Connect with us

लखनऊ लाइव

फुटपाथ पर रहने वाले लोगों ने अपनी मांग को लेकर मुख्यमंत्री आवास के पास किया प्रदर्शन

Published

on

लखनऊ। मुख्यमंत्री आवास के पास फुटपाथ पर रहने वालों ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। बता दें कि झांसी के साथ ही अन्य जनपदों से आई सैकड़ों महिलाएं मुख्यमंत्री आवास पर प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं मुख्यमंत्री आवास पर प्रदर्शन कर रही महिलाओं को देख पुलिस ने मौके पर पहुंच कर सभी प्रदर्शनकारी महिलाओं को रोका और ईको गार्डन जाकर प्रदर्शन करने की बात कही और किसी तरह सभी को उस स्थान से हटाया।

यह भी पढ़ें: The Girl On The Train का फर्स्ट लुक आउट, ऐसा होगा परिणीति चोपड़ा का लुक

बता दें कि झांसी से आई सैकड़ों महिलाएं मुख्यमंत्री आवास के पास सरकारी मकान और सरकारी लाभ देने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रही हैं। सभी महिलाओं ने मुख्यमंत्री के राजभवन निकलते वक्त प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि हम यहां इसलिए आए हैं कि हमें मोदी सरकार ने ना आवास और ना ही योगी सरकार ने दिया। हम यहां पर अपना अधिकार मांगने आए हैं। हमारे बच्चे अब शिक्षित हो रहे हैं। लेकिन अगर हम उन्हें किसी स्कूल में भेजते हैं तो उन्हें वहां दाखिला नहीं मिलता है। हम यहां सिर्फ अपने अधिकार के लिए मुख्यमंत्री से मिलने आए हैं लेकिन प्रशासन हमें उन से मिलने नहीं दे रहा है। आगे कहा है कि अगर हम लोगों को अगर मुख्यमंत्री से नहीं मिलने दिया जायेगा तो हम लोग अपनी परेशानियां किस से कहेंगे।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

16 अप्रैल को देश भर के ज्वेलरी व्यापारी मनाएंगे ज्वेलरी दिवस

Published

on

ज्वेलरी व्यापार को अधिक पारदर्शी और विश्वसनीय बनाने के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान

लखनऊ। देश भर में फैले 4 लाख से अधिक ज्वेलरी व्यापारी और उनसे जुड़े लगभग 20 लाख कारीगर आगामी 16 अप्रैल को देश भर में ज्वेलरी दिवस के रूप में मनाएंगे। यह घोषणा ज्वेलरी एवं उससे जुड़े कारीगरों के शीर्ष संगठन आल इंडिया ज्वेलर्स एन्ड गोल्डस्मिथ फेडरेशन ने आज की। यह संगठन कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) द्वारा ज्वेलरी व्यापार के लिए गठित प्रमुख संगठन हैं, जो मूलरूप से देश के छोटे ज्वेलर्स एवं ज्वेलरी कारीगरों का प्रतिनिधित्व करता है।

देश में लगभग 4 लाख से अधिक ज्वेलर्स हैं जिनमें लगभग 95% छोटे ज्वेलर्स हैं। केवल मात्र 30 हजार जेवेलर्स बीआइएस हॉलमार्क से पंजीकृत हैं। ज्वेलरी व्यवसाय में देश भर में लगभग 20 लाख कारीगर हैं जो आभूषण बनाते हैं। देश में प्रतिवर्ष लगभग 900 टन सोने की सालाना खपत है। लगभग 3 लाख करोड़ रुपये का सोना आयात होता है। लगभग 12.5 % इम्पोर्ट ड्यूटी और 3% जीएसटी के हिसाब से ये व्यापार सरकार को लगभग 50 हजार करोड़ रुपये का राजस्व प्रदान करता है। वहीं चांदी का व्यापार भी देश भर में बड़े पैमाने पर अलग से होता है।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की कैट ने देश के समस्त रिटेल व्यापार को आधुनिक एवं उच्च स्तरीय बनाने का निर्णय लिया हुआ है। जिसके अंतर्गत प्रत्येक महत्वपूर्ण व्यापार को बेहतर तकनीक से जोड़ा जाएगा, ताकि भारत के हर क्षेत्र के व्यापारी आत्मनिर्भर बन कर किसी बी देसी अथवा वैश्विक व्यापारिक चुनौती का मुकाबला कर सकें। इस योजना के तहत देश के ज्वेलरी व्यापार को बेहतर, पारदर्शी एवं विश्वसनीय बनाने के लिए देश भर के छोटे ज्वेलर व्यापारियों एवं ज्वेलरी कारीगरों को साथ जोड़कर कैंट ने हाल ही में आल इण्डिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन (एआईजेजीऍफ़) का गठन किया है। जिसमें देश के सभी राज्यों के छोटे ज्वेलर्स के व्यापारी संगठनों के व्यापारी नेता एवं ज्वेलरी कारीगर शामिल हैं।

बता दें कि, आल इंडिया ज्वेलर्स एन्ड गोल्डस्मिथ फेडरेशन के राष्ट्रीय संयोजक पंकज अरोरा, फाउन्डर मेंबर विनोद माहेश्वरी ने बताया की आगामी 16 अप्रैल को देश भर में ज्वेलरी दिवस मनाते हुए दिल्ली में एक ज्वेलरी व्यापारी महासम्मेलन आयोजित होगा। जिसमें देश के सभी राज्यों के प्रमुख ज्वेलरी व्यापारी बड़ी संख्यां में भाग लेंगे। सम्मेलन में ज्वेलरी व्यापार की वर्तमान ज्वलंत समस्याओं एवं उनका समाधान तथा किस प्रकार से व्यापारी सरकार के साथ सहयोग करते हुए देश के ज्वेलरी व्यापार में वृद्धि कर सकते हैं। भारत से किस प्रकार ज्वेलरी का ज्यादा से ज्यादा निर्यात किया जा सकता है, इस पर चर्चा करते हुए अपनी आगामी रणनीति तय करेंगे। उन्होंने ने बताया की ज्वेलरी व्यापार के प्रमुख ज्वलंत मुद्दों को लेकर संगठन का प्रतिनिधिमंडल शीघ्र केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान से शीघ्र मिलेगा।

विनोद माहेश्वरी ने संगठन के विषय में जानकारी देते हुए कहा की वर्तमान में देश का ज्वेलरी व्यापार बेहद निराशा के दौर से गुजर रहा है। वर्तमान में जहाँ आभूषणों की बिक्री में कमी आ रही है तो वहीं दूसरी ओर सरकार की नीतियां भी ज्वेलरी व्यापार को ढेर करने में लगी हुई हैं। उन्होंने कहा की देश के छोटे ज्वेलर्स एवं उनसे जुड़े कारीगर इस व्यापार को बेहतर बनाने के लिए सरकार के दृष्टिकोण का स्वागत करते हैं और सरकार को समर्थन का भरोसा देते हैं किन्तु सरकार को छोटे ज्वेलर्स से चर्चा कर उनकी समस्याओं को समझना जरूरी है और उसके अनुसार इस व्यापार के लिए नीति बनाई जाए।

यह भी पढ़ें :- कोरोना का कहर: 6 दिन में निवेशकों के 11 लाख करोड़ रुपए डूबे

उन्होंने बताया कि वाणिज्य मंत्रालय द्वारा गठित डोमेस्टिक गोल्ड कॉउन्सिल में अभी तक उन छोटे ज्वेलरी व्यापारियों का प्रतिनिधित्व नहीं है, जो देश में प्रतिवर्ष हो रहे गोल्ड व्यापार का 85 प्रतिशत हिस्सा है। लिहाजा एआइजीजेएफ को भी डोमेस्टिक गोल्ड कॉउन्सिल में शामिल किया जाना चाहिए। देश के ज्वेलरी व्यापारी आभूषणों पर हॉलमार्किंग करने के सरकार के आदेश का स्वागत करते हैं और सरकार के साथ सहयोग करते हुए देश के सभी ज्वेलर्स को हॉलमार्किंग के साथ जोड़ना चाहते हैं। किन्तु देश भर में ज्वेलरी आभूषणों की बिक्री के पैटर्न को देखते हुए हॉलमार्किंग नियमों में 20 कैरट ज्वेलरी को भी मान्यता दी जाए। यह आवश्यक है वहीं हॉलमार्किंग के वर्तमान नियम के अनुसार ज्वेलर को हॉलमार्क का रिकॉर्ड रखने के लिए बाध्य किया गया है, जबकि हॉलमार्क के स्टॉक का रिकॉर्ड हॉलमार्किंग सेंटर को रखना चाहिए। 2 लाख रुपये तक के आभूषणों की नकद बिक्री के स्थान पर 100 ग्राम आभूषणों की नकद बिक्री को अनुमति देनी चाहिए। प्रत्येक जिला मुख्यालय पर सरकार स्वयं के हॉलमार्किंग सेंटर खोले तभी आभूषणों को सही तरीके से हॉलमार्क किया जा सकता है।

श्री अरोरा ने कहा की किसी भी व्यापारी द्वारा हॉलमार्किंग सेंटर खोलने पर सरकार को उसे प्रोत्साहित करना चाहिए। हॉलमार्किंग मशीनों के आयात शुल्क में सरकार को छूट देनी चाहिए। गोल्ड मेटल लोन एवं बैंकों से क़र्ज़ ज्वेलरी व्यापारियों को बैंकों से आसानी से दिलवाया जाए। सर्राफा व्यवसाइयों को प्राथमिकता पर आर्म लाइसेंस ऑनलाइन एवं सरल प्रक्रिया से दिया जाए। ज्वेलरी कारीगरों को आसान तरीके से मुद्रा योजना के अंतर्गत ऋण दिया जाए। ज्वेलरी व्यापारियों द्वारा पुराने गहने खरीदने पर सरकार दिशा निर्देश भी जारी करे जिससे आये दिन पुलिस द्वारा सराफा व्यापारियों का उत्पीड़न रोका जाए। ज्वेलरी व्यापारियों को सीटीटी के रिफंड का समुचित प्रावधान किया जाए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

मुख्यमंत्री से मिलने उनके आवास पहुंचे राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य नृपेंद्र मिश्रा

Published

on

अयोध्या के विकास पर हुई चर्चा, कई विभागों के अधिकारी भी रहे मौजूद

लखनऊ। राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के गठन के बाद से ही अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया तेज हो गयी है। शुक्रवार देर शाम राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य नृपेंद्र मिश्रा ने 5 कालिदास मार्ग स्थित सीएम आवास पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। उनके साथ अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी थे। अवनीश अवस्थी भी ट्रस्ट में पदेन सदस्य हैं। नृपेंद्र मिश्रा राम जन्मभूमि निर्माण ट्रस्ट के भवन निर्माण समिति के चेयरमैन हैं। माना जा रहा है कि बैठक में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ ही अन्य योजनाओं और कार्यों पर चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें-माॅज हत्याकांड: बर्खास्त इंस्पेक्टर संजय राय सहित 5 को उम्रकैद की सजा

बैठक में पर्यटन, संस्कृति, लोनिवि, सिंचाई आदि विभागों के आला अफसर भी मौजूद हैं। माना जा रहा है कि अयोध्या के नई पहचान और पर्यटन हब बनाने के लिए सभी विभाग मिलकर रणनीति बनाएंगे। साथ मंदिर निर्माण को लेकर भी चर्चा हो सकती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

अखण्ड भारत दिवस के रूप में मने डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस

Published

on

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सिविल अस्पताल में मुखर्जी की प्रतिमा के सौन्दर्यीकरण कार्य का लोकार्पण

लखनऊ। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को कहा, हमारी इच्छा है कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस अखण्ड भारत दिवस के रूप में मनाया जाय। क्योंकि अखण्ड भारत के निर्माण के लिए स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद सबसे पहले उन्होंने ही बलिदान दिया था। केशव प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को लखनऊ स्थित सिविल अस्पताल में डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा के सौन्दर्यीकरण कार्य का लोकार्पण किया। इस मौके पर आयोधित समारोह को सम्बोधित करते हुए डिप्टी सीएम ने डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन संस्मरणों की यादें ताजा की। साथ ही उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए लोगों से उनके जीवन दर्शन से प्रेरणा लेने की अपील की।

यह भी पढ़ें-15 मार्च से प्रदेश में विकास कार्यों का होगा स्थलीय निरीक्षण

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान देश कभी भुला नहीं सकता। अस्पताल परिसर में उनकी प्रतिमा के सौन्दर्यीकरण कार्य की सराहना करते हुए केशव ने कहा, यहां पर और भी कुछ कार्य कराए जाएं ताकि इसे और ज्यादा आकर्षक बनाए जा सके। मौर्य ने कहा कि देश सर्वोपरि है। देश की अखण्डता के लिए श्यामा प्रसाद ने जो रास्ता दिखया है, उसका हम सबको अनुसरण करना चाहिए। इससे पूर्व उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, विधायी एवं न्याय मंत्री बृजेश पाठक सहित अन्य लोगों ने डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये।

मंत्री बृजेश पाठक ने डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा, देश डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का हमेशा ऋणी रहेगा। इस अवसर पर निदेशक डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल पीएस नेगी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. प्रवीण कुमार, चिकित्सा अधीक्षक डा आशुतोष दुबे, लोनिवि के प्रमुख अभियंता सत्येन्द्र कुमार श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियन्ता, जेके बांगा आदि मौजूद रहे।

आजम के खिलाफ अब लिखा गया असली मुकदमा

कार्यक्रम से बाहर मीडियाकर्मियों के एक सवाल का जवाब देते हुए डिप्टी सीएम ने कहा, भाजपा द्वेष की भावना से कोई काम नहीं करती। आजम खां के खिलाफ सही तथ्यों के आधार पर मुकदमा किया गया। जिसके चलते कोर्ट ने उन्हें जमानत भी नहीं दी। डिप्टी सीएम ने कहा कि उनकी सरकार के समय न जाने कितने लोगों को फर्जी मुकदमों में फंसाकर जेल भेजा गया। अब असली मुकदमा लिखा गया है। केशव प्रसाद मौर्य नेे कहा, अखिलेश यादव बेतुके आरोप लगाने से बचें। यह कोर्ट का विषय है और कोर्ट ही तय करेगा। दोषी कोई भी हो, सभी के खिलाफ कार्रवाई होगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 29, 2020, 2:50 am
Fog
Fog
18°C
real feel: 19°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 82%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:01 am
sunset: 5:37 pm
 

Recent Posts

Trending