Connect with us

लखनऊ लाइव

पीएफ घोटाला: ऊर्जा मंत्री के बयान पर बिजली कर्मचारी आगबबूला, दी चेतावनी

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने पीएफ घोटाले के मामले में चल रहे बिजली कर्मचारियों के शांतिपूर्ण आंदोलन के दौरान प्रदेश के ऊर्जा मंत्री के रवैये को गैर जिम्मेदाराना करार दिया। समति ने का कहना है कि ऊर्जा मंत्री के बयानों से ऊर्जा निगमों में अनावश्यक तौर पर टकराव का वातावरण बन रहा है। संघर्ष समिति ने गुरुवार को प्रदेश सरकार व ऊर्जा निगमों के प्रबंधन को 28 नवंबर से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार की नोटिस दे दी है। अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार के अभियान में बिजली कर्मचारियों, जूनियर इंजीनियरों व अभियंताओं ने आज राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश भर में समस्त परियोजनाओं व जिला मुख्यालयों पर विरोध सभायें और प्रदर्शन किये।

राजधानी लखनऊ में शक्ति भवन पर हुई सभा में बिजली कर्मचारियों ने ऊर्जा मंत्री के बयान पर आक्रोश व्यक्त किया, जिसमें उन्होंने प्राविडेन्ट फण्ड घोटाले के लिए ट्रस्ट के कर्मचारी प्रतिनिधियों को जिम्मेदार ठहराया है। संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि श्रीकांत शर्मा के ऊर्जा मंत्री रहते हुए ट्रस्ट की एक भी बैठक नहीं हुई और अरबों रूपये का घोटाला होता रहा। ऐसे में यह ट्रस्ट के कर्मचारी प्रतिनिधियों की नहीं बल्कि ऊर्जा मंत्री की नैतिक जिम्मेदारी है। संघर्ष समिति ने स्पष्ट किया है कि बिजली कर्मचारियों का शांतिपूर्ण आंदोलन प्रदेश सरकार के नहीं बल्कि घोटाले के विरोध में है। इसिलिए ऊर्जा मंत्री को ऐसे बयानों से बचना चाहिए जिससे समाधान के बजाय टकराव बढ़ता हो।

संघर्ष समिति ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक बार फिर अपील की है कि वे प्रभावी हस्तक्षेप कर बिजली कर्मचारियों के प्राविडेन्ट फण्ड के भुगतान की गजट नोटिफिकेशन जारी करें। जिससे बिजली कर्मचारी निश्चिंत होकर प्रदेश की बिजली व्यवस्था को सुचारू बनाये रखने में जुटे रह सकें। संघर्ष समिति ने यह भी मांग की है कि घोटाले के मुख्य आरोपी पूर्व चेयरमैनों को जो ट्रस्ट के भी चेयरमैन रहे हैं सेवा से बर्खास्त कर तत्काल गिरफ्तार किया जाये।

संघर्ष समिति की 28 नवंबर से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार की नोटिस में यह चेतावनी दी गयी है कि अगर शांतिपूर्ण ध्यानाकर्षण आंदोलन के दौरान किसी का भी उत्पीड़न किया गया या किसी को भी गिरफ्तार किया गया तो बिना और कोई नोटिस दिये उसी समय सभी ऊर्जा निगमों के तमाम बिजली कर्मचारी, जूनियर इंजीनियर व अभियन्ता अनिश्चितकालीन पूर्ण हड़ताल और सामूहिक जेल भरो आंदोलन प्रारंभ करने के लिए बाध्य होंगे, जिसकी सारी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार व प्रबंधन की होगी।

ये भी पढ़ें: रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति में साध्वी प्रज्ञा, कांग्रेस ने उठाए सवाल

आज शक्ति भवन लखनऊ में हुई विरोध सभा में राजीव सिंह, जय प्रकाश, गिरीश पाण्डे, सदरूद्दीन राणा, सोहेल आबिद, विनय शुक्ला, शशिकान्त श्रीवास्तव, पवन श्रीवास्तव, डी के मिश्रा, सुनील प्रकाश पाल, राम प्रकाश, जी वी पटेल, वारिन्दर शर्मा, महेन्द्र राय, वी सी उपाध्याय, परशुराम, पी एन तिवारी, पी एन राय, ए के श्रीवास्तव, कुलेन्द्र प्रताप सिंह, मो. इलियास, के एस रावत, भगवान मिश्र, करतार प्रसाद, आर एस वर्मा, पी एस बाजपेयी, वी के सिंह ‘कलहंस’ मौजूद रहे।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

राहुल-प्रियंका की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर उतरे कांग्रेसी, सियासी हंगामा शुरू

Published

on

लखनऊ। राहुल और प्रियंका की गिरफ्तारी की खबर लगते ही प्रदेश भर में सियासी हंगामा शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। प्रदेश नेतृत्व ने सभी जिला, तहसील व ब्लॉक मुख्यालयों का घेराव करने और प्रदर्शन करने का निर्देश दिया है। राजधानी लखनऊ में सीएम आवास का घेराव करने जा रहे सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया है।

बहराइच

कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा और एमएलसी दीपक सिंह को लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

फ़ैजाबाद

एक प्रेस नोट जारी कर कहा गया कि हाथरस जा रहे राहुल गांधी के साथ जिस तरह धक्का-मुक्का कर उन्हें जमीन पर गिराया गया और फिर गिरफ्तार किया गया, वह बेहद अफसोसजनक है। हम अपने नेता के साथ इस तरह के अभद्र व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें-हाथरस जा रहे राहुल-प्रियंका के साथ पुलिस ने की धक्का-मुक्की, गिरफ्तार

राहुल-प्रियंका की गिरफ्तारी के विरोध में लखनऊ के अलावा फ़ैजाबाद, बहराइच में भी कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए हैं। यहां नगर कोतवाली क्षेत्र में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को काबू करने में पुलिस के पसीने छूट गए है। बहराइच पुलिस ने लाठीचार्ज के बाद दर्जनों कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

पिता के लिए इंसाफ मांग रहीं बेटियों पर लखनऊ पुलिस ने दिखाया जोर

Published

on

हजरतगंज में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहीं युवतियों को जबरन हिरासत में लिया गया

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था वेंटिलेटर पर पहुंच चुकी है। लगभग हर दिन महिलाओं-युवतियों के साथ रेप, गैंगरेप और हत्या की घटनाएं सामने आ रही हैं। वहीं दूसरी तरफ गंभीर से गंभीर अपराधों में भी न तो सुनवाई हो रही है और न ही कार्रवाई। उल्टे आवाज उठाने पर पीडि.तों पर ही पुलिस अपना जोर दिखा रही है। हाथरस कांड के बाद चौतरफा घिरी यूपी पुलिस का एक और शर्मनाक चेहरा सामने आया है। अपने पिता की हत्या में इंसाफ और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग लेकर हजरतगंज पहुंचीं दो बेटियों को पुलिस ने जबरन पीट-घसीटकर थाने भेज दिया। मामला काकोरी कोतवाली क्षेत्र के ग्राम गदाई खेड़ा का है।

जिम्मेदारों को जगाने के लिए हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहीं दो बहनों ने बताया कि 23 जुलाई को बड़ागांव के प्रधानपति और बेटों ने उनके पिता की हत्या कर दी थी। मृतक गांव के ही झंडेस्वर महादेव मंदिर में पुजारी था। बेटियों का आरोप है कि आरोपियों के साथ मिलकर स्थानीय पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं किया। उल्टे आरोपी ग्राम प्रधान व प्रधान पति ने पुलिस से मिलकर पीड़ितों पर ही गलत मुकदमा दर्ज करा दिया।

यह भी पढ़ें-शासन के मूक आदेश पर प्रशासन ने मृतका के परिजनों को दौड़ा-दौड़ाकर मारा-अखिलेश

पीड़ित बेटियों ने पिता को न्याय दिलाने के लिए कई उच्च अधिकारियों को शिकायती पत्र दिया। जिसके बाद काकोरी पुलिस ने हल्की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। हत्या के दो महीने बाद भी अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं।

बेटियों की मांग

विरोध प्रदर्शन कर रहीं बेटियों ने सात सूत्रीय ज्ञापन दिखाते हुए कहा, हमारी मांग है कि हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार कर उन्हें जेल भेजा जाए। उन पर लगाया गया फर्जी मुकदमा हटाया जाए। ग्राम बधाई खेड़ा में खसरा संख्या 558 का पट्टा उनके परिवार के नाम किया जाए। मृतक पुजारी के परिवार के भरण-पोषण के लिए सरकार 2,50,0000 का मुआवजा दे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

लखनऊः हाथरस घटना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया जोरदार प्रदर्शन

Published

on

लखनऊ। हाथरस में दलित बेटी को न्याय दिलाने की मांग को लेकर मंगलवार को लखनऊ महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान एवं जिला अध्यक्ष वेद प्रकाश त्रिपाठी के नेतृत्व में सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हजरतगंज में जोरदार प्रदर्शन किया।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में गिरती कानून व्यवस्था और महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार के खिलाफ गांधी प्रतिमा के सामने योगी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

महिला कांग्रेस की अध्यक्ष ममता चौहान, पिछड़ा वर्ग विभाग के अध्यक्ष मनोज यादव, डा. शहजाद आलम, सिद्धि श्री, जगदीश बाल्मीकि, रफत फातिमा, रमेश मिश्रा, योगेश्वर सिंह, शाहिद अली, माया चौबे, अयूब सिद्दीकी,

यह भी पढ़ें-हाथरस गैंगरेप: बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए भूख-हड़ताल पर बैठे परिजन

संजय श्रीवास्तव, प्रणव त्रिपाठी, रंजीत भारती, विकास सक्सेना, गजाला सिद्दीकी, विषम सिंह, तरुण रावत, संजय बाल्मीकि, प्रभाकर मिश्रा, अखिलेश शर्मा, मोहम्मद नूर आलम, शिप्रा अवस्थी, विभा त्रिपाठी, हाशिम अली, मोहम्मद शकील, एसके द्विवेदी, श्याम सिंह, रथीन चक्रवर्ती, सुशील कुमार, मुन्नालाल भारती, बंशीलाल लोधी सहित सैकड़ों की संख्या में कांग्रेसजन मौजूद रहे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 1, 2020, 6:52 pm
Mostly clear
Mostly clear
30°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 78%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:29 am
sunset: 5:22 pm
 

Recent Posts

Trending