Connect with us

लखनऊ लाइव

वाराणसी में सपा प्रत्याशी की जीत से देश को मिलेगा नया प्रधानमंत्रीः अखिलेश

Published

on

फ़ाइल फोटो

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज चंदौली, मिर्जापुर, वाराणसी और सोनभद्र के प्रमुख कार्यकर्ताओं एवं नेताओं से भाजपा को हराने की रणनीति बनाने के साथ इन क्षेत्रों की चुनावी राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की। वाराणसी प्रधानमंत्री मोदी का निर्वाचन क्षेत्र होने से समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी-राष्ट्रीय लोक दल के गठबंधन के लिए भी महत्वपूर्ण है और इस क्षेत्र में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी की जीत से देश को नया प्रधानमंत्री मिलने का रास्ता प्रशस्त हो जायेगा।

समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं एवं नेताओं का आह्वान करते हुए पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा की 80 की 80 सीटों पर हर हाल में जीत सुनिश्चित करें। गठबंधन में शामिल दलों के साथ समन्वय और सहयोग से भाजपा की हर चाल को विफल करते हुए अपने प्रत्याशी को भारी बहुमत से जिताने के लिए एकजुट हों। उन्होंने कहा कि मतदाता ही भाग्यविधाता है, इसलिए बूथस्तर पर ‘समाजवादी बूथ रक्षक’ पूरी मजबूती से मतदान स्थलों पर डटकर वोट की लूट न होने दें। बिना शोर शराबा किए चुपचाप शांतिपूर्ण ढंग से निष्पक्ष एवं स्वतंत्र मतदान हो सके, इसका हर कार्यकर्ता ध्यान रखें।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा ने राजनीति के नैतिक चरित्र को बिगाड़ा है। भाजपा राज में आतंकवाद पर नियंत्रण नहीं हो सका। देश की सुरक्षा से जुड़े राफेल विमान के सौदे से सम्बन्धित फाइलों के चोरी हो जाने की घटना बहुत गंभीर है। भाजपा की कथित उपलब्धियों पर जनता के सामने उसकी कलई एक-एक कर खुलती जा रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा नफरत फैलाने और समाज को बांटने का काम करती है। जबकि समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी-राष्ट्रीय लोक दल का गठबंधन विचारों का गठबंधन है। यह गठबंधन एकाधिकारवादी व्यवस्था को शिकस्त देने का काम करेगा। भाजपा ने अब तक वादाखिलाफी और मुद्दों से बहकाने का ही काम किया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने नौजवानों को बेरोजगार बनाया है। महंगाई बढ़ी है। किसान ज्यादा बेहाल जिन्दगी जीने को अभिशप्त है। उसकी आय दुगनी नहीं हुई। भ्रष्टाचार पर रोक नहीं लगी है।

अखिलेश यादव ने कहा है कि भारत इस समय लोकतंत्र की अग्निपरीक्षा से गुजर रहा है। स्वाधीनता आंदोलन के तमाम आदर्शों एवं मूल्यों पर आघात पहुंचाने की साजिश है। संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है। भाजपा के अमर्यादित आचरण एवं असंयमित भाषा के प्रयोग से सामाजिक वातावरण दूषित हो रहा है। ठोको और घर में घुसकर मारेंगे जैसी भाषा प्रयुक्त हो रही है और अब बात भाजपा नेताओं के बीच जूतमपैजार तक पहुंच रही है। उन्होंने कहा कि जनता जानना चाहती है कि उसकी सुरक्षा का क्या होगा? जो वादे किए थे उन्हें पूरा करने की भाजपा की नीयत कभी नहीं रही।

अखिलेश ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि झूठ, अफवाह और साजिशों के मामले में भाजपा का कोई जवाब नहीं है। भाजपा का हथियार है पैसा और झूठ के आधार पर मतदाताओं में भ्रम फैलाना। वह मुद्दों को भटकाने में मास्टर है। आज संविधान बचाने और संविधान से मिले अधिकारों को बचाने की लड़ाई है। ढाई लोग देश को डराने में लगे है। ये लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी-राष्ट्रीय लोक दल का गठबंधन खुशहाली और तरक्की लाने के लिए बना गठबंधन है। यह गठबंधन जनआकांक्षाओं पर खरा उतरेगा।

सपा सुप्रीमो से मिले डीएलएड/बीटीसी प्रशिक्षुगण

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज समाजवादी पार्टी प्रदेश कार्यालय में डी.एल.एड./बी.टी.सी. प्रशिक्षुगणों ने मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। डिप्लोमाधारी अभ्यर्थियों ने अपने ज्ञापन के माध्यम से सरकार की दोषपूर्ण नीतियों के खिलाफ समर्थन की अपील की। इस पर अखिलेश यादव ने प्रतिनिधिमण्डल से कहा कि शासन के इशारे पर प्रशिक्षुओं पर लाठीचार्ज किया गया और ज्ञापन भी नहीं लिया गया। लड़कियों को भी मारा गया और पुलिस ने बर्बरतापूर्ण व्यवहार किया। उत्तर प्रदेश में 10 लाख प्रशिक्षित नौजवान बेरोजगार है। लेकिन रोजगार के मुद्दे पर प्रदेश की भाजपा सरकार का रवैया संवेदनहीन है।

प्रतिनिधिमण्डल में प्रमुख रूप से रजत सिंह (प्रदेश अध्यक्ष), निखिल कनौजिया, रामयाज्ञिक (प्रदेश उपाध्यक्ष), जागृति पाण्डेय (प्रदेश छात्र प्रमुख) सुप्रिया यादव, कपिल, सविता, अंकित सिंह बाबू, सतीश शर्मा, समर, महेन्द्र यादव, साहू, विशाल गुप्ता, माधुर्य सिंह मधुर, रोहित यादव, सर्वेश शुक्ला, आशु कनौजिया, मारूफ अंसारी अन्नू शामिल थे।   http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

सीएम योगी ने दैवीय आपदा में प्रदेश के 17 लोगों की मौत पर शोक जताया

Published

on

मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख की राहत राशि देने के निर्देश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न जनपदों में दैवीय आपदा की घटनाओं में 17 लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं भी व्यक्त की हैं। यह जानकारी देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सम्बन्धित जनपदों के जिलाधिकारियों को मृतकों के आश्रितों को तत्काल अनुमन्य राहत धनराशि उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि दैवीय आपदा में दिवंगत लोगों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए की राहत राशि तत्काल वितरित की जाए। दैवीय आपदा की घटनाओं में 19 लोग घायल भी हुए हैं। वहीं सीएम ने अधिकारियों को घायलों के उपचार के लिए समुचित प्रबन्ध करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि राहत कार्यों में किसी भी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार पीड़ित व्यक्तियों के साथ है और उनकी हर सम्भव मदद की जाएगी।

यह भी पढ़ें-गुरु नानक के प्रकाश पर्व को विशिष्ट आयोजन के रूप में मनाया जाएगा – योगी आदित्यनाथ

प्रवक्ता के मुताबिक सोमवार को प्राप्त सूचना के अनुसार जनपद हरदोई में 3 लोगों की मृत्यु, जनपद अमेठी, सीतापुर, बलरामपुर, गाजीपुर और जालौन में 2-2 तथा फतेहपुर, उन्नाव, बदायूं और गोण्डा में 1-1 लोगों की मृत्यु हुई है। दैवीय आपदा से जनपद हरदोई में 11, जालौन में 3, सीतापुर में 2 तथा अमेठी, मुरादाबाद और बदायूं में 1-1 लोग घायल हुए हैं। इसी प्रकार हरदोई में पशुहानि की संख्या 6 तथा अयोध्या में 4 है। जनपद महोबा में 4 तथा सुलतानपुर, अमेठी व सीतापुर में 1-1 कुल 7 मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

व्यापारियों ने पीएम मोदी को बतायी अपने ‘मन की बात’, लखनऊ से भेजे जाएंगे एक लाख पोस्ट कार्ड

Published

on

लखनऊ। भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ अमीनाबाद बाजार की ओर से सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से ’व्यापारी के मन की बात’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में सैकड़ों व्यापारियों ने एकत्र होकर पोस्ट कार्ड के माध्यम से अपने मन की बात प्रधानमंत्री मोदी को लिखकर भेजी। भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के नगर अध्यक्ष अभिषेक खरे ने बताया कि केंद्र में दोबारा मोदी सरकार बनने से व्यापारी काफी प्रसन्न हैं।

हमें पीएम मोदी पर पूरा भरोसा है कि जल्द ही वह ऐसी योजनाएं लागू करेंगे जिससे व्यापार में तेजी आएगी। व्यापारियों ने प्रधानमंत्री द्वारा व्यापारी पेंशन योजना लागू करने का भी स्वागत किया और उन्हें धन्यवाद दिया।

बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक, महापौर संयुक्ता भाटिया तथा व्यापारी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष मनीष गुप्ता भी उपस्थित रहे। उन्होंने व्यापारियों के इस अभियान की प्रशंसा की। सह संयोजक मनीष गुप्ता ने कहा कि इस तरह के अभियान लखनऊ से लगातार चलाए जाएंगे।

व्यापारियों द्वारा प्रधानमंत्री को एक लाख पोस्टकार्ड भेजे जाएंगे। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से अमीनाबाद परिक्षेत्र के प्रभारी प्रियंक गुप्ता, स्वामी गौड़, विजय शर्मा, हिमांशु गुप्ता, सुमित गुप्ता, विनोद अग्रवाल, गौरव महेश्वरी, अनुज गुप्ता, मनोज सिंह पुजारी उपस्थित रहे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

ईवीएम टैम्परिंग से भाजपा ने जीता 2019 का चुनाव : गौहर रजा

Published

on

अर्जुन प्रसाद स्मृति परिसंवाद में प्रसिद्ध वैज्ञानिक, कवि, फिल्मकार और सामाजिक कार्यकर्ता ने भाजपा पर बोला हमला

लखनऊ। 2019 के आम चुनाव परिणाम ने सभी को स्तब्ध करके रख दिया है। चुनाव परिणाम अचम्भित करने वाले हैं और उन सब लोगों के लिये गम्भीर धक्का है जो संविधान, जनतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और जनवादी मूल्यों पर भरोसा करते हैं। इस चुनाव परिणाम के साथ संकीर्ण साम्प्रदायिकता और फासीवादी रूझान वाली भारतीय जनता पार्टी की बढ़त के चलते दांव पर एक-आध चुनाव, एक दो सरकारें नहीं बल्कि देश का संविधान, लोकतन्त्र, सभ्य समाज और सबसे ऊपर भारत की मौलिक अवधारणा दांव पर है। यह बातें प्रसिद्ध वैज्ञानिक, कवि, फिल्मकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौहर रजा ने कैफी आजमी एकेडमी सभागार में आयोजित अर्जुन प्रसाद स्मृति परिसंवाद में कहीं। उन्होने कहा कि अथाह पैसा, मीडिया, छद्म राष्ट्रवादी उन्माद, कारपोरेट का समर्थन और साम्प्रदायिकता के साथ रणनीतिक कुशलता के साथ चुनिंदा तरीके से ईवीएम टैम्परिंग से भाजपा ने 2019 का चुनाव जीता है।

गौहर रजा ने कहा कि पिछले पांच साल में इतनी असफल और जनविरोधी सरकार के प्रति लोगों में बेहद गुस्सा था। देश का आर्थिक ढांचा पूरी तरह से हिल गया है। देश में 36 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं। पिछले डेढ. साल में हमारे देश में 40 से अधिक बड़े किसान आंदोलन हुए। इस वक्त स्वास्थ्य पर खर्च काफी कम किये जा रहे हैं। आयुष्मान योजना में मरीज से अधिक बीमा कंपनियों के हित ज्यादा देखे गये हैं। प्राइमरी शिक्षा में छात्रों के दाखिले घटे हैं। दलित और मुसलमान हासिये पर पर हैं। देश में बेरोजगारी का आलम यह है कि नौजवान पढ़-लिखकर भी बेकार बैठने को मजबूर है। मजदूरों और मजदूर संघों को मिटाने की तैयारी है, इसी कारण आज तक उनके बारे में सरकार ने सोचना तक जरूरी नहीं समझा है। लेकिन इन असफलताओं के बाद भी देश के बड़े पूंजीपति वर्ग ने अपने व्यापार प्रबन्धन की जिम्मेदारी फिर मोदी को सौंपने का निर्णय लिया। 2019 के नतीजों से बड़ा धक्का लगा है इस देश के नागरिकों को। विपक्ष हताश हुआ है और जनता मे भी इस जीत पर 2014 की तरह जश्न जैसा माहौल नहीं था, एक्जिट पोल प्री प्लान था। जहां तक ईवीएम का सवाल है तो दुनिया की कोई ऐसी मशीन नहीं है, जिसे मनुष्य ने बनाया हो और उसे टेम्पर न किया जा सके। आज जब तकनीकी इतनी बढ़ गई है तो यह कहना कि ईवीएम को टेम्पर नहीं किया जा सकता है, बेमानी लगती है। ईवीएम घोटाला अभी का नहीं है, बल्कि यह सिलसिलेवार ढंग से किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-तात्कालिकता कविता का अनिवार्य कारक होता है : नलिन रंजन सिंह

इसका पहला प्रयोग गुजरात के विधानसभा चुनाव में किया गया, जिसको पुरजोर तरीके से भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाया था, जो अब खामोश है। इसका प्रयोग 2014 के चुनावों में भी किया गया, लेकिन उत्तर प्रदेश के चुनाव में यह बड़े पैमाने पर किया गया और 2019 का चुनाव इसी के बूते ही जीता गया।
पूंजीपतियों की अकूत दौलत, मीडिया, सोशल मीडिया ने मोदी की जीत का नैरेटिव गढ़ने का काम किया। जिसमें मुस्लिम विरोध, पाकिस्तान विरोध के आधार पर, पुलवामा और बालाकोट के आधार पर छद्म राष्ट्रवाद के भावनात्मक उन्माद ने बड़ी भूमिका अदा की। लेकिन यह भी उतना ही सच है कि इस सब के बावजूद भाजपा की 303 सीट आने की कोई स्थिति नहीं थी। इस बढ़त के लिये अन्य कारणों के साथ ईवीएम टैम्परिंग का खेल भी खेला गया। इलेक्शन कमीशन जो बात अब तक कहता आया कि ईवीएम टैम्पर नही की जा सकती क्योंकि उसमें लगने वाली चिप केवल एक बार प्रोग्राम की जा सकती है जबकि अभी आरटीआई के जवाब के बाद यह स्पष्ट हो गया कि चिप एक बार प्रोग्राम करने वाली नहीं है जिससे चुनाव आयोग गलत साबित हुआ है। चुनाव के दौरान बड़ पैमाने पर ईवीएम इधर-उधर पायी गई। 20 लाख से अधिक ईवीएम गायब हैं और तमाम मीडिया रिपोर्ट के आधार पर यह स्पष्ट है कि 370 से ज्यादा लोकसभा सीट के ऊपर डाले गये वोट और गिने गये वोट का मिलान नहीं हो पा रहा है। इन तथ्यों के आधार पर अगर हम देखें तो यह स्पष्ट उभरकर आता है कि अन्य कारणों के साथ-साथ ईवीएम टैम्परिंग भी एक बड़ा कारण है जिसने मोदी सरकार की जीत की नींव रखी। कहा कि आज जरूरत है कि मजदूरो, छात्रों, दलितो और महिलाओं के सवाल के अलावा ईवीएम की लड़ाई भी लड़ने की।

यह भी पढ़ें-वसीम रिजवी ने अपनी दूसरी बीवी को कर रखा है कैद, फरहत नकवी

स्वतन्त्र और निष्पक्ष चुनाव के लिये तमाम राजनीतिक ताकतों पर दबाव बनाने का काम हम सबको करना होगा, जिसके लिये सिविल सोसाइटी के लोगों की, जनवादी आंदोलन के लोगों की और तमाम सामाजिक कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है कि वो जनता के बीच जाकर ईवीएम के खिलाफ जनमत तैयार करें।
अर्जुन प्रसाद स्मृति समारोह समिति द्वारा प्रत्येक वर्ष कामरेड अर्जुन प्रसाद की याद में समसामयिक विषयों पर गोष्ठी आदि का आयोजन किया जाता है। कार्यक्रम की शुरूआत में प्रसिद्ध लेखक व आलोचक वीरेन्द्र यादव ने अर्जुन प्रसाद के राजनीतिक जीवन पर प्रकाश डाला। वहां मौजूद सभी लोगों ने अर्जुन प्रसाद को पुष्पांजति अर्पित करते हुये उनके संघर्षों को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया। परिसंवाद का संचालन कामरेड अर्जुन प्रसाद स्मृति समारोह समित के संयोजक डाॅ. प्रदीप शर्मा ने किया। कार्यक्रम में इप्टा महासचिव राकेश, किसान सभा के जिला सचिव छोटे लाल रावत, कलम से ऋषि, जनवादी लेखक संघ से नलिन रंजन सिंह, सीटू अध्यक्ष आर एस बाजपेई, बेफी से छोटेलाल पाल, जनवादी महिला समिति से सीमा राणा, डॉ मनीष हिन्दवी, डॉ शोभा बाजपेई, डॉ असद मिर्जा, राम सागर जगत, चबूतरा थियेटर से महेश चंद्र देवा, राज्य कर्मचारी की ओर से अफीफ सिद्दिकी, यूपीएमएसआरए से राहुल मिश्र आदि उपस्थित थे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 25, 2019, 1:02 am
Cloudy
Cloudy
29°C
real feel: 34°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 78%
wind speed: 2 m/s N
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:45 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending