर युवा होते हैं।

यह भी पढ़ें: आवारा मवेशियों को बचाने के प्रयास में पलटे दो ट्रक, चालक व क्लीनर बाल-बाल बचे

उन्होंने कहा कि हम युवा होकर अगर युवाओं को इसके प्रति जागरूक करेंगे तो हमारी बात ज्यादा असर अंदाज होगी। इसी कारण लोगों को दो पहिया वाहन पर हेलमेट पहनकर और नियमित स्पीड में वाहन चलाने समेत तमाम जरूरी जानकारी राइडिंग हंटर बाईकर्स क्लब के द्वारा दिया जाएगा। साथ ही आईएचएम के छात्रों को इसके प्रति विस्तार से जानकारी देते हुए उन्हें भी जागरूक किया जाएगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

सेंट्रल रीजनल कर्मचारी संघ ने केन्द्र सरकार के फैसले का किया विरोध

Published

on

लखनऊ। सेंट्रल रीजनल वर्कशॉप कर्मचारी संघ ने आज उत्तर प्रदेश के प्रधान कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। परिवहन निगम का मान्यता प्राप्त संगठन है सेंट्रल रीजनल कर्मचारी संघ। परिवहन निगम ने केंद्र सरकार द्वारा लिए गए फैसले जिसमें 22 सीटर व उससे ज्यादा की एसी बसों को टैक्स फ्री किया गया है। कर्मचारियों का संगठन सेंट्रल रीजनल कर्मचारी संघ ने इस फैसले का विरोध किया है। संगठन के पदाधिकारियों का मानना है कि जब बिना टैक्स फ्री किए ही परिवहन निगम को इतनी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। डग्गामार बसों के संचालक, सरकारी बसों पर हावी हो जाएंगे। ऐसे फैसले से तो परिवहन निगम के आस्तित्व के साथ ही निगम के कर्मचारियों का भविष्य भी खतरे में आ जायेगा।

चारबाग स्थित संगठन के प्रधान कार्यालय में की गई महत्वपूर्ण बैठक

इस बैठक में केंद्र सरकार के द्वारा ट्रांसपोर्ट व हाइवेज़ मंत्रालय की मंशा के अनुसार जिला व तहसील से गांवों को जोड़ने के लिए 22 सीटर और उससे अधिक सीटर एसी बसों को परमिट फ्री किया जाना है। संगठन के महामंत्री जसवंत सिंह ने कहा कि इस व्यवस्था के अनुसार राष्ट्रीयकृत मार्गो का अतिक्रमण होगा। उन्होंने कहा कि ऐसी भी मंशा है कि 13000 एक्सप्रेस-वे हाईवेज पर भी समानान्तर प्राइवेट बसों को चलाया जाएगा। इससे उत्तर प्रदेश परिवहन निगम को बहुत नुकसान होगा। जिससे निगम में कार्य करने वाले कर्मचारियों का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश परिवहन निगम का अस्तित्व भी खतरे मे आ जाएगा।

यह भी पढ़ें: भारतीय संस्कृति में सेवा किसी सौदे का नाम नहीं: योगी आदित्यनाथ

एमडी परिवहन राजशेखर से करेंगे लिखित आश्वासन की मांग

संगठन के महामंत्री ने बताया कि आज की बैठक में जो निर्णय लिया गया है। उसमें हमारी मांग है कि प्रबंध निदेशक, उत्तर प्रदेश परिवहन निगम हमको पत्र के माध्यम से यह अवगत कराएं कि कर्मचारियों में इस फैसले के सम्बंध में जो भय व्याप्त है कि उनका भविष्य खतरे में है। वह गलत है या सही है, अवगत कराने का कष्ट करें कि वर्तमान में जो व्यवस्थाएं, परिस्थितियां परिलक्षित हो रही हैं। फैसले के लागू होने के उपरान्त क्या कर्मचारियों को भविष्य में वेतन समय पर मिलता रहेगा। अतिरिक्त देय व सेवानिवृत्ति के बाद ग्रेच्युटी और अन्य मदों का भुगतान समय से होता रहेगा। हमारा संगठन प्रबंध निदेशक, परिवहन निगम से लिखित आश्वासन की माँग कर रहा है। साथ ही इस संगठन के पदाधिकारियों ने परिवहन निगम के सभी संगठनों से मांग की है कि यह लड़ाई परिवहन निगम के अस्तित्व की लड़ाई है। इस लड़ाई में सभी संगठन और ऑफिसर एसोसिशियन भी एक हों। क्योंकि यह परिवहन निगम के 55000 कर्मचारियों के भविष्य का सवाल है। इस बैठक में उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के सेंट्रल रीजनल वर्कशॉप कर्मचारी संघ के सभी क्षेत्रों के क्षेत्रीय अध्यक्ष व मंत्रियों ने भी बढ़-चढ़कर अपना विरोध दर्ज किया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

भारतीय संस्कृति में सेवा किसी सौदे का नाम नहीं: योगी आदित्यनाथ

Published

on

एकल अभियान से जुड़ा से एकेटीयू, बच्चों को मिलेगी तकनीकी शिक्षा

लखनऊ। एकल अभियान के तहत स्थापित स्कूलों में अब बच्चों को गुणवत्तार्ण तकनीकी शिक्षा भी हासिल हो सकेगी। रविवार से राजधानी में शुरू हुए एकल अभियान परिवर्तन कुंभ व स्वराज सेनानी सम्मेलन के दूसरे दिन सोमवार को एकेटीयू ने एकल संस्था के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किया। जिसके तहत एकल स्कूलों में टेक्निकल शिक्षा की जिम्मेदारी अब लखनऊ स्थित अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) पर होगी। एकेटीयू के कुलपति विनय पाठक की मौजूदगी में एमओयू साइन किया गया। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें-CBI अफसर बनकर सड़कों पर लूट करने वाले दो बदमाश चढ़े पुलिस के हत्थे…

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा, लखनऊ में हो रहे एकल अभियान परिवर्तन कुंभ 2020 में सभी लोगों का स्वागत है। दिवंगत अशोक सिंघल ने जिस अभियान की शुरुआत की थी, उसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गति दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सेवा का भाव हमारे संस्कारों के माध्यम से हमें प्राप्त हुआ है। यह अभियान साबित करता है कि भारतीय संस्कृति में सेवा किसी सौदे का नाम नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान जब मैंने बजरंग बली का नाम लिया तो मुझ पर 3 दिन का प्रतिबंध लगा दिया गया। मैंने उसी समय तय किया कि बजरंगबली के नाम पर मुझे पर प्रतिबंध लगा है तो मैं बजरंगबली के मंदिरों के दर्शन 3 दिन लगातार करूंगा।

भाजपा सरकार के काम से समाज का हर तबका खुशहाल

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार में 4 करोड़ लोगों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है। 8 करोड़ परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया गया। बड़ी संख्या में गरीबों को निःशुल्क शौचालय उपलब्ध कराया गया है। अस्पतालों में गरीबों को आयुष्मान योजना के तहत फ्री में इलाज मिल रहा है। किसानों को हर वर्ष हजारों रुपए की सहायता दी जा रही है। यह सभी कार्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सफल प्रयास के परिणाम हैं। सीएम योगी ने कहा कि भाजपा सरकारों से समाज का हर तबका खुश है। जिसका परिणाम है कि कुछ दिन पहले जब मैं एक दलित के घर पहुंचा तो वहां पर आरती की थाली लेकर लोगों ने मेरा स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह स्वागत इसलिए हुआ था, क्योंकि उन गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान मिला था।

एकल अभियान के सदस्यों को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा, आप लोग गांव-गांव जाकर जिस काम को अंजाम दे रहे हैं, उसी काम को पीएम मोदी विशालरूप में परिवर्तित कर रहे हैं। योगी ने कहा कि हमने शासन की सबसे बेहतर व्यवस्था के रूप में राम राज्य को आदर्श माना है। राम राज्य में किसी तरह का भेदभाव नहीं होता है। योगी ने कहा कि जब मैं उस दलित परिवार के घर के अंदर गया तो वहां रसोई गैस और विद्युत कनेक्शन भी उपलब्ध था। जो मोदी सरकार ने ही उपलब्ध कराया था। सीएम योगी ने कहा कि शासन की योजनाएं हर गांव तक पहुंचने पर ही राम राज्य का मार्ग प्रशस्त होगा।

यह भी पढ़ें-विधानसभा में बोले सीएम योगी, कानपुर देहात हिंसा पर राजनीति न करे विपक्ष

सीएम योगी ने कहा कि हमारी सरकार ने विद्यालयों में शिक्षकों की तस्वीर लगाने को कहा है, ताकि बच्चे अपने शिक्षकों को पहचानें। साथ ही इससे बच्चे प्रेरणा भी लेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है। मोदी सरकार में अब तक पूरे देश में 46 करोड लोगों के बैंक खुले हैं। 3 वर्ष के दौरान हम लोगों ने 28 नए मेडिकल कॉलेज बनाने का काम शुरू किया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Trending