Connect with us

लखनऊ लाइव

पीस पार्टी के अध्यक्ष ने किया नेशनल प्रोग्रेसिव एलाइंस का ऐलान, जानिए कौन से दल हुए शामिल

Published

on

लोकसभा चुनाव से पूर्व गठबंधन की राजनीति की चर्चा हर तरफ है। पहले सपा-बसपा एक साथ आए और अब एक नया गठबंधन उत्तर प्रदेश के राजनीतिक धरातल पर आया है। इसका नाम है नेशनल प्रोग्रेसिव एलाइंस (एनपीए)। शनिवार को हुई प्रेस कांफ्रेंस में इस गठबंधन का एलान पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ. अय्यूब खान ने किया। पीस पार्टी के साथ शामिल तीन अन्य दलों के नाम हैं, जयहिंद समाज पार्टी (अध्यक्ष नंदलाल निषाद), वंचित समाज पार्टी (अध्यक्ष रामकरण कश्यप), राष्ट्रीय क्रांति पार्टी (अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह लोधी)।

उपेक्षितों को सम्मान दिलाने के लिए गठबंधन

 अय्यूब खान ने कहा कि यह गठबंधन बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। और अभी इसमें और भी पार्टियां शामिल हो सकती हैं। सत्तासीन पार्टियों में संविधान की मूल भावना को लागू करने की कोई मंशा नहीं है। इसीलिए समाज के लोग संघर्ष कर रहे हैं। फासीवादी ताकतों को हराने के नारे लगाकर जो पार्टियां सत्ता में आईं उन्होंने सेकुलरिज्म और सोशलिज्म से दूरी बनाई। पिछड़ों व दलितों की सरकारें आईं तो उसमें कुछ जातियां ही फायदे में रहीं। उपेक्षित समाज को सम्मान दिलाने के लिए और संघर्ष करने के लिए ही यह गठबंधन बना है।

सम्मान और अधिकार के लिए गठबंधन

 अय्यूब खान ने कहा कि हो सकता है यह गठबंधन कमजोर लगे लेकिन उम्मीद है कि यह आगे चलकर मजबूत बनेगा। मुस्लिम समाज आज सबसे पिछड़कर रह गया है। इस कमजोर समाज को ‘ताबेदारी से हिस्सेदारी’ की तरफ लाना है। जुल्म के खिलाफ आवाज सत्ता तक नहीं पहुंचती है क्योंकि पार्टियां इसी समाज के कुछ लोगों को टिकट दे देती हैं सही मायनों में यह हिस्सेदारी नहीं है। कमजोर वर्गों को सम्मान और अधिकार नहीं मिला है और यदि यूं ही चलता रहा तो मिलेगा भी नहीं।

कमजोर वर्गों के अधिकार हो सुनिश्चित

डॉ. अय्यूब ने आगे कहा की दल विशेष पाकिस्तान, हिन्दू-मुस्लिम, गाय-गोबर के नाम पर नफरत फैलाते हैं। संविधान ने कोइरी को अनुसूचित जाति में रखा है लेकिन उसी जाति से बने मुस्लिम जोलाहों को पिछड़ा वर्ग में रखा गया है। समाज तोड़ने वाली पार्टी की सरकार न बने लेकिन साथ ही समाज के कमजोर तबके के लोगों की हिस्सेदारी सुनिश्चित की जाए। यदि ऐसा नहीं करते हैं तो इससे साबित होता है कि उनकी प्राथमिकता सत्ता हासिल करना है सबको अधिकार देना नहीं है।   http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

मौलाना कल्बे जवाद को मिली जान से मारने की धमकी

Published

on

लखनऊ। शिया धर्मगुरु और इमामे जुमा मौलाना कल्बे जवाद को फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है। यह धमकी उन्हें रविवार को फोन पर दी गई है। खुद मौलाना कल्बे जवाद ने इसकी जानकारी दी। मौलाना कल्बे जवाद जल्द ही इस धमकी की शिकायत को लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराएंगे और सख्त कार्रवाई की मांग करेंगे। मौलाना कल्बे जवाद ने मीडिया को बताया है कि रविवार दोपहर वह आराम कर रहे थे।

यह भी पढ़ें-2019 लोकसभा चुनाव संपन्न, एग्जिट पोल्स में एनडीए को फिर से पूर्ण बहुमत

इसी बीच उनके मोबाइल पर एक फोन आया। काॅल करने वाले ने कहा कि चुनाव में तुम्हारी वजह से काफी नुकसान हुआ है। जिसके लिए तुम्हे जान से मार देंगे। मौलाना कल्बे जवाद का कहना है कि भाजपा की हिमायत का ऐलान करने के चलते उन्हें यह धमकी दी गयी है। लेकिन मैं इन धमकियों से डरने वाला नहीं हूं। क्योंकि जिंदगी और मौत अल्लाह के हाथ में है।

मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि इससे पहले भी उनको फोन पर जान से मारने की धमकी दी जा चुकी है। जिस पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। अब इस धमकी की भी शिकायत वह पुलिस में दर्ज कराएंगे और इस पर सख्त कार्रवाई की मांग करेंगे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

क्वीन ऑफ अवध सीजन-2 के लिए ऑडिशन आयोजित

Published

on

लखनऊ। ’इसी का नाम जिन्दगी’ संस्था द्वारा क्वीन ऑफ अवध सीजन-2 के लिए रविवार को राजधानी स्थित मेलोज बैंक्वेट में ऑडिशन का आयोजन किया गया। ऑडिशन का संचालन संस्था कि अध्यक्ष कविता शुक्ला ने किया। ऑडिशन 45 वर्ष से 70 वर्ष की महिलाओं के लिए किया गया। जिसमें 40 महिलाओं ने भाग लिया।

समीना वार्शी, कपिल तिलहरी, डॉ मधु अग्रवाल निर्णायक मंडल में शामिल रहे। ऑडिशन में अनीता शर्मा, विभा चंद्रा, भावना, सुजाता, विभा शुक्ला, सुधा, निवेदिता, किरण, आभा, रेनू, पुष्पा मिश्रा, सोमिता गुप्ता, निरुपमा, रूपाली गुप्ता, कंचन रस्तोगी, नीता शुक्ला, माधवी शामिल रही।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

आदि शंकराचार्य व बुद्ध जयन्ती पर संस्कृत संस्थान में कार्यक्रम आयोजित

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान परिसर में आदि शंकराचार्य जयंती एवं बुद्ध जयन्ती समारोह के दूसरे दिन शनिवार को विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। संस्थान के अध्यक्ष डाॅ. वाचस्पति मिश्र, उपाध्यक्ष शोभन लाल उकिल तथा मंचासीन अतिथियों ने दो दिवसीय समारोह का शुभारम्भ सरस्वती प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर किया। भगवान बुद्ध के उपदेशों पर प्रकाश डालते हुए राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान के प्राचार्य प्रो. विजय कुमार जैन ने कहा कि सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म को पूरी दुनिया में फैलाया। आज 2600 वर्ष बाद भी भगवान बुद्ध की शिक्षा प्रासंगिक है। सभी पापों को छोड.कर कुशल कर्मों का करना तथा चित्त की परिशुद्धि यही बुद्ध का शासन है। मध्याह्न में राष्टीय संस्कृत संस्थान परिसर के छात्रों ने धम्मपद का पाठ किया।

यह भी पढ़ें-रमजान की रहमतों- बरकतों से अपनी जिन्दगी के साथ पूरे समाज को एक नई राह दिखाएं: हाजी आरिफ शफी मनिहार

शंकराचार्य के स्तोत्रों पर आधारित गीत प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें 37 छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। शंकराचार्य एवं बुद्ध के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में कुल 265 प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया। प्रत्येक प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना पुरस्कार विजेता छात्र-छात्राओं को क्रमशः रू0 5000, 3000, 2000 तथा 1000 की नगद धनराशि तथा स्मृति चिन्ह से पुरस्कृत किया गया।

सायंकाल में निनाद संस्था की अध्यक्ष आरती नातू के निर्देशन में 11 कलाकारों ने भगवान बुद्ध के जीवन ‘‘बैशाली की नगर वधू आम्रपाली‘‘ पर आधारित नृत्य नाटिका को प्रस्तुत किया। समारोह का संचालन जगदानन्द झा ने किया। संस्थान में आये हुए अतिथियों एवं निर्णायकों को अंगवस्त्र, माल्यार्पण दिनेश कुमार मिश्र, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी, द्वारा किया गया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 20, 2019, 8:21 am
Mostly sunny
Mostly sunny
32°C
real feel: 33°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 37%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:19 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending