Connect with us

लखनऊ लाइव

वसीम रिजवी ने अपनी दूसरी बीवी को कर रखा है कैद, फरहत नकवी

Published

on

लखनऊ । महिला उत्पीड़न और तीन तलाक जैसी मामलों पर बढ़ चढ़कर बोलने वाले शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी अब खुद महिला उत्पीड़न व महिला की फोटो आपत्तिजनक तरीके से सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले में फँसते नजर आ रहे हैं । मेरा हक फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष फरहत नकवी ने आज राजधानी लखनऊ के प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता कर आरोप लगाते हुए कहा कि वसीम रिजवी अपनी बीवी को जबरन कैद करके रखे हैं ।

जिसकी जानकारी उन्हें 2 महीनों से लगातार फोन पर मिल रही थी । वहीं फरहत नकवी ने यतीम खाने पर छापा मारा था । जिसके बाद वसीम रिजवी ने उन्हे जेल तक भिजवाने की धमकी दे डाली थी । छापा मारने के बाद से ही वसीम रिजवी फरहत नकवी की फोटो को एडिट करके सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं ।

यह भी पढ़ें: गन्ना किसानों को बकाया पैसा दिलाने के बजाय उन्हें बिजली बिल का नोटिस थमा रही योगी सरकार : त्रिलोक त्यागी

वहीं फरहत ने आगे बोलते हुए कहा कि किसी थाने में वसीम रिजवी के खिलाफ रिपोर्ट नहीं लिखी जा रही थी । जिसके बाद फरहत ने मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात कर पूरे मामले की जानकारी दी । जिसके बाद मुख्यमंत्री के आदेश पर बरेली में वसीम रिजवी के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ । साथ ही कहा कि राजधानी लखनऊ में SSP को भी मामले में संज्ञान लेने के आदेश दिए गए हैं ।http://www.satyodaya.com

लखनऊ लाइव

महापौर संयुक्ता भाटिया ने की अपील, 15 अगस्त तक हर घर पर फहराएं तिरंगा

Published

on

लखनऊ। राजधानी में शनिवार को गैर राजनीतिक संगठन तिरंगा की ओर से वीआईपी रोड स्थित गौरांग वाटिका में महापौर संयुक्ता भाटिया की अध्यक्षता में तिरंगा वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि स्वतंत्रता का अपना मूल्य होता है जो वीरो के रक्त से चुकाया जाता है, कोई भी भारतवासी हो जब भी वह कहीं तिरंगे को देखता है तो उसके रक्त में अपने आप ही शौर्य का प्रवाह हो जाता है।

महापौर ने आगे कहा कि संगठन ने हमसे आग्रह किया है कि लखनऊ के हर चौराहे पर तिरंगा झंडा लहराने की अनुमति प्रदान की जाए। मैं कहना चाहूंगी कि इस राष्ट्र कार्य मे मैं और नगर निगम हर तरह से सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर से धारा 370 हटा कर कश्मीर से कन्याकुमारी को एक कर दिया है, आज 370 हटने के बाद स्वतंत्रता दिवस से पूर्व हम सबको इसकी विशेष अनुभूति हो रही है। पीएम मोदी ने सभी भारतीयों के स्वप्न एक राष्ट्र-एक निशान-एक विधान को पूरा कर दिया है, यह भारतवासियों के लिए सच्ची स्वतंत्रता हैं।

इस अवसर पर महापौर ने सभी नगर वासियों से अपील की है कि 15 अगस्त तक हर घर पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लहराकर इस बार धूम धाम से स्वतंत्रता दिवस मनाएं। संस्था के अध्यक्ष विजय कुमर तिवारी ने बताया कि संगठन का उद्देश्य है कि सामान्य जन राष्ट्रीय ध्वज फहराकर सामान्य जन अपने राष्ट्र प्रेम को प्रदर्शित करें एवं हमारी आने वाली पीढ़ी इससे संस्कारित हो सके। उन्होने आगे बताया कि संगठन का संकल्प है कि 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर समूचे लखनऊ महानगर में लगभग 5000 राष्ट्रीय ध्वज वितरित कर फहराए जाएंगे और दुकानों एव प्रतिष्ठानों पर 12000 स्टीकर चिपकाए जाएंगे। स्वतंत्रता के 75वीं वर्षगांठ पर 2022 में लखनऊ के अधिकतम घरो में लहरा कर विश्व रिकॉर्ड बनाएंगे। इस मौके पर महपौर संयुक्ता भाटिया सहित अतिथियों ने उपस्थित लोगो को तिरंगा झंडा वितरित किया।

ये भी पढ़ें: …जब अलेक्जेंडर ने अपने पिता के शव को सामने बैठाकर रचाई शादी

इस अवसर पर महापौर संयुक्ता भाटिया संग उत्तर प्रदेश सरकार के महाधिवक्ता राघवेंद्र सिंह, सिंधी अकादमी के उपाध्यक्ष नानक चंद लखमानी, अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य सरदार परविंदर सिंह, ब्रिगेडियर आर.डी.सिंह, संस्था के अध्यक्ष विजय तिवारी, महामंत्री सुरेंद्र नाथ पांडेय सहित अन्य जन उपस्थित रहें। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

जश्न-ए-हिंदुस्तान कार्यक्रम में दिखी भारतीय संस्कृति की विभिन्न कलाओं की झलक

Published

on

लखनऊ। निर्धन बच्चों की शिक्षा में मदद के साथ ही भारतीय संस्कृति को नृत्य एवं नाटक के माध्यम से लोगों तक पहुंचने के लिए सिटीसीएस संस्था एवं रुद्र कला अकादमी ने शनिवार को जश्न-ए-हिंदुस्तान कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारंभ राष्ट्र गान के साथ हुआ। कार्यक्रम में बच्चों ने भारतीय संस्कृति की विभिन्न कलाओं का प्रदर्शन नृत्य के माध्यम से किया। 4 साल की नन्ही बाल कलाकार स्वीटी श्रीवास्तव ने गणेश वंदना पर प्रस्तुति दी। इसके बाद शहर के कई कलाकारों ने मनमोहक नृत्य प्रस्तुतियां दी। अदाकारी एवं लोक नृत्य में प्रदेश के कई जिलों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर चुकीं शहर की बाल कलाकार वागीशा पंत ने राम विवाह पर संुदर नृत्य प्रस्तुत किया।
इसी के साथ यथार्थ पांडेय, पर्णिका श्रीवास्तव, तान्या श्रीवास्तव, अद्यानशी कपूर, अरिहन्त कपूर, रूबल जैन एवं अदिति जैसवाल ने नृत्य नाटक प्रस्तुत किया। ये वो बच्चे हैं जो जल्द ही बड़े पर्दे पर प्रदर्शित हो रहीं फिल्मों में नजर आएंगे। अंशिका त्यागी ने ’मोहे छेड़ छेड़ श्याम…’ पर जोरदार प्रस्तुति दी।

कार्यक्रम में रुद्र कला अकादमी के बच्चों ने भी कई सारी समूह प्रस्तुतियां दीं। जिसमें से दर्शकों ने श्रीकृष्ण के जीवन पर आधारित पालनहारी कृष्णमुरारी नृत्य नाटिका को जमकर सराहा। रुद्र कला अकादमी की अध्यक्ष निधि तिवारी के निर्देशन में इस नृत्य नाटिका में लगातार 45 मिनट तक 25 छोटे बच्चों ने श्रीकृष्ण के पूरे जीवन को नृत्य एवं नाटक के माध्यम से मंच पर जीवंत कर दिया। रेनबो सोसाइटी के विशेष बच्चों ने देश भक्ति से ओतप्रोत गीत पर समूह नृत्य किया। लखनऊ की उभरती गायिका संगीता श्रीवास्तव लोक गीतों पर श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए।
बाराबंकी के एक प्राइमरी विद्यालय के बच्चों ने भी अपने नृत्य से लोगों को तालियां बजाने को मजबूर कर दिया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही सिटीसीएस संस्था ने ओजस्वी योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के अंतर्गत ऐसे बच्चे जिनकी पढ़ाई पैसों की कमी के चलते बीच में ही छूट जाती है, उनकी फीस एवं अन्य खर्चो को संस्था वहन करेगी। इसमें बच्चों का चुनाव सेलेक्शन कमेटी जांच करने के बाद चुनेगी।

यह भी पढ़ें-अस्पतालों में मशीनों से दवा वितरण योजना का राजकीय फार्मेसिस्ट महासंघ ने किया विरोध

कार्यक्रम में ही आर्थिक रूप से कमजोर दो बच्चों की पूरे वर्ष की फीस एवं एक-एक साइकिल प्रदान की गई। जश्न-ए-हिंदुस्तान कार्यक्रम की थीम ‘एक शाम भारतीय संस्कृति के नाम’ रही। जिसमें सिर्फ सांस्कृतिक विरासत को दिखाने वाले गीत संगीत को ही चुना गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में एस ऑयर ग्रुप के चेयरमैन पवन सिंह चौहान, भातखण्डे संगीत संस्थान की वीसी श्रुति शिडोल्कर, भाजपा नेता श्वेता सिंह, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग में फैजाबाद मंडल में डिप्टी डाइरेक्टर अनुपमा मौर्य एवं अल्पसंख्यक विभाग में संयुक्त निदेशक राघवेन्द्र प्रताप सिंह रहे। इसी के साथ शहर के कई समाजसेवी एवं गणमान्य अतिथि भी इस कार्यक्रम के गवाह बने। आयोजन समिति के सदस्य डॉ अमित सक्सेना, अरुण सिंह, मनोज कुमार, बृजेन्द्र बहादुर मौर्य अंजली पांडेय आदि रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ लाइव

आली फाउंडेशन ने उपेक्षित समाज को न्याय दिलाने के लिए बनाया ‘सजग’ नेटवर्क

Published

on

लखनऊ। आली फाउंडेशन की ओर से तीन दिवसीय नेटवर्क मीटिंग का आयोजन 8 अगस्त से 10 अगस्त के बीच होटल गोल्डेन ट्यूलिप, हुसैनगंज में किया गया। इस मीटिंग में उत्तर प्रदेश के 15, उत्तराखंड के 3 और झारखंड के 15 जिले के 27 संस्थाओं के सदस्य, 24 वकील और आली से जुड़े 46 केसवर्कर समेत लगभग 98 प्रतिभागी शामिल हुए।

कार्यक्रम में शनिवार को महिला और हाशिए पर स्थित समुदायों के मानवाधिकारों पर काम करने वाले साथियों ने अपने अनुभव साझा किए। इन सभी सदस्यों ने मिलकर इस नेटवर्क का नाम ‘सजग’ नेटवर्क रखा है। इसमें आली की कार्यकारी निदेशक रेनू मिश्रा ने कहा कि हमारे मुद्दे एक हैं इसलिए बिना संस्था के बैनर और प्रमोशन की परवाह किए हमें साथ मिलकर काम करना होगा। आली कभी किसी नेतृत्व की चाहत नहीं रखती वह सिर्फ मिलकर एक साथ काम करती है, जिससे न्याय तक महिलाओं व हाशिए के समुदाय की पहुंच सुनिश्चित की जा सके।

यहां मानवाधिकार पर काम करने वाले दरवेश ने बताया कि किस तरह ट्रांसजेंडर, लेस्बियन और गे समुदाय के लोगों की बात सामने लाई गई। वहीं मुजफ्फरपुर से आईं रेहाना ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि अल्पसंख्यकों को किस तरह समाज में अपनी पहचान को साबित करना पड़ता है। उन्हें समाज के एक अलग हिस्से की तरह देखा जाता है, वो कभी समाज का हिस्सा नहीं बन पाता। उन्होंने कहा कि हम अलग नहीं है और हम चाहते हैं कि हम मुस्लिम औरतें भी मानवाधिकार मुद्दे पर काम करें। उन्होंने कहा कि मुस्लिम हमें इसलिए अलग कर देते हैं क्योंकि हम उनके नियम नहीं मानते और हिन्दू इसलिए नहीं जुड़ना चाहते क्योंकि हम उनके घर में नहीं जन्में। इसलिए हमारे लिए बस यही एक जगह है जहां हम मिलकर काम कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: …जब अलेक्जेंडर ने अपने पिता के शव को सामने बैठाकर रचाई शादी

इसके साथ ही यहां केसवर्करों और वकीलों ने सभी को बताया कि कैसे एक नेटवर्क की तरह काम करके वे एक साथ मामलों को सुलझा रहे हैं। व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए जो नफरत के संदेश हमारे आसपास फैल रहे हैं, उनसे बचने के उपायों पर भी चर्चा हुई। एक मुसलमान को यह न कहना पड़े कि वो कई पीढ़ियों से इस देश में रह रहे हैं या उन्हें अपनी देशभक्ति साबित करनी पड़ी। सामाजिक कार्यकर्ता मनीष ने कहा कि हमें सफदर हाशमी की बात याद रखनी होगी कि, ‘चुप रहना हिंसा की शुरुआत है। कातिलों में गिने जाने की बात है।’

इस कार्यक्रम के तहत 8 अगस्त को केसवर्करों के साथ रिफ्रेशर ट्रेनिंग की गई। इसमें अलग-अलग केस स्टडी में अभिनय करते हुए प्रतिभागियों ने हिंसा के खिलाफ संघर्षशील महिला की बात सुनने और उन्हें कानूनी सलाह देने की रणनीति पर चर्चा की।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 10, 2019, 9:51 pm
Fog
Fog
30°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:05 am
sunset: 6:18 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending