Connect with us

लखनऊ लाइव

बलरामपुर अस्पताल से बिना इलाज वापस लौटे मरीज…

Published

on

लखनऊ। इन दिनों सरकारी अस्पतालों में मरीजों को इलाज मिलना मुश्किल हो गया है। जिसकी वजह से मरीज बिना इलाज के ही अस्पताल से वापस लौट रहे हैं। ऐसा ही वाक्या बुधवार को बलरामपुर अस्पताल में ओपीडी के दौरान देखने को मिला। जहां कई मरीज सुबह आकर पर्चे बनवाये लेकिन ओपीडी समाप्त होने के पहले ही उन्हें वापस भेज दिया गया।

यह भी पढ़ें: छेड़खानी के विरोध पर दबंग शोहदे ने युवती को सरेराह पीटा

बांगरमऊ उन्नाव निवासी राबिया (26) पिछले कई महीनों से रीढ़ के दर्द से परेशान थी। अपने इलाज के लिए बुधवार को बलरामपुर अस्पताल के आर्थोपेडिक विभाग ओपीडी में आयी थी। सुबह लाइन में लगकर उसने पर्चा भी बनवाये लेकिन ओपीडी बन्द होने के 10 मिनट पहले ही उसे यह कहकर वापस भेज दिया गया कि कल आना आज नहीं देख पाएंगे। इसी तरह आर्थो से बिना इलाज और जांच के लखीमपुर की सुनीता, बस्ती की अपर्णा भी वापस लौट गई। वहीं अस्पताल प्रशासन का कहना है कि डॉक्टरों के ऊपर बहुत दबाव है ऐसे में क्या कर सकते हैं।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

शिक्षकों की प्रताड़ना से परेशान कक्षा 11 की छात्रा ने खाया जहरीला पदार्थ

Published

on

लखनऊ। स्कूल शिक्षा के मंदिर होते हैं और इस मंदिर में शिक्षक ही बच्चों के भगवान होते हैं। लेकिन आज के समय में यह परिभाषा शायद सही नहीं है। आज के शिक्षकों ने इस पुनीत कार्य को जहां प्रोफेशन बना दिया है वहीं बच्चे भी शिक्षकों वेतन लेकर नौकरी करने वाला व्यक्ति समझ लिया है। जिसका परिणाम है, आज की शिक्षा व्यवस्था में तमाम विसंगतियां पैदा हो गई हैं।

लखनऊ के मल्हौर स्थित रानी लक्ष्मी बाई स्कूल में कक्षा 11 में पढ़ने वाली एक छात्रा ने टीचर की प्रताड़ना से परेशान होकर आत्महत्या का प्रयास किया है। गुरुवार को उसने जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने छात्रा को तुरंत पास के ही एक प्राईवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उपचार के बाद छात्रा की हालत में सुधार आया। छात्रा ने अपने स्कूल की टीचर रागिनी, शिल्पी और क्लास टीचर भारती पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। छात्रा कई दिनों से परेशान चल रही थी।

यह भी पढ़ें-छेड़छाड़ का विरोध करने पर लखनऊ मेट्रो में कार्यरत महिला को नौकरी से निकाला

डर की वजह से उसने परिजनों से भी कोई बात नहीं बतायी। गुरुवार को टीचर की किसी बात से आहत होकर उसने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया। फिलहाल अब बच्ची की हालत सामान्य है। परिजनों ने अभी तक इस मामले में पुलिस से कोई शिकायत नहीं की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

छेड़छाड़ का विरोध करने पर लखनऊ मेट्रो में कार्यरत महिला को नौकरी से निकाला

Published

on

लखनऊ। लखनऊ मेट्रो में कार्यरत एक महिला कर्मचारी के साथ छेड़छाड़ की गई। विरोध करने पर महिला को नौकरी से निकाल दिया गया। महिला का आरोप है कि उसने अपने साथ हुई छेड़छाड़ की शिकायत आलमबाग थाना और नाका थाना पुलिस से की लेकिन आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। आरोप है कि नाका थाना पुलिस ने काम दिलाया लेकिन एक महीने बाद 9 अक्टूबर को उसे नौकरी से निकाल दिया गया।
जानकारी अनुसार राजमति देवी लखनऊ मेटो में हाउस कीपर के पद पर तैनात थी। महिला ने बताया कि वह मेटो में डेढ. साल से काम कर रही है। इसके पहले वह आलमबाग बस अड्डे पर तैनात थी। जहां प्रदीप नाम के साथी कर्मचारी ने उसके साथ छेड़छाड़ की। अधिकारियों से शिकायत करने पर उन्होंने आलमबाग थाना पुलिस से शिकायत करने को कहा। आरोप है कि थाने से एक दारोगा आया और उसने चारबाग थाने पर बुलाया। चारबाग थाने पहुंचने आरोपियों ने फिर से छेड़छाड़ की। जिसकी शिकायत लेकर नाका थाने गई। लेकिन वहां भी कार्रवाई नहीं हुई। नाका थाना के दारोगा ने कहा कि हम तुम्हे काम दिलाएंगे।

यह भी पढ़ें-Homeless day : सिर पर सुरक्षित छत भी बड़ी चीज है… कभी बेघर होकर सोचिए!

उन्होंने आलमबाग थाने में ही काम दिला दिया। लेकिन एक महीना काम करने के बाद 9 अक्टूबर को मुझे नौकरी से निकाल दिया गया। पीड़ित महिला ने कहा, मैं पूरी जिम्मेदारी से काम कर रही थी लेकिन बिना कारण बताए नौकरी से हटा दिया गया। महिला ने महिला ने चारबाग में तैनात जेई एमपी सिंह और आलमबाग बस अड्डे के कर्मचारी प्रदीप और सुपरवाइजर अरुण पर छेड़छाड़ के आरोप लगाए हैं। आरोप है कि छेड़छाड़ का विरोध करने पर जेई हाउस कीपिंग एमपी सिंह ने काम से निकाल दिया। पीड़िता की मांग है कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के साथ उसे नौकरी दी जाए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

बच्चों और माता-पिता के बीच मोबाइल बना दीवार: सीएमओ

Published

on

लखनऊ। विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर गुरुवार को राजधानी स्थित सिटी मांटेसरी स्कूल गोमती नगर के सभागार में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कक्षा 7 से 12 तक के छात्र-छात्राओं के उन्मुखीकरण के लिए आयोजित इस कार्यक्रम को सीएमओ डॉ. नागेंद्र अग्रवाल ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि टीवी, मोबाइल और लैपटॉप में अधिक समय देने से बच्चों और उनके माता-पिता के बीच दूरी बनती जा रही है। इस वजह से बच्चे अपने मन की बातों को माता-पिता से नहीं बता पाते हैं जिस कारण से मन में कई बातें घर कर जाती हैं। बच्चे मानसिक तनाव से ग्रस्त हो जाते हैं। 

राजन होटल अधिकारी डॉ. सुनील पांडेय ने बताया कि जनपद के समस्त विद्यालयों में से एक मॉडल शिक्षकों को मानसिक स्वास्थ्य के संबंध में जिला मानसिक स्वास्थ्य पोस्ट द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा। जिसके बाद प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा कक्षा में मॉनिटर की भांति लड़कों को लड़कियों को मंत्री बनाया जाएगा। जो कक्षा के बच्चों के मानसिक व्यवहार की समस्याओं को नोडल शिक्षकों को अवगत कराएंगे। 

डॉ. आशुतोष श्रीवास्तव ने मेंटल है फर्स्ट एडविषय पर बच्चों को जानकारी दी । डेविड अब्राहम ने लाइफ स्किल्स फॉर टीनएजर विषय पर बच्चों को युवावस्था में मन में उठने वाले विचारों में मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूक किया। स्कूल की प्रधानाचार्य आभा आनंद ने कहा कि जनपद के प्रत्येक विद्यालय में अध्यनरत छात्र-छात्राओं को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किए जाने के लिए इस तरह की कार्यशाला आवश्यक है। उन्होंने छात्र-छात्राओं से कहा कि मानसिक स्वास्थ्य के प्रति स्वयं अपने परिजनों को जागरूक करें।

ये भी पढ़ें: मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने कहा- मोहब्बत के लिए मस्जिद की जमीन देने में कोई हर्ज नहीं

 कार्यक्रम के अंत में जनपद के नोडल अधिकारी ने प्रधानाचार्य से विशेष अनुरोध किया कि बच्चों को प्राप्त होने वाले अंकों के अनुसार सेक्शन नहीं बनाना चाहिए। इससे बच्चे के अंदर हीन भावना उत्पन्न होने का भय रहता है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 10, 2019, 10:56 pm
Fog
Fog
25°C
real feel: 31°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:33 am
sunset: 5:14 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending