Connect with us

लखनऊ लाइव

डेंगू से बचाव ही सर्वोत्तम उपचार : डॉ. नरेंद्र अग्रवाल

Published

on

15 मई तक 1577 डेंगू संभावित रोगियों की हुई जांच

लखनऊ। इस वर्ष डेंगू के कारण चुनौतियां काफी अधिक होने की संभावना हैं। अब तक प्रदेश में 1 जनवरी 2019 से 15 मई तक कुल 1577 डेंगू संभावित रोगियों की जांच की गई। जिनमें से कुल 43 डेंगू धनात्मक पाए गए। जबकि पिछले वर्ष 15 मई तक कुल 99 मामले पाए गए थे। ये जानकारी निदेशक संचारी रोग डॉ. मिथिलेश चतुर्वेदी ने गुरूवार को राष्ट्रीय डेंगू दिवस के अवसर पर सीएमओ कार्यालय के सभागार में एक कार्यशाला में कही। डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि अभी तक प्रदेश में एक भी रोगी की मृत्यु डेंगू से नहीं हुई है। प्रदेश में डेंगू की जांच के लिए वर्तमान में कुल 46 सर्विलांस लैब क्रियाशील हैं, जबकि पिछले वर्ष 37 लैब क्रियाशील थी। #Dengueday
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि डेंगू का कोई उपचार नहीं है और इससे बचाव ही सर्वोत्तम उपचार है। उन्होंने बताया कि हर बुखार डेंगू बुखार नहीं होता है। डेंगू एक वायरल बुखार है, जिसके लक्षण अचानक तेज सिर दर्द बुखार का होना, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना, आंखों के पीछे दर्द होना। जो आंखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मिचलाना एवं उल्टी होना है। सीएमओ ने कहा कि गंभीर मामलों में नाक व मसूड़ों से खून आना या त्वचा पर चकत्ते उभरना इसके प्रमुख लक्षण हैं। हर मच्छर डेंगू फैलाने वाला नहीं होता है। डेंगू फैलाने वाला मच्छर खड़े हुए साफ पानी में पनपता है।

दिन के समय काटता है डेंगू मच्छर

उन्होंने बताया कि डेंगू मच्छर दिन के समय काटता है, ऐसे कपड़े पहने जो बदन को पूरी तरह ढके। डेंगू के उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है। बुखार उतारने के लिए पैरासिटामॉल ले सकते हैं। एस्प्रिन का इस्तेमाल ना करें। डॉक्टर की सलाह लें। डेंगू के हर रोगी को प्लेटलेट्स की आवश्यकता नहीं पड़ती। केवल प्लेटलेट्स घटने से डेंगू नहीं होता है। उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा नोडल ऑफिसर वेक्टर बार्न डिसीज डॉ. के. पी. त्रिपाठी ने बताया कि लखनऊ में डेंगू जांच की निशुल्क सुविधा पीजीआई, केजीएमयू तथा डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की माइक्रो बायोलॉजी लैब तथा स्वास्थ्य भवन रिजनल लैब में उपलब्ध है। इलाज की व्यवस्था समस्त राजकीय स्वास्थ्य केंद्रों में निशुल्क उपलब्ध है। बुखार आने पर अपने नजदीकी राजकीय चिकित्सालय में संपर्क करें।
कार्यशाला में डॉ. विकास सिंघल संयुक्त निदेशक डेंगू ने एपिडेमियोलॉजी ऑफ डेंगू के बारे में व्याख्यान दिया एवं डॉ. रमेश चंद्र सलाहकार भारत सरकार ने डेंगू और पर्यावरण के बारे में चर्चा की। पाथ के डॉक्टर शोएब ने भी अंतर विभागीय समन्वय पर विस्तार से चर्चा की।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

मां काली सेवा समिति अलीगंज ने गरीबों व जरूरतमंदों को बांटे लंच पैकेट

Published

on

लखनऊ। कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए पूरा देश लाॅकडाउन है। रोजगार, काम-धंधा सब ठप है। लोग अपने घरों में कैद हैं। लेकिन कुछ लोग सड़कों पर हैं, कि लाॅकडाउन से प्रभावित गरीबों, मजदूरों और निर्धनों को दो वक्त की रोटी नसीब हो सके। सरकार के साथ तमाम गैरसरकारी संगठन, एनजीओ और समाजसेवी लगातार लोगों को भोजन और राशन उपलब्ध करा रहे हैं। मानव सेवा के इस कार्य में मां काली जी सेवा समिति अलीगंज, लखनऊ भी लगी हुई है। बुधवार को समिति के सदस्य चक्रधर तिवारी, पद्मधर तिवारी और अज्जू पांडे (दादा) ने अपने साथियों के साथ लोहिया हाँस्पिटल व पीजीआई में मरीजों, तीमारदारों और जरूरतमंदों को भोजन उपलब कराया।

यह भी पढ़ें-राशन वितरण में बॉयोमेट्रिक अनिवार्यता से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा: कांग्रेस

उनके साथ शैलेन्द्र प्रकाश दीक्षित (मिन्टू), आशुतोष पान्डे, संतोष शर्मा, अश्वनी मिश्रा, श्रवण गुप्ता, अंजनी सिंह, मुन्ना तिवारी, सत्यभान सिंह, गुड्डू यादव और रोहित ने लोगों को लंच पैकेट वितरित किए। इससे पहले समिति ने मंगलवार को फैजाबाद रोड, शहीद पथ, गोमती नगर, अलीगंज और सीतापुर रोड़ पर जरूरतमंदों को लंच पैकेट बांटे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

राशन दुकानों पर धीमे सर्वर ने रुलाया, कई लोग बिना राशन लिए ही लौटे

Published

on

लखनऊ। लखनऊ में राशन की दुकानों में सुबह से ही भारी भीड़ देखने को मिल रही है। घनी आवादी वाले हुसैनगंज स्थित सरोजिनी नायडू मार्ग पर राशन लेने के लिए राशन की दुकान पर लंबी लाइन लग गई है। यही हालत शहर के अन्य इलाकों में भी है। सुबह चार बजे से लोग दुकानों के सामने जुट गए हैं। नेटवर्क की धीमी स्पीड से व्यवधान भी सामने आ रहा है, लेकिन नियमों का पालन किया जा रहा है। बिना बायोमेट्रिक के राशन नहीं मिल रहा है। लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए बायोमेट्रिक न करने के आदेश दिए गए थे।

यह भी पढ़ें-अपने ‘साथी’ बेजुबानों का भी रखिए ध्यान…लाॅकडाउन से वह भी हैं परेशान

डालीबाग, उदयगंज में भी दुकानों पर भीड़ रही। वहीं नरही सब्जी मंडी में 12 बजे तक दुकान नहीं खुली। लोगों को निराश लौटना पड़ा। राशन लेने आए एक युवक ने बताया कि हुसैनगंज में राशन की दुकान पर उनकी मां सुबह से ही लाइन में लग गई थी लेकिन 10 बजे के बाद भी सर्वर खराब होने की वजह से नंबर नहीं आया। ऐसे ही कई लोग बिना राशन लिए वापस लौटे। लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि 1 बजे तक 30 हजार से अधिक पात्रों को निःशुल्क राशन वितरण किया गया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

गरीबों, मजदूरों की मदद के लिए सिपेट ने लखनऊ नगर निगम को दिए 5 लाख रुपए

Published

on

लखनऊ। कोरोना महामारी के इस दौर में गरीबों व जरूरतमंदों की सहायता के लिए लगातार सहयोग मिल रहा है। तमाम सामाजिक संस्थाओं और संगठनों की ओर से सरकार व प्रशासन को गरीबों की मदद के लिए सहयोग मिल रहा है। मंगलवार को सिपेट इंस्टिट्यूट ऑफ प्लास्टिक टेक्नोलॉजी की ओर से लखनऊ नगर निगम को 5 लाख रुपए की आर्थिक मदद की गयी। सिपेट इंस्टिट्यूट के प्रतिनिधियों ने महापौर संयुक्ता भाटिया के आवास पर पहंुच कर आरटीजीएस के माध्यम से यह धनराशि नगर निगम के अन्नदा ग्रेन बैंक नगर निगम लखनऊ के खाते में ट्रांसफर कराई।

यह भी पढ़ें-मरकज में शामिल हुए यूपी के 156 लोग चिन्हित, सभी को क्वारंटाइन कराने के निर्देश

बता दें कि महापौर ने लखनऊ नगर निगम की ओर से प्रकल्प अन्नदा मुहिम चलायी जा रही है। इस मुहिम का उद्देश्य है कि शहर में कोई भी गरीब, मजदूर, बेघर भूखा न सोये। महापौर ने राजधानी के सभी समर्थ लोगों से इसमें सहयोग करने की अपील की है। सिपेट इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर डॉ० संदेश कुमार जैन ने महापौर से वार्ता कर मदद की इच्छा जताई थी। मंगलवार को डॉ जैन के प्रतिनिधि के रूप में मुख्य प्रबंधक सिपेट डॉ यूपी सिंह, प्रशासनिक अधिकारी नितेश जैन एवं जसराम सिंह ने महापौर को 5 लाख रु० रुपए की सहयोग राशि प्रदान की।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 2, 2020, 10:55 am
Mostly sunny
Mostly sunny
30°C
real feel: 33°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 34%
wind speed: 3 m/s WNW
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 8
sunrise: 5:26 am
sunset: 5:54 pm
 

Recent Posts

Trending