Connect with us

शहर सियासत

लखनऊ में आज राजनाथ सिंह भरेंगे नामांकन, रह चुके हैं यूपी के CM, जानिए कुछ खास बातें

Published

on

लखनऊ लोकसभा सीट से केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल करने से पहले मंदिर में पूजा-अर्चना की। इसके बाद वे बीजेपी कार्यालय पहुंचे। आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के लिए राजनाथ सिंह लखनऊ से उम्मीदवार हैं। उनके साथ जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के महासचिव केसी त्यागी भी हैं। पर्चा दाखिल करने से पहले राजनाथ सिंह रोड शो भी करेंगे। नामांकन जुलूस हजरतगंज, महात्मा गांधी मार्ग होते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचेगा। बीजेपी दफ्तर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने चुनाव के दौरान 10 राज्यों का दौरा किया है। केरल और तमिलनाडु के लोग भी चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनें।

जानकारी के मुताबिक रोड शो में वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र, अटल बिहारी वाजपेयी के सहयोगी रहे शिव कुमार, उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री और बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन के बेटे आशुतोष टंडन गोपाल, डॉ. रीता बहुगुणा जोशी, विधायक सुरेश श्रीवास्तव, डॉ. नीरज बोरा, महापौर संयुक्ता भाटिया शामिल होंगे। जबकि चुनाव आयोग द्वारा लगी पाबंदी के कारण उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राजनाथ के इस रोड़ शो में शामिल नहीं हो सकेंगे। चुनाव आयोग ने हेट स्पीच और आचार संहिता के उल्लंघन मामले में उन पर 72 घंटे तक का बैन लगाया है।

आपको बता दें कि लखनऊ सीट पर लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में यानी 6 मई को वोट डाले जाएंगे। लखनऊ सीट बीजेपी का गढ़ मानी जाती है। इस सीट पर 1991 से लगातार बीजेपी का कब्जा है। लखनऊ लोकसभा सीट बीजेपी के कद्दावर नेता दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की परंपरागत सीट रही है। 90 के दशक में लखनऊ लोकसभा सीट से अटल बिहारी वाजपेयी के दौर से बीजेपी की जीत का सिलसिसा शुरू हुआ और अभी तक जारी है। फिलहाल वर्तमान में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ से सांसद हैं। लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी पूरी ताकत झोंक रही हैं।

बता दें कि राजनाथ सिंह ने अपने राजनैतिक जीवन की शुरुआत उत्तर प्रदेश से की, वो 2000 से 2002 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री तथा राष्ट्रीय जनतान्त्रिक गठबन्धन के शासन में कृषि मंत्री रहे। राजनाथ सिंह दो बार भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इससे पहले यह उप‍लब्धि केवल अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्‍ण आडवाणी के पास ही थी। राजनाथ सिंह पहली बार 31 दिसंबर, 2005 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। दूसरी बार 23 जनवरी 2013 से 09जुलाई 2014 तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नवगठित सरकार में 26 मई  2014 को राजनाथ सिंह ने भारत के केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली। तब से वह सक्रिय रूप से भारत के केन्द्रीय गृह मंत्री के रूप में काम कर रहें हैं।http://www.satyodaya.com

 

शहर सियासत

कैण्ट में कांग्रेस प्रत्याशी दिलप्रीत सिंह ने घर-घर जाकर मांगा वोट

Published

on

लखनऊ। विधानसभा उप चुनावों को लेकर उत्तर प्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गयी है। प्रत्याशियों ने चुनावी संपर्क शुरू कर दिया है। बुधवार को कैण्ट विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिलप्रीत सिंह ‘डीपी’ ने घर-घर जाकर लोगों से वोट मांगा। डीपी ने जनसंपर्क के अलावा कई जगह बैठक और चैपालें भी लगाईं। उन्होंने लोगों से अपनी कैण्ट के विकास के लिए वोट देने की अपील की।

कैण्ट विधानसभा क्षेत्र के मीडिया कोआर्डिनेटर सचिन रावत ने बताया कि आज कैण्ट क्षेत्र के उदयगंज, तेजीखेड़ा, सदर बाजार, रेलवे कैरिज एण्ड वैगन शाप आलमबाग, अम्बेडकर वार्ड, गढ़ी कनौरा, चित्ताखेड़ा, चन्दननगर, कानपुर रोड, आलमबाग, गुरूनानक नगर, सुन्दरनगर, आजाद नगर आदि दर्जनों मुहल्लों एवं कई वार्डों में जनसम्पर्क किया गया। इस मौके पर पूर्व विधायक श्यामकिशोर शुक्ला, पार्षद दल की नेता ममता चैधरी, शैलेन्द्र तिवारी, अभिमन्यु सिंह, पुष्पेन्द्र श्रीवास्तव, जीवनलाल श्रीवास्तव, शंकरलाल गौतम, सचिन रावत सहित सैंकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल रहे।

यह भी पढ़ें-खुशी फाउंडेशन के चार दिवसीय निःशुल्क मेगा हेल्थ कैंप का समापन

जनसम्पर्क के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी दिलप्रीत सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के चलते ही आज पूरे देश में हर क्षेत्र में मन्दी आ रही हैं। पेट्रोल, डीजल, सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं। आज हमारे प्रदेश का युवा बेरोजगारी से परेशान है, व्यापारी सरकार की गलत नीतियों के चलते अपना व्यापार गंवा रहे है। सरकारी कर्मचारी आये दिन सड़कों पर उतर रहे हैं। नालियां बरसात में बजबजा रही हैं सीवर लाइन जाम हैं और जिधर देखो गन्दगी का अम्बार लगा हुआ है वहीं भाजपा के नेता स्वच्छता अभियान के नाम पर जनता को बरगलाने का काम कर रहे है।
कैण्ट प्रत्याशी ने मंगलवार को दशहरा के मौके पर एक राम बारात कार्यक्रम में शामिल होकर आरती उतारी एवं पूजन-अर्चन किया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

शहर सियासत

यूपी कांग्रेस की पोल खोल गया प्रियंका गांधी का पैदल मार्च, कई नेताओं ने की बगावत

Published

on

लखनऊ। कहते हैं, जब समय बुरा चल रहा हो तो नेकी करने पर भी बुराई ही मिलती है। कांग्रेस के साथ भी कुछ ऐसा ही चल रहा है। अपनी खोई जमीन हासिल करने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और राहुल गांधी लगातार प्रयासरत हैं। लेकिन सोच-समझ कर उठाया गया कदम भी उल्टा पड़ रहा है।
बीते 2 अक्टूबर पर महात्मा गांधी के बहाने कार्यकर्ताओं में जोश भरने व संगठन में जान फूंकने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने लखनऊ में तो राहुल गांधी ने दिल्ली में पैदल मार्च निकाला। प्रियंका की अगुवाई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ पड़ा। पैदल मार्च में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का जोश देखते ही बन रहा था।
प्रियंका गांधी के पैदल मार्च से यूपी के दो प्रमुख नेता गायब रहे। रायबरेली कैंट से विधायक अदिति सिंह जहां पार्टी लाइन हटकर विधानसभा के ऐतिहासिक सत्र में जा बैठीं तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर भी पैदल मार्च से नदारद रहे। विधायक अदिति सिंह के रुख से कांग्रेस हैरान रह गयी। अदिति सिंह को जेड प्लस सुरक्षा देकर योगी सरकार ने ईनाम भी दे दिया। जिसके बाद चर्चा है कि अदिति सिंह जल्द ही कांग्रेस का हाथ छोड़कर कमल के साथ जा सकती हैं।

प्रियंका के पैदल मार्च से राज बब्बर ही नहीं यूपी कांग्रेस की वरिष्ठ नेता अनु टंडन भी गायब रहीं। कांग्रेस नेताओं के इस रुख से राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गयी है। हालांकि यूपी कांग्रेस के प्रवक्ता अंशु अवस्थी ने स्पष्ट किया है कि राज बब्बर के 2 अक्टूबर के दिन विदेश में होने की वजह से वह इस यात्रा में शामिल नहीं हो सके। वहीं अनु टंडन भी अपने क्षेत्र के कार्यक्रम में व्यस्त थीं। इस वजह से वह इस पदयात्रा में शामिल नहीं हो सकीं। बता दें कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर योगी सरकार जहां विधानसभा मंडल का विशेष सत्र चला रही थी तो वहीं कांग्रेस लखनऊ में पैदल मार्च निकाल रही थी।

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष पद की लड़ाई तेज

चर्चा यह भी है कि इसके पीछे दूसरी वजह यूपी कांग्रेस का अध्यक्ष पद बताया जा रहा है। कांग्रेस उत्तर प्रदेश में बड़े बदलाव की दिशा में तैयारी कर रही है और इसके बाबत ही नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश भी शुरू हो गई है। इसके लिए कांग्रेस विधायक अजय कुमार लल्लू और पूर्व सांसद जितिन प्रसाद के नाम सामने आ रहे हैं। खास बात यह है कि यही दोनों नेता कांग्रेस की पैदल यात्रा के दौरान संघर्ष करते नजर आए थे। दोनों ही नेता अध्यक्ष पद के दावेदार माने जा रहे हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

उपचुनाव में एनसीपी ने उतारे अपने प्रत्याशी व भाकपा ने की नामांकन प्रक्रिया बढ़ाने की मांग

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में हो रहे उपचुनाव में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) अपने प्रत्याशियों को चुनाव लड़ाने जा रही है। वहीं कानपुर, सहारनपुर और प्रतापगढ़ में प्रत्याशियों की घोषणा कर दी गई है। एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष के.के. शर्मा ने कहा कि भाजपा की दमनकारी नीतियों के विरूद्ध एनसीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार के नेतृत्व में एनसीपी कार्यकर्ता पुरजोर विरोध कर रहे हैं। प्रदेश में हो रहे उपचुनाव में भाजपा को आम जनता की मनसा बताने के लिए पार्टी प्रदेश में उपचुनाव लड़ने जा रही है। सहारनपुर की गंगोह विधानसभा सीट से डाॅ. जितेन्द्र कुमार सैनी, प्रतापगढ़ की सदर विधानसभा सीट से प्रवीण कुमार सिंह, कानपुर की विधानसभा सीट पर बीजेपी छोड़कर आए अक्षांस चतुर्वेदी को अपना प्रत्याशी बनाया है।

विधानसभा उपचुनाव नामांकन के लिये एक दिन और दिया जाये
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव मण्डल ने कहा कि निर्वाचन आयोग की कार्य पद्धति से विधानसभा उपचुनावों में चुनाव लड़ने के बुनियादी अधिकार का हनन हो रहा है। इसे तुरंत दुरुस्त करने की आवश्यकता है। यहां जारी एक प्रेस बयान में भाकपा राज्य सचिव डाॅ. गिरीश ने कहा कि आयोग ने कई राज्यों के चुनाव और उपचुनाव हेतु जारी कार्यक्रम में 23 सितंबर से 30 सितंबर तक नामांकन किये जाने की घोषणा की थी। जिसमें यह कहीं नहीं बताया गया कि 29 और 30 सितंबर को नामांकन नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों द्वारा बताया गया कि रविवार को भी नामांकन और नामांकन संबंधी कार्य होगा।

यह भी पढ़ें :- शाहजहांपुर: पीड़ित छात्रा को इंसाफ दिलाने के लिए कांग्रेस करेगी पद यात्रा

उन्होंने कहा कि रविवार को भी नामांकन होगा लेकिन अचानक 28 सितंबर को बताया गया कि 29 व 30 सितंबर को छुट्टी रहेगी और न तो नामांकन होंगे, न ही नामांकन संबंधी कार्य होगा। इस कार्यवाही से तमाम प्रत्याशी नामांकन प्रक्रिया को पूरा नहीं कर पाये हैं। अब चूंकि नामांकन का एक ही दिन बचा है और तमाम प्रत्याशी जो 29, 30 की छुट्टी के चलते जरूरी दस्तावेज जुटा नहीं पाये वो नामांकन से वंचित रह जायेगें। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की उत्तर प्रदेश राज्य इकाई ने चुवाव आयोग से आग्रह किया है कि 30 सितंबर को देर शाम तक और 1 अक्तूबर को भी सुबह नामांकन पत्रों की जांच से पहले दो घंटे नामांकन पत्र ग्रहण किये जायें। इस कार्य के लिए चुनाव आयोग द्वारा आदेश जारी किये जायें ताकि नामांकन करने और चुनाव लड़ने के इच्छुक प्रत्याशी भी इससे वंचित रह सके।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 14, 2019, 6:36 am
Fog
Fog
21°C
real feel: 25°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 5:35 am
sunset: 5:10 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending