Connect with us

लखनऊ लाइव

10 अरब के ईपीएफ घोटाले के विरोध में शक्ति भवन पर ‘शक्ति प्रदर्शन’

Published

on

हजारों बिजली कर्मचारियों ने सीबीआई जांच की मांग को लेकर निकाली रैली

लखनऊ। बिजली विभाग में 10 अरब के ईपीएफ घोटाले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर शुक्रवार को राजधानी लखनऊ में प्रदेश भर से हजारों बिजली कर्मचारी जुटे। विद्युत संविदा मजदूर संगठन और विद्युत मजदूर संगठन उप्र की अगुवाई में कर्मचारियों ने शक्ति भवन पर एक बड़ी रैली निकाली। इस रैली में यूपीपीसीएल सहित प्रदेश के सभी ऊर्जा निगमों के संविदा कर्मियों ने भाग लिया। रैली से पहले एक सभा का आयोजन किया गया। जिसे अध्यक्ष अरुण कुमार अध्यक्ष, कार्यवाहक अध्यक्ष आरसी पाल, प्रदेश प्रभारी शमीम अहमद, मुख्य महामंत्री आलोक सिन्हा, श्रीचंद महामंत्री, मीडिया प्रभारी विमल चंद्र पांडे, नवीन श्रीवास्तव, पुनीत राय, इंद्रेश राय, प्रवीण सिंह, राहुल कुमार, वेद प्रकाश राय, प्रताप सिंह, मुकुल सक्सेना, मोहन बाबू आर्या, राजेश कुमार, शोएब हसन, दीपक कश्यप, महेश शर्मा, श्याम कुमार श्रीवास्तव, एसके सिंह, नवल किशोर सक्सेना, राजेश्वर सिंह, अशोक राय आदि ने संबोधित किया।

सभा के बाद संगठन के महामंत्री आलोक सिन्हा के नेतृत्व में फील्ड हॉस्टल से चलकर सिकंदर बाग चैराहा होते हुए हजारों की संख्या में पैदल मार्च करते हुए बिजली कर्मचारी शक्ति भवन पहुंचे।
कर्मचारियों को संबोधित करते हुए संगठन के वरिष्ठ मजदूर नेता आरएस राय ने बताया कि संविदा ठेकेदारों ने मृतक संविदा कर्मियों का ईपीएफ हजम कर दिया। जिसके चलते बिजली कर्मचारियों की विधवाओं व परिवारों को पेंशन व अन्य सुविधाएं नहीं मिल पाईं। जबकि विभाग की तरफ से लगातार इस मद में भुगतान किया जाता रहा। श्री राय ने कहा कि नियमित कर्मचारियों के जीपीएफ सीपीएफ मद में की कटौती के लगभग 23 अरब रुपए के गबन की प्रतिपूर्ति के लिए सरकार राजाज्ञा जारी करे।

यह भी पढ़ें-पुरानी रंजिश में चली गोली, रेलवे कर्मचारी घायल

हमारी प्रमुख मांग है कि संविदा कर्मियों के वेतन से ईपीएफ मद में की गई कटौती के 10 अरब रुपए के घोटाले की सीबीआई जांच कराई जाए। मजदूर नेता आरएस राय ने कहा कि इंजीनियरों की मिलीभगत से ठेकेदार लगातार पिछले 12 वर्षों से संविदा कर्मियों की गाढ़ी कमाई से काटे गए ईपीएफ की रकम डकार गए। इस घोटाले की अगर सीबीआई जांच कराई जाए तो बड़े पदों पर बैठे लगभग एक सैकड़ा अभियंता नपेंगे।

श्री राय ने कहा कि इंजीनियरों के दबाव के चलते अभी तक सरकार ने ईपीएफ घोटाले की जांच नहीं कराई है। जबकि संगठन वर्ष 2017 में गांधी भवन में सम्मेलन करके और 2018 में गन्ना संस्थान अधिवेशन करके ऊर्जा मंत्री के समक्ष इस घोटाले की सीबीआई जांच कराने की मांग कर चुका है। ऊर्जा मंत्री ने आश्वासन भी दिया था। लेकिन ऊर्जा निगमों के इतिहास के इस सबसे बड़े घोटाले की जांच नहीं हो पा रही है।

संगठन के महामंत्री श्रीचन्द्र ने कहा कि आज इस रैली के माध्यम से कार्यालय सहायक एवं टीजी-2 को न्यूनतम 3000 ग्रेड पर दिए जाने, संविदा कर्मियों को नियमित कर्मचारी के बराबर वेतन दिए जाने, लाइनमैन सहित श्रमिकों के 35000 पदों पर समायोजित किए जाने, विभागीय कर्मियों एवं पेंशनर्स को प्राप्त एलएमबी-10 की सुविधा यथावत रखे जाने, मीटर लगाए जाने का आदेश वापस लिए जाने, राज्य सरकार के कार्मिकों की भांति विद्युत विभाग में भी 2005 तक सेवा में आए कार्मिकों को पेंशन दिए जाने तथा पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल किए जाने की मांग की।

यह भी पढ़ें-मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह के तहत अब तक प्रदेश में कुल 96 हजार विवाह संपन्न: मंत्री

संगठन के कार्यवाहक अध्यक्ष आरसी पाल ने 10 श्रमिक नेताओं और 155 संविदा कर्मियों तथा एक दर्जन नियमित कर्मचारियों पर 10 फरवरी 2015 को किए गए फर्जी मुकदमे को वापस लिए जाने की सरकार से मांग की। संगठन के वरिष्ठ मजदूर नेता आरएस राय के नेतृत्व में संगठन के एक प्रतिनिधिमंडल ने 18 सूत्रीय मांग पत्र का ज्ञापन ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा एवं चेयरमैन अरविंद कुमार को सौंपा। ऊर्जा मंत्री ने 2300 करोड़ रुपये की लिखित जिमेदारी लिए जाने एवं सरकार से आदेश जारी करने का भरोसा दिया। साथ ही संविदा कर्मियों के ईपीएफ घोटाले की उच्च स्तरीय जांच कराने का आश्वासन दिया। चेयरमैन अरविंद कुमार ने संगठन से शीघ्र वार्ता करके संविदा कर्मियों के ईपीएफ सहित सभी मामलों का निस्तारण करने का आश्वासन दिया। http://www.satyodaya.com

कोरोना वायरस

लखनऊः पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 168 नए मामले, 4 लोगों की मौत

Published

on

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। वहीं मौतों का सिलसिला भी जारी है। जिसके चलते लोगों में दहशत का माहौल है। पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 168 नए मामले सामने आए है और 4 लोगों की मौत हो गई है। वहीं लखनऊ में अबतक 32 लोगों की मौत हो चुकी है और 2138 कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंच गया है। रविवार को योगी सरकार के दो मंत्री भी कोरोना की चपेट में आ गए हैै।

कोरोना की हरदोई की हरियावां सर्किल में तैनात सीओ नागेश मिश्रा की रविवार सुबह पीजीआई में निधन हो गया। दूसरे हरदोई के मल्लावां निवासी 67 वर्षीय बुजुर्ग की केजीएमयू में इलाज के दौरान मौत हो गई। रोगी को मधुमेह की समस्या थी। उसे रविवार को ही भर्ती कराया गया था। इसके अलावा इंदिरानगर लखनऊ के दो बुजुर्ग कोरोना मरीजों की केजीएमयू में इलाज के दौरान मौत हो गई है।

हरदोई की हरियावां सर्किल में तैनात सीओ नागेश मिश्रा करीब 10 दिन से बीमार थे। निमोनिया की शिकायत पर उनका इलाज चल रहा था। जिला अस्पताल में उनका कोरोना टेस्ट कराया गया जोकि निगेटिव आया लेकिन हालत में सुधार न होने पर लखनऊ रेफर कर दिया गया। शनिवार की शाम उन्हें पीजीआई में उन्हें शिफ्ट किया गया। रविवार की सुबह उनका निधन हो गया। नागेश मिश्रा सीओ के पहले हरदोई में शहर कोतवाल के अलावा सांडी, पिहानी में कोतवाल भी रहे। लखनऊ के मडियांव में भी इंस्पेक्टर रह चुके हैं।

हरदोई के ही दूसरे मल्लावां निवासी 67 वर्षीय बुजुर्ग में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद रविवार को केजीएमयू के कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया था। ठीक 40 मिनट के बाद उसने दम तोड़ दिया। केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक बुजुर्ग मरीज डायबिटिज से भी पीड़ित था। झटके और एक्यूट रेसिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) आने की वजह से मरीज का श्वसन तंत्र पूरी तरह काम करना बंद कर दिया था। जिससे उनकी मौत हो गई। एआरडीएस से सांस लेने में तकलीफ होती है अथवा सांस लेना पूरी तरह से बंद हो जाता है।

यह भी पढ़ें:- यूपीः पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 1388 नए मामले, 25 लोगों की मौत

लखनऊ के दो बुजुर्ग मरीजों की भी कोरोना ने ली जान

रविवार को लखनऊ के दो बुजुर्ग मरीजों की कोरोना से मौत हो गई। दोनों इंदिरानगर के निवासी थे। इंदिरानगर निवासी 83 वर्षीय बुजुर्ग की जांच में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर 24 जून को केजीएमयू में भर्ती कराया गया था। केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक मरीज हाईब्ल्डप्रेशर से भी पीड़ित था। संक्रमण की वजह से इनकी सांस गति रूक गई और देरशाम इनकी मौत हो गई। वहीं दूसरे इंदिरानगर में भूतनाथ बाजार के दवा व्यवसाई कोरोना की चपेट में आ गए। पिता-बेटे दोनों को केजीएमयू में भर्ती कराया गया। इसमें 55 वर्षीय व्यक्ति की हालत रात में बिगड़ गई। वेंटिलेटर पर इलाज चला। मगर मरीज रेस्परेटरी फेल्योर में चला गया। ऐसे में डॉक्टरों के काफी प्रयास के बावजूद बचाया नहीं जा सका। वहीं बेटा ऑक्सीजन सपोर्ट पर है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

लखनऊ: डीएम अभिषेक प्रकाश ने जनपद में लाॅकडाउन का लिया जायजा

Published

on

कोरोना प्रोटोकाॅल व गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन कराने का निर्देश

लखनऊ। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने रविवार को राजधानी के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा कर लाॅकडाउन का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने हजरतगंज, बाराबीरवा, पाॅलिटेक्निक, अमीनाबाद, कैसरबाग, आलमबाग, चारबाग रेलवे स्टेशन व फैजाबाद रोड के आस-पास निरीक्षण किया। डीएम ने स्थानीय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को भ्रमणशील रहकर लाॅकडाउन का सख्ती से अनुंपालन कराने का निर्देश दिया।

साथ ही यह भी कहा कि क्षेत्र का सैनिटाइजेशन कराने व जनता को आवश्यक सामग्री की उपलब्धता बनाए रखने पर भी विशेष ध्यान दें। डीएम ने कहा कि कोविड-19 से सम्बन्धित नियम, प्रोटोकाॅल एवं गाइड लाइन्स का उल्लंघन करने वाले लोगों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़ें-टिड्डियों को भगाने के लिए लखनऊ पुलिस ने निकाली ‘हूटर बाइक रैली’

बता दें कि लाॅकडाउन का पालन कराने के लिए लखनऊ जनपद में 80 टीमों का गठन किया गया है। थानावार गठित यह टीमें लाॅकडाउन और कोविड-19 प्रोटोकाॅल का पालन कराना सुनिश्चित करा रही हैं। यह टीमें यह भी सुनिश्चित करेंगी कि उनके क्षेत्र में व्यापारिक प्रतिष्ठान, बाजार, सभी कार्यालयों आदि में सैनिटाइजेशन, मास्क लगाने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है या नहीं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

मुलायम सिंह यादव की पत्नी के सेहत में सुधार के बाद मेदान्ता से डॉक्टरों ने दी छुट्टी

Published

on

लखनऊ। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना यादव को मेदान्ता अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। साधना यादव के सेहत में सुधार होने पर डॉक्टरों ने अस्पताल से उन्हें छुट्टी दे दी है।

यह भी पढ़ें: गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद MP सीएम एक्शन में, CM योगी को किया फोन

श्रीमती यादव को ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के चलते पांच जून को बेटे प्रतीक यादव ने शहीद पथ स्थित मेदान्ता अस्पताल में भर्ती कराया था। जांच और निगरानी के लिए तीन दिन अस्पताल में रखा गया था। वहीं मेदान्ता के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. राकेश कपूर ने बताया कि साधना की सेहत में सुधार के बाद बुधवार को छुट्टी कर दी गई है।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 13, 2020, 2:17 am
Fog
Fog
29°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 88%
wind speed: 1 m/s SW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:52 am
sunset: 6:33 pm
 

Recent Posts

Trending