Connect with us

लखनऊ लाइव

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये पीएम मोदी ने किया लखनऊ मेट्रो का शुभारम्भ

Published

on

लखनऊ: शहर वासियों को आज बड़ी सौगात मिली है। मेट्रो के उत्तर-दक्षिण गलियारे की शुरुवात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानपुर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए की। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाइक, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, मुरली मनोहर जोशी आदि मौजूद थें। वहीँ, लखनऊ में केंद्रीय राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी, यूपी कि कैबिनेट मिनिस्टर रीता बहुगुणा जोशी, महापौर संयुक्ता भाटिया आदि मौजूद रहीं।

समय से पहले ही हो गया तैयार

23 किलोमीटर लम्बे इस गलियारे को तैयार होने में लगबग साढ़े चार साल का समय लगा है। तय समय से 36 दिन पहले ही यह प्रोजेक्ट पूरा कर लिया गया। चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से शुरू होकर मुंशी पुलिया तक गए इस कॉरिडोर को बनाने कि लागत 6928 करोड़ आई। इस मेट्रो का न्यूनतम किराया 10 और  अधिकतम किराया 60 रुपये है।

अखिलेश के तंज पर राजनाथ के सुपुत्र का पलटवार

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के छोटे सुपुत्र नीरज सिंह ने अखिलेश यादव के मोदी सरकार पर किये गए तंज का जवाब दिया है। नीरज ने कहा जब तक परियोजना पूरी न हो जाए उसका श्रेय नहीं लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अखिलेश के समय पूरी व्यवस्था लचर थी। हमारी सरकार की इच्छाशक्ति थी इसलिए हमने इसे पूरा किया। नीरज ने कहा कि अखिलेश का अंतर्मन इस बात को जानता है लेकिन राजनीति की वजह से वो यह बात नहीं मानेंगे।

https://youtu.be/OHM4Il6Ma4M

बता दें, अखिलेश ने आज ट्वीट कर कहा था कि, “सुना है सपा के समय बनी लखनऊ व गाज़ियाबाद मेट्रो का दोबारा उद्घाटन व शिलान्यास करने दिल्ली से माननीय आ रहे हैं।”

हो सकता था बड़ा हादसा

यह भी पढ़ें :- लखनऊ मेट्रो उद्घाटन से पहले अखिलेश यादव का PM मोदी को संदेश, कही ऐसी बात कि…!!

पीएम मोदी के मेट्रो को ग्रीन सिग्नल देने से कुछ देर पहले एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। दरअसल, हर व्यक्ति इंतज़ार कर रहा था मेट्रो के चलने का और लोगों कि सुरक्षा के लिए स्टेशन पर कई सुरक्षाकर्मी खड़े थे। उन्हीं में से एक गार्ड ट्रैक पर गिर गया। उसे सर में गंभीर चोट आई। तुरंत ही पास मौजूद लोगों ने उसे उठाया और अस्पताल भेजा।

http://www.satyodaya.com

 

 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लखनऊ लाइव

लोक मंगल दिवस पर महापौर ने सुनीं लोगों की समस्याएं

Published

on

लखनऊ। जुलाई के पहले मंगलवार पर आयोजित लोक मंगल दिवस में महापौर संयुक्ता भाटिया ने जोन 1 और जोन 2 में जनता की समस्याएं सुनीं। महापौर ने मौके पर उपस्थित संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के निस्तारण का निर्देश दिया। पंकज गुप्ता ने महापौर से सहादत गंज कोतवाली मेहंदीगंज में स्थित एक जर्जर मकान को ढहाने की मांग की। पंकज की शिकायत सुनकर महापौर ने अपर नगर आयुक्त अमित कुमार से उक्त स्थल पर जाकर निरीक्षण करने और आवश्यक कार्यवाही करने को कहा। सहादतगंज निवासी गुलफाम और अजीम ने महापौर से शिकायत की कि कुछ अराजक तत्वों द्वारा उक्त स्थल पर अवैध अतिक्रमण किया जा रहा है। जिसपर महापौर ने नगर निगम तहसीलदार को स्थल की जांच करने एवं अतिक्रमण हटाने के लिए निर्देशित किया। इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया के साथ नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी, अपर नगर आयुक्त अमित कुमार, जोनल अधिकारी नरेंद्र वर्मा के साथ संबंधित जोन के पार्षद एवं अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहें।

यह भी पढ़ें-माही गिल ने खुद के बारे में किया बड़ा खुलासा, प्रशंसकों को लगा झटका

जोन 2 के लोक मंगल दिवस का आयोजन ऐशबाग स्थित नगर निगम कार्यालय में किया गया। यहां अम्बेडकर नगर निवासी निर्मला देवी ने महापौर को बताया कि 21 जून को ओटीएस के तहत छूट प्राप्त करने के उद्देश्य से कर निर्धारण करने का अनुरोध पत्र नगर निगम जोन 2 में दिया था। परन्तु आज तक कर निर्धारण नही किया गया है। जिसपर महापौर ने टीआई शौरभ को फटकार लगाते हुए त्वरित कर निर्धारण करने के लिए निर्देशित किया।
ऐशबाग निवासी अमित गुप्ता ने महापौर को बताया कि मेन रोड एटीएम के पास सीवर चोक हो गया है। सीवर का पानी रोड पर बहता है और फिर वह घरों में घुस जाता है। जिसपर महापौर ने अधिशासी अभियंता जलकल को सीवर की पूर्ण सफाई के निर्देश दिए।
पार्षद राजेश कुमार मालवीय ने महापौर को बताया कि चारबाग स्थित पानदरीबा में अराजक तत्वों द्वारा अतिक्रमण कर लिया गया हैं। जिस पर महापौर ने जोनल अधिकारी बिन्नो रिज्वी को उक्त स्थल की जांच कर अतिक्रमण हटाने के लिए निर्देशित किया।


जोन 2 में कुल 39 शिकायतें आईं। जिनमें अभियंत्रण की 15, कर विभाग की 11, जलसंस्थान की 07, कैटिल कैचिंग की 02, स्वास्थ्य की 01, मार्गप्रकाश की 02 एवं उद्यान की 01 शिकायत थी। इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया के साथ नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी , अपर नगर आयुक्त अर्चना द्विवेदी, भाजपा पार्षद दल मुख्य सचेतक रजनीश गुप्ता, पार्षद राजेश मालवीय, शिवपाल साँवरिया, मोहम्मद राइस, मोनू कन्नौजिया, जोनल अधिकारी बिन्नो रिज्वी के साथ संबंधित जोन के अन्य पार्षद एवं अन्य अधिकारी- कर्मचारी उपस्थित रहें।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

सीओ कैसरबाग अमित कुमार के समर्थन में उतरा पीपीएस एसोसिएशन, निलंबन का करेंगे विरोध…

Published

on

लखनऊ। प्रमुख सचिव गृह ने सीओ कैसरबाग के खिलाफ निलंबन की कार्यवाई करने की बात कही है जिसमें उन्होंने सीओ अमित कुमार का निलंबन करने के मामले में बताया है कि सचिवालय संघ के कर्मचारी नेताओं से मिले थे जिन्होंने बताया था सचिवालय कर्मचारी संघ ने जब प्रदर्शन किया था उसी दौरान समीक्षा अधिकारी की पिटाई की गई थी और उसी मामले में कार्यवाही की गई है। बताते चलें कि जिस समय यूपी कैबनेट की मीटिंग चल रही थी उसी वक्त कैसरबाग थाने के डिप्टी एसपी अमित कुमार ने सचिवालय के कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। यह मामला जैसे ही सचिवालय संघ के सामने आया तो सैकड़ों कर्मचारियों ने लोकभवन को घेर लिया और धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। विरोध बढ़ता देख मुख्य सचिव के निर्देश पर प्रमुख सचिव गृह और प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अवनीश अवस्थी ने आश्वासन दिया कि इस घटना के दोषी डिप्टी एसपी यानी कि सीओ कैसरबाग और पुलिस कर्मचारियों को निलम्बित करने के आदेश दे दिए गए हैं। इस आश्वासन के बाद कर्मचारियों का प्रदर्शन खत्म हुआ था।

जानकारी के मुताबिक, सचिवालय कर्मचारी मनोज प्रजापति की गाड़ी में एक व्यक्ति की गाड़ी से टक्कर लग गई थी। टक्कर से गाड़ी में आई क्षतिपूर्ति के लिए दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया था और मामला वहां नहीं निपटा तो पुलिस दोनों को थाने ले गई। वहां पर सचिवालय कर्मचारी ने अपना परिचय समीक्षाधिकारी के रूप में दिया तो कथित तौर पर डिप्टी एसपी ने उसकी वहां पिटाई कर दी। इसी दौरान कर्मचारी के पिटने की सूचना सचिवालय संघ के यादुवेन्द्र मिश्रा को मिल गई। उन्होंने मौके पर संघ के अन्य पदाधिकारियों को भेजा, लेकिन पुलिस का रुख देखकर वे सभी वापस आ गए। उसके बाद ही कर्मचारियों ने लोकभवन को उस वक्त घेर लिया जब मुख्यमंत्री कैबिनेट की मीटिंग की अध्यक्षता कर रहे थे। कर्मचारियों के विरोध की जानकारी जब सीएम को हुई तो उन्होंने मुख्य सचिव को दिशा निर्देश दिए। जिसके बाद कर्मचारियेंा से कहा गया कि वे घेराव बंद करें।

यह भी पढ़ें :- सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी करने वाले हो जाएं सावधान, पकड़े जाने पर भरना पड़ेगा इतना जुर्माना…

कर्मचारीयों को सरकार ने अश्वासन दिया कि सीओ और सम्बन्धित कर्मचारियेां को निलम्बित कर दिया गया है। अगर उनकी मांग पूरी ना हो पाई तो घेराव कल भी किया जा सकता है। शासन की इस बात पर कर्मचारियों ने अपना आंदोलन स्थगित कर दिया। कर्मचारी संघ के अध्यक्ष यादुवेन्द्र मिश्रा ने बताया कि सचिवालय कर्मचारियों के खिलाफ हो रहे पुलिसिया उत्पीड़न के विरोध में सभी कर्मचारी एक जुट हो गए और जोरदार धरना प्रदर्शन किया गया। इसके बाद शासन के अधिकारियों ने आश्वासन दिया तब धरना प्रदर्शन समाप्त किया गया। दो दिन पहले लोकभवन में प्रवेश को लेकर भाजपा के एक विधायक से सचिवालय सुरक्षा कर्मचारियों के बीच जमकर कहासुनी हुई। विधायक के खिलाफ भी कर्मचारियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया था। नतीजा यह रहा कि कर्मचारियों ने उस दिन भी प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी।

वहीं पीपीएस एसोसिएशन सीओ कैसरबाग के समर्थन में उतरी हुई है और सीओ कैसरबाग के खिलाफ हुई कार्यवाही का विरोध करने की बात कही है। वहीं पीपीएस एसोसिएशन के महासचिव राजेश सिंह ने कहा कि अगर सीओ का निलंबन होता है तो पीपीएस एसोसिएशन इसका विरोध करेगा और अलाधिकारियों से वार्ता भी करेगा। बता दें कि वीडियो में पुलिस से बदसलूकी करने वाले के बचाव में उतरे उच्चाधिकारी के खिलाफ पीपीएस एसोसिएशन ने मोर्चा खोलने की बात की है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

मायावती ने पार्टी की समीक्षा बैठक में योगी सरकार पर जमकर साधा निशाना

Published

on

लखनऊ। केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकारों ने जिस प्रकार से आर्थिक आधार पर आरक्षण और महाराष्ट में मराठा समाज को आरक्षण दिलाने में दिलचस्पी दिखाई है, वैसी ही रूचि एससी/एसटी/ओबीसी वर्गों के मामले में दिखाई होती तो वंचित वर्ग को उसका अधिकार मिल गया होता। पिछड.ा वर्ग, अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए आरक्षित पद खाली पड़े हैं लेकिन उन्हें भरने के लिए भाजपा सरकारें कोई रूचि नहीं ले रहीं। जो भाजपा की जातिवादी और संकीर्ण सोच का परिचायक है। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भाजपा पर यह आरोप मंगलवार को लखनऊ में आयोजित पार्टी की समीक्षा बैठक में लगाए। पूर्व मुख्यमंत्री यहां पश्चिमी उत्तर प्रदेश व बुन्देलखण्ड क्षेत्र के पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक कर रहीं थी। बसपा सुप्रीमो ने योगी सरकार के 17 ओबीसी जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने के निर्णय की भी आलोचना की। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार के इस फैसले से इन 17 जातियों की और भी ज्यादा दुर्दशा होने वाली है। क्योंकि अब इन जातियों को किसी भी प्रकार का आरक्षण नहीं मिलेगा।

यह भी पढ़ें-भारतीय बाजारों में चीनी कंपनियां हावी, 1000 कर्मचारियों की नौकरी पर लटकी तलवार

वहीं दूसरी ओर विभिन्न राज्यों द्वारा आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ाया जा रहा है उससे यह मांग भी उठेगी कि एससी और ओबीसी का कोटा उनकी आबादी के अनुपात में बढ़ाया जाए। पदाधिकारियों की बैठक में मायावती ने निर्देश दिया कि कार्यकर्ता गांव-गांव में सर्वसमाज के बीच जाएं और जनता का दुःख-दर्द बांटने का प्रयास करें। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में अराजकता का माहौल है। ध्वस्त कानून व्यवस्था का शिकार केवल ग़रीब जनता ही नहीं बल्कि सर्वसमाज के लोग भी हैं। व्यापारी, वकील आदि कोई वर्ग सुरक्षित नहीं है। सरकारी कर्मचारी व पुलिस तक भी सुरक्षित नहीं हैं। महिला अत्याचार, दलित उत्पीड़न, राजनीतिक हत्याएं व मुस्लिम समाज पर अन्याय-अत्याचार व हत्या आदि आम बात हो गई है। अपराधियों के दिल से कानून का डर निकल चुका है क्यांेकि ऐसे लोगों को हर प्रकार का सरकारी संरक्षण प्राप्त है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 2, 2019, 8:41 pm
Thunderstorms
Thunderstorms
29°C
real feel: 35°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 2 m/s NNW
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending