Connect with us

लखनऊ लाइव

डेंगू से बचाव ही सर्वोत्तम उपचार : डॉ. नरेंद्र अग्रवाल

Published

on

15 मई तक 1577 डेंगू संभावित रोगियों की हुई जांच

लखनऊ। इस वर्ष डेंगू के कारण चुनौतियां काफी अधिक होने की संभावना हैं। अब तक प्रदेश में 1 जनवरी 2019 से 15 मई तक कुल 1577 डेंगू संभावित रोगियों की जांच की गई। जिनमें से कुल 43 डेंगू धनात्मक पाए गए। जबकि पिछले वर्ष 15 मई तक कुल 99 मामले पाए गए थे। ये जानकारी निदेशक संचारी रोग डॉ. मिथिलेश चतुर्वेदी ने गुरूवार को राष्ट्रीय डेंगू दिवस के अवसर पर सीएमओ कार्यालय के सभागार में एक कार्यशाला में कही। डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि अभी तक प्रदेश में एक भी रोगी की मृत्यु डेंगू से नहीं हुई है। प्रदेश में डेंगू की जांच के लिए वर्तमान में कुल 46 सर्विलांस लैब क्रियाशील हैं, जबकि पिछले वर्ष 37 लैब क्रियाशील थी। #Dengueday
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि डेंगू का कोई उपचार नहीं है और इससे बचाव ही सर्वोत्तम उपचार है। उन्होंने बताया कि हर बुखार डेंगू बुखार नहीं होता है। डेंगू एक वायरल बुखार है, जिसके लक्षण अचानक तेज सिर दर्द बुखार का होना, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना, आंखों के पीछे दर्द होना। जो आंखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मिचलाना एवं उल्टी होना है। सीएमओ ने कहा कि गंभीर मामलों में नाक व मसूड़ों से खून आना या त्वचा पर चकत्ते उभरना इसके प्रमुख लक्षण हैं। हर मच्छर डेंगू फैलाने वाला नहीं होता है। डेंगू फैलाने वाला मच्छर खड़े हुए साफ पानी में पनपता है।

दिन के समय काटता है डेंगू मच्छर

उन्होंने बताया कि डेंगू मच्छर दिन के समय काटता है, ऐसे कपड़े पहने जो बदन को पूरी तरह ढके। डेंगू के उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है। बुखार उतारने के लिए पैरासिटामॉल ले सकते हैं। एस्प्रिन का इस्तेमाल ना करें। डॉक्टर की सलाह लें। डेंगू के हर रोगी को प्लेटलेट्स की आवश्यकता नहीं पड़ती। केवल प्लेटलेट्स घटने से डेंगू नहीं होता है। उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा नोडल ऑफिसर वेक्टर बार्न डिसीज डॉ. के. पी. त्रिपाठी ने बताया कि लखनऊ में डेंगू जांच की निशुल्क सुविधा पीजीआई, केजीएमयू तथा डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की माइक्रो बायोलॉजी लैब तथा स्वास्थ्य भवन रिजनल लैब में उपलब्ध है। इलाज की व्यवस्था समस्त राजकीय स्वास्थ्य केंद्रों में निशुल्क उपलब्ध है। बुखार आने पर अपने नजदीकी राजकीय चिकित्सालय में संपर्क करें।
कार्यशाला में डॉ. विकास सिंघल संयुक्त निदेशक डेंगू ने एपिडेमियोलॉजी ऑफ डेंगू के बारे में व्याख्यान दिया एवं डॉ. रमेश चंद्र सलाहकार भारत सरकार ने डेंगू और पर्यावरण के बारे में चर्चा की। पाथ के डॉक्टर शोएब ने भी अंतर विभागीय समन्वय पर विस्तार से चर्चा की।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

लड़कों की रफ्तार में ‘महिला’ ‘हिजाबी राइडर’, दुनिया दंग

Published

on

लखनऊ। हमारे समाज में एक लड़के और लड़की को ले कर कई स्तर पर भेदभाव किया जाता है। यह भेदभाव उनके पोषण, स्वास्थ्य, पढाई, नौकरी जैसे मुद्दों को भी प्रभावित करता है। ऐसी ही कुछ बातें मानवाधिकार और महिला मुद्दों के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था ब्रेकथ्रू द्वारा कैफे रेपेर्त्वा में आयोजित टॉक चर्चा कार्यक्रम में कही गईं। इस कार्यक्रम में महिलाओं और लड़कियों के साथ होने वाले लैंगिक भेदभाव के विषय पर बाइकर गरिमा और आयेशा ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन व समन्वय ब्रेकथ्रू के नदीम ने किया। इस कार्यक्रम में ब्रेकथ्रू से अभिषेक,सुप्रिया और काफी संख्या में लोग शामिल रहे।

रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड से सम्मानित बाइकर गरिमा कपूर ने कहा कि बाइक राइडर बनने से पहले मैं गोताखोरी करती थी और इसे करने के दौरान एक बार मैं चोटिल हो गई। जिसके बाद डाक्टरों ने मुझे इसे आगे करने से मना कर दिया।  जब मैनें बाइक चलाना शुरू किया तो उस वक़्त मेरे आस-पास के लोगों ने कई बार कहा कि यह लड़कों का काम है। आज जब वही लोग मुझे बाइक चलाते हुए देखते हैं तो बहुत प्रोत्साहित करते हैं कि यह लड़की दकियानूसी विचारधारा को तोड़ रही है। अगर समाज में बदलाव लाना है तो हमें इस भेदभाव वाले नज़रिए को बदलना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें: Chandrayaan2: ISRO की ‘दुल्हन’ चांद की सतह से महज चार कदम दूर…

हिजाबी बाइकर के नाम से अपनी पहचान बनाने वाली बाइकर आयेशा अमीन ने बताया कि बचपन से वो अपने घर के लोगों को बाइक चलाते हुए देखती थीं लेकिन कहीं ना कहीं डर था की क्या वाकई मैं इसे चला पाऊंगी लेकिन मेरे परिवार ने इसमें मेरा पूरा साथ दिया। जब मैंने हिजाब और बुर्के में राइड करना शुरू किया तो कई लोगों ने कहा की कोई ऐसा कैसे कर सकता है लेकिन मैं अपनी धुन में लगी रही और आज इस मुकाम पर हूं। आयेशा ने बताया कि भविष्य में वो भारत से सुदूर मिडिल ईस्ट देशों की यात्रा अपने बाइक से करने का प्लान कर रही हैं और इस यात्रा को वो अकेले पूरा करेंगी

चर्चा के दौरान ब्रेकथ्रू की राज्य प्रमुख कृति प्रकाश ने बताया कि कई बार हमारे समाज में लड़कियों को बाइक राइडर बनने की तो आज़ादी दी जाती है लेकिन यह कहा जाता है कि समाज आपकी इस आज़ादी को नहीं अपनाएगा और आप पर कटाक्ष करता रहेगा। कहीं ना कहीं समाज में एक मानसिकता बनी है कि कुछ काम लड़कों के हैं तो कुछ काम लड़कियों के हैं, जो कि गलत है।

ब्रेकथ्रू क्या है?

ब्रेकथ्रू एक मानवाधिकार संस्था है जो महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ होने वाली हिंसा और भेदभाव को समाप्त करने के लिए काम करती है। कला, मीडिया, लोकप्रिय संस्कृति और सामुदायिक भागेदारी से हम लोगों को एक ऐसी ही दुनिया बनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। हम मल्टीमीडिया अभियानों के माध्यम से मानवाधिकार से जुडें मुद्दों को मुख्य धारा में ला रहे हैं। इसके साथ ही हम युवाओं,सरकारी अधिकारियों और सामुदायिक समूहों को प्रशिक्षण भी देते हैं, जिससे एक नई ब्रेकथ्रू जेनरेशन सामने आए जो अपने आस-पास की दुनिया में बदलाव ला सके।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

मंत्री से मजिस्ट्रेट तक लगाई गुहार, नर्सिंग कर्मियों की नहीं सुनी जा रही पुकार

Published

on

लखनऊ। प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में तैनात आउटसोर्सिंग नर्सिंग महिला कर्मचारियों को नौकरी से निकाले जाने के बाद वो सड़क पर आ चुकी हैं। पिछले कई महीनों से मंत्री, अधिकारियों के दफ्तर का चक्कर लगा रही लेकिन उनकी पुकार को कोई सुनने को तैयार नहीं है। यही नहीं अपनी मांग को लेकर कई बार धरना भी दे चुकी हैं बावजूद इसके सरकार की नज़र इनपर नहीं जा रही है। अब संविदा बेस पर तैनात महिला नर्सिंग कर्मियों ने सरकार को चेतावनी दे दी है। हम लागातर गांधी प्रतिमा पर धरने पर बैठे रहेंगे। बावजूद सरकार हम सभी की मांगो पर अमल नहीं की तो यही आत्यदाह करने के बाध्य होंगे।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस समेत अन्य दलों के नेता भाजपा में हुए शामिल…

पूरा मामला आउटसोर्सिंग महिला नर्स कर्मियों का है जिन्हें सरकार द्वारा मंजूरी के बाद प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में नर्स के रुप में तैनात किया गया था। लेकिन अस्पतालों से सम्बन्धित अधिकारी बिना नोटिस दिये इन लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया हैं और ये लोग सड़कों पर भटक रही हैं। अपनी मांगों को लेकर एसीएम प्रथम को ज्ञापन सौंपा इसके साथ ही मांग की है कि हम सभी को नौकरी पर तैनात किया जाए। साथ ही जितने महीने के पैसे बाकी हैं उसे भुगतान किया जाए।

वहीं राजधानी स्थित गांधी प्रतिमा पर प्रदर्शन कर रही महिला नर्सिंग कर्मियों का कहना है कि पहले तो सरकार ने ये कहकर हम सभी को संविदा पर रखा कि नर्स के पद पर जब तक स्थायी नियुक्त नहीं हो जाती तब तक आप सभी ऐसे ही तैनात रहेेगें। लेकिन सरकार ने न ही स्थायी की नियुक्त की। अब तो हम सभी को बिना नोटिस दिये ही नौकरी से निकाल दिया गया और तो और बचे महीनों का पैसा भी नहीं दिया गया है। वहीं सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि हम सभी ऐसे ही धरने पर बैठे रहेंगे बावजूद सरकार हम सभी की मांगों पर अमल नहीं की तो हम सभी आत्यदाह करने से बाध्य होंगे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

अपनी मांगों को लेकर अधीनस्थ कृषि सेवा संघ निकालेगा पैदल मार्च

Published

on

फाइल फोटो:

लखनऊ। कृषि विभाग के प्राविधिक अपने उत्पीड़न के विरोध एवं नौ सूत्रीय मांगों के समर्थन में 22 अगस्त को कृषि भवन मुख्यालय पर घेराव कर मुख्यमंत्री आवास तक पैदल मार्च निकालेंगे। इसके साथ ही अपनी समस्याओं के समाधान की मांग करेंगे।

बता दें, इसके पहले कृषि भवन लखनऊ पर 25 जुलाई एवं प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर 31 जुलाई को धरना प्रदर्शन कर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम नौ सूत्रीय मांग पत्र का ज्ञापन भेजा जा चुका है।

संगठन के महामंत्री अम्बा प्रकाश शर्मा ने बताया कि उनकी मांगों पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है। उन्होंने मांग रखी थी कि अनीति पूर्वक एवं अव्यवहारिक तरीके से किए गए स्थानान्तरणों को रद्द किया जाए, बीमार बिकलांग एवं दाम्पत्य नीति के क्रम में नीति का पालन किया जाए, लंबे समय से लंबित वेतन विसंगति, मृतक आश्रितों की तैनाती, रिक्त पदों पर पदोन्नति, वर्ग-1 को राजपत्रित एवं अवशेष बीज को लेकर शोषण एवं कृषि महानिदेशक के पद पर आई.ए.एस. की तैनाती किए जाने सहित किसी भी मांग पर अब तक ध्यान दिया गया है।

ये भी पढ़ें: …जानिए आखिर क्यों मांग रहा पुर्तगाल बकरियों से मदद?

प्रदेश अध्यक्ष राधारमण मिश्र ने बताया कि 30 जुलाई को शासन में विशेष सचिव से हुई वार्ता के बाद भी अभी तक कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकला है। जिससे मजबूर होकर अब पदयात्रा निकाल कर मुख्यमंत्री तक अपनी समस्याओं को पहुंचाने के अलावा कोई रास्ता नहीं है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 21, 2019, 12:39 am
Fog
Fog
27°C
real feel: 34°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:11 am
sunset: 6:08 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending